Showing posts with label World. Show all posts
Showing posts with label World. Show all posts

Saturday, 31 August 2019

दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल के मशहूर डीसीपी सजीव कुमार यादव ने गोल्ड जीता

दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल के मशहूर डीसीपी सजीव कुमार यादव ने गोल्ड जीता

नई दिल्ली : 31 अगस्त I पैंतीसवीं दिल्ली स्टेट शूटिंग चैंपियनशिप की राइफल पिस्टल स्पर्द्धाओं का बीती शाम समापन हो गया। एशिया की सबसे बड़ी शूटिंग रेंज पर दिल्ली स्टेट राइफल एसोसिएशन ने इस प्रतियोगिता का आयोजन किया जिसमें युवा निशानेबाज़ों ने कई नए रिकॉर्ड कायम किये, अर्पित गोयल ने रैपिड फायर पिस्टल इवेंट में नैशनल रिकॉर्ड तोड़ते हुए 589 स्कोर किया। 

डीएसआरए के सचिव राजीव शर्मा ने बताया कि इस बार दिल्ली स्टेट शूटिंग में बारह सौ से ज़्यादा निशानेबाज़ों ने भाग लिया है, ये संख्या पिछले साल की तुलना में तकरीबन दोगुनी है। इस बार बारह साल से कम उम्र के बच्चों का मैच भी कराया गया है। दिल्ली में लगातार निशानेबाज़ी का क्रेज़ बढ़ रहा है, युवा निशानेबाज़ों में हर्ष गुप्ता ने तरह गोल्ड समेत मेडल जीते, शौर्य सरीन ने नौ गोल्ड सहित तरह मेडल जीते और अग्नेय कौशिक ने कुल दस मेडल जीतकर सबको आकर्षित किया।

दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल के मशहूर डीसीपी सजीव कुमार यादव ने भी इस मुकाबले में एक गोल्ड समेत तीन मेडल जीते। उन पर बनी फिल्म बाटला हाउस हाल ही में रिलीज़ हुई है, जिसमें उनकी भूमिका जॉन अब्राहम ने निभाई है। संजीव अगले महीने जर्मनी में होने जा रही मास्टर्स शूटिंग चैंपियनशिप में भारत का प्रतिनिधित्व करने जा रहे हैं। 

दिल्ली सरकार के पूर्व कैबिनेट मंत्री हारून यूसुफ ने यहाँ निशानेबाज़ों को मेडल पहनाकर हौसला अफजाई की और खुद भी शूटिंग सीखने की इच्छा जताई। 

दिल्ली के राज्यसभा सांसद संजय सिंह यहां निशानेबाज़ों को सम्मानित करने पहुंचे तो निशानेबाज़ी में भी हाथ आज़माया, और राइफल से सटीक निशाना लगाया। उन्होंने कहा कि अभिनव बिंद्रा ने ओलिम्पिक में गोल्ड मेडल जीतकर देश को सम्मान दिलाया और लगातार भारत के निशानेबाज़ दुनियाभर में देश का नाम रौशन कर रहे हैं। 

दिल्ली राज्य राइफल संघ के संयुक्त सचिव और पत्रकार फरीद अली ने कहा कि दिल्ली में जिस तरह निशानेबाज़ी के खेल में नौजवान आगे आ रहे हैं और लगातार संख्या बढ़ रही है, हमें दिल्ली में और शूटिंग रेंज बनानी चाहिए। दिल्ली में डॉ कर्णी सिंह रेंज एक विश्व स्तर की शूटिंग रेंज है, लेकिन यहां आए दिन कोई न कोई प्रतियोगिता, या नैशनल ट्रेनिंग कैम्प चलते रहते हैं, साथ ही यहां देशभर से निशानेबाज़ ट्रेनिंग के लिए आते हैं, खास तौर से उत्तर भारत के राज्यों से। जिससे नए निशानेबाज़ों को अभ्यास करने में दिक्कत होती है। फरीद ने सांसद संजय सिंह से अपनी मांग रखते हुए कहा कि वो दिल्ली सरकार से एक और बड़ी शूटिंग रेंज बनाने की सिफारिश करें, जहाँ दिल्ली के निशानेबाज़ों को तरजीह दी जाए, ताकि दिल्ली से और ज़्यादा विश्व स्तरीय निशानेबाज़ तैयार हो सकें।

