Showing posts with label Sonipat. Show all posts
Showing posts with label Sonipat. Show all posts

Wednesday, 7 August 2019

मानसून में रखें साफ-सफाई का ध्यान : डॉ. राम चंद्र सोनी

मानसून में रखें साफ-सफाई का ध्यान : डॉ. राम चंद्र सोनी

फरीदाबाद : 8 अगस्त I  बारिश का झमाझम मौसम और पकौड़ों का स्वाद मन को खुशी तो देता है, लेकिन खान-पान के प्रति बरती जाने वाली लापरवाही कई बार गंभीर रूप धारण कर लेती है। बरसात का मौसम एक ओर तो गर्मी से निजात दिलाता है, लेकिन दूसरी ओर बीमारियों को पनपने का मौका भी देता है। बरसात के दिनों में वायरल इंफेक्शन आम बात है। इस मौसम में पेट से संबंधित बीमारियों के फैलने का भय बना रहता है। डॉ. राम सोनी ने बताया कि उनके पास पीलिया के मरीज भी बाद गए है रोज़ाना 3 -4 मरीज पीलिया के आ रहे हैं

एशियन अस्पताल के एचओडी गैस्ट्रोइंटेरोलॉजी डॉ. राम चंद्र सोनी का कहना है कि मानसून में पेट दर्द की समस्या आम बात है। उल्टी-दस्त, पेट दर्द आदि की समस्या को लेकर अस्पताल में आने वाले मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। इस मौसम में पेट से संबंधित बीमारियां ज्यादा होती है। इन बीमारियों के लक्षण भी कई प्रकार के होते हैं पेट में दर्द होना, उल्टी होना, बदन दर्द और कमर दर्द। डॉक्टर का कहना है कि इस मौसम में बैक्टीरिया ज्यादा प्रभावित होता है और संक्रमण फैलाता है। बाहर का खाना, तला हुुआ, बासी भोजन का सेवन करना, खुले में रखे भोजन का सेवन करने से  भी बीमारियों को फैलने का मौका मिलता है। इस प्रकार का खाना खाने के २४ घंटे के भीतर बीमारियों के लक्षण उभरने लगते हैं।

डॉ. सोनी का कहना है कि अगर हम स्वयं साफ-सफाई की ओर ज्यादा ध्यान दें तो बीमारियों से बचाव किया जा सकता है। फिल्टर्ड और उबला हुआ पानी पीना चाहिए। बासी या खुले में रखा खाना नहीं खाना चाहिए। फल व सब्जियों को धोकर खाना चाहिए। जंक फूड के सेवन से बचना चाहिए। तले व मसालेदार खाने के सेवन से बचना चाहिए। बार-बार हाथ धोने चाहिएं। संतुलित भोजन का सेवन करना चाहिए। 

डॉ. सोनी के अनुसार मानसून हेपेटाइटिस ए और ई के वायरस को प्रभावित करता है। इस बीमारी का प्रमुख कारण दूषित पानी है। खान-पान की लापरवाही लिवर को सबसे ज्यादा प्रभावित करती है।  इसके लक्षणों के पाए जाने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करके जांच करानी चाहिए। ताकि समय रहते बीमारी का पता लगाकर उचित इलाज किया जा सके। इसके अलावा इस रोग से बचने के लिए साफ-सफाई की ओर विशेष ध्यान देना चाहिए।

Sunday, 28 July 2019

सांसद अनिल बलूनी के प्रयासों से फरीदाबाद में बनेगा उत्तराखंड भवन - मुख्यमंत्री हरियाणा मनोहर लाल खट्टर ने दी सहर्ष स्वीकृति

सांसद अनिल बलूनी के प्रयासों से फरीदाबाद में बनेगा उत्तराखंड भवन - मुख्यमंत्री हरियाणा मनोहर लाल खट्टर ने दी सहर्ष स्वीकृति

नई दिल्ली 28 जुलाई I  उत्तराखंड से राज्यसभा सांसद और भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय मीडिया प्रमुख अनिल बलूनी और हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर जी की आज हरियाणा में निवास कर रहे प्रवासियों के विषयों पर दिल्ली में मुलाकात हुयी। श्री बलूनी ने मुख्यमंत्री खट्टर से अनुरोध किया कि फरीदाबाद और उसके निकट क्षेत्रों और हरियाणा के अन्य शहरों में भारी संख्या में उत्तराखंड के प्रवासी निवास करते हैं।

 सांसद बलूनी ने अनुरोध किया कि यहां के प्रवासी लंबे समय से अपने सामाजिक और सांस्कृतिक कार्यक्रमों के लिए "उत्तराखंड भवन" के निर्माण हेतु  प्रयासरत हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री जी से उक्त भवन हेतु भूखंड देने का अनुरोध किया, जिस पर तत्काल  मुख्यमंत्री श्री खट्टर ने सहमति प्रदान की।

        सांसद बलूनी ने फरीदाबाद से कोटद्वार और रामनगर तक बसों के संचालन हेतु मुख्यमंत्री खट्टर को धन्यवाद दिया। श्री खट्टर ने कहा की हरियाणा में रहने वाले प्रवासियों को  अगर अन्य नगरों तक भी बसों की आवश्यकता होगी तो विचार किया जाएगा।

             सांसद बलूनी ने कहा  कि कुछ दिन पूर्व  फरीदाबाद, पलवल बदरपुर बॉर्डर और बल्लभगढ़ के प्रवासियों ने फरीदाबाद से उत्तराखंड के लिए सीधे बस बस संचालन और  उत्तराखंड भवन हेतु भूमि दिलाने का आग्रह किया था, जिसके बाद कोटद्वार तक सीधी बस सेवा का संचालन प्रारंभ हो भी चुका है, जिसे कुछ दिन पूर्व सांसद बलूनी ने हरी झंडी दिखाई थी। 

           प्रवासी समाज की संस्थाओं ने सांसद बलूनी का आभार प्रकट किया है और सांसद बलूनी द्वारा प्रारंभ किए गए 'अपना वोट-अपने गांव' अभियान की भूरी -भूरी प्रशंसा की और कहा अपने गांव से जुड़ने के अभियान को प्रवासी समाज के बीच विस्तार दिया जाएगा। 

Sunday, 25 November 2018

रमणीक प्रभाकर को इन्डो नैपाल एकता अवार्ड 2018 से सम्मानित किया

रमणीक प्रभाकर को इन्डो नैपाल एकता अवार्ड 2018 से सम्मानित किया

फरीदाबाद 25 नवंबर ।  इंडो नैपाल समरसता मंच द्वारा रमणीक प्रभाकर को इन्डो नैपाल एकता(2018) अवार्ड, सोने का तगमा,शॉल व पग़ड़ी बाँध कर  से सम्मानित किया गया कार्यक्रम का आयोजन  ISIL ऑडिटोरियम, भगवान दास रोड़, नई दिल्ली में किया गया । 

इस कार्यक्रम में लगभग 500 लोगो ने हिस्सा लिया जिसमे 50 प्रतिभागियों को इन्डो नैपाल एकता अवार्ड 2018 से सम्मानित किया गया जो भारत के अलग अलग राज्यो से आए थे । इसमे अलग अलग देशो नेपाल, भूटान, श्रीलंका, व इत्यादि  से भी लोग आए हुए थे । 

 अंतराष्ट्रीय समरसता मंच एक गैर राजनेतिक, साहित्यिक, सांस्कृतिक व सामाजिक संस्था है जो सर्व धर्म समभाव की विचारधारा के अनुसार विश्व बंधुत्व की भावना से मानव सेवा हितार्थ सांस्कृतिक समन्वय एवं शोध कार्यो द्वारा मानवीय एकता व समरसता के लिए विभिन्न क्षेत्रो में कार्यरत व्यक्तियो का एक ऐसा समूह है जो स्व प्रेरणा एवं स्वम अनुशासन के माध्यम से जनहित के कार्यो के लिए सदस्य के रूप में कार्य करते है । मंच का कार्य अंतराष्ट्रीय स्तर पर भारतीय सामाजिक व्यवस्था के अनुसार भारत नैपाल की वैदिक कालीन सांस्कृतिक का पूर्ण उत्थान हो, भारत पुनः वैदिक कालीन जगत गुरु के आसन पर पदस्थापित हो एवं संयुक्त राष्ट्र संघ की सुरक्षा परिषद में वीटो पावर के साथ स्थाई सदस्यता दिलाने के उद्देश्य से राष्ट्र सदस्यो का मित्रवत सहयोग की आशा से चलाया जा रहा प्रेरित अभियान है । 

 मंच पर मुख्य रूप से उपस्थित प्रधान महावीर टोरडी, सांसद अमर सिंह, एडवोकेट ए. पी. सिंह, श्री लोकेन्द्र बहादुर चन्द, पूर्व प्रधानमंत्री नेपाल, मुख्य अतिथि टोप बहादुर रायमाझी, पूर्व उप प्रधानमंत्री नेपाल, सचिव कुलदीप शर्मा, एडवोकेट सर्वोच्य न्यायालय नेपाल द्वारा रमणीक प्रभाकर को इन्डो नैपाल एकता अवार्ड(2018) से सम्मानित किया गया ।

इसके अलावा कई राज्यो के गणमान्य लोगों ने कार्यक्रम में हिस्सा लिया और कार्यक्रम को सफल बनाया ।

Sunday, 28 October 2018

इधर लोगों की प्रदूषण से सांस फूली, उधर बोर्ड बोला मशीन है खराब

इधर लोगों की प्रदूषण से सांस फूली, उधर बोर्ड बोला मशीन है खराब

फरीदाबाद, 29 अक्टूबर I शहर में प्रदूषण की मात्रा अधिक हुई तो प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने मशीन में गड़बड़ी बता दी। बोर्ड का कहना है कि मशीन में गड़बड़ी होने के कारण पीएम 2.5 का स्तर काफी अधिक दिखा रहा था। लेकिन अब मशीन को सही कर लिया गया है। अधिकारियों का कहना है कि मशीन में कुछ दिक्कतें होने से पीएम 2.5 का स्तर बढ़ा हुआ बताया जा रहा था। मशीन की कमियों को दूर करा दिया गया है, जिससे उ मीद है कि आने वाले दिनों में जिले में प्रदूषण का सही स्तर पता चल सकेगा।

प्रदूषण के मामले में फरीदाबाद देशभर के टॉप 10 सबसे प्रदूषित शहरों में शामिल है। शुक्रवार को पीएम 2.5 का स्तर 381 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर तक पहुंच गया था। फरीदाबाद में सेक्टर 16 ए स्थित प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड कार्यालय के ऊपर एक मशीन लगी हुई है, जिससे प्रदूषण के स्तर का पता चलता है। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के रीजनल ऑफिसर विजय चौधरी ने बताया कि केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारी दो दिन पहले फरीदाबाद आए थे। 

उन्होंने कहा कि मशीन पीएम 2.5 का स्तर 300 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर से अधिक बता रही है, जबकि इतना अधिक प्रदूषण विजुअल नहीं हो रहा है। इसलिए उन्होंने मशीन को चैक कराने के आदेश दिए। क्योंकि मशीन का संचालन प्राइवेट कंपनी करती है, इसलिए हमने कंपनी के अधिकारियों को बुलाया। उन्होंने मशीन को अपडेट किया है। उ मीद है कि अब प्रदूषण का स्तर कम होगा और पीएम 2.5 का सही स्तर हमें पता चल पाएगा। विजय चौधरी ने बताया कि शनिवार रात से रविवार दोपहर तक मशीन बंद रही थी। रविवार को दोपहर लगभग 12 बजे से शाम 4 बजे तक पीएम 2.5 का औसत स्तर 93 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर दर्ज किया गया है।

