Previous
Next

Tuesday, 31 March 2020

जे.सी. बोस विश्वविद्यालय वार्षिक उत्सव ‘एलिमेंट्स कलमायका-2020’ का आनलाइन करेगा आयोजित : कुलपति प्रो. दिनेश कुमार

जे.सी. बोस विश्वविद्यालय वार्षिक उत्सव ‘एलिमेंट्स कलमायका-2020’ का आनलाइन करेगा आयोजित : कुलपति प्रो. दिनेश कुमार

 फरीदाबाद, 31 मार्च - कोरोना वायरस महामारी के चलते सभी कालेज बंद होने के कारण उबाऊपन से जूझ रहे युवाओं को रचनात्मक गतिविधियों के लिए प्रेरित करने के लिए जे.सी. बोस विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, वाईएमसीए, फरीदाबाद ने एक इनोवेटिव तरीका खोज निकाला है। विश्वविद्यालय अपना वार्षिक उत्सव ‘एलिमेंट्स कलमायका-2020’ पूर्वनिर्धारित तिथि पर ही आयोजित करेगा, लेकिन इस बार पूरा उत्सव आनलाइन आयोजित किया जायेगा। विश्वविद्यालय के डीन स्टूडेंट विभाग द्वारा आयोजित को लेकर सभी तरह की तैयारियों पूरी कर ली गई है। तीन दिवसीय वार्षिक उत्सव 9 से 11 अप्रैल, 2020 तक आयोजित किया जायेगा और इस बार का थीम है ‘द शो मस्ट गो ऑन’।

विभिन्न क्लबों के विद्यार्थियों के साथ सीधा आनलाइन संवाद करते हुए कुलपति प्रो. दिनेश कुमार ने आज वार्षिक उत्सव ‘एलिमेंट्स कलमायका-2020’ की विधिवत घोषणा की और कहा कि यह एक अच्छी और इनोवेटिव पहल है, जिससे प्रदेश विशेष रूप से उत्तर भारत के सभी प्रमुख विश्वविद्यालयों के विद्यार्थियों को जोड़ने का मौका मिलेगा। उन्होंने घोषणा की कि चूंकि विश्वविद्यालय द्वारा वार्षिक उत्सव के आयोजन पर साजो-सामान को लेकर किसी तरह का खर्च नहीं कर रहा है, इसलिए उत्सव के दौरान आयोजित होने वाले इवेंट्स में आकर्षक पुरस्कार राशि दी जायेगी। उल्लेखनीय है कि विश्वविद्यालय द्वारा प्रतिवर्ष वार्षिक उत्सव के आयोजन पर 20 से 30 लाख रुपये की राशि खर्च की जाती है। 


कुलपति ने प्रदेश के सभी विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों से उत्सव में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेने का आह्वान किया है। उन्होंने कहा कि यह ऐसा समय है जब सभी विद्यार्थी अपने घरों में उबाऊपन से जूझ रहे है। ऐसे में पढ़ाई के साथ-साथ रचनात्मक गतिविधियों में हिस्सा लेकर विद्यार्थी अपने समय का सही उपयोग कर करते है और खुद को व्यस्त भी रख सकते है। उन्होंने आशा जताई कि ‘एलिमेंट्स कलमायका-2020’ बेहद सफल होगा। यदि यह प्रयोग सफल होता है तो भविष्य में विश्वविद्यालय वार्षिक उत्सव के प्रारूप को बदलने पर विचार कर सकता है ताकि उत्सव में विद्यार्थियों की भागीदारी बढ़े। उन्होंने कहा कि एक संस्थान के रूप में विश्वविद्यालय ने 50 वर्ष पूरे कर लिये है और यह उत्सव लगभग 30 वर्षों से अधिक समय से निरंतर आयोजित किया जा रहा है। 