10 मीटर राइफल वुमन स्पर्धा में ऐश्वर्या गुप्ता ने 622.2 अंकों के साथ स्वर्ण पदक जीता, नियति खन्ना ने 617.7 अंकों के साथ रजत पदक जीता, तो पारुल शर्मा को 617.4 स्कोर पर कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा। इस इवेंट की यूथ कैटेगरी में ऋतंबरा दास ने 609 स्कोर करके गोल्ड मेडल जीता, जबकि धारिणी शर्मा ने भी बराबर स्कोर किया लेकिन उन्हें रजत पदक मिला, दीक्षा माथुर 605.3 स्कोर करके ब्रोज़ मेडल जीत पायीं। 

10 मीटर पिस्टल मेन इवेंट में हर्ष गुप्ता ने 576, अनमोल अरोड़ा ने 575 और शौर्य सरीन ने 574 स्कोर करके क्रमशः गोल्ड, सिल्वर और ब्रॉन्ज़ मेडल जीता।

25 मीटर सेंटर फायर पिस्टल इवेंट में अर्पित गोयल ने गोल्ड मेडल, अग्नेय कौशिक ने सिल्वर और स्पेशल सेल के डीसीपी संजीव कुमार यादव ने ब्रोज़ मेडल जीता, इन्होने क्रमशः 564, 559 और 556 स्कोर किया। 

25 मीटर स्पोर्ट पिस्टल इवेंट में इशिका सिंह ने स्वर्ण पदक जीता, लवलीन कौर ने रजत पदक और महिमा सिंह ने कांस्य पदक जीता, इनका स्कोर 566, 558 और 554 रहा। 

50 मीटर थ्री पोज़िशन राइफल मेन इवेंट में तरुण यादव, रितेश तंवर और अभी कुमार गोयल ने गोल्ड सिल्वर और ब्रॉन्ज़ मेडल जीते, इन तीनों ने 1146, 1132 और 1124 स्कोर किया। 

दिल्ली हाईकोर्ट के पूर्व चीफ जस्टिस मनमोहन सरीन, विधायक पवन शर्मा और पूर्व आईआरएस अधिकारी रहे पूरन चंद पांडे भी दिल्ली के निशानेबाज़ों की हौसला अफजाई के लिए यहाँ पहुंचे। डीएसआरए की वाइस चेयरमैन शकुन भुगरा, ट्रेजरर जसपाल सिंह मारवाह, गवर्निंग बॉडी मेंबर ईशविंदरजीत सिंह, अनुपम कमल, समरीन सैयद, फलक शेर आलम, गौरव सरीन, अचल सहगल, राजेंद्र शर्मा के साथ रेंज ऑफिसर दीपक कुमार दुबे, गंगाधर शर्मा, अमित कोसलिया, लवलीन कौर, नीता शर्मा, नरेश चौधरी और रविंदर कुमार भी पदक वितरण समारोह में मौजूद रहे। 

Friday, 9 August 2019

Launches new variants of Royal Enfield Bullet : Sunny Bhatia

Launches new variants of Royal Enfield Bullet : Sunny Bhatia

 FARIDABAD 9 August : Royal Enfield, the global leader in the mid-size motorcycle segment, has consistently worked towards building increased accessibility for consumers, into the motorcycling way of life.  With close to 930 existing dealer touchpoints in India alone, more than 8800 service bays, and more than 900 authorised service workshops, Royal Enfield has the most widespread sales and service network among premium brands in the country. Adding to this extensive network, Royal Enfield announced the launch of 250 new dealer touch-points across tier II and III cities and towns. To be operational from today, the new Royal Enfield Studio Stores will  have the same retail identity as  existing dealerships across cities, and will have the entire portfolio of motorcycles, in addition to service and spares.  The Company takes pride in its long association with the armed forces and is proud to have all the new stores inaugurated simultaneously by retired army personnel. The company also announced the launch of six new colours of the iconic Royal Enfield Bullet. The Bullet will now be available starting at Rs. 1,12,000/- (ex-showroom) 

Sunny Bhatia owner sohan auto world with Mr. VIVEK CHANANA REGIONAL MANAGER APPARELS ROYAL ENFIELD AND MOHD.SAHID AREA SALES MANAGER APPAREL ROYAL ENFIELD