Sunday, 21 October 2018

कटोरा आन्दोलन होगा खट्टर सरकार के खिलाफ : नवीन जयहिंद

कटोरा आन्दोलन होगा खट्टर सरकार के खिलाफ : नवीन जयहिंद

फरीदाबाद 21 अक्टूबर  I फरीदाबाद में आम आदमी पार्टी  प्रदेशाध्यक्ष नवीन जयहिंद व दिल्ली विधायक सहीराम पहलवान की अध्यक्षता में फरीदाबाद में कार्यकर्ता सम्मेलन हुआ | इस सम्मेलन में हजारों कार्यकर्ताओं ने हिस्सा लिया और कार्यकर्ता सम्मेलन रैली में तब्दील हो गया |

प्रदेशाध्यक्ष नवीन जयहिंद ने दिल्ली में आम आदमी ने ही 67 सीट दिलवाई  थी |और आम आदमी पार्टी ने आम आदमी के लिय काम किया है फ्री पानी, सस्ती बिजली, अच्छी शिक्षा व फ्री इलाज, दवाई , सारे टेस्ट फ्री  की सुविधाए दे रही है और एक आम आदमी को यही चाहिए | केजरीवाल सरकार ने जो कहा था वो किया है | जब दिल्ली में आम आदमी पार्टी कर सकती है तो हरियाणा में खट्टर सरकार क्यों नही कर सकती |

जयहिंद ने मंच से हरियाणा रोडवेज कर्मचारियों के समर्थन में कहा सरकार के पास हरियाणा रोडवेज की बस खरीदने के लिए पैसे नही है | चार साल में सिर्फ 62 बस ही खट्टर सरकार खरीद पाई है | हरियाणा की जनता को गीता व गाय के नाम ठगा गया है जब  जनता के लिए सुविधाओं की बात आती है तो सरकार का पैसा खत्म हो जाता है |

नवीन जयहिंद  सम्मेलन में कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि खट्टर  सरकार में अगर कोई पाने हक के लिए धरना करता है, प्रदशर्न करता  है तो उसे जेल में भेज दिया जाता है |

नवीन जहिंद ने मंच पर हाथ में कटोरा ले जनता से चंदा देने की अपील की और कहा कि ये पैसा मुख्यमंत्री के पास भेंजेगे ताकि वो रोडवेज कर्मचारियों के लिए बसें खरीद सके , सरकारी स्कूल अच्छे कर सके |

जयहिंद ने कहा कि अरविन्द केजरीवाल के प्रदेश के सरकारी स्कूलों के निरक्षणसे  खट्टर सरकार की बौखला गई है | कही इनकी पोल न खुल जाये इस लिए स्कूलों में लीपापोती काम शुरू कर दिया है |अगर अरविन्द केजरीवाल के डर  सरकारी स्कूलों  के हालत सुधरते है तो केजरीवाल प्रदेश के हर स्कूल का निरक्षण करने को तैयार है | अगर खट्टर सरकार को स्कूल व अस्पताल चलाने नही आते है तो हम से ट्रेनिग लेले |

जयहिंद ने कहा कि हरियाणा में सत्ता का बदलाव फरीदाबाद से होगा। भीड़ गवाह है इस बात कि फरीदाबाद की जनता सीबीआई( कांग्रेस , इनेलो , भाजपा) से तंग आ चुकी है अब उसे बदलाव चाहिए | आम आदमी इनका खुट्टा पाड़ के ही दम लेगा |

दिल्ली विधायक सहीराम ने भी कार्यकताओं की होंसला आफजाही करते हुए कहा कि हरियाणा में भी उसी तरह काम करेंगे जिस तरह दिल्ली की जनता के लिए काम कर रहे है | फरीदाबाद की जनता अब आम आदमी की राजनीति चाहती है मुद्दों की राजनीती चाहती है |

इस मौके पर सैकड़ों युवाओं ने टोपी पहन प्रदेशाध्यक्ष नवीन जयहिंद की मौजदगी में  विधिवत तरीके से आम आदमी पार्टी की सदस्यता ग्रहण की |

इस मौके पर लोकसभा सन्गठन मंत्री गिर्राज शर्मा , फरीदाबाद जिला अध्यक्ष हरेंदर भाटी, , रणबीर चंदीला, गुरुग्राम लोकसभा संगठन मंत्री सचिन गौड़, कवि शाहनवाज हिन्दुस्तानी, गुरुग्राम जिला अध्यक्ष महेश यादव आदि पदाधिकारी मौजूद रहे |


खट्टर सरकार के खिलाफ होगा कटोरा आन्दोलन, सरकार के पास नही है पैसा, जनता से चंदा इक्कट्ठा कर देंगे मुख्यमंत्री को : जयहिंद

प्रदेशाध्यक्ष नवीन जयहिंद ने कहा कि सरकार के पास किसानों को मुआवजा देने के लिए , रोडवेज के कर्मचारिओं के लिए बस खरीदने के लिये, बेरोजगारों को भत्ता देने लिए , सस्ती बिजली के लिए , सरकारों स्कूलों के लिए , हस्पतालों के लिए दवाइयों के लिए , सडको पर घूम रही गायों के लिए नही है इसलिए खट्टर सरकार के खिलाफ  कटोरा आन्दोलन किया और जनता से चंदा इकट्टा कर ये पैसा मुख्यमंत्री खट्टर के पास भेंजेंगे ताकि जनता को सुविधाए मिल सके |

Thursday, 11 October 2018

Best Homeopathic medicine for Uric acid -Gout

Best Homeopathic medicine for Uric acid -Gout

फरीदाबाद 12 अक्टूबर ।  शास्त्रीय होम्योपैथिक क्लिनिक में, किसी भी बीमारी के लिए हमारा दृष्टिकोण व्यक्ति को पूरी तरह से इलाज करना है। इस प्रकार, रोगी के संविधान को कम करने से हमेशा शास्त्रीय होम्योपैथिक डॉक्टर को सबसे उपयुक्त उपाय चुनने में मदद मिलती है। सही होम्योपैथिक दवा के साथ डॉ। अभिषेक के अनुसार, एक आहार लेना बहुत महत्वपूर्ण है जो purines में कम है।

उच्च यूरिक एसिड के लिए सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथी चिकित्सा
आउरा होम्योपैथी में, डॉक्टरों की हमारी खुराक रोगी की कुल तस्वीर के आधार पर होम्योपैथिक दवा निर्धारित करती है जिसमें उसकी जीवनशैली, मानसिक तनाव, उसके तनाव स्तर और भावनात्मक स्थिति, उनके चरित्र, आहार, यूरिक एसिड का पारिवारिक इतिहास और अन्य कारक शामिल हैं। गौट-एरिक एसिड के लिए सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथिक दवा खोजने के लिए - दर्दनाक जोड़। ऑरा होम्योपैथी क्लिनिक में, हमारे उपचार को वैयक्तिकृत किया जाता है, यानी गठिया या उच्च यूरिक एसिड स्तर वाले 2 रोगियों को अलग-अलग व्यक्तियों के रूप में माना जाता है, और प्रत्येक रोगी को होम्योपैथिक दवा निर्धारित की जाएगी जो उनके लक्षण के साथ सबसे अच्छी तरह से मेल खाती है।

उच्च यूरिक एसिड होने के जोखिम के बारे में और जानने के लिए हमें देखें
गठिया के इलाज के लिए नीचे 10 सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथी दवाएं हैं- उच्च यूरिक एसिड।

कोल्चिकम: महान पैर की उंगलियों के दर्द और सूजन, एड़ी में दर्द की मरीज की शिकायत, वह भी छूने के लिए सहन नहीं कर सकता है। निचले हिस्सों की सूजन और ठंडाता। दर्द और बुखार के साथ जोड़ों की कठोरता। कभी-कभी दर्द को बदलने के रोगी की शिकायतों। रात और शाम को गर्म मौसम से दर्द बढ़ जाता है। अधिक जानकारी हमें देखें: दिल्ली में सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथी डॉक्टर

यूर्टिका यूरेन: यह होम्योपैथिक दवा उच्च यूरिक एसिड के स्तर के इलाज के लिए सर्वश्रेष्ठ है क्योंकि यह हमारे शरीर से यूरिक एसिड को खत्म करने में वृद्धि करती है। डायथेसिस: गठिया और यूरिक एसिड। संयुक्त दर्द त्वचा के विस्फोट जैसे आर्टिकरिया से जुड़ा हुआ है। Deltoid, कलाई और एड़ियों में सूजन और दर्द की रोगी शिकायत।

बेंजोइक एसिड: आक्रामक और उच्च रंगीन मूत्र के साथ-साथ क्रैकिंग ध्वनियों के साथ दर्द और पेट की सूजन और अन्य जोड़ों की सूजन की शिकायतें। दर्दनाक गठिया नोड्स। उजागर और खुली हवा में संयुक्त दर्द बढ़ता है।

लेडम पाल: आरोही संधिशोथ के लिए सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथिक दवा, विशेष रूप से छोटे जोड़ों के दर्द को अलग करना। ग्रेट पैर की अंगुली दर्दनाक, सूजन और स्पर्श करने के लिए गर्म। सामान्य रूप से शीत अनुप्रयोग के साथ दर्द ठीक हो जाता है।

एंटीमोनियम क्रूड: गैस्ट्रिक शिकायतों के साथ विशेष रूप से ऊँची एड़ी और उंगलियों में गठिया दर्द। जीभ मोटी सफेद लेपित है। गर्मी और ठंडे स्नान के साथ लक्षण बढ़े। 

सबिना: यह गर्भाशय बीमारियों के साथ महिला रोगी के लिए सबसे अच्छा है। गर्म कमरे में संयुक्त दर्द खराब हो जाता है। लाल चमकदार सूजन और गौटी नोडोसिटी की रोगी शिकायतें। Esp। गर्भाशय की परेशानी के साथ महिलाओं में।

अर्नीका: सूजन और दर्द से पीड़ित भावनाओं के साथ जोड़ों में दर्द, दर्द चलने के साथ बढ़ता है। अलग संयुक्त दर्द के कारण, रोगी को उसके निकट छुआ या संपर्क करने से डर लगता है।

बर्बेरिस वल्गारिस: क्रोनिक गठ संविधान। दर्द की अचानक शुरुआत। जोड़ों में अचानक सिलाई दर्द की रोगी शिकायतें। दर्द गति के साथ बढ़ता है। मेटाटारल हड्डियों के बीच दर्द को सिलाई करना जैसे नाखून छेड़छाड़ कर रहा है, खड़े होने पर दर्द बढ़ता है।

लाइकोपोडियम: एक कंकड़ पत्थर से दर्द को ठीक करें। पैर की उंगलियों और उंगलियों में दर्द के साथ तलवों पर कॉलोसिटी। दाहिने पैर गर्म और बाएं पैर ठंडा। पेशाब के दौरान रोगी रोना, पेशाब में लाल तलछट। पेशाब गुजरने के बाद बैकैश में सुधार हुआ। संयुक्त दर्द और अन्य शिकायतें 4 बजे से शाम 8 बजे के बीच बढ़ीं।


Rhododendron: जोड़ों के दर्द और सूजन विशेष रूप से महान पैर की अंगुली संयुक्त, दर्दनाक स्थिति तूफान से पहले बढ़ जाती है। सही पक्षपातपूर्ण स्नेह। सुबह में सुबह, तूफान से पहले और लंबे समय तक रहने के बाद संयुक्त दर्द बढ़ गया। सामान्य रूप से गर्मी और खाने में गर्मी के साथ।
Homeopathy for Cold cough Flu

Homeopathy for Cold cough Flu

FARIDABAD : 12 October  I  भरी हुई नाक तब होती है जब नाक और आसन्न ऊतकों और रक्त वाहिकाओं को अधिक तरल पदार्थ के साथ सूज हो जाता है, जिससे "घृणित" लग रहा हो। नाक की भीड़ या अनुनासिक निर्वहन या "बहुरंगी नाक" के साथ नहीं हो सकती है।


