Showing posts with label Health. Show all posts
Showing posts with label Health. Show all posts

Wednesday, 27 November 2019

  98 year old Undergoes Successful Angioplasty at Metro Hospital Faridabad

98 year old Undergoes Successful Angioplasty at Metro Hospital Faridabad

FARIDABAD 28 NOVEMBER : Cardiac team at a Metro Hospital Faridabad has given a new lease of life to a 98 year old heart patient with multiple health conditions. Mr. Dewan came into the emergency department with complaints of severe pain in the left side of the chest and sweating. Patient is a known case of right sided kidney tumor, for which his ureter was removed surgically and patient had taken chemotherapy. 

Initial investigations showed acute heart attack which is a life threatening condition which occur when blood flow to the heart muscle is cut off due to blockage of heart artery, causing tissue damage. This is usually the result of a blockage in one or more of the coronary arteries. In lieu of acute MI, patient underwent angiography by Dr. Neeraj Jain, Sr. Interventional Cardiologist & Medical Director of the hospital which revealed a critical block in the LAD artery which supply major part of heart.

Angioplasty stenting carries risk in patient as he can go into kidney failure, but it was his only chance of survival. After explaining the family about the risk involve and the procedure, consent was taken and Mr. Dewan underwent coronary angioplasty to LAD artery successfully, using single drug coated stent. Patient was stable after the procedure and got discharged in a stable condition. 

Dr. Neeraj Jain, said that considering patient’s old age and multiple health conditions, it was a challenging case, a small delay in opening the vessel would have been proved fatal.” He further added “patients at this age can do quite well after angioplasty, providing they are appropriate candidate and treating doctor is well experienced to handle such complex cases," said Dr. Neeraj Jain. Generally elderly patients ignore their sufferings and feared undergoing heart procedures. But that is just a myth, angioplasty is safe option and is lifesaving procedure.” Dr. Jain added.

Dr. Jainendra Khash, CCU Head said patient responded well to the treatment and was very happy at the time of discharge. He said, it is important for all of us to go for regular heart checkup after 30 yrs as it help in the prevention of heart diseases.

It’s a myth that angioplasty is not safe in old patients. We do lots of angioplasty procedure in more than 80 yrs old patients. Dr. S.S Bansal, Sr. Interventional Cardiologist & Managing Director of the hospital said. We are doing such complex procedures on regular basis. Our hospital is known for its comprehensive heart care by highly skilled cardiac team. We have kept the high standards of care which is the keystone of our success and all equipment’s are of best in the world to provide 100% safety to our patients” He further added. 

फोर्टिस एस्कॉर्ट्स के डॉक्टरों ने महिला के पेट से 5 किग्रा ट्यूमर निकाला : डॉ. बी डी पाठक

फोर्टिस एस्कॉर्ट्स के डॉक्टरों ने महिला के पेट से 5 किग्रा ट्यूमर निकाला : डॉ. बी डी पाठक

फरीदाबाद, 28 नवंबर, 2019: फोर्टिस एस्कॉर्ट्स हॉस्पिटल के डॉक्टरों की टीम ने हाल में,  लैप्रोस्कोपिक तकनीक की मदद से 22 वर्षीय युवती के पेट से 5 किग्रा वज़न का एक ट्यूमर सफलतापूर्वक निकाला। टीम का नेतृत्व डॉ. बी डी पाठक, निदेशक-जीआई, मिनीमली इनवैसिव एंड बेरियाट्रिक सर्जरी और डॉ. वी एस चौहान, वरिष्ठ सलाहकार-जीआई, मिनीमली इनवैसिव एंड बेरियाट्रिक सर्जरी, फोर्टिस एस्कॉर्ट्स हॉस्पिटल, फरीदाबाद ने किया।