Speaking about the launch of the new Studio Stores and the new Bullet motorcycles, Mr. Vinod K Dasari, CEO, Royal Enfield, said, “It has been our constant endeavour to build greater accessibility for discerning customers and widen our footprint in India. We have witnessed significant demand across smaller towns and cities which are showing tremendous potential for growth and are soon becoming a huge market for middle-weight motorcycle segment. Motorcycling aspirants in these towns are quickly catching on the trend of leisure motorcycling. With an intent to significantly expand our reach and build a robust network into these towns and cities, we are happy to announce the launch of 250 new Royal Enfield Studio Stores. We have definite plans to increase this further by the end of this fiscal”

Speaking at the launch event in Kochi, Mr Shaji Koshy, Head India Business+, Royal Enfield, said, “Kerala has been an exciting market for Royal Enfield, and we are focused on growing our expanse and offerings in the state. The launch of the Studio Stores is a significant step towards coming closer to consumers in smaller towns and cities of Kerala. Similarly, the launch of the new Bullet motorcycles widens our product offerings and builds a new chapter to the legacy of the Bullet. With these new initiatives, we hope to engage more riding enthusiasts into the Royal Enfield world of pure motorcycling” 

To be located primarily in smaller towns and cities across India, the Royal Enfield Studio Stores is a unique, compact format that will house the entire range of Royal Enfield motorcycles, alongside service and spares and the entire suite of Royal Enfield motorcycle accessories and apparel. The format of the stores will be spread across 500-600 sq.ft. area and will be identical visually and operationally to existing Royal Enfield dealership. These compact stores are intended to provide significantly greater accessibility of sales and service to existing customers and to cater to increasing demand from potential customers in up-country markets.  

In Kerala, Royal Enfield will have 9 new Studio Stores in addition to the existing 59 dealerships across the state. The new stores will be located in and around towns such as Pandikkad, Kattakada, Mukkom, and Chalakudy among others.

The Royal Enfield Bullet is an iconic motorcycle that’s had an enduring journey over the last 87 years - since 1932. This has given Royal Enfield the privilege of being the world’s oldest motorcycle brand in continuous production, with the Bullet being the longest running motorcycle model in the world. The launch of the new Bullet motorcycles, adds another chapter to this resilient journey.
The new Bullet, in striking new livery, bold new colours and contemporary design themes provide varied options to prospective buyers. The Bullet 350, in addition to its existing black colour, will now be available in three new colours - the Bullet Silver, Bullet Sapphire Blue and the Bullet Onyx Black. Bullet 350 ES will be launched in Jet Black, Regal Red, Royal Blue colour options in addition to the current Maroon and Silver variants. These new motorcycles will come an aesthetic blacked out theme. The new Bullet motorcycles will be open for bookings at Royal Enfield stores across India at an ex-showroom price of Rs 1,12,000 (ex-showroom)

Launching along with the new Bullet range of motorcycles, is another significant step towards customer satisfaction. Royal Enfield announced the launch of a new initiative on improving Cost of Ownership. Across all its authorised service centers, the company will commence the use of a new set of processes and technology, coupled with a new mix of semi-synthetic oil, for servicing. These initiatives will now increase the service interval from being 3 months / 3000 kms to 6 months / 5000 kms. The oil change interval also increases to 12 months or 10,000 kms, as opposed to the earlier 6 months or 5000 kms. This will therefore, bring down the overall service interventions required in a year and will bring down the cost of service by an average of 40% over a period of 3 years, thereby significantly improving cost of ownership for the customer. This new service improvement initiative will be applicable to all current Unit Construction Engine engine motorcycles models under the unit construction engine platform - the Bullet, Classic and the Thunderbird. 
About Royal Enfield:

The oldest motorcycle brand in continuous production, Royal Enfield made its first motorcycle in 1901. A division of Eicher Motors Limited, Royal Enfield has created the mid-sized motorcycle segment in India with its unique and distinctive modern classic bikes. With its new manufacturing base in Chennai, India, Royal Enfield is able to grow its production rapidly against a surge in demand for its motorcycles. With more than 40% growth every year for the last 5 years, Royal Enfield is fast becoming a very important player in the global mid-size motorcycle market and is working towards re-inventing this space with motorcycles that are evocative and engaging and great fun to ride.