कुलसचिव डॉ. सुनील कुमार गर्ग ने ‘एलिमेंट्स कलमायका-2020’ के आनलाइन प्रारूप की सराहना की तथा कहा कि वार्षिक उत्सव में सभी संबद्ध कालेजों के विद्यार्थियों की भागीदारी को भी सुनिश्चित किया जायेगा।
डिप्टी डीन स्टूडेंट वेलफेयर डॉ. सोनिया बंसल ने बताया कि एलिमेंट्स कलमायका-2020 में इस बार 63 इवेंट करवाये जा रहे है। इनमें 40 कल्चरल एवं सोशल अवेयरनेस इवेंट रहेंगे तथा 20 से ज्यादा तकनीकी इवेंट्स होंगे। इस समय विश्वविद्यालय में 16 सक्रिय क्लब है, जो उत्सव में भागीदारी करेंगे तथा विभिन्न इवेंट्स की मेजबानी करेंगे। सभी इवेंट डीन स्टूडेंट वेलफेयर डॉ. नरेश चौहान की देखरेख में आयोजित किये जायेंगे। 
लॉक डाउन : नाकारात्मक प्रभाव से बचने के लिए एसएमई सेक्टर को आर्थिक सहायता प्रदान करनी जरूरी : प्रभाकर

लॉक डाउन : नाकारात्मक प्रभाव से बचने के लिए एसएमई सेक्टर को आर्थिक सहायता प्रदान करनी जरूरी : प्रभाकर

फरीदाबाद : 31 मार्च I  मैन्यूफैक्चरस एसोसिएशन फरीदाबाद के महासचिव रमणीक प्रभाकर ने केंद्र सरकार से देश के लघु व टाइनी इंडस्ट्री के लिए विशेष आर्थिक सुविधाएं मुहैया कराने का आग्रह किया है।   प्रभाकर के अनुसार हालांकि केंद्र सरकार द्वारा ईएमआई व अन्य भुगतान की किस्तों को आगे बढ़ाया गया है परंतु वर्तमान स्थिति को देखते हुए कहा जा सकता है कि उद्योग जगत के लिए यह काफी नहीं है।प्रभाकर का मानना है कि लॉक डाउन की स्थिति में जो उद्योग बंद है उन्हें दोबारा से पटरी पर आने में कम से कम 3 से 4 माह का समय लगेगा क्योंकि उत्पादन पूरी तरह से ठप्प है और पूरे सिस्टम को नए सिरे से आरंभ करना होगा।  प्रभाकर ने इसके साथ-साथ श्रमिकों के वेतन व अन्य समस्याओं की ओर भी केंद्र सरकार का ध्यान आकर्षित करते कहा है कि यदि सरकार वास्तव में अर्थव्यवस्था में तेजी प्रदान करना चाहती है तो एमएसएमई सेक्टर के लिए कार्य करना जरूरी है। आपने इसके साथ-साथ देश में मुद्रा प्रवाह को बढ़ाने व एमएसएमई सेक्टर को ऋण उपलब्ध कराने के लिए भी प्रभावी कदम उठाने का आग्रह किया है।


 प्रभाकर का सुझाव है कि जो औद्योगिक संस्थान पिछले काफी समय से चल रहे हैं और जो डिफाल्टर सूची में नहीं है उन्हें तुरंत प्रभाव से वित्तीय सुविधा मुहैया कराई जाएं और इस पर न्यूनतम ब्याज दर हो ताकि यह वित्तीय सहायता कैपिटल पूंजी के रूप में इस्तेमाल की जा सके और उत्पादकता का चक्र बढ़ सके। प्रभाकर ने विश्वास व्यक्त किया है कि केंद्र सरकार, वित्त मंत्रालय व आरबीआई इस संबंध में ठोस व प्रभावी कार्यनीति का परिचय देगा और इससे अर्थव्यवस्था को निश्चित रूप से प्रोत्साहन मिलेगा। 
फरीदाबाद में  6  सैंपल पॉजिटिव , 71  की नेगेटिव रिपोर्ट : डॉ राम भगत