आमतौर पर नाक की भीड़ पुराने बच्चों और वयस्कों के लिए एक झुंझलाहट है। लेकिन नाक की भीड़ उन बच्चों के लिए गंभीर हो सकती है जिनकी नींद उनकी नाक की भीड़ या शिशुओं से परेशान होती है, जिनके परिणामस्वरूप एक कठिन समय पर भोजन हो सकता है।


कारण - नाक की भीड़ किसी भी चीज के कारण हो सकती है जो अनुनासिक ऊतकों को उत्तेजित या उत्तेजित करती है। संक्रमण - जैसे सर्दी, फ्लू या साइनसाइटिस - एलर्जी और विभिन्न परेशानी, जैसे कि तम्बाकू धूम्रपान, सब कुछ नाक का कारण हो सकता है कुछ लोगों को बिना किसी स्पष्ट कारण के लिए लंबे समय से चलने वाले नाक हैं - एक शर्त जिसे नॉनलार्लिक राइनाइटिस या वासोमोटर रिनिटिस (वीएमआर) कहा जाता है।

कम सामान्यतः, नाक की भीड़ कणिकाओं या एक ट्यूमर के कारण हो सकती है।


नाक की भीड़ के संभावित कारणों में शामिल हैं: तीव्र साइनसाइटिस, एलर्जी, क्रोनिक साइनसिस, सामान्य सर्दी, डिकॉग्स्टेस्टेंट नाक स्प्रे अति प्रयोग, विच्छेदन सेप्टम, मादक पदार्थों की लत, सूखी हवा, बढ़े हुए एनोनेओड्स, नाक में विदेशी शरीर, हार्मोनल परिवर्तन, फ्लू, दवाएं, जैसे कि उच्च रक्तचाप की दवाएं, नाक जंतु, गैर एलर्जी रैनिटिस, व्यवसायिक अस्थमा, गर्भावस्था, श्वसन संक्रमण संबंधी वायरस, तनाव, थायराइड विकार, तंबाकू का धुआं, बहुभुज के साथ ग्रैनुलोमेटोसिस





NUX VOMICA 30-Nux Vomica नाक बाधा रात के समय में अपने चरम पर है जब राहत प्रदान करने में महान मदद के प्रभावी होम्योपैथिक उपाय नक्स वोमिका रात के घंटों में बेहद भरे हुए नाक वाले रोगियों को आराम प्रदान करने में बहुत फायदेमंद है। रोगियों को इस होम्योपैथिक उपाय की आवश्यकता होती है, रात के समय तीव्र नाक भराई होती है। व्यक्ति यह भी वर्णन कर सकता है कि दिन के दौरान, रात में नाक निर्वहन होता है, इसे अवरुद्ध कर दिया जाता है। इसके अलावा मरीज़ एक तरफ नाक की बाधा और अन्य पर मुक्ति के मुक्त महसूस कर सकते हैं। खुली हवा में जाकर नाक अवरोध को भी बिगड़ता है।

सैम्बुक्स एनआईजी 30-सॅंबुबुस नाक रुकावट के लिए एक और शीर्ष होम्योपैथिक दवा है जो अत्यंत नाक नाक छिद्रों के साथ है। रुकावट के कारण सांस लेने में बहुत मुश्किल है और यह व्यक्ति को बैठने के लिए मजबूर करता है। अधिकतर रात में, घुटन और साँस लेने में कठिनाई के कारण व्यक्ति को नींद से बैठना पड़ता है। नाक अवरोध के लिए शिशुओं को दिया जाने पर सैंबुबुस भी बहुत प्रभावशाली होता है। रुकावट घुटन और मुँह में सांस लेने की ओर जाता है और शिशु को मां की फूड लेने के दौरान बुरी स्थिति का सामना करना पड़ता है

आर्सेनिक्स एल्बम 30-आर्सेनिकम एल्बम का निर्धारण तब किया जाता है जब नाक के अवरोध नाक एलर्जी के कारण होते हैं। यह मुख्य रूप से निर्धारित होता है जब नाक अवरोध के साथ जल नाक निर्वहन जल रहा है। वहाँ नाक से प्रचुर मात्रा में पानी और उत्तेजक निर्वहन है। तीव्र प्यास है और मरीज को खुली हवा में भी बुरा लगता है।

ग्लेज़ैमियम 30-गिल्सिमियम निर्धारित किया जाता है जब नाक रुकावट में बंद महसूस होने के साथ सुस्त सिरदर्द होता है, और एक धाराप्रवाह नाक निर्वहन होता है।

सिनापिस एनआईजीआरए 30 - सिनापीस नीग्रै एलर्जी के कारण नाक की भीड़ के लिए एक और उपाय है। यह तब निर्धारित होता है जब वैकल्पिक नहर एलर्जी की प्रतिक्रिया के कारण अवरुद्ध होते हैं। नाक और आंखों से भी मुक्ति होती है।

कैलकिया कार्ब 30- नाक पॉलीप के कारण कैल्केरा कार्ब नाक रुकावट के लिए बहुत प्रभावी है कार्ब नाक कणों के लिए एक और उत्कृष्ट होम्योपैथिक दवा है। यह ज्यादातर बाएं पक्षीय नाक कणों के लिए संकेत दिया जाता है। बाएं तरफ नलिका अवरुद्ध लगता है नाक से भ्रूण पीला डिस्पैच के साथ इसमें शामिल किया जा सकता है नाक में दुख और विकृत सनसनी भी महसूस होती है। नाक में आक्रामक गंध भी चिह्नित है नाक की जड़ में बहुत अधिक सूजन होती है। क्लेक्वेरा कार्ब का निर्धारण तब किया जाता है जब लोग आसानी से ले जाते हैं। मौसम में बदलाव नाक की शिकायतों से जुड़ा होता है। कैल्केरा कार्ब वसा, पिलपिला व्यक्तियों के लिए अधिक उपयुक्त है, जिनके अंडे की लालसा है।

लैम्ना लघु 30 - पॉलिप्स के कारण नाक अवरोध को हटाने के लिए लेम्ना माइनर शीर्ष होम्योपैथिक उपाय है। इसका उपयोग करने वाले लक्षण श्वास लेने में कठिनाई के साथ नाक कब्ज और गंध की हानि होते हैं। पोस्टेरियर टपकता भी नाक रुकावट के साथ आते हैं। कुछ व्यक्ति नाक डिस्चार्ज का अनुभव करते हैं, जबकि अन्य में, नाक गुहा शुष्क रहता है। अवरुद्ध नाक में आक्रामक गंध है लेम्ना माइनर पॉलीप के लिए सबसे प्रभावी होम्योपैथिक उपाय है जो गीली मौसम में बिगड़ता है। पॉलीप के मामलों में, लेम्ना माइनर नाक अवरोध को कम कर देता है, श्वसन की समस्या से राहत देता है, और गंध की शक्ति फिर से आती है।

संगीन्रिया नाइट्रिकम 3 एक्स - सोंगुनेरिया नाइट्रिकम, पॉलीप के कारण नाक की भीड़ के लिए भी प्रभावी है और यह नाक को नाक के नाक के साथ अवरुद्ध होने पर भी एक प्रभावी होम्योपैथिक दवा है। डिस्चार्ज प्रकृति में बहुत जलते हैं और व्यक्ति को छींकने का भी अनुभव होता है।

काली बीआईटीमाइकियम 30-काली बिच्रिमिक्यू सिनाइसिस के कारण नाक की भीड़ के लिए एक उत्कृष्ट उपाय है, जहां डिस्चार्ज गले में वापस चला जाता है।

Sunday, 30 September 2018

सोनल गोयल को मिला आउटस्टैंडिंग वुमन एडमिनिस्ट्रेटर अवार्ड

सोनल गोयल को मिला आउटस्टैंडिंग वुमन एडमिनिस्ट्रेटर अवार्ड

 झज्जर, 1 अक्टूबर। हरियाणा के झज्जर जिला की उपायुक्त सोनल गोयल को रविवार को नई दिल्ली में एफएमआरटी अस्मिता- वुमन लीडरशिप कॉन्क्लेव में आउटस्टैंडिंग वुमन एडमिनिस्ट्रेटर अवार्ड से नवाजा गया। कॉनक्लेव की मुख्यातिथि पद्म भूषण सम्मान प्राप्त एवं प्रख्यात अभिनेत्री शबाना आजमी द्वारा सम्मान समारोह में अकेली महिला प्रशासनिक अधिकारी सोनल गोयल को एडमिनिस्ट्रेटर अवार्ड प्रदान करते हुए उनकी कार्यशैली की सराहना की और उन्हें महिलाओं के लिए एक आदर्श बताया। सम्मान समारोह में पद्म श्री शोवना नारायण बतौर विशिष्ट अतिथि मौजूद रही जबकि कार्यक्रम की अध्यक्षता  एफएमआरटी की फाउंडर व चेयरपर्सन डॉ ज्योति राणा ने की। गौरतलब है कि एफएमआरटी अस्मिता- वुमन लीडरशिप कॉन्क्लेव में विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय कार्य करने वाली महिलाओं को  नई दिल्ली स्थित नेहरू मेमोरियल म्यूजियम एंड लाइब्रेरी सभागार में सम्मानित किया गया। 

वुमन लीडरशिप कॉन्क्लेव में मुख्यातिथि शबाना आजमी ने झज्जर उपायुक्त सोनल गोयल को सम्मान देते हुए कहा कि उन्हें बताया गया कि झज्जर जिले में श्रीमती गोयल द्वारा सामाजिक बदलाव में उठाये जा रहे कदम महिला सशक्तिकरण की दिशा में अहम हैं। उन्होंने कहा कि एक प्रशासनिक अधिकारी के तौर पर जिस प्रकार सोनल गोयल अपनी जिम्मेवारी निभा रही हैं वहीं उनके जनहित में सामाजिक संदेश के साथ किये जा रहे कार्य न केवल महिलाओं बल्कि पूरे समाज के लिए प्रेरणास्रोत हैं। आउटस्टैंडिंग वुमन एडमिनिस्ट्रेटर अवार्ड लेने उपरांत मंच से उपायुक्त सोनल गोयल ने अपने अनुभव भी सांझे किये। उन्होंने कहा कि देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी व हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल एक सकारात्मक सोच के साथ सामाजिक बदलाव की दृष्टि से काम कर रहे हैं। 

एक सफल नेतृत्व को मार्गदर्शक मानते हुए वे भी प्रयास करती हैं कि केंद्र व प्रदेश सरकार की जनकल्याणकारी नीतियों का लाभ समाज के अंतिम व्यक्ति तक पहुंचे। ऐसे में आधारभूत ढांचागत विकास कराने के साथ ही झज्जर जिले में सोच-पे-दस्तक मुहिम के तहत पुरुषों व महिलाओं की मानसकिता को बदलने की कोशिश झज्जर प्रशासन की ओर से की जा रही है। युवा शक्ति को भी इस मुहिम से जोड़ते हुए संस्कारवान बनाया जा रहा है ताकि महिलाओं के प्रति आपराधिक मामलों पर अंकुश लग सके। उन्होंने अपने विचार रखते हुए कहा कि महिला होना ही आपके जीवन की सबसे बड़ी उपलब्धि है, न कि आपका सबसे बड़ा डर। इस नारीत्व को अपने आत्मविश्वास के रूप में अपनाकर अपने डर और दबाव को दूर किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि बेटी की शिक्षा पूरे परिवार को शिक्षित करती है, ऐसे में बेटियों को स्वावलंबी बनाना बेहद जरूरी है। यहां आपको बता दें कि अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर 8 मार्च को उपायुक्त सोनल गोयल ने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत हरियाणा की टीम का नेतृत्व किया था। राष्ट्रपति श्री राम नाथ कोविंद ने झज्जर जिले में चलाए जा रहे पुनीत अभियान के लिए उपायुक्त सोनल को प्रोत्साहित भी किया। 