Royal Enfield’s motorcycle line-up includes the newly launched Interceptor 650 and the Continental GT 650, powered by a modern 648cc twin cylinder engine. Royal Enfield also manufactures the  Classic, Bullet and Thunderbird models in 350 and 500cc displacement and the purpose-built Himalayan powered by the new LS410 engine. Royal Enfield operates through 18 company-operated stores and 850+ dealers in all major cities and towns in India, and exports to over 50 countries across the world including the USA, UK, several European and Latin American countries, as well as the Middle East and South-East Asia.

Royal Enfield also organizes and supports many motorcycling events and rides globally, more prominently the Rider Mania – an annual gathering of Royal Enfield riders from all over the world to the lovely beaches of Goa, and the Himalayan Odyssey, the most arduous motorcycle ride over some of the toughest roads and highest mountain passes in the Himalayas. Royal Enfield also conducts the popular ‘One Ride’ where people around the world ride out on their motorcycles on the first Sunday of April.


Friday, 17 May 2019

Dr.Kasana - Expert homeopathic Doctor In Delhi

Dr.Kasana - Expert homeopathic Doctor In Delhi

डॉ.अभिषेक कसाना एम . डी  होम्योपैथी - एक प्रसिद्ध होम्योपैथ, एक प्रसिद्ध शिक्षाविद और प्रसिद्ध अंतर्राष्ट्रीय शिक्षक, होम्योपैथी में उनके बड़ेयोगदान के लिए जाने जाते हैं। 

 एलर्जी, अस्थमा, राइनाइटिस, टॉन्सिलिटिस, साइनोसाइटिस, एडेनोइड्स, गठिया, स्पॉन्डिलाइटिस, बीपीएच- प्रोस्टेट,लिचेन, मौसा, सोरायसिस, रोसैसिया, एक्ने, हर्ज़ल, एक्जिमा, मोलस्कैम, यूरेटिसारिया, यूरेट्रिकेरिया, जैसे विभिन्न विकारों के उपचार में उनकीविशेषज्ञता। , बांझपन, इरेक्टाइल डिसफंक्शन, शीघ्रपतन, अवसाद, पार्किंसंस रोग, माइग्रेन, और अंतःस्रावी विकार जैसे मधुमेह आदि से संबंधित रोगउल्लेखनीय हैं।

 उन्होंने अपने 20 वर्षों के नैदानिक अभ्यास में कई रोगियों का सफलतापूर्वक इलाज किया है और भारत में अग्रणी होम्योपैथों में से एकहै। उन्होंने विभिन्न देशों में अब तक असंख्य अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार और कार्यशालाएं दी हैं और होम्योपैथी की गहन समझ और होम्योपैथी के आयामों से परेजाकर गहन कार्यक्रम बनाने के लिए एक संगठन की स्थापना की है।
वह होम्योपैथी और फाइंडिंग बेस्ट होम्योपैथिक मेडिसिन, क्लासिकल होम्योपैथी - होम्योपैथी में इसकी व्याख्या और व्यावहारिक अनुप्रयोग - के बारेमें अवधारणाओं और उपन्यास विचारों के लिए प्रसिद्ध है।

 मामलों को सुलझाने में उनके व्यावहारिक दृष्टिकोण ने उन्हें भारत और विदेशों में प्रशंसा औरप्रसिद्धि दिलाई है।
उनकी सफलता की कहानियों में से एक:
वह अपने मामलों को वैज्ञानिक दृष्टिकोण और बड़ी दक्षता के साथ हल करता है। यहां एक ऐसे मामले का उदाहरण दिया गया है जो उन्होंने मलेशिया मेंअंतर्राष्ट्रीय सेमिनार में प्रस्तुत किया था।
 एक पुरुष, जिसकी उम्र ५ ९ वर्ष है, वह पिछले ५ वर्षों से पतला और मधुमेह रोगी है।

 उनकी अन्य शिकायतों मेंबार-
बार पेशाब आना, सोरायसिस, पुरानी एसिडिटी, थायरॉयड, ऑस्टियोआर्थराइटिस और ब्रोंकाइटिस थे। रक्त की रिपोर्ट निम्नानुसार थी: उपवासरक्त शर्करा:
 190 मिलीग्राम / डीएल, पोस्ट प्रांडियल रक्त शर्करा: 223 मिलीग्राम / डीएल।