मरीज़ सरिता को सांस लेने में मुश्किल हो रही थी और ठीक से भोजन भी नहीं कर पा रही थी। जब उन्हें अस्‍पताल लाया गया तो पेट में परेशानी हो रही थी और सांस लेने में भी तकलीफ थी। जरूरी जांच कराने के बाद उनके पेट में करीब 5 किग्रा का ट्यूमर पाया गया। उपचार के विभिन्न विकल्पों का मूल्यांकन करने के बाद डॉक्टरों ने परिवार को एडवांस लैप्रोस्कोपिक एक्सट्रैक्शन कराने की सलाह दी क्योंकि इसके बाद सर्जरी का कोई निशान भी नहीं रहता और सुधार में लंबा समय भी नहीं लगता है। प्रक्रिया पूरी होने के दो दिनों में मरीज की तबियत में सुधार हो गया और पूरी तरह ठीक हो जाने पर उन्हें डिस्चार्ज कर दिया गया।

डॉ. बी डी पाठक, निदेशक-जीआई, मिनीमली इनवैसिव एंड बेरियाट्रिक सर्जरी, फोर्टिस एस्कॉर्ट्स हॉस्पिटल, फरीदाबाद ने कहा, “इस तरह की सर्जरी के लिए बड़ा कट लगाने की ज़रूरत होती है लेकिन यह मरीज़ बहुत युवा थीं। उनके सामने उनकी पूरी ज़िंदगी पड़ी हुई थी। इसलिए हम ने लैप्रोस्कोपिक तकनीक का इस्तेमाल कर छोटे कट के साथ बड़े ट्यूमर को निकाला गया। मुझे खुशी है कि टीम ने यह सफलतापूर्वक किया। इसलिए जब भी ऐसे मरीज आते हैं तो हम हमेशा ही मरीज़ों के सर्वश्रेष्ठ संभव सुधार के लिए सर्जरी का सर्वश्रेष्ठ विकल्प तलाशते हैं।”

श्री मोहित सिंह, फेसिलिटी निदेशक, फोर्टिस एस्कॉर्ट्स हॉस्पिटल, फरीदाबाद ने कहा, “फोर्टिस में हम प्रत्येक मामले में सर्वश्रेष्ठ परिणाम हासिल करने के लिए सर्वश्रेष्ठ क्लिनिकल परिदृश्य की ओर ध्यान केंद्रित करते हैं। यह मामला सर्वश्रेष्ठ उपयोग के लिए टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करके सर्वश्रेष्ठ परिणाम हासिल करने का है। ऊपर बताया गया मामला बहुत ही जटिल होता है जिसे हमारे डॉक्टरों की टीम ने सफलतापूर्वक पूरा किया जिससे मरीज को सर्वश्रेष्ठ परिणाम मिला और उनकी तबियत में तेज़ी से सुधार हुआ।”    

Thursday, 8 August 2019

एशियन बना क्षेत्र का पहला अस्पताल जिसे मिली ब्रेन डेथ किडनी ट्रांसप्लांट की अनुमति

एशियन बना क्षेत्र का पहला अस्पताल जिसे मिली ब्रेन डेथ किडनी ट्रांसप्लांट की अनुमति

 फरीदाबाद  8 अगस्त 2019 - एशियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसेज अस्पताल को पीजीआई  रोहतक ने ब्रेन डेड यानि जिन लोगों का दिमाग मृत घोषित कर दिया जाता है ऐसे लोगों के परिवार जन  की आज्ञा से किडनी ट्रांसप्लांट करने की अनुमति दे दी गई है I

 एशियन अस्पताल में मरीज को ब्रेन डेड  घोषित करने के लिए एक कमिटी तैयार की जाएगी I व्यक्ति को ब्रेन स्ट्रोक या एक्सीडेंट की स्थिति में यह कमिटी दिमागी टेस्ट करके उससे ब्रेन डेड घोषित करेगी I इस कमिटी में अस्पताल के मेडिकल सुपरिटेंडेंट, आई सी यु हेड, न्यूरोलॉजिस्ट, फिजिशियन, एनेस्थीसिया और जनरल सर्जन शामिल होंगे I 

ब्रेन डेड घोषित करने के बाद उसके परिवार जनो से अनुमति ली जाएगी, उनकी अनुमति पर अस्पताल उस व्यक्ति की किडनी किसी और मरीज (जिसकी किडनी फेल हो चुकी है ) उसे ट्रांसप्लांट कर सकता हैI 
जिले का कोई भी अस्पताल सरकारी या गैर सरकारी ब्रेन डेड व्यक्ति की जानकारी एशियन अस्पताल को दे सकता है, जानकारी मिलने के बाद एशियन अस्पताल की कमिटी  की टीम के डॉक्टर परिवार की अनुमति मिलने पर उनकी किडनी दान करा सकते हैं I 