कॉन्क्लेव के दौरान उपायुक्त सोनल गोयल सहित आईआईएम कोजिखोड़े के निदेशक डॉ  देबाशीष चटर्जी, प्रो.निहारिका वोहरा, शुक्ला बोस, छांव फाउंडेशन की डायरेक्टर लक्ष्मी अग्रवाल, काल्कि सुब्रमण्यम, पूर्व मिस इंडिया शिवानी वजीर, डॉ कृति पारेख, डॉ कविता ए शर्मा, लेखिका प्रीति सिंह, तन्नू वेड्स मनु फेम अभिनेत्री दीप्ती मिश्रा ने विचार सांझे किए।

Wednesday, 12 September 2018

रावल डिस्ट्रिक्ट क्रिकेट एसोसिएशन  ( डीसीए )  का ग्राउंड बनकर हुआ तैयार : रजत भाटिया

रावल डिस्ट्रिक्ट क्रिकेट एसोसिएशन ( डीसीए ) का ग्राउंड बनकर हुआ तैयार : रजत भाटिया

भूपानी में रावल डिस्ट्रिक्ट क्रिकेट एसोसिएशन  ( डीसीए )  का ग्राउंड बनकर हुआ तैयार, ग्राउंड में बनाई गई पांच विकेट 
-ग्राउंड में बनाई गई 80 यार्ड की बाउंड्री : रजत भाटिया 

-तेज गेंदबाजों के लिए बनाई गई ग्रासी विकेट   

7.5 एकड़ मैं बना   रावल डिस्ट्रिक क्रिकेट एसोसिएशन का क्रिकेट मैदान 

फरीदाबाद 12 सितंबर  : तीन माह के भीतर रावल डिस्ट्रिक क्रिकेट एसोसिएशन ने भूपानी गांव में अपना नया ग्राउंड तैयार कर लिया है। 7.5 एकड़ में बनाए गए इस ग्राउंड में पांच विकेट बनाई गई है। इस ग्राउंड में मिनी स्टेडियम का रूप दिया गया है। यह जिले का सबसे बड़ा मैदान होगा । डीसीए प्रेजीडेंट रजत भाटिया ने बताया कि ग्राउंड पर विकेट तैयार होने के बाद सभी ट्रायल और टूर्नामेंट ग्राउंड पर ही करवाए जाएंगे। 

इंडिया ए एवं हरियाणा रणजी के प्रमुख कोच विजय यादव के अनुसार ग्राउंड को नेशनल लेवल के मैचों के अनुसार तैयार किया गया है। और तेज गेंदबाजों के लिए बनाई गई ग्रासी विकेट ताकि खिलाडिय़ों को ऐसी विकेट पर खेलकर नया अनुभव होगा ।  

इंटरनेशनल स्तर का बनाया गया मैदान 

रजत भाटिया ने बताया कि इस मैंदान को इंटरनेशनल स्तर पर बनाया जाएगा ,इस मैंदान मैं 80 यार्ड ( गज ) की बॉण्डरी है और ड्रेसिंग रूम और पवेलियन और आदि की सुविधाए भी रखी और पिच का निर्माण ग्रासी स्तर पर कराया गया ताकि गेंदबाजो और बल्लेबाजो को तेज पिच का अनुभव कराए जा सके । 

3 महीने मैं तैयार हो गया मैदान 

रजत भाटिया ने बताया कि इस पूरे मैंदान को 3 महीने मैं पूरा हो जाएगा तैयार, इस मैंदान पर 5 पिच बनाई गई है और हर प्रकार की पिच पर सिखने का अनुभव क्रिकेटरों को देगी I

महासचिव राजीव यादव ने बताया कि मैदान का निर्माण होने के बाद डिस्ट्रिक लीग मैच और डिस्ट्रिक्ट ट्रॉयल भी अपने मैदान पर ही होंगे । अब डिस्ट्रिक की कोई भी एक्टिविटी अपने मैदान पर ही करेगी । वैसे हमारे क्रिकेटर आगे निकल कर आ रहे हैं। और हरियाणा की ओर से बेहतर प्रदर्शन भी कर रहे हैं।

Thursday, 30 August 2018

बदी से नेकी की ओर ले जाने वाला अनोखा मानवता-ई-ओलम्पियाड

बदी से नेकी की ओर ले जाने वाला अनोखा मानवता-ई-ओलम्पियाड

चंडीगड़ : 31 अगस्त I हे ईश्वर ! हमें बुराई से अच्छाई की ओर ले चलो। हे ईश्वर ! हमें अंधकार से प्रकाश की ओर ले चलो। हे ईश्वर ! हमें मृत्यु से मोक्ष की ओर ले चलो। नि:संदेह वेद-शास्त्र के इस कथन से तो हम सब भली-भांति परिचित ही है, परन्तु इस कथन को चरितार्थ कर, मानव-धर्म से पतित इंसानों को पुन: अच्छाई के मार्ग पर प्रशस्त करने की तरफ कदम बढ़ाया है सतयुग दर्शन ट्रस्ट द्वारा निर्मित मानवता विकास क्लब के निष्काम युवा सदस्यों ने। 

आप सब को यह जानकर हैरानी होगी कि ट्रस्ट द्वारा अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित मानवता-ई-ओलम्पियाड ने आज यहाँ-वहाँ, जहाँ-तहाँ यानि कोचिंग सेन्टरों व स्कूलों में पढ़ रहे छात्र-छात्राओं में, कालेजों में व विभिन्न अन्य शिक्षण संस्थानों में शिक्षा ग्रहण कर रहे युवाओं में, मॉलों में, पार्कों में व बाजारों में सैर-सपाटा कर रहे इंसानों में, ओद्योगिक क्षेत्रों में व पेशेवर व्यवसायों में कार्यरत लोगों में, समाज से कटे हुए लाचार, अंध, अपंग, अनाथ बच्चों में व वृद्धाश्रमों में निवास कर रहे असहाय वृद्धों में, मानवता अपना कर एक अच्छा इंसान बनने की ऐसी उमंग जाग्रत कर दी है कि आज हर कोई, चाहे वह बाल हो या युवा हो, प्रौढ़ हो या वृद्ध हो, नेता हो या मंत्री हो, गायक हो या कलाकार, सब के सब 15 मिनिट की इस परीक्षा द्वारा, अपने वर्तमान नैतिक स्तर का जायज़ा ले, भौतिक पढ़ाई के साथ-साथ आत्मिक ज्ञान प्राप्ति की अनिवार्य आवश्यकता को स्वीकारने के लिए विवश हो गए हैं। 

उनके अनुसार यह परीक्षा कोई साधारण परीक्षा नहीं है अपितु यह परीक्षा तो वह परीक्षा है जो आत्मनिरीक्षण द्वारा, जन्म-जन्मांतरों से मानव मन में गहनता से छाए हुए अज्ञानमय अंधकार को भेद कर, आत्मज्योति के प्रकाश में, ख़ुद का खुद से परिचय कराने वाली है यानि मानव का उसके निज मानव धर्म मानवता से परिचय करा, आत्मसाक्षात्कार के सुनहरी मार्ग पर प्रशस्त करने वाली है। अन्य शब्दों में वर्तमान कलुषित नकारात्मक वातावरण में, सात्विकता से भरपूर सकारात्मक व उच्च विचारों के रूप में प्रवाहित हो रही इस परीक्षा की निर्मल अवधारणा ने, संसार में भटके हुए हर मानव के मन को इस तरह तरंगित कर दिया है कि सहज ही ह्मदय परिर्वतन की अभिलाषा उसके मन में जाग्रत हो गई है और वह बदी का रास्ता छोड़ नेकी की राह पर चलने के लिए तत्पर हो गया है। इस तरह पवित्रता की वाइबरेशनस यानि प्रकम्मपन इस परीक्षा के माध्यम से हर ह्मदय को झंकृत कर रहा है और प्रत्येक के मन में बुराई का रास्ता छोड़ पूर्णत: सदाचारी बनने की उमंग व उत्साह जाग्रत कर रहा है। सबकी जानकारी हेतु अब तक लगभग साढ़े 5 लाख सजन आनलाइन आयोजित इस परीक्षा को दे चुके हैं और अविचारी चलन त्याग कर विचार में आने के लिए तत्पर हो गए हैं। 

निश्चित ही इन अभूतपूर्व प्रयासों एवं प्राप्त हुई आशातीत सफलता को देखकर यह ज्ञात होता है कि परमेश्वर समय रहते ही हम जीवों के अन्दर आत्मिक ज्ञान प्राप्ति की अभिलाषा जाग्रत कर, बुरे से अच्छा इंसान बनने के लिए प्रेरित कर रहे हैं और विचार, सत्-जबान, एक दृष्टि, एकता, एक अवस्था में आकर  सतवस्तु में प्रवेश करने का आवाहन् दे रहे हैं। अत: ईश्वर के हुक्म की मननकारी करते हुए हम सबके लिए बनता है कि हम परमेश्वर द्वारा दर्शाए इस मार्ग का तहे दिल से अनुसरण करें और तद्नुकूल न केवल विचारसंगत जीवने जीने की कला सीखें अपितु उस कला के समुचित वर्त-वर्ताव द्वारा युग परिवर्तन के महत्त्वपूर्ण कार्य में भी निष्कामता से अपना भरपूर सहयोग दें। इस तरह फिर उस परमपिता परमात्मा का संग प्राप्त कर व समभाव नजरों में कर सजन वृत्ति अपनाए और समदर्शिता अनुरूप, परस्पर सजन भाव का व्यवहार करते हुए शांतिपूर्वक पावन जीवन जीते हुए सबके लिए कल्याणकारी साबित हो। 

अंत में सजनों अगर यह समाचार पढ़ने के पश्चात् अगर आप सब के मन में भी ऐसा सदाचारी, धर्मशील इंसान बनने की इच्छा जाग्रत हुई है और आप अपनी इस अभिलाषा को पूरा कर मानव जाति के उत्थान के निमित्त चलाए जा रहे इस प्रयोजन में अपना योगदान देना चाहते हो तो आज ही आनलाइन आयोजित इस परीक्षा को वेबसाइट www.humanityolympiad.org  पर जाकर अंग्रेजी एवं हिंदी किसी भी माध्यम में सम्पन्न करें और परोपकार की भावना से ओत-प्रोत हो सबसे भी कराएं । इस तरह लैपटॉप , स्मार्टफोन, टी.वी., ई-गेजेटस व अन्य आकर्षण इनाम पाने के हकदार बनें। सबकी जानकारी हेतु पुरस्कार वितरण समारोह दिनाँक 7 सितम्बर 2018, विश्व समभाव दिवस के शुभावसर पर फरीदाबाद, गाँव भूपानि स्थित ट्रस्ट के विशाल सभागार में सम्पन्न होगा। समभाव-समदृष्टि तथा मानवता के विषय में उचित मार्गदर्शन प्राप्त करने हेतु सभी से निवेदन है कि वह अवश्य ही घर-परिवार व सगे-सम्बन्धियो सहित इस आयोजन में सम्मिलित हो व अपना स्थान प्रात: साढे नौ बजे तक अवश्य ग्रहण कर लें। 

Sunday, 26 August 2018

रक्षाबंधन पर मेवात में 300 मुस्लिम महिलाओं ने भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला को बांधी रखी

रक्षाबंधन पर मेवात में 300 मुस्लिम महिलाओं ने भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला को बांधी रखी