सज्जन एक चतुर व्यक्ति था, वह सभी के साथ पार था, किसी की बात नहीं मानता था, आहार प्रतिबंध या किसी भी अभ्यास का पालन नहीं करता था।
वह बहुत व्यंग्यात्मक और अक्सर अपमानजनक था, उसकी एक तेज जीभ थी।

 उनके व्यंग्यात्मक, तीखे व्यवहार और लक्षणों की अन्य समग्रता केआधार पर, उन्हें एसिड फॉस 0/1 निर्धारित किया गया था और 2-
3 साल की अवधि में इस मामले में सोरायसिस, थायराइड, रक्त रिपोर्ट सहित सभीस्तरों पर सुधार देखा गया था।

कृपया ध्यान दें कि होम्योपैथी दवा पूरी तरह से एक विशेषज्ञ डॉक्टर द्वारा लेने और विश्लेषण के बाद निर्धारित की जाती है। स्व दवा उचित नहीं है औरहानिकारक साबित हो सकती है।

डॉ कसाना एक बेहद सफल होम्योपैथ और होम्योपैथी की उन्नति के लिए एक महान योगदानकर्ता हैं। वह ऑरा होमियोपैथी इंडिया में एक विशेषज्ञपैनल डॉक्टर हैं, जो एक ऑनलाइन होम्योपैथिक स्वास्थ्य पोर्टल है जो लोगों की सेवा करने और उन्हें होम्योपैथी के साथ उनकी बीमारियों से राहतदिलाने का काम करता है।

 ऑरा होम्योपैथी इंडिया में सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथिक डॉक्टरों का एक पैनल है जो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रशंसित हैं और उनकेकई वर्षों के सफल नैदानिक अनुभव हैं।

डॉ.अभिषेक कसाना एम. डी  होमियोपैथी) और ऐसे कई विशेषज्ञ होम्योपैथ्स ऑफ़ इंटरनैशनल रीप्यूट से परामर्श करने के लिए हमें 9873537001पर कॉल करे या Homeopathic Doctor In Delhi पर लॉग इन करे I 


Thursday, 16 May 2019

हरियाणा रणजी कोच विजय यादव बने इंडिया ए टीम के फील्डिंग कोच

हरियाणा रणजी कोच विजय यादव बने इंडिया ए टीम के फील्डिंग कोच

फरीदबाद 16 मई :   बीसीसीआई ने हरियाणा रणजी कोच विजय यादव को इंडिया ए टीम का कोच नियुक्त किया गया  है श्रीलंका ए के खिलाफ 5 एक दिवसीय मैचों के लिए पूर्व भारतीय खिलाडी विजय यादव को  फील्डिंग कोच नियुक्त किया गया है। पूर्व भारतीय क्रिकेटर विजय यादव पहले ऐसे कोच हैं। और पिछले साल भी इंडिया अंडर 23 के फील्डिंग कोचिंग थे और इस बार भी कोच है , और विजय यादव को भारतीय टीम में जगह बनाने के लिए तैयार उभरते हुए क्रिकेटरों को संवारने की जिम्मेदारी सौंपी गई। इसके तहत ही पहले इंडिया ए टीम के विदेशी दौरे पर उनको विकेटकीपिंग-फिल्डिंग कोच के रूप में जा चुके है ।  और भारतीय इंडिया अंडर 19 टीम के कोच भी थे और पिछले साल भी अंडर 19 इंडिया टीम के साथ भी श्रीलंका के लिए टीम के साथ थे I

श्रीलंका ए टीम भारत दौरे पर आ रही है और इंडिया ए के साथ 25 मई से 15 जून तक दो टेस्ट मैच और 5 एकदिवस मैच खेले गई 


श्री विजय यादव 
हरियाणा रणजी प्रमुख कोच 
इंडिया ए टीम के फ़ील्डिंग कोच 
इंडिया 23 टीम कैंप के  फ़ील्डिंग कोच
इंडिया अंडर 19 टीम के  फ़ील्डिंग कोच