फरीदाबाद में 6 सैंपल पॉजिटिव , 71 की नेगेटिव रिपोर्ट : डॉ राम भगत

फरीदाबाद, 31 मार्च।  उप सिविल सर्जन एवं जिला नोडल अधिकारी-कोरोना डॉ. रामभगत ने बताया कि जिला में अब तक 889 यात्रियों को सर्विलांस पर लिया जा चुका है, जिनमें से 129 लोगों का निगरानी में रखने का 28 दिन का पीरियड पूरा हो चुका है। शेष 760 लोग अंडर सर्विलांस हैं। कुल सर्विलांस में रखे गए लोगों में से 883 होम आइसोलेशन पर हैं। अब तक 90 लोगों के सैंपल लैब में भेजे गए थे, जिनमें से 71 की नेगेटिव रिपोर्ट मिली है तथा 13 की रिपोर्ट आनी शेष है। अब तक 6 लोगों के सैंपल पॉजिटिव मिले हैं जिनमें से ठीक होने के बाद एक को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया है तथा पांच अस्पताल में दाखिल हैं।

उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य विभाग की ओर से किसी भी आकस्मिक स्थिति से निपटने के लिए जिला में सरकारी व निजी अस्पतालों में 34 आइसोलेशन वार्ड बनाए गए हैं, जिनमें 1040 बेड की क्षमता की गई है। उन्होंने बताया कि COVID-19 के संदिग्ध व कंफर्म मामलों के परिवहन के लिए सभी सुविधाओं से युक्त दो एम्बुलेंस तैयार की गई हैं।

 जिला स्तर पर सभी मेडिकल और पैरा मेडिकल स्टाफ को COVID-19 की रोकथाम और प्रबंधन के लिए प्रशिक्षित किया गया है। इसी प्रकार पर्यावरण स्वच्छता और शुद्धीकरण के बारे में सरकारी व निजी विभागों के कर्मचारियों को दैनिक आधार पर प्रशिक्षण दिया जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस के संभावित संक्रमण की पृष्ठभूमि को देखते हुए आम जनता को सरकार द्वारा स्वास्थ्य संबंधी हिदायतों की अनुपालना करने की सलाह दी जाती है। लोगो को ध्यान रखना चाहिए कि खाँसी व छींकते समय रूमाल या तौलिया का उपयोग अवश्य करें, हाथों को बार-बार साबुन व पानी से धोते रहें। जब तक बहुत जरूरी न हो, घर से बाहर न निकलें। सार्वजनिक स्थलों व सभाओं में जाने से बचें। जिन लोगों ने हाल ही में कोरोना प्रभावित देशों की यात्रा की है, उन्हें राष्ट्रीय, राज्य या जिला हेल्पलाइन नंबरों पर सूचना देनी चाहिए, उन्हें भारत में आगमन की तारीख से 28 दिनों के लिए सभी से अलग रहना है और किसी से भी स्पर्श करने से बचना है, भले ही उसमें कोई लक्षण न हों।
सातवें नवरात्रेपर वैष्णोदेवी मंदिर में की गई मां कालरात्रि की पूजा