हथीन : 26 अगस्त । जिले  के गांव पचानका में रक्षाबंधन समारोह में हरियाणा बीजेपी  प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला ने मुख्यअतिथि के रूप में शिरकत की। इस मौके पर प्रदेशाध्यक्ष को करीब 300 मु‌स्लिम बहनों ने राखी बांधी तो उन्होंने इन मुश्लिम बहनों को शॉल और मिठाई भेंट कर हथीन क्षेत्र में शिक्षा के स्तर को और ऊंचा उठाने का आश्वासन दिया। समारोह को संबो‌धित करते हुए प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला ने कहा कि रक्षाबंधन भाई-बहन के पवित्र रिश्ते का त्यौहार है ।सामाजिक सौहार्द, सामाजिक समनंवय, सबका साथ-सबका विकास और सबका विश्वास जीतना ही आज के कार्यक्रम का उद्देश्य है। हथीन के पचानका गांव में मुश्लिम महिलाओं के साथ रक्षाबंधन का त्यौहार मनाने पहुंचे भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला का हथीन पहुंचने पर जोरदार स्वागत किया गया। 

इस मौके पर कार्यक्रम की आयोजक इंजीनियर राहिला खान मेवाती ने फूलों का गुलदस्ता भेंट कर प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला का स्वागत किया तो वहीं मुश्लिम समुदाय के लोगों ने पगड़ी बांधकर सुभाष बराला और सीएम के राजनैतिक सचिव दीपक का स्वागत किया। इस मौके पर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला ने लोगोंं को रक्षाबंधन और ईद की बधाई देते हुए कहा कि हम सबको मिलकर समाज को आगे बढ़ाने में अपना योगदान देना चाहिए। चंद जिलों के विकास होने से ये नहीं कहा जा सकता कि पूरे हरियाणा प्रदेश का विकास हो रहा है। यदि पलवल जिले और मेवात जिले का प्रत्येक गांव विकास करता है तो कहा जा सकता है कि हरियाणा प्रदेश तरक्की कर रहा है। हमारी देश प्रदेश की सरकारें सबका साथ-सबका विकास के नारे के साथ काम कर रही हैं। हमें सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास को लेकर आगे बढ़ना है। तभी हम मेवात जैसे पिछड़े क्षेत्र को भी विकास के रास्ते पर ला सकते हैं। उन्होने कहा कि आज के इस कार्यक्रम में बहनों ने रक्षासूत्र बांधकर बड़े ही हर्षोलास के साथ इस कार्यक्रम को मनाया है। कुछ कार्यक्रमों का उद्देश्य केवल राजनीतिक होता है। लेकिन इस कार्यक्रम का उद्देश्य सामाजिक सौहार्द,  सामाजिक समन्वय, सबका साथ-सबका विकास  और सबके  विश्वास को लेकर आगे बढ़ना है। कार्यक्रम की आयोजक राहिला खान मेवाती ने जिस तरह से शिक्षा व खेलों के क्षेत्रों में महारथ हासिल कर इंजीनियर बनीं और आज एक शिक्षक के रूप में काम कर रही है तो इससे मेवात के क्षेत्र को लोगों और महिलाओं को एक प्रेरणा मिलती है।                                                                                                                          

इस मौके पर सीएम के राजनैतिक सचिव दीपक मंगला ने कहा कि इस कार्यक्रम से हमने प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ और बेटियों को खिलाओ अभियान के संदेश को देने का काम किया है। हमारी सरकार शिक्षा के स्तर को उठाने का काम कर रही हैं। दूधौला गांव में विश्वकर्मा विश्वविद्यालय के बनने के बाद लोगों को कौशलयुक्त शिक्षा मिलेगी जिससे उन्हे सरकारी तथा गैर सरकारी संस्थानों में रोजगार भी मिलेगा। मिंडकौला गांव में पालीटैक्निक कालेज, गांव स्वामिका में डिग्री कालेज हैं और आगे भी हथीन क्षेत्र में शिक्षा के स्तर को बढ़ाने का काम किया जाएगा। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार में योग्यता के आधार पर नौकरी देने का काम किया जा रहा है व ‌भ्रष्टाचार मुक्त प्रशासन देने का काम किया है। 

इस मौके पर भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता राजीव जेटली, भाजपा जिलाध्यक्ष जवाहर सिंह सौरोत, हरियाणा श्रम कल्याण बोर्ड के उपाध्यक्ष हरिप्रकाश गौतम, पूर्व मंत्री सुभाष कत्याल, प्रदेश कार्यकारणी सदस्य संजय गुजर,  प्रदेश महामंत्री भाजपा संदीप जोशी, किसान मोर्चा के उपाध्यक्ष बलदेव अलावलपुर, निगरानी कमेटी पलवल के सदस्य मुकेश सिंगला सहित अन्य पदाधिकारी मौजूद रहे।  




Thursday, 23 August 2018

यूरिक एसिड के लिए शीर्ष 10 होम्योपैथिक चिकित्सा - गठिया उपचार

यूरिक एसिड के लिए शीर्ष 10 होम्योपैथिक चिकित्सा - गठिया उपचार

फरीदाबाद 24 अगस्त ।  शास्त्रीय होम्योपैथिक क्लिनिक में, किसी भी बीमारी के लिए हमारा दृष्टिकोण व्यक्ति को पूरी तरह से इलाज करना है। इस प्रकार, रोगी के संविधान को कम करने से हमेशा शास्त्रीय होम्योपैथिक डॉक्टर को सबसे उपयुक्त उपाय चुनने में मदद मिलती है। सही होम्योपैथिक दवा के साथ डॉ। अभिषेक के अनुसार, एक आहार लेना बहुत महत्वपूर्ण है जो purines में कम है।

उच्च यूरिक एसिड के लिए सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथी चिकित्सा
आउरा होम्योपैथी में, डॉक्टरों की हमारी खुराक रोगी की कुल तस्वीर के आधार पर होम्योपैथिक दवा निर्धारित करती है जिसमें उसकी जीवनशैली, मानसिक तनाव, उसके तनाव स्तर और भावनात्मक स्थिति, उनके चरित्र, आहार, यूरिक एसिड का पारिवारिक इतिहास और अन्य कारक शामिल हैं। गौट-एरिक एसिड के लिए सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथिक दवा खोजने के लिए - दर्दनाक जोड़। ऑरा होम्योपैथी क्लिनिक में, हमारे उपचार को वैयक्तिकृत किया जाता है, यानी गठिया या उच्च यूरिक एसिड स्तर वाले 2 रोगियों को अलग-अलग व्यक्तियों के रूप में माना जाता है, और प्रत्येक रोगी को होम्योपैथिक दवा निर्धारित की जाएगी जो उनके लक्षण के साथ सबसे अच्छी तरह से मेल खाती है।

उच्च यूरिक एसिड होने के जोखिम के बारे में और जानने के लिए हमें देखें

गठिया के इलाज के लिए नीचे 10 सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथी दवाएं हैं- उच्च यूरिक एसिड।

कोल्चिकम: महान पैर की उंगलियों के दर्द और सूजन, एड़ी में दर्द की मरीज की शिकायत, वह भी छूने के लिए सहन नहीं कर सकता है। निचले हिस्सों की सूजन और ठंडाता। दर्द और बुखार के साथ जोड़ों की कठोरता। कभी-कभी दर्द को बदलने के रोगी की शिकायतों। रात और शाम को गर्म मौसम से दर्द बढ़ जाता है। अधिक जानकारी हमें देखें: दिल्ली में सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथी डॉक्टर

यूर्टिका यूरेन: यह होम्योपैथिक दवा उच्च यूरिक एसिड के स्तर के इलाज के लिए सर्वश्रेष्ठ है क्योंकि यह हमारे शरीर से यूरिक एसिड को खत्म करने में वृद्धि करती है। डायथेसिस: गठिया और यूरिक एसिड। संयुक्त दर्द त्वचा के विस्फोट जैसे आर्टिकरिया से जुड़ा हुआ है। Deltoid, कलाई और एड़ियों में सूजन और दर्द की रोगी शिकायत।

बेंजोइक एसिड: आक्रामक और उच्च रंगीन मूत्र के साथ-साथ क्रैकिंग ध्वनियों के साथ दर्द और पेट की सूजन और अन्य जोड़ों की सूजन की शिकायतें। दर्दनाक गठिया नोड्स। उजागर और खुली हवा में संयुक्त दर्द बढ़ता है।

लेडम पाल: आरोही संधिशोथ के लिए सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथिक दवा, विशेष रूप से छोटे जोड़ों के दर्द को अलग करना। ग्रेट पैर की अंगुली दर्दनाक, सूजन और स्पर्श करने के लिए गर्म। सामान्य रूप से शीत अनुप्रयोग के साथ दर्द ठीक हो जाता है।

एंटीमोनियम क्रूड: गैस्ट्रिक शिकायतों के साथ विशेष रूप से ऊँची एड़ी और उंगलियों में गठिया दर्द। जीभ मोटी सफेद लेपित है। गर्मी और ठंडे स्नान के साथ लक्षण बढ़े। अधिक जानकारी हमें देखें: दिल्ली में सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथी डॉक्टर

सबिना: यह गर्भाशय बीमारियों के साथ महिला रोगी के लिए सबसे अच्छा है। गर्म कमरे में संयुक्त दर्द खराब हो जाता है। लाल चमकदार सूजन और गौटी नोडोसिटी की रोगी शिकायतें। Esp। गर्भाशय की परेशानी के साथ महिलाओं में।

अर्नीका: सूजन और दर्द से पीड़ित भावनाओं के साथ जोड़ों में दर्द, दर्द चलने के साथ बढ़ता है। अलग संयुक्त दर्द के कारण, रोगी को उसके निकट छुआ या संपर्क करने से डर लगता है।

बर्बेरिस वल्गारिस: क्रोनिक गठ संविधान। दर्द की अचानक शुरुआत। जोड़ों में अचानक सिलाई दर्द की रोगी शिकायतें। दर्द गति के साथ बढ़ता है। मेटाटारल हड्डियों के बीच दर्द को सिलाई करना जैसे नाखून छेड़छाड़ कर रहा है, खड़े होने पर दर्द बढ़ता है।

लाइकोपोडियम: एक कंकड़ पत्थर से दर्द को ठीक करें। पैर की उंगलियों और उंगलियों में दर्द के साथ तलवों पर कॉलोसिटी। दाहिने पैर गर्म और बाएं पैर ठंडा। पेशाब के दौरान रोगी रोना, पेशाब में लाल तलछट। पेशाब गुजरने के बाद बैकैश में सुधार हुआ। संयुक्त दर्द और अन्य शिकायतें 4 बजे से शाम 8 बजे के बीच बढ़ीं।

Rhododendron: जोड़ों के दर्द और सूजन विशेष रूप से महान पैर की अंगुली संयुक्त, दर्दनाक स्थिति तूफान से पहले बढ़ जाती है। सही पक्षपातपूर्ण स्नेह। सुबह में सुबह, तूफान से पहले और लंबे समय तक रहने के बाद संयुक्त दर्द बढ़ गया। सामान्य रूप से गर्मी और खाने में गर्मी के साथ।

बजरंग पुनिया ने पूरी दुनिया में सोनीपत का मान बढ़ाया : कविता जैन

बजरंग पुनिया ने पूरी दुनिया में सोनीपत का मान बढ़ाया : कविता जैन

सोनीपत, 24 अगस्त।  शहरी स्थानीय निकाय, महिला एवं बाल विकास मंत्री कविता जैन ने कहा कि बजरंग पुनिया ने दुनिया में भारत,हरियाणा और सोनीपत का मान सम्मान बढ़ाया है। हमें उनकी इस उपलब्धि पर गर्व है। खुद मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने भी उन्हें फोन कर बधाई दी है। श्रीमती जैन गुरुवार को एशियाड़ खेलों में स्वर्ण पदक जीतकर लाने वाले बजरंग पुनिया को उनके माडल टाउन स्थित निवास पर बधाई देने पहुंची थी। उनके साथ मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार राजीव जैन भी मौजूद थे। 