क्या है ब्रेन डेड ?
ब्रेन डेथ एक ऐसे स्तिथि हैं जिसमे व्यक्ति का दिमाग काम करना बंद कर देता है लेकिन उसके शरीर के बाकी अंग सुचारु रूप से काम कर रहे होते हैं जिसे आम भाषा में कोमा की स्तिथि  कहा जाता है I

Wednesday, 7 August 2019

मानसून में रखें साफ-सफाई का ध्यान : डॉ. राम चंद्र सोनी

मानसून में रखें साफ-सफाई का ध्यान : डॉ. राम चंद्र सोनी

फरीदाबाद : 8 अगस्त I  बारिश का झमाझम मौसम और पकौड़ों का स्वाद मन को खुशी तो देता है, लेकिन खान-पान के प्रति बरती जाने वाली लापरवाही कई बार गंभीर रूप धारण कर लेती है। बरसात का मौसम एक ओर तो गर्मी से निजात दिलाता है, लेकिन दूसरी ओर बीमारियों को पनपने का मौका भी देता है। बरसात के दिनों में वायरल इंफेक्शन आम बात है। इस मौसम में पेट से संबंधित बीमारियों के फैलने का भय बना रहता है। डॉ. राम सोनी ने बताया कि उनके पास पीलिया के मरीज भी बाद गए है रोज़ाना 3 -4 मरीज पीलिया के आ रहे हैं

एशियन अस्पताल के एचओडी गैस्ट्रोइंटेरोलॉजी डॉ. राम चंद्र सोनी का कहना है कि मानसून में पेट दर्द की समस्या आम बात है। उल्टी-दस्त, पेट दर्द आदि की समस्या को लेकर अस्पताल में आने वाले मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। इस मौसम में पेट से संबंधित बीमारियां ज्यादा होती है। इन बीमारियों के लक्षण भी कई प्रकार के होते हैं पेट में दर्द होना, उल्टी होना, बदन दर्द और कमर दर्द। डॉक्टर का कहना है कि इस मौसम में बैक्टीरिया ज्यादा प्रभावित होता है और संक्रमण फैलाता है। बाहर का खाना, तला हुुआ, बासी भोजन का सेवन करना, खुले में रखे भोजन का सेवन करने से  भी बीमारियों को फैलने का मौका मिलता है। इस प्रकार का खाना खाने के २४ घंटे के भीतर बीमारियों के लक्षण उभरने लगते हैं।

डॉ. सोनी का कहना है कि अगर हम स्वयं साफ-सफाई की ओर ज्यादा ध्यान दें तो बीमारियों से बचाव किया जा सकता है। फिल्टर्ड और उबला हुआ पानी पीना चाहिए। बासी या खुले में रखा खाना नहीं खाना चाहिए। फल व सब्जियों को धोकर खाना चाहिए। जंक फूड के सेवन से बचना चाहिए। तले व मसालेदार खाने के सेवन से बचना चाहिए। बार-बार हाथ धोने चाहिएं। संतुलित भोजन का सेवन करना चाहिए। 

डॉ. सोनी के अनुसार मानसून हेपेटाइटिस ए और ई के वायरस को प्रभावित करता है। इस बीमारी का प्रमुख कारण दूषित पानी है। खान-पान की लापरवाही लिवर को सबसे ज्यादा प्रभावित करती है।  इसके लक्षणों के पाए जाने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करके जांच करानी चाहिए। ताकि समय रहते बीमारी का पता लगाकर उचित इलाज किया जा सके। इसके अलावा इस रोग से बचने के लिए साफ-सफाई की ओर विशेष ध्यान देना चाहिए।