सातवें नवरात्रेपर वैष्णोदेवी मंदिर में की गई मां कालरात्रि की पूजा

फरीदाबाद : 31 मार्च I सातवें नवरात्रे पर वैष्णोदेवी मंदिर में की गई मां कालरात्रि की पूजामाता कालरात्रि की पूजा करने से मनुष्य समस्त सिद्धियों को प्राप्त कर लेता है- जगदीश भाटियाफरीदाबाद। मां वैष्णोदेवी मंदिर में सातवें  नवरात्रे पर आज मां कालरात्रि की पूजा अर्चना की गई। प्रातकालीन पूजा अर्चना में मंदिर के पुजारी एवं संस्थान के प्रधान जगदीश भाटिया व अन्य पदाधिकारियों ने हिस्सा लिया। इस शुभ अवसर पर सभी ने मां कालरात्रि की पूजा की तथा उन्हें प्रसाद का भोग लगाया।इस अवसर पर मंदिर के प्रधान जगदीश भाटिया ने मां कालरात्रि की महिमा का बखान करते हुए कहा कि नवरात्र के सातवें दिन मां दुर्गा के कालरात्रि रूप की पूजा की जाती है. शास्‍त्रों के अनुसार बुरी शक्तियों से पृथ्‍वी को बचाने और पाप को फैलने से रोकने के लिए मां ने अपने तेज से इस रूप को उत्‍पन्‍न किया था. दुर्गा जी का सातवां स्वरूप मां कालरात्रि है. इनका रंग काला होने के कारण ही इन्हें कालरात्रि कहा गया और असुरों के राजा रक्तबीज का वध करने के लिए देवी दुर्गा ने अपने तेज से इन्हें उत्पन्न किया था. इनकी पूजा शुभ फलदायी होने के कारण इन्हें 'शुभंकारी' भी कहते हैं.

उन्होंने कहा कि मान्यता है कि माता कालरात्रि की पूजा करने से मनुष्य समस्त सिद्धियों को प्राप्त कर लेता है. माता कालरात्रि पराशक्तियों (काला जादू) की साधना करने वाले जातकों के बीच बेहद प्रसिद्ध हैं. मां की भक्ति से दुष्टों का नाश होता है और ग्रह बाधाएं दूर हो जाती हैं. देवी कालरात्रि का शरीर रात के अंधकार की तरह काला है इनके बाल बिखरे हुए हैं और इनके गले में विधुत की माला है. इनके चार हाथ हैं जिसमें इन्होंने एक हाथ में कटार और एक हाथ में लोहे का कांटा धारण किया हुआ है. इसके अलावा इनके दो हाथ वरमुद्रा और अभय मुद्रा में है. इनके तीन नेत्र है तथा इनके श्वास से अग्नि निकलती है. कालरात्रि का वाहन गर्दभ(गधा) है.मां कालरात्रि की उत्पत्ति की कथा  

कथा के अनुसार दैत्य शुंभ-निशुंभ और रक्तबीज ने तीनों लोकों में हाहाकार मचा रखा था. इससे चिंतित होकर सभी देवतागण शिव जी के पास गए. शिव जी ने देवी पार्वती से राक्षसों का वध कर अपने भक्तों की रक्षा करने को कहा. शिव जी की बात मानकर पार्वती जी ने दुर्गा का रूप धारण किया और शुंभ निशुंभ का वध कर दिया. परंतु जैसे ही दुर्गा जी ने रक्तबीज को मारा उसके शरीर से निकले रक्त से लाखों रक्तबीज उत्पन्न हो गए. इसे देख दुर्गा जी ने अपने तेज से कालरात्रि को उत्पन्न किया. इसके बाद जब दुर्गा जी ने रक्तबीज को मारा तो उसके शरीर से निकलने वाले रक्त को कालरात्रि ने अपने मुख में भर लिया और सबका गला काटते हुए रक्तबीज का वध कर दिया.मां को गुड़ का भोग प्रिय है  
   वैष्णोदेवी मंदिर ने कोरोना पीडि़तों की मदद के लिए मुख्यमंत्री को भेजी ढाई लाख रुपए की राशि :  जगदीश भाटिया

वैष्णोदेवी मंदिर ने कोरोना पीडि़तों की मदद के लिए मुख्यमंत्री को भेजी ढाई लाख रुपए की राशि : जगदीश भाटिया