उन्होंने कहा कि खेलों के क्षेत्र में आज हरियाणा के खिलाड़ी पूरी दुनिया में छाए हुए हैं। इन्हीं में से बजरंग पुनिया जैसे खिलाड़ी ऐसे हैं जिन्होंने अपनी एक अलग पहचान बनाई है। यह खिलाड़ी नए बच्चों के लिए प्रेरणास्रोत हैं। इस दौरान उन्होंने बजरंग पुनिया की मां व पिता को भी उनके पुत्र की सफलता के लिए बधाई दी और कहा कि ऐसे बेटे किस्मत वालों को मिलते हैं। उन्होंने खिलाड़ी बजरंग पुनिया को भी बुका भेंट कर स्वागत किया। 

इस दौरान मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार राजीव जैन ने कहा कि हरियाणा सरकार ने बजरंग पुनिया के स्वर्ण पदक जीतने पर तीन करोड़ रुपये देगी। उन्होंने कहा कि यह हमारे लिए गर्व और गौरव की बात है कि एशियाड़ खेलों में देश को पहला स्वर्ण पदक दिलवाने वाला खिलाड़ी बजरंग पुनिया हरियाणा और हरियाणा में सोनीपत का है। उन्होंने कहा कि हमें अपने इस खिलाड़ी पर नाज है और उन्हें पूरी मान सम्मान दिया जा जाएगा। 

Sunday, 19 August 2018

सर्वे : भाजपा प्रवक्ता राजीव जेटली जनता की पहली पसंद

सर्वे : भाजपा प्रवक्ता राजीव जेटली जनता की पहली पसंद

फरीदाबाद 19 अगस्त I हरियाणा भाजपा प्रवक्ता राजीव जेटली बने जनता के सबसे पसंदीदा संभावित प्रत्याशी I सोशल मीडिया पर लगभग एक साल से  बड़खल विधानसभा फेसबुक आई डी पर किये जा रहे सर्वे में जिसमे मोजुदा एवं विधायक के साथ साथ बड़े राजनितिक नेताओं के नाम भी डाले गए थे और जनता से अपने पसंद के प्रत्याशी के पक्ष में कमेन्ट के माध्यम से वोट डालने की अपील की थी और लगभग एक साल से जनता अपने पसंदीदा प्रत्याशी को वोट कर रही थी.

अब उसी सोशल मीडिया ने वोट के परिणाम घोषित किये जिसमे राजीव जेटली ने प्रथम स्थान हांसिल किया और सोशल मीडिया पर हरियाणा भाजपा प्रवक्ता राजीव जेटली जनता की पहली पसंद बने जिसमे जनता ने सबसे ज्यादा उनके पक्ष में वोट किया 

इस से एक बात तो प्रतीत होती है की जनता अब नये चेहरे को मौका देना चाहती है क्योंकि पीढियां बदल चुकी हैं और नयी पीढ़ी पुरानी परम्पराओं को छोड़ कर ऐसे युवाओं को आगे लाना चाहती है जिसमे राजनितिक सुझबुझ के साथ दूरदर्शिता भी देखी जा सके शायद यही वजह रही की संभावित प्रत्याशियों में राजनितिक और रासुक्दार परिवार से जुड़े युवा को भी नजरअंदाज कर मध्यम वर्ग से आने वाले युवा भाजपा प्रवक्ता राजीव जेटली को सबसे ज्यादा वोट देकर चुना गया        

Sunday, 8 July 2018

बेस्ट फ्लू इन्फ्लुएंजा होम्योपैथी मेडिसिन

बेस्ट फ्लू इन्फ्लुएंजा होम्योपैथी मेडिसिन

फरीदाबाद 9 जुलाई। इन्फ्लुएंजा इन्फ्लूएंजा वायरस के कारण एक तीव्र ऊपरी श्वसन पथ संक्रमण है, जो विशेष रूप से सर्दी के दौरान दुनिया भर में प्रकोप और महामारी में होता है।

यद्यपि यह अस्थायी रूप से कमजोर पड़ रहा है, फ्लू आमतौर पर स्वस्थ लोगों में एक आत्म-सीमित संक्रमण होता है, जो अधिकांश मामलों में कुछ दिनों के बाद स्वचालित रूप से उपचार करता है।

हालांकि, कुछ जोखिम समूहों में, इन्फ्लूएंजा में अधिक आक्रामक कोर्स हो सकता है, जिससे साइनसिसिटिस, ओटिटिस मीडिया, निमोनिया, ब्रोंकाइटिस और दिल की मांसपेशियों की सूजन और दिल को कवर करने वाली झिल्ली यानी मायोकार्डिटिस और पेरीकार्डिटिस जैसी जटिलताओं का कारण बन सकता है। शिशुओं, बुजुर्गों, गर्भवती महिलाओं, immunodeficiency वाले लोगों या पुरानी दिल या फेफड़ों की बीमारियों के साथ समूह गंभीर फ्लू के विकास के सबसे बड़े जोखिम पर समूह हैं

इस लेख में हम इन्फ्लूएंजा के मुख्य लक्षणों और उन लक्षणों के बारे में बात करेंगे जो जटिलताओं की घटना को इंगित करते हैं।

इन्फ्लूएंजा के मुख्य लक्षणों और लक्षणों की सूची जो इस आलेख में संबोधित की जाएगी, निम्नानुसार है:

38ºC से ऊपर, उच्च बुखार।

खांसी

· गले में खरास।

Coriza और sinusitis।

· छींक आना।

· सरदर्द।

· मांसपेशियों में दर्द।

थकावट और कमजोरी।

· भूख में कमी।

उल्टी और दस्त (बच्चों में सबसे आम)।

फ्लू के संकेत और लक्षण
24 से 9 6 घंटों तक की ऊष्मायन अवधि के बाद, फ्लू के संकेत और लक्षण आमतौर पर इतने अचानक प्रकट होते हैं कि कई रोगी बीमारी शुरू होने के ठीक समय बता सकते हैं। शरीर में उच्च बुखार, कमजोरी और दर्द, श्वास, गले में गले और राइनाइटिस जैसे श्वसन संबंधी लक्षण आमतौर पर बीमारी के पहले कुछ घंटों में मौजूद होते हैं।

हालांकि, किसी भी संक्रमण की तरह, इन्फ्लूएंजा की नैदानिक ​​तस्वीर सभी मरीजों के लिए जरूरी नहीं है। बुखार और हल्के लक्षणों के बिना फ्लू के मामले हैं। ऐसे मरीज़ भी हैं जो भूख, कमजोरी और चक्कर आना चाहते हैं।

युवा बच्चे और बुजुर्ग मरीज़ वे होते हैं जो अक्सर अकल्पनीय लक्षण होते हैं, जो आमतौर पर निदान करने के लिए डॉक्टर के लिए कुछ कठिनाई पैदा करते हैं।

असम्बद्ध इन्फ्लूएंजा वाले मरीज़ आमतौर पर दो से पांच दिनों में लगातार सुधार करते हैं, हालांकि इन्फ्लूएंजा चित्र जो 7 दिनों से अधिक समय तक चलते हैं, असामान्य नहीं हैं। कुछ रोगियों ने श्वसन लक्षणों में सुधार किया है, लेकिन वे अभी भी कई दिनों के लिए कमजोरी या थकावट के लक्षणों का अनुभव करते हैं।

फ्लू की जटिलताओं आमतौर पर बीमारी के कुछ दिनों के बाद होती है। आम तौर पर, रोगी सुधार के लक्षण दिखाना शुरू करता है, जैसे बुखार में कमी और श्वसन लक्षणों में कमी, और अचानक, फिर से, नए बुखार स्पाइक्स और सामान्य गिरावट के साथ।

हम आगे समझाएंगे इन्फ्लूएंजा के 10 सबसे आम लक्षण। जाहिर है, मरीजों को उन सभी लक्षणों की आवश्यकता नहीं है जिन्हें हम सूचीबद्ध करने जा रहे हैं; अधिकांश नहीं करते हैं। हालांकि, सूची और आपके लक्षणों के बीच पत्राचार जितना अधिक होगा, उतनी अधिक संभावना है कि आपकी तस्वीर वास्तव में इन्फ्लूएंजा है।

1- उच्च फीवर
बुखार फ्लू के सबसे आम संकेतों में से एक है। यह आमतौर पर 38 डिग्री सेल्सियस और 41 डिग्री सेल्सियस के बीच उच्च होता है, और अचानक शुरू होता है। बच्चों में बुखार 9 5% मामलों में होता है, जिसमें आधा से अधिक रोगी 39 डिग्री सेल्सियस से ऊपर तापमान तक पहुंचते हैं। बुजुर्गों में, बुखार कम या यहां तक ​​कि मौजूद नहीं हो सकता है।

विभिन्न प्रकार के वायरस के कारण बुखार के विपरीत जो सर्दी का कारण बनता है, जो आमतौर पर केवल 24 से 48 घंटे तक रहता है, इन्फ्लूएंजा बुखार आमतौर पर 2 से 5 दिनों तक रहता है।

पसीना और ठंड दो संकेत हैं जो अक्सर बुखार के साथ होते हैं। फ्लू के कई व्यवस्थित लक्षण, जैसे शरीर में दर्द, सिरदर्द, कमजोरी, थकावट और भूख की कमी, बुखार उच्चतम होने पर कई बार गहन हो जाती है।

बुखार से जुड़ी जटिलताओं

एक लगातार उच्च बुखार जो 4 या 5 दिनों के बाद सुधार के संकेत नहीं दिखाता है, कुछ जटिलताओं के अस्तित्व का सुझाव दे सकता है। एक और व्यवहार जो जटिलताओं को इंगित कर सकता है वह 1 या 2 दिनों के लिए बुखार में कमी है, यह बताता है कि प्रक्रिया संकल्प में है, इसके बाद उच्च बुखार के नए चोटियों और रोगी की सामान्य स्थिति में बिगड़ती है।

2- COUGH
खांसी एक लक्षण है जो लगभग 80% फ्लू रोगियों में होता है। ज्यादातर मामलों में, खांसी सूखी होती है, लेकिन यह दिनों में प्रत्याशा के साथ उत्पादक बन सकती है।

खांसी बीमारी की शुरुआत में हमेशा मौजूद नहीं होती है और स्थिति के समाधान के बाद गायब होने वाले अंतिम लक्षणों में से एक हो सकती है। अक्सर रोगी के पास कोई अन्य लक्षण नहीं होता है, लेकिन कुछ और दिनों तक सूखी खांसी रखता है।

खांसी को बाधित करने वाली दवाओं का उपयोग इंगित नहीं किया जाता है, क्योंकि वे स्थिति को बढ़ा सकते हैं और जटिलताओं की घटना का पक्ष ले सकते हैं, खासकर यदि रोगी की अपेक्षा है। रोगी को हाइड्रेटेड रखने और स्राव के कमजोर पड़ने के लिए बहुत सारे पानी पीना सबसे सही है। रात्रि खांसी से राहत में शहद प्रभावी प्रतीत होता है।

खांसी से जुड़ी जटिलताओं

संकेतों में से एक जो चल रहे जटिल संकेत दे सकता है
संकेतों में से एक संकेत जो एक चल रही जटिलता का संकेत दे सकता है वह छाती में दर्द, सांस की तकलीफ और उच्च बुखार से जुड़ी बहुत हरी या पीले रंग की प्रत्यारोपण खांसी की उपस्थिति है। इन मामलों में, निमोनिया को रद्द करना आवश्यक है।