उनके साथ सीतांशु कोटक, नरेंद्र हिरवानी भी जिम्मेदारी निभाएंगे


जिला क्रिकेट एसोसिएशन एक्जुक्यूटिव प्रेजीडेंट रजत भाटिया ने उनकी इस नई जिम्मेदारी पर बधाई दी है। साथ ही विजय यादव ने अपनी इस उपलब्धि के लिए एचसीए का धन्यवाद किया है। यह सीरीज भारत मैं होगी और 25 मई से 15 जून तक चलेगी । जिसमें इंडिया ए टीम  टेस्ट मैच और वनडे मैच श्रीलंका ए  टीम के साथ खेले जाएंगे।

गौरतलब है कि पूर्व भारतीय क्रिकेटर विजय यादव पहले ऐसे कोच हैं। जोकि टीम के साथ जुड कर किसी दौरे पर जा रहे हैं। लेकिन विजय यादव को भारतीय टीम में जगह बनाने के लिए तैयार उभरते हुए क्रिकेटरों को संवारने की जिम्मेदारी सौंपी गई। इसके तहत ही पहले इंडिया ए टीम के विदेशी दौरे पर उनको विकेटकीपिंग-फिल्डिंग कोच के रूप में जा चुके है । विजय यादव का कहना है कि वह टीम के साथ जा रहे हैं। उन्हें पूरी उम्मीद है कि यह टीम श्रीलंका में बेहतर प्रदर्शन करेगी। बता दें कि 52 वर्ष के विजय यादव लेवल-सी कोच है। उन्होने 1992-93 में साउथ अफ्रीका के खिलाफ पहला वनडे और जिम्बाबे के खिलाफ एक मात्र टेस्ट खेला। यादव ने 19 वनडे में नाबाद 34 रन सर्वाधिक रकोर के साथ 118 रन बनाए और 12 कैच व 7 स्टंप अपने नाम किए। जबकि एकमात्र टेस्ट में 30 रन उनका सर्वाधिक रहा। फर्स्ट क्लास क्रिकेट में यादव ने 89 मैच में 201सर्वाधिक स्कोर के साथ 3988 रन बनाए है। 237 कैच व 46  स्टंप इसमें शामिल हैं। लिस्ट ए में 67 मैच 85 हाई स्कोर के साथ  748 रन, 92 कैच व33 स्टंप का उनका रिकार्ड है। उनके इंटरनेशनल करियर और हरियाणा में लंबे कोचिंग अनुभव को देख कर ही उन्हें बीते वर्ष हरियाणा रणजी टीम को संवारने की जिम्मेदारी हरियाणा क्रिकेट एसोसिएशन ने सौंपी थीं। इंटरनेशनल क्रिकेटर मोहित शर्मा और आईपीएल क्रिकेटर राहुल तेवतिया उनके ही शिष्य हैं। और उनके प्रशिक्षण में ही हरियाणा रणजी टीम का बीते सत्र में प्रदर्शन बेहतर रहा।

Tuesday, 14 May 2019

Homeopathic Doctor In Faridabad For Hairloss Alopecia Areata : Dr. Abhishek Kasana

Homeopathic Doctor In Faridabad For Hairloss Alopecia Areata : Dr. Abhishek Kasana


Homeopathic Doctor In Faridabad For Hairloss Alopecia Areata

डॉ.अभिषेक कसाना M.D होम्योपैथी (Homeopathic Doctor In Faridabad)

एलोपेशिया आरैटा सलाह देता है: -एएस डॉ। अभिषेक के अनुसार, होम्योपैथिक उपचार के लिए सख्त व्यक्तिगतकरण की आवश्यकता होती है। अपने होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह के बिना कोई दवा न लें।

एलोपेशिया एरियाटा हेयर लोस
  • कारण,
  • लक्षण,
  • उपचार,
  • होम्योपैथी दवा और
  • खालित्य areata के होम्योपैथिक उपचार।
एलोपेशिया एरेटा को गंजे क्षेत्रों को बनाने वाले गोल पैच में अचानक बालों के झड़ने की विशेषता है। यह एक अत्यधिक अप्रत्याशित त्वचा रोग है जो खोपड़ी और शरीर के अन्य हिस्सों पर हो सकता है।

अन्य ऑटोइम्यून विकारों के साथ कुछ समानताओं के कारण, यह सुझाव दिया जाता है कि एलोपेसिया अरीता एक ऑटोइम्यून बीमारी है। बालों का झड़ना आमतौर पर खोपड़ी पर गंजापन के एक या अधिक छोटे, गोल, चिकने पैच से शुरू होता है जो खोपड़ी पर कुल बालों के झड़ने में प्रगति कर सकता है।