  फरीदाबाद 31 मार्च । कोरोना पीडि़तों को लेकर जहां एक ओर राज्य सरकार प्रभावित लोगों की मदद कर रही है, वहीं दूसरी ओर सरकार के खजाने में मदद पहुंचाने वालों की भी कमी नहीं है। इसी कड़ी में श्री महारानी वैष्णोदेवी मंदिर फरीदाबाद ने मुख्यमंत्री कोरोना रिलिफ फंड में ढाई लाख रुपए की राशि भेंट की है। मंदिर संस्थान के प्रधान जगदीश भाटिया ने अपनी कार्यकारिणी के सहयोग से यह राशि हरियाणा सरकार को (आरटीजीएस )चैक के माध्यम से भेजी है। यह राशि सीधे मुख्यमंत्री रिलिफ फंड में ट्रांसर्फर की गई है।  श्री भाटिया  ने कहा कि ऐसी विकट स्थिति में देश के प्रत्येक नागरिक का दायित्व है कि वह यथासंभव सरकार व पीडि़तों की सहायता के लिए आगे आए। उन्होंने कहा कि वैष्णोदेवी मंदिर संस्थान प्रत्येक समय सरकार व आम आदमी की मदद के लिए हमेशा तैयार रहता है। उन्होंने कहा कि इस समय पूरा विश्व भयंकर संकट व महामारी से जूझ रहा है। हजारों लोग अकाल मौत का शिकार हो गए हैं। 

केंद्र की मोदी सरकार व हरियाणा में मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने भरपूर प्रयास करके इस महामारी से अभी तक अपने लोगों को बचाया हुआ है। इसके तहत ही देश भर में लॉक डाऊन घोषित किया गया है। हालांकि लॉक डाऊन से जहां कोरोना बीमारी से बचाव में मदद मिल रही है, वहीं आम आदमी के सामने रोजी रोटी का संकट पैदा हो गया है। खासतौर पर मजदूर वर्ग के लिए यह स्थिति बेहद ही संकट पूर्ण है। ऐसे में मोदी व मनोहर लाल सरकार ने लोगों तक मदद पहुंचाने के लिए अपने खजाने खोल दिए हैं। मगर ऐसे हालातों में देश व प्रदेश की सभी संस्था, औद्योगिक घराने व प्रमुख लोगों को भी मदद के लिए आगे आना होगा। तभी इस महामारी को हराया जा सकता है। गरीब व मजदूर लोगों की मदद के लिए आर्थिक सहायता पहुंचाना अति आवश्यक है। श्री भाटिया ने लोगों से अपील की है कि वह ऐसी स्थिति में सरकार के साथ साथ अपने आसपास के लोगों की भी भरपूर मदद करें, ताकि इस महामारी पर जीत पाई जा सके।  

Monday, 30 March 2020

पशुओ को अब नही रहना पड़ेगा भूखा : करण बंगा

पशुओ को अब नही रहना पड़ेगा भूखा : करण बंगा

फरीदाबाद, 30  मार्च। कोरोना वायरस महामारी की वजह से जो गरीब लोग अपने-अपने घरों की तरफ पैदल चले जा रहे हैं, उनकी मदद करना इंसानियत के नाते नेक कार्य है। इन गरीब लोगों में से कोई झांसी, गोंडा, कानपुर, फिरोजाबाद, फैजाबाद व भरतपुर आदि अलग-अलग स्थानों के लिए गरीब मजदूर अपने घरों की ओर जा रहे हैं। उन्हें पिछले दो दिनों से अपने समाजसेवी करण बंगा और उनके साथी के साथ मिलकर मथुरा रोड पर जाकर उनको खाने-पीने का सामान जैसे खाना, बिस्किट, ब्रेड और पानी वितरित किया तथा प्रभु से प्रार्थना की उन्हें उनके गंतव्य स्थानों तक सुरक्षित पहुंचाए। और गौ माता को ब्रेड और केले भी खिलाए व् मानवता के इस कार्य में अतुल , गौरव रामपाल ,दीपक सिंह , विक्रमजीत , जोगिन्दर  आदि विशेष भूमिका निभा रहे हैं।