3- थ्रेट दर्द
गले की सूजन फ्लू का एक और आम लक्षण है और आम तौर पर बीमारी के पहले दिन मौजूद होती है।

इन्फ्लूएंजा गले में गले को बहुत लाल रंग की फेरींगिटिस की विशेषता है, लेकिन टन्सिल में पुस की उपस्थिति के बिना, जो स्ट्रेप्टोकोकल फेरींगिटिस का एक सामान्य संकेत है।

इन्फ्लूएंजा वाले सभी मरीज़ फेरींगिटिस विकसित नहीं करते हैं, लेकिन उन मामलों में, गले में गले अक्सर गंभीर होते हैं, जिससे ठोस खाद्य पदार्थ निगलने या यहां तक ​​कि लार निगलने में कठिनाई होती है।

4- CoryZA और स्टूफी नोएएस
ठंडा coryza और नाक सर्दी और एलर्जीय rhinitis के विशिष्ट लक्षण हैं। हालांकि, ये लक्षण फ्लू में भी हो सकते हैं, खासकर बच्चों में, जहां वे 80% मामलों में मौजूद हैं।

नमकीन पानी के साथ नाक गुहा धोना अधिक प्रभावी लगता है और प्रतिकूल प्रतिक्रियाओं के जोखिम नहीं लेता है।

Rhinitis से जुड़े जटिलताओं

राइनाइटिस साइनसिसिटिस में प्रगति कर सकती है, खासतौर पर विचलित सेप्टम या अन्य शारीरिक परिवर्तनों वाले रोगियों में जो परानाल साइनस की बाधा उत्पन्न करती है।

एक साइनसिसिटिस जो 5 से 7 दिनों के बाद सुधार के संकेत नहीं दिखाती है या जो कोई स्पष्ट और पारदर्शी स्राव नहीं छोड़ती है और बुखार और पीले रंग की हो जाती है, जो बुखार या बुखार की वापसी से जुड़ी होती है, बैक्टीरिया साइनसिसिटिस में साइनसिसिटिस वायरल संक्रमण के परिवर्तन को इंगित कर सकती है।

साइनसिसिटिस के साथ, ओटिटिस मीडिया इन्फ्लूएंजा और गंभीर राइनाइटिस वाले मरीजों की जटिलता भी हो सकती है, खासकर बच्चों में।

5- स्नीज़िंग
राइनाइटिस की तरह, छींकना सर्दी और एलर्जी का एक सामान्य लक्षण है, लेकिन यह फ्लू में भी मौजूद हो सकता है।

छींकने से संबंधित कोई जटिलता या विशिष्ट उपचार नहीं है।

6- हेडैच
बच्चों की तुलना में वयस्कों में फ्लू-जैसे सिरदर्द एक आम लक्षण है। यह आमतौर पर उन रोगियों में अधिक गंभीर होता है जो साइनसिसिटिस विकसित करते हैं या जब बुखार अधिक होता है।

दर्द खोपड़ी में फैल सकता है या आंखों के चारों ओर या गर्दन के नाप के क्षेत्र में अधिक स्थानीयकृत हो सकता है।

यदि कोई विरोधाभास नहीं है, तो दर्द को नियंत्रित करने के लिए आम एनाल्जेसिक या एंटी-इंफ्लैमेटरीज का उपयोग किया जा सकता है। शांत और मंद प्रकाश वाले स्थान आमतौर पर कुछ राहत लाते हैं।

7- मस्तिष्क दर्द
पूरे शरीर में मांसपेशी दर्द वयस्कों में एक सामान्य फ्लू लक्षण है, लेकिन यह केवल बच्चों के एक छोटे से हिस्से में मौजूद है।

निचले हिस्से, बाहों और पैरों की मांसपेशियों को अक्सर सबसे ज्यादा प्रभावित किया जाता है। मांसपेशियों के अलावा, जोड़ भी दर्द हो सकता है।

मांसपेशी दर्द एक सामान्य फ्लू लक्षण है। सर्दी में, यह असामान्य है, और जब मौजूद है, आमतौर पर कमजोर है।

8- थकान और कमजोरी
थकान की कमी और ताकत की कमी सर्दी के संबंध में एक सामान्य फ्लू लक्षण भी है। थकान सभी उम्र में होती है, लेकिन यह बच्चों में अधिक ध्यान देने योग्य है, खासकर जब बुखार अधिक होता है।

थकावट एक लक्षण है जो तस्वीर में जल्दी दिखाई देता है और उपचार के कई दिनों तक रह सकता है। कुछ रोगी 3 सप्ताह तक ताकत और मनोदशा की कमी की भावना की रिपोर्ट करते हैं।

थकान से जुड़ी जटिलताओं

इन्फ्लूएंजा की एक दुर्लभ जटिलता मायोकार्डिटिस है, जो दिल की मांसपेशियों की सूजन है। एक मरीज, जो फ्लू को ठीक करने के कुछ दिनों के बाद, फिर से तीव्र थकान, सांस की तकलीफ और पैरों में सूजन की प्रगतिशील बीमारी के साथ प्रस्तुत करता है, कार्डियक भाग के लिए मूल्यांकन किया जाना चाहिए।

9- भूख की कमी
बीमारी के पहले 48 घंटों में भूख की कमी बहुत आम है, खासतौर पर उस चरण के दौरान जब बुखार उच्चतम होता है।

आपको बेताब सोचने की ज़रूरत नहीं है कि रोगी को हर कीमत पर खाना चाहिए। पहले दो दिनों के लिए, सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि रोगी को हाइड्रेटेड रखना है। भूख आमतौर पर धीरे-धीरे लौटती है।

जो रोगी अच्छी तरह से भोजन नहीं कर रहा है, उसके लिए सबसे अच्छी रणनीति यह है कि बुखार सबसे कम होने पर भोजन की पेशकश करना है।

10- वोटिंग और डायरेरिया (इन्फैंट्स में सबसे ज्यादा कॉमन)
उल्टी, दस्त और पेट दर्द वायरल उत्पत्ति के गैस्ट्रोएंटेरिटिस के लक्षण हैं, लेकिन शायद ही कभी वयस्क फ्लू में होते हैं।

हालांकि, 13 साल से कम उम्र के बच्चों के लगभग 10% फ्लू के कारण गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल लक्षण हैं। उल्टी आमतौर पर अतिसार से अधिक आम है।

उल्टी और दस्त से जुड़ी जटिलताओं

निर्जलीकरण मुख्य जटिलता है जो उल्टी और / या दस्त का अनुभव करने वाले बच्चों में हो सकती है। घर का बना सीरम या मौखिक रिहाइड्रेशन सेरा इन तस्वीरों के इलाज और रोकथाम के सबसे उपयुक्त तरीके हैं।


1. एकोनाइट नेपेलस: फ्लो के पहले चरण के लिए एकोनाइट सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथिक दवा है। एकोनाइट रोगी फ्लू के लक्षण बहुत जल्दी आते हैं, और रोगी बहुत चिंतित और बेचैन होता है। शुष्क, ठंडी हवा के संपर्क से बीमारी। शिखर और ठंडी तरंगें शरीर के माध्यम से उच्च बुखार के साथ गुजरती हैं।

2. आर्सेनिकम एल्बम: रोगी गर्म चेहरे और शरीर की ठंड के साथ चिंता और बेचैनी से भरा है। शारीरिक तनावहीनता के कारण कई बार थकावट के साथ रोगी पतन हो जाता है। बुखार के बाद ठंड और कठोरता के साथ मतली, उल्टी और दस्त की रोगी शिकायतें। रोगी को पानी के छोटे सिप्स के लिए प्यास है और कंपनी चाहता है। मृत्यु का बहुत डर है।


3. बेलाडोना: फ्लू की अचानक शुरुआत की रोगी शिकायत। पतले विद्यार्थियों और चमकीले आंखों के साथ गर्म, लाल चेहरे की रोगी शिकायत। बहुत गंभीर थ्रोबिंग सिरदर्द की रोगी शिकायत जो गति से भी बदतर हो जाती है। मरीज को पानी के लिए बहुत कम या प्यास के साथ बुखार होता है। शरीर गर्म होने के बावजूद हाथों और पैरों की बर्फीली ठंडीता। बुखार के साथ Delirium। सभी इंद्रियों की संवेदनशीलता से अधिक, इसलिए रोगी प्रकाश, या छूने और शोर के लिए और भी बुरा महसूस करता है। लक्षण 3 बजे खराब हो जाते हैं।


4. ब्रायोनिया अल्बा: फ्लू की रोगी शिकायतों जो धीरे-धीरे सेट होती है और धीरे-धीरे प्रगति करती है। रोगी बहुत चिड़चिड़ाहट है और अकेले रहना पसंद करता है। उनके सभी लक्षण, संयुक्त या मांसपेशियों में दर्द से अलग, आंदोलन से भी बदतर हैं और आराम से बेहतर हैं। रोगी बड़ी मात्रा में पानी के लिए बहुत प्यास है, और जूल में पीते हैं। रोगी को त्वचा की सूखापन की भी शिकायतें, लेपित जीभ के साथ, होंठ टूट जाते हैं। बाएं पक्षीय गंभीर सिरदर्द जो गति के साथ बढ़ता है। बुखार के दौरान डिलिरियम, मरीज घर जाना चाहता है हालांकि वह पहले से ही घर पर है।


5. जेल्समियम: गेल्सिमियम सबसे अच्छी होम्योपैथिक दवा है जहां फ्लू के लक्षण धीरे-धीरे विकसित होते हैं। रोगी की भारीता, कमजोरी की शिकायतें। रोगी बहुत सुस्त और सुस्त है। कमजोरी के साथ कमजोरी है।


 6. यूपेटोरियम पेरोफियाटियम: फ्लू के दौरान मांसपेशियों और हड्डियों में उच्च बुखार और गंभीर दर्द की रोगी शिकायतें। रोगी को लगता है जैसे उसकी हड्डियां टूट गई हैं। रोगी ठंडा है, लेकिन शीतल पेय की इच्छा है। ठंडा होने से ठीक पहले बहुत प्यास है। बुखार के साथ गंभीर सिरदर्द की रोगी शिकायतें। लक्षण 7 से 9 बजे के बीच बढ़ जाते हैं। शरीर में दर्द और शव पूरे रीढ़ की हड्डी को ऊपर और नीचे चलाते हैं। सिरदर्द की रोगी शिकायतें जो पीछे से शुरू होती हैं और अपने माथे पर विकिरण करती हैं।


Sunday, 24 June 2018

प्रधानमंत्री ने किया मुंडका-बहादुरगढ़ मैट्रो का लोकार्पण और मुख्यमंत्री ने दिया पीएम को केएमपी के उद्घाटन का निमंत्रण

प्रधानमंत्री ने किया मुंडका-बहादुरगढ़ मैट्रो का लोकार्पण और मुख्यमंत्री ने दिया पीएम को केएमपी के उद्घाटन का निमंत्रण

चंडीगढ़, 24 जून- प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र हरियाणा में मैट्रो रेल तंत्र के विस्तार से हरियाणा प्रदेश के बहुमुखी विकास को ओर अधिक गति मिलेगी और विशेषकर बहादुरगढ़-मुंडका मैट्रो रेल लाइन के विस्तार से बहादुरगढ़ क्षेत्र के विकास को ओर अधिक गति मिल सकेगी। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में सोनीपत (हरियाणा), मेरठ (उत्तर  प्रदेश) व अलवर (राजस्थान) तक रिजनल रेपिड ट्रांसपोर्ट प्रणाली को विकसित कर विस्तार दिया जाएगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि दिल्ली मैट्रो रेल लाइन तंत्र को तेजी से विस्तार दिया जा रहा है और यह जल्द ही शंघाई, बीजिंग, लंदन और न्यूयार्क के बाद संपूर्ण विश्व में पांचवे स्थान का मैट्रो रेल लाइन तंत्र होगा। 