एलोपेशिया आरैटा का विभेदक निदान
  • तिन्या कैपिटास
  • कर्षण द्वारा खालित्य
  • खालित्य जन्मजात
  • एनाफिलेक्टिक द्वारा प्रेरित रासायनिक ट्राइकोटिलोमेनिया
  • इफ्लुवियम एलोपेसिया
  • Trichodystrophies
  • ल्यूपस एरिथेमेटोसस
  • Pseudopelade
  • काई
  • planopilaris
  • बुलर स्क्लेरोडर्मा
  • पेम्फिगॉइड
  • उपदंश
  • फॉलिकुलिटिस अलोपेसिया
  • नियोप्लास्टिक कूपिक श्लेष्मा
एलोपेसिया अरेटा जेनेटिक ग्रैनुलोमैटस विकारों की पूर्वसूचना एटियलजि - परिवार के इतिहास में ऑटोइम्यून रोग के साथ सहयोग की संभावना बढ़ जाती है - (थायराइड रोग, एडिसन रोग, विटिलिगो) एक ऑटोइम्यून उत्पत्ति का सुझाव देता है; एनाजोन हेयर फॉलिकल में और उसके आसपास लिम्फोसाइटिक घुसपैठ की उपस्थिति अतिरिक्त प्रमाण है। एलोपेसिया अरीटा अन्य ऑटोइम्यून बीमारियों से अलग है, जिसके परिणामस्वरूप लक्ष्य अंग के कार्य का पूर्ण नुकसान नहीं होता है, लेकिन बाल कूप की गतिविधि के एक अस्थायी परिवर्तन में, जो सामान्य में वापस आ सकता है। इससे पता चलता है कि लक्ष्य वृद्धि कारक या उसके रिसेप्टर को नियंत्रित कर सकता है।

कारण

सूक्ष्मजीव, तंत्रिकाजन्य उत्तेजना, भावनात्मक तनाव और खराब मैथुन कौशल की पहचान संभावित कारणों या ट्रिगर के रूप में की गई है।

एलोपेशिया आरैटा क्लिनिकल प्रेजेंटेशन के लक्षण और लक्षण बालों के झड़ने के छोटे-छोटे गोल पैच से लेकर क्रॉनिक लॉस तक भिन्न होते हैं, स्कैल्प, भौंहों, पलकों, नाक, दाढ़ी और शरीर के बालों की कुल नॉनसर्किंग, स्पॉन्टेनियस रिमिशन देख सकते हैं।

खालित्य Areata मनोवैज्ञानिक रूप से दर्दनाक हो सकता है। एक अज्ञात ट्रिगर के कारण हेयर फॉलिकल एनाजेन, डायस्ट्रोफिक एनाजेन हेयर, कैटजेन या हेयर टेलोजेन चरण बदलते हैं।

नाखून का डंक लग सकता है। अन्य ऑटोइम्यून बीमारियों जैसे कि हाशिमोटो के थायरॉयडिटिस और विटिलिगो के साथ संबंध की एक उच्च घटना बताई गई है।

खालित्य आर्यता के मामले में अनुसंधान विस्तृत इतिहास और शारीरिक परीक्षण नैदानिक उद्देश्यों के लिए महत्वपूर्ण उपकरण हैं; अंग विशिष्ट एंटीबॉडी का प्रदर्शन किया जा सकता है। किसी अन्य विकार को बाहर करने के लिए स्कैल्प बायोप्सी उपयोगी हो सकती है।

एलोपेशिया आरैटा का उपचार इस स्थिति के लिए उपचार के विकल्पों की एक किस्म उपलब्ध है, यदि छोटे बालों के झड़ने की पहचान पैच, यह बेहतर है कि प्रतीक्षा करें और बालों को अपने आप वापस बढ़ने दें। अन्य उपचार विकल्पों में मुख्य रूप से शामिल हैं: मजबूत सामयिक स्टेरॉयड के आवेदन, एक स्टेरॉयड का इंजेक्शन, मिनोक्सिडिल का उपयोग बालों के विकास को बढ़ावा देने के लिए किया गया है और कुछ मामलों में स्वभाव परिणाम दिखाया गया है।