करण बंगा ने बताया कि आरडब्ल्यूए पार्ट-2 डी द्वारा सोसाइटी के बच्चों द्वारा कोरोना वायरस और इसके तहत बच्चों को घर बैठे ही पेंटिंग बनाकर पेंटिंग द्वारा संदेश देना और अपने घरों के दरवाजे पर टांगने का लक्ष्य बनाया गया है, जिससे लॉक डाउन का उल्लंघन करने वालों को बच्चों द्वारा संदेश पहुंचाया जा सके और हम अपने समाज को बचाने के लिए सहयोग कर सकें। मोबाइल फोन पर एक व्हाट्सएप ग्रुप के माध्यम से सबको जोड़ के उसमें बच्चों द्वारा बनाई गई तस्वीरों की फोटो मंगाते हैं और उनको प्रोत्साहित करते हैं जिससे बच्चे भी जागरूक हो और समाज में भी जागरूकता लाने का उनमें जज्बा आए और हम घर बैठे भी अपने परिवार, समाज, प्रदेश व देश के लिए जागरूकता लाने का प्रयास कर सकते हैं।
लॉक डाउन आदेशों का पालन ना करने वालो पर  4 एफआईआर दर्ज व्  20 लोगों को गिरफ्तार 13 वाहन इंपाउंड

लॉक डाउन आदेशों का पालन ना करने वालो पर 4 एफआईआर दर्ज व् 20 लोगों को गिरफ्तार 13 वाहन इंपाउंड

  फरीदाबाद : 30 मार्च I   पुलिस आयुक्त केके राव के दिशा निर्देश पर कार्य करते हुए सभी थाना प्रभारी एवं चौकी इंचार्ज ने अपने अपने एरिया में नाका लगाकर लाक डाउन के आदेशों की अवहेलना करने वाले लोगों के खिलाफ कानूनी कार्यवाही कर रही है।  पुलिस ने आज आदेशों की अवहेलना करने वालों के खिलाफ 4 मुकदमे दर्ज कर 20 लोगों को गिरफ्तार किया है। इस दौरान पुलिस ने 13 वाहनों को भी इंपाउंड कर उनसे 1 लाख 7 हजार ₹200 रुपए जुर्माना वसूला है। पुलिस आयुक्त केके राव ने बताया कि फरीदाबाद जिले की सभी सीमाएं सील की जा चुकी है। ऐसे में अगर कोई सीमा पार करना चाहता है तो उसके पास मोमेंट पास होना जरूरी है। 

पुलिस आयुक्त ने बताया कि लाक डाउन के दौरान पुलिस ने अभी तक 108 एफ आई आर दर्ज कर 177 लोगों को गिरफ्तार किया है। 420 वाहनों को इंपाउंड कर 11 लाख 10 हजार रुपए जुर्माना वसूला गया है। पुलिस आयुक्त ने कहा कि सभी लॉक डाउन आदेशों की पालना करें कानून एवं व्यवस्था बनाए रखने में फरीदाबाद पुलिस की मदद करें, फरीदाबाद पुलिस आपकी सुरक्षा एवं सहयोग में तैनात हैं जय हिंद। पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि पुलिस कंट्रोल रूम फरीदाबाद को आज दिनांक 30 मार्च को खाने से संबंधित 45 कॉल, कालाबाजारी की 20, कोरोना की 5 काल प्राप्त हुई जिन पर तुरंत प्रभाव से कार्यवाही की गई। पुलिस कंट्रोल रूम फरीदाबाद को खाने से संबंधित 45 कॉल, कालाबाजारी की 20, कोरोना की 5 काल प्राप्त हुई।  
आईएमए डॉक्टरों की पहल , मरीजों को मिली फ्री में ओपीडी और दवाइयां : डॉ सुरेश अरोड़ा

आईएमए डॉक्टरों की पहल , मरीजों को मिली फ्री में ओपीडी और दवाइयां : डॉ सुरेश अरोड़ा