यह बात उन्होंने आज हरियाणा के बहादुरगढ़ में सिटी मैट्रो स्टेशन पर आयोजित उदघाटन समारोह में नॉर्थ ब्लॉक (नई दिल्ली) से वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से मैट्रो रेल लाइन के उद्घाटन अवसर पर कही। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने कुल 2028 करोड़ रुपये लागत से निर्मित बहादुरगढ़-दिल्ली मैट्रो रेल लाइन का शुभारंभ करते हुए कहा कि देश में प्रथम बार बनाई गई मेट्रो नीति 2017 के तहत देश के विभिन्न शहरों में तेजी से मैट्रो रेल लाइनों का विस्तार किया जा रहा है। 

उदघाटन समारोह को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि 21वीं सदी में राष्ट्र को पर्याप्त क्षमता युक्त तीव्र गति पब्लिक ट्रांसपोर्ट प्रणाली विकसित करना केंद्र सरकार की सर्वाधिक प्राथमिकताओं में शामिल है। देश के विभिन्न क्षेत्रों में कनेक्टिविटी को सक्षम बनाने की दिशा में 35,000 किलोमीटर लंबाई के राष्ट्रीय राजमार्गों का निर्माण किया जा रहा है। 

श्री मोदी ने कहा कि न्यू इण्डिया के लिए स्मार्ट पब्लिक ट्रांसपोर्ट प्रणाली आवश्यक व अनिवार्य है। केंद्र सरकार द्वारा सडक़ परिवहन, रेलवे, हवाई मार्गोँ, जलमार्गों तथा विद्युत उत्पादन आधारभूत संरचनाओं में सर्वाधिक निवेश किया गया है। देश के 12 शहरों में मैट्रो रेल प्रणाली को विस्तार दिया जा रहा है और राज्यों को उनके शहरों में मैट्रो रेल प्रणाली विकसित किए जाने के प्रति प्रेरित किया जा रहा है। देश के विभिन्न शहरों में केंद्र सरकार व राज्य सरकारों के सहयोग से मैट्रो रेल परियोजनाएं चल रही हैं। देश में मैट्रो रेल प्रणाली को सक्षम बनाने की दिशा में मैट्रो परियोजनाओं के निर्माण में 75 प्रतिशत स्वदेश निर्मित उपकरणों के प्रयोग का प्रावधान किया गया है। भारत वर्तमान में दूसरे राष्ट्रों को मैट्रो रेल प्रणाली के विभिन्न उपकरणों को निर्यात करने की स्थिति में हैं। विभिन्न मैट्रो रेल परियोजनाएं सहयोगात्मक परिसंघों को मजबूत किए जाने का प्रमाण है।

बहादुरगढ़ को गेटवे ऑफ हरियाणा की संज्ञा देते हुए उन्होंने कहा कि बहादुरगढ़-मुंडका मैट्रो रेल लाइन बनने से यह शहर गेटवे ऑफ डेवलेपमेंट बनने की ओर अग्रसर हुआ है। राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में 280 किलोमीटर लंबाई की मैट्रो रेल लाइन परिचालन में हैं। 

उद्घाटन समारोह में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी का स्वागत करते हुए हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि हरियाणा में केंद्र की विभिन्न निर्माण परियोजनाओं को तेजी से पूर्ण किया जा रहा है। हरियाणा क्षेत्र में केंद्र द्वारा मंजूर किए गए कुल 907 किलोमीटर लंबाई के विभिन्न 9 राष्ट्रीय राजमार्गों तथा चार राष्ट्रीय राजमार्गों के चौड़ा किए जाने के प्रति हरियाणा के मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री का आभार व्यक्त किया। मात्र 500 दिनों की समयावधि में कुण्डली-गाजियाबाद-पलवल (केजीपी) एक्सप्रेस वे का निर्माण कार्य पूर्ण किए जाने को हरियाणा के मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री की दृढ़ इच्छाशक्ति का प्रतीक बताया। हरियाणा के मुख्यमंत्री ने भरोसा दिलाया कि कुण्डली-मानेसर-पलवल (केएमपी) एक्सप्रेस वे का निर्माण कार्य भी यथाशीघ्र पूर्ण किया जा रहा है और इसके पूर्ण होने पर उद्घाटन के लिए प्रधानमंत्री को अपने संबोधन में आमंत्रित भी किया। 

उल्लेखनीय है कि 11.183 किलोमीटर लंबी बहादुरगढ़-मुंडका मैट्रो लाइन पर स्थापित किए गए कुल 7 एलिवेटेड स्टेशनों में हरियाणा में तीन स्टेशन-सिटी पार्क, बस स्टेंड-मॉडर्न इंडस्ट्रीयल एरिया तथा दिल्ली क्षेत्र में टीकरी बॉर्डर, टीकरी कलां, घेवरा व मुंडका औद्योगिक क्षेत्र चार स्टेशन शामिल हैं।

उदघाटन के उपरांत मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने केंद्रीय आवास एवं शहरी कार्य राज्य मंत्री श्री हरदीप सिंह पुरी, हरियाणा के कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री ओमप्रकाश धनखड़, तथा विधायक नरेश कौशिक सहित अन्य विशिष्टजनों के साथ सिटी पार्क स्टेशन पर मैट्रो के विस्तार पर आधारित प्रदर्शनी का अवलोकन किया। प्रदर्शनी के उपरांत मुख्यमंत्री व केंद्रीय मंत्री ने बहादुरगढ़वासियों के साथ सिटी पार्क से मॉडर्न इंडस्ट्रीयल एरिया (एमआईई) स्टेशन तक मैट्रो की यात्रा भी की। 

इस अवसर पर रोहतक के सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा, भाजपा के जिलाध्यक्ष बिजेंद्र दलाल, जिला परिषद चेयरमैन परमजीत सौलधा, वाइस चेयरमैन ृृृयोगेश सिलानी, रविभान राठी, महेश कुमार, रणबीर राठी, आनंद सागर, अनिल मातनहेल, सुनीता चौहान, सुनीता धनखड़, अश्विनी शर्मा, राजपाल शर्मा सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित रहे। कार्यक्रम के दौरान नगर एवं ग्राम आयोजना विभाग के प्रधान सचिव अपूर्व कुमार सिंह, हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण के मुख्य प्रशासक जे गणेशन, गुरूग्राम के एचएसवीपी प्रशासक डा. चंद्रशेखर खरे, उपायुक्त सोनल गोयल, पुलिस अधी

Sunday, 17 June 2018

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने रोड-शो से पूर्व दिये सोनीपत को तोहफे

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने रोड-शो से पूर्व दिये सोनीपत को तोहफे

सोनीपत, 17 जून।रोड-शो की शुरुआत से पहले हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने सोनीपतवासियों को नायाब तोहफे प्रदान किये। उन्होंने 52 करोड़ 23 लाख रुपये की लागत से पूर्ण हो चुकी परियोजनाओं को लोकार्पित किया। साथ ही खेवड़ा गांव में 14 करोड़ 24 लाख रुपये की लागत से बनाई जाने वाली राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान (आईटीआई) की आधारशिला रखी। इस दौरान मुख्यमंत्री ने ईद-उल-फितर की बधाई देते हुए कहा कि आम जनमानस को हर प्रकार की बेहतरीन सुविधाएं प्रदान करना उनकी प्राथमिकता में शामिल है। 

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने शनिवार को सोनीपत में रोड-शो प्रारंभ करने से पूर्व लघु सचिवालय का दौरा किया। यहां उन्होंने 4 करोड़ 75 लाख 13 हजार रुपये की लागत से अत्याधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित सरल केंद्र (ई-दिशा) को लोकार्पित किया। साथ ही उन्होंने सफियाबाद के ग्रामीणों को बेहतरीन विद्युत सुविधा देने के  उद्देश्य से स्थापित किये गये 33 केवी सब-स्टेशन का भी लोकार्पण किया। सब-स्टेशन के निर्माण पर 3 करोड़ 62 लाख रुपये की लागत आई है। इसके साथ ही उन्होंने गांव खेवड़ा में प्रस्तावित राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान (आईटीआई) की आधारशिला रखी। आईटीआई का निर्माण कार्य 14 करोड़ 24 लाख रुपये की लागत से पूरा किया जाएगा। तदोपरांत मुख्यमंत्री मनोहर लाल सोनीपत-पुरखास-मोई रोड पर पहुंचे, जहां उन्होंने दो लेनमार्गी फ्लाईओवर (आरओबी) का लोकार्पण किया। आरओबी के निर्माण पर 43 करोड़ 86 लाख रुपये का व्यय हुआ है।

सोनीपत के लघु सचिवालय में निर्मित सरल केंद्र में विभिन्न प्रकार की सभी आधुनिक सुविधाएं अब लोगों को एक ही छत के नीचे प्रदान की जायेगी। इसके लिए 30 सर्विस काउंटर बनाये गये हैं। सरल केंद्र में नागरिकों को प्रवेश करने के लिए टोकन प्रणाली प्रक्रिया शुरु की गई है। केवल 12 माह की रिकॉर्ड अवधि में (करीब 1407 स्कवेयर मीटर भूमिक्षेत्र) में सरल केंद्र का निर्माण कार्य पूरा किया गया है। केंद्र को वातानुकूलित बनाया गया है, जिसमें प्रतीक्षालय की बेहतरीन सुविधा दी गई है। सरल केंद्र में वाहन, सारथी, हरिस, हेलरिस (जमाबंदी, नकल, व इंतकाल), प्रमाणपत्र बनवाने तथा सीएम विंडो आदि की सुविधाएं प्रदान की गई है।

साथ ही दिल्ली-अंबाला रेलवे लाइन पर सोनीपत-पुरखास-मोइ रोड पर रेलवे फाटक क्रासिंग नंबर-29 पर दो लेनमार्गी उपरगामी पुल का निर्माण किया गया है। इसकी लंबाई 1020 मीटर है। केंद्र व प्रदेश सरकार एनसीआर क्षेत्र में बेहतर परिवहन सुविधा देने की दिशा में बुनियादी ढ़ांचा उपलब्ध कराने के लिए प्रयासरत है।  लोगों की सुविधा व सुरक्षा के लिए आरओबी बनवाया गया है। इसके अलावा उन्होंने सफियाबाद में निर्मित 33केवी सब-स्टेशन के विषय में जानकारी दी कि इसे 132 केवी सब-स्टेशन राई से जोड़ा गया है। इसके निर्माण से सफियाबाद सहित नाहरी, सबोली, मुनिरपुर, खेड़ी मनाजात तथा अकबरपुर बारोटा गांवों के हजारों उपभोक्ताओं को सुचारू रूप से बिजली आपूर्ति मिलेगी। साथ ही उन्होंने कहा कि आईटीआई का निर्माण कार्य अति शीघ्र पूरा कराया जाएगा, जिसकी क्षमता 280 छात्रों की रहेगी।

इस मौके पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल, शहरी स्थानीय मंत्री कविता जैन और सांसद रमेश कौशिक ने लघु सचिवालय परिसर में पौधारोपण भी किया। इस मौके पर शहरी स्थानीय निकाय मंत्री कविता जैन, सांसद रमेश कौशिक, मीडिया सलाहकार राजीव जैन, उपायुक्त विनय सिंह, अतिरिक्त उपायुक्त आमना तसनीम, एसडीएम प्रशांत पवार, नगराधीश श्वेता सुहाग, ललित वत्रा, इन्द्रजीत वीरमानी, सहित अन्य अधिकारीगण तथा गणमान्य व्यक्ति मौजूद थे।