Sunday, 28 July 2019

 मेट्रो हॉस्पिटल मैं विश्व हेपेटाइटिस दिवस मनाया गया : डॉ विशाल खुराना

मेट्रो हॉस्पिटल मैं विश्व हेपेटाइटिस दिवस मनाया गया : डॉ विशाल खुराना

फरीदाबाद, 28 जुलाई। इस विश्व हेपेटाइटिस दिवस (28 जुलाई] 2019) के उपलक्ष में मेट्रो अस्पताल के वरिष्ठ पेट एवं लिवर रोग विशेषज्ञ डॉ विशाल खुराना बता रहे हैं हपेटाइिटस के बारे में । 

हेपेटाइटिस क्या है हेपेटाइटिस जिगर, लीवर, यकृत की सूजन है] जो आमतौर पर वायरल संक्रमण के कारण होता है, जो जिगर में सूजन का कारण होता है। जिगर की सूजन के कई कारण हैं जैसे की - वायरल संक्रमण, दवा के दुष्प्रभाव, अत्यधिक शराब का सेवन, इत्यादि। हेपेटाइटिस ए, बी, सी, डी और ई पांच मुख्य हेपेटाइटिस वायरस हैं। ऎकयुट और क्रोनिक हेपेटाइटिस के दो प्रकार होते हैं। ऎकयुट हेपेटाइटिस तब होता है जब यह छह महीने से कम समय तक रहता है] जबकि क्रोनिक हेपेटाइटिस तब होता है जब  हेपेटाइटिस लंबे समय तक बनी रहती है। 

क्या वायरल हेपेटाइटिस एक महत्वपूर्ण समस्या है%
वायरल हेपेटाइटिस के साथ रहने वाले केवल 11% लोग अपनी स्थिति से अवगत हैं। वायरल हेपेटाइटिस विश्व स्तर पर मौत का एक प्रमुख कारण है। हेपेटाइटिस बी और हेपेटाइटिस सी वायरस दुनिया में सबसे अधिक (80%) लीवर कैंसर के मामलों में होता है। 
नेशनल सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल ( एनसीडीसी ) द्वारा भारत में हेपेटाइटिस बी 3-4% लोगों में पाया जाता है और हेपेटाइटिस सी 1% मे। पंजाब और हरियाणा के कुछ क्षेत्रों में हेपेटाइटिस काफी अधिक पाया जाता है। भारत में] हेपेटाइटिस ई वायरस (HEV) वयस्कों के हेपेटाइटिस का सबसे महत्वपूर्ण कारण हैI हेपेटाइटिस ए वायरस (HAV) बच्चों में आम है। 

हपेटाइिटस के लक्षण क्या है%
हेपेटाइटिस में हो सकता है कि कोई लक्षण न हो] लेकिन अक्सर ये पीलिया, आहार (भूख) की कमी और अस्वस्थता के साथ प्रस्तुत होता है। बुखार, शरीर में दर्द] थकान] कमजोरी] पेट में दर्द] उलटी] कम भूख का लगना] गहरे रगं का मूत्र और पीली रगं की आँखे होना यह तीव्र हेपेटाइटिस (एक्यूट हेपेटाइटिस) की निशानी माने जाते हैंI बीमारी बढ़ जाने पर पीलीया, पेट का बढ़ना] खून की उल्टी] काले या लाल रगं का मल] असामान्य व्यव्हार] कम भूख का लगना एवं वजन का घटना आदि लक्षण पाये जाते है ।

हेपेटाइटिस संक्रमण के कारण और निवारण%

हेपेटाइटिस के प्रकार कारण निवारण
हेपेटाइटिस ए (HAV) दूषित भोजन खाने या प्रदूषित जल पीने से 1.स्वस्थ और पौष्टिक भोजन खाएं
2.स्वच्छ और सुरक्षित पानी पीना 3.हेपेटाइटिस ऐ टीकाकरण उपलब्ध है
हेपेटाइटिस ई (HEV) दूषित भोजन खाने या प्रदूषित जल पीने से 1.स्वस्थ और पौष्टिक भोजन खाएं
2.स्वच्छ और सुरक्षित पानी पीना 
हेपेटाइटिस बी  (HBV) 1. संक्रमित व्यक्ति के रक्त या अन्य शरीर के तरल पदार्थों के संपर्क के माध्यम से
2. गर्भावस्था के दौरान संक्रमित मां को बच्चे को 1.आपको गर्भावस्था के दौरान अपना परीक्षण करना चाहिए
2.संक्रमित व्यक्ति के साथ टूथब्रश, रेजर या नाखून कैंची और सुइयों साझा करने से बचें 
3. बिना लाइसेंस वाले सुविधाओं से टैटू या शरीर के छेदों को नहीं करना चाहिए
4. हेपेटाइटिस बी टीकाकरण उपलब्ध है
हेपेटाइटिस सी (HCV) 1. संक्रमित रक्त और सुइयों
2. यह कुछ यौन प्रथाओं के माध्यम से प्रेषित भी किया जा सकता है जहां रक्त शामिल है। 1. संक्रमित व्यक्ति के साथ टूथब्रश, रेजर या नाखून कैंची और सुइयों साझा करने से बचें 
2. बिना लाइसेंस वाले सुविधाओं से टैटू या शरीर के छेदों को नहीं करना चाहिए