फरीदाबाद 30 मार्च ।  जिला के सिविल सर्जन ( सीएमओ ) डॉ किशन कुमार के साथ एक मीटिंग में आईएमए के पदाधिकारी डॉ पुनीता हसीजा , डॉ सुरेश अरोड़ा ,डाक्टर नरेश जिंदल, डॉक्टर प्रदीप गर्ग,डॉ सुनील पाराशर,डॉ राकेश कपूर,द्वारा एक निर्णय लिया, जिसमें यह फैसला  लिया गया कि फरीदाबाद में जितने भी गरीब तबके के लोग हैं जोकि पैसे की कमी की वजह से अस्पतालों में नहीं जा पा रहे हैं उन लोगों को आई एम ए के डॉक्टर  मुफ्त में सलाह देंगे व जितनी भी हो सके दवाई भी देंगे।  ऐसा इसलिए किया जा रहा है ताकि जिन मरीजों की कुछ पुरानी बीमारियों के लिए कोई दवा  चल रही है तो दवा रुकने से कुछ बीमारी बढ़ ना जाए और जान को खतरा ना हो।

 सिविल सर्जन डॉ किशन कुमार को आईएमए द्वारा अलग अलग इलाकों के डॉक्टरों की एक लिस्ट दी जाएगी जिसमें वहां के मरीज उन डॉक्टरों को जाकर मिल सकते हैं ,और अपना चेकअप करा सकते हैं और उनसे  दवाई भी ले सकते हैं ।यह व्यवस्था  उन गरीब मरीजों के लिए की गई है जिन लोगों के पास आजकल पैसे के संसाधन नहीं है । आई एम ए  द्वारा एक एंबुलेंस का भी इंतजाम किया गया  है ,जिसमे विभिन्न प्रकार की दवाइयां रखी गई है  ,जो गरीब मरीजों में बांटी जा रही है  जो कि अस्पतालों में जाने के लिए असमर्थ है 
छठे नवरात्रे पर वैष्णोदेवी मंदिर में हुई मां कात्यायनी की पूजा

छठे नवरात्रे पर वैष्णोदेवी मंदिर में हुई मां कात्यायनी की पूजा

फरीदाबाद 30 मार्च । मां वैष्णोदेवी मंदिर में छठे नवरात्रे पर आज मां कात्यायनी की पूजा अर्चना की गई। प्रातकालीन पूजा अर्चना में मंदिर के पुजारी एवं संस्थान के प्रधान जगदीश भाटिया व अन्य पदाधिकारियों ने हिस्सा लिया। इस शुभ अवसर पर सभी ने मां कात्यायनी की पूजा करते हुए कोरोना महामारी से छुटकारा दिलवाने की प्रार्थना की। इस अवसर पर मंदिर के प्रधान जगदीश भाटिया ने मां कात्यायनी की मउहिमा का बखान करते हुए कहा कि कात्य गोत्र में विश्वप्रसिद्ध महर्षि कात्यायन ने भगवती पराम्बा की उपासना की। कठिन तपस्या की। उनकी इच्छा थी कि उन्हें पुत्री प्राप्त हो। 

मां भगवती ने उनके घर पुत्री के रूप में जन्म लिया। इसलिए यह देवी कात्यायनी नाम पड़ा। माँ कात्यायनी की कृपा से ही सारे कार्य पूरे जो जाते हैं। यह वैद्यनाथ नामक स्थान पर प्रकट होकर पूजी गईं। भक्त और उपासक सारे के सारे कष्ट से मुक्ति मिलती है। जहाँ भी जाते हैं लोग उन्हें देखकर शांति और सुख का अनुभव करते हैं। माँ का स्वरुप मनोहक है माँ को सबसे प्यारा रंग नारंगी रंग पसंद है। मां के बाँयी तरफ के ऊपर वाले हाथ में तलवार है व नीचे वाले हाथ में कमल का फूल सुशोभित है