हेपेटाइटिस बी संक्रमण रोकने में टीकाकरण बहुत प्रभावी है। हपेटाइिटस बी का टीका 3 बार ( 0, 1 और 6 माह के अंतराल पर ) दिया जाता है जो की 95% तक वायरस से लड़ने में  कारगर साबित होता है। यदि आपको टीका लगाया नहीं गया है] तो टीकाकरण करवाएं] कंडोम का उपयोग करें] और संक्रमित व्यक्ति के साथ टूथब्रश] रेज़र] नाख़ून कैंची या सुई को साझा करने से बचें। आपको बिना लाइसेंस वाले सुविधाओं से टैटू या शरीर के छेदों को नहीं करना चाहिए। यदि आपको लगता है कि आपको भविष्य में संक्रमित होने की संभावना है] तो टीकाकरण होना आवश्यक है। हेपेटाइटिस बी संक्रमित मां से पैदा होने वाले बच्चे को 12 घंटे के भीतर टीका लगाया जाना चाहिए, क्योंकि यह एक संक्रमण को रोक सकता है जो क्रोनिक हेपेटाइटिस बी में बदलने की संभावना रखता है।

उपचार%
हेपेटाइटिस ए और ई: हेपेटाइटिस ए और ई आमतौर पर तीव्र/ ऎकयुट (acute) हेपेटाइटिस का कारण बनता है जिससे शरीर अक्सर कुछ हफ्तों के भीतर ही संक्रमण को साफ कर सकता है। हालांकि, संक्रमण कभी&कभी आगे की जटिलताओं का कारण बन सकता है। हे हेपेटाइटिस ए और ई के लिए अलग से कोई दवाई नहीं है। उपचार मुख्य रूप से लक्षणों के आधार पर होता है

हेपेटाइटिस बी: हमारे पास दवाएं] जैसे पेगेंटरफेरॉन इंजेक्शन और एंटीवायरल (एनटेकवीर / टेनोफॉवीर) गोलियां, उपलब्द हैं। ये दवाएं वायरस की प्रतिकृति को धीमा कर देती हैं और कभी-कभी इसका निष्कासन कर देती है। सबसे महत्वपूर्ण बात है कि यह दवाएं जटिलताओं के जोखिम को बहुत कम करती हैं जो हेपेटाइटिस बी के कारण हो सकता है जैसे लिवर सिरोसिस और लिवर कैंसर।

हेपेटाइटस सी: दवाईयां हेपेटाइटिस सी संक्रमण का इलाज कर सकता है। पहले इसका इलाज इंजेक्शन से ही होता था लेकिन आजकल एंटीवायरल ड्रग्स (सोफोसबुवीर / लीडिपैसवीर / डाक्लाट्सविर / वेलपात्सिर) उपलब्ध हैं जो की खाई जा सकती हैं। 

हेपेटाइटिस में जिगर की क्षति को रोकने के लिए टिप्स:

ऐसा करें ऐसा न करें
हेपेटाइटिस के लिए टीकाकरण शराब, तंबाकू और ड्रग्स से बचें
बहुत सारे तरल पदार्थ पीयें और हाइड्रेटेड रहें खाना जो आप बर्दाश्त नहीं कर सकते उस से बचें
प्रयाप्त कैलोरी/भोजन का सेवन बनाए रखें तनाव से बचें