उन्होंने कहा कि माँ कात्यायनी को पूजा के समय पांच तरह के मिष्ठान चढ़ाया जाता है जो भक्त माता को पांच तरह की मिठाईयों का भोग लगाकर कुंवारी कन्याओं में प्रसाद रूप में बांटते हैं। माँ कात्यायनी उनकी आय में आने वाली बाधा को दूर करती हैं और व्यक्ति अपनी मेहनत और योग्यता के अनुसार धन अर्जित करने में सफल होता है। माँ की सच्चे मन से पूजा करने वाला भक्त कभी निराश नही होता है और माँ भी अपने बच्चों पर सदैव ध्यान रखती हैं।
कांग्रेसी नेता लखन सिंगला ने कालोनियों में बांटे 5 हजार मॉस्क व 2 हजार सेनेटाईजर

कांग्रेसी नेता लखन सिंगला ने कालोनियों में बांटे 5 हजार मॉस्क व 2 हजार सेनेटाईजर

फरीदाबाद 30 मार्च । देश में महामारी घोषित हो चुके कोरोना वायरस से बचाव के लिए अब कांग्रेसी नेताओं ने भी कालोनियों में जाकर लोगों को जागरुक करने के लिए मोर्चा संभाल लिया है। इसी कड़ी में फरीदाबाद विधानसभा क्षेत्र के पूर्व कांग्रेस प्रत्याशी एवं वरिष्ठ कांग्रेसी नेता लखन कुमार सिंगला ने आज फरीदाबाद विधानसभा क्षेत्र की संत नगर, कंजर कालोनी, मिल्हाड कालोनी, कृष्णा कालोनी, इंद्रा नगर, ए.सी. नगर, भारत कालोनी, प्रेम नगर, शास्त्री कालोनी, खत्री वाडा, भीम बस्ती, राम नगर आदि में जाकर कालोनियों के प्रधान एवं मौजिज व्यक्तियों को लगभग 5 हजार मॉस्क और 2 हजार सेनेटाईजर वितरित कर उन्हें घर-घर बांटने का आह्वान किया वहीं उन्होंने अपने कार्यकर्ताओं संकट की इस घड़ी में जहां लोगों के सुख-दुख में शामिल होने के लिए कहा वहीं यह भी कहा कि वह अपने-अपने क्षेत्र की वास्तविक स्थिति को उनसे अवगत करवाएंगे, जिससे कि ऐसे जरूरतमंद लोगों की मदद करवाई जा सके। 

सिंगला ने कहा कि देश में संकट की इस घड़ी में हम सभी को एकजुट होकर इसका मुकाबला करना होगा, तभी इस बीमारी पर विजय हासिल की जा सकती है। उन्होंने कहा कि इस आपदा की घड़ी में कांग्रेस पार्टी पूरी तरह से देश के लोगों के साथ खड़ी है और कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने बकायदा प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर गरीब, मजदूर एवं पिछड़े दलितों का इस संकट की घड़ी में विशेष ध्यान रखने का आग्रह किया है, इससे साबित होता है कि कांग्रेस दलित,गरीब व मजदूरों की हितैषी है। लखन सिंगला ने कहा कि कोरोना वायरस का बचाव सोशल डिस्टेंसिंग ही है इसलिए हम सभी को लॉक डाऊन का पालन करना चाहिए और एक भारतीय होने का कत्र्तव्य निभाना चाहिए। उन्होंने लोगों से आह्वान किया कि वह इस विपदा के समय एकजुट होकर आपसी भाईचारे व एकता का परिचय दें, जिससे कि इस बीमारी को हराकर भारत विजय हासिल कर सके। इस अवसर पर ओमपाल सिंह, तुलसी प्रधान, रमेश सिंह, टीकाराम प्रधान, अर्जुन तंवर, रामबीर सिंह, इंद्रपाल, विजय भीमबस्ती, हरीलाल गुप्ता, ममता सिंह, आशा रानी, सुधीर सिंगला, मोहन सिंह, गुड्डू, मनोज नंबरदार, प्रवीन ठाकुर, संतलाल, आकाश सैनी सहित अनेकों गणमान्य लोग मौजूद थे।