बालों के विकास को प्रोत्साहित करने के लिए, बालों के झड़ने की साइट पर एक संपर्क जिल्द की सूजन, या जलन पैदा करने के लिए एक अन्य प्रकार का उपचार तैयार किया गया है। इन मामलों में रिलैप्स के साथ फोटो कीमोथेरेपी भी टेंपररी परिणाम दे सकती है।

अलोपेसिया अरेटा का आभा होम्योपैथिक उपचार: - होम्योपैथी चिकित्सा की सबसे लोकप्रिय समग्र प्रणालियों में से एक है। डॉ.अभिषेक कसाना एम। डी। आभा होम्योपैथी के अनुसार, होम्योपैथी एलोपेसिया अरीटा और अन्य ऑटिइम्यून रोगों के लिए सर्वश्रेष्ठ उपचार प्रदान करती है। एलोपेशिया आरैटा के लिए सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथिक दवा का चयन एक समग्र दृष्टिकोण के उपयोग के माध्यम से वैयक्तिकरण के सिद्धांत और लक्षणों की समानता पर आधारित है। यह एकमात्र तरीका है जिसके माध्यम से आप उन सभी संकेतों और लक्षणों को दूर कर सकते हैं जो रोगी पूर्ण स्वास्थ्य की स्थिति से पीड़ित हैं। होम्योपैथी का लक्ष्य न केवल एलोपेसिया आरिएटा के उपचार के लिए है, बल्कि इसके अंतर्निहित कारण और व्यक्तिगत संवेदनशीलता को संबोधित करना है। उपचारात्मक दवाओं के संबंध में, खालित्य areata के उपचार के लिए कई उपचार उपलब्ध हैं जिन्हें दावों के कारण, संवेदनाओं और तौर-तरीकों के आधार पर चुना जा सकता है। व्यक्तिगत उपाय और उपचार के चयन के लिए, रोगी को अपने पास के सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथिक चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए, या साइबर क्लिनिक की नियुक्ति का विकल्प चुनना चाहिए।


Alopecia areata के लिए कुछ सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथिक दवा:

  • फेरम फॉस - एनीमिया के कारण सिर से बालों का झड़ना
  • एसिडम का आटा - बुजुर्गों की खालित्य या समय से पहले उम्र के साथ उपदंश, पैच में बालों का झड़ना, टाइफाइड बुखार के कारण बालों का गिरना
  • सीपिया - गर्भावस्था के दौरान बालों का झड़ना, दाद जैसे क्षेत्रों में, रूसी खोपड़ी की गंधक सल्फर - स्तनपान कराने वाली महिलाओं में बाल गिरते हैं, जब अच्छी तरह से चयनित दवाएं राहत देने में विफल रहती हैं।
  • सेलेनियम मिले - सिर, भौहें, पलकें और शरीर के अन्य हिस्से से बालों का झड़ना
  • नैट्रम म्यूर - बच्चे के जन्म के बाद बालों का झड़ना, एक बच्चे को उसके नर्सिंग से, पुराने सिरदर्द के बाद बालों का झड़ना
  • Mancinella - एक गंभीर तीव्र बीमारी के बाद बालों का झड़ना 
  • Vinca मामूली - बालों का झड़ना, मजबूत और अच्छी तरह से परिभाषित, परिचालित पैच जो नरम खोपड़ी को छोड़ देते हैं और सफेद या भूरे बाल सफेद ऊन जैसे गंजे क्षेत्रों में बढ़ सकते हैं।
  • फोस एसिड - एलोपेशिया आरैटा के लिए उल्लेखनीय उपाय, बालों का झड़ना एक गंभीर बीमारी के बाद गिरता है, बाल झड़ते हैं, भौंहें और पलकें गिरती हैं
  • लच्छी दाढ़ी के बाल झड़ते हैं - बाल झड़ते हैं
  • कार्बो वेग - गर्भावस्था के दौरान बाल गिरना

हमारे अन्य लेख बताते हैं कि होम्योपैथी के साथ इसका इलाज कैसे किया जाता है और एलोपेसिया अरीता के लिए सर्वश्रेष्ठ संकेतित होम्योपैथिक उपचार नीचे दिए गए हैं।


आभा होम्योपैथिक मेडिकल फाउंडेशन, फरीदाबाद, दिल्ली- NCR, भारत 31 अप्रैल 2018 और 17 अगस्त, 2018

© होम्योपैथिक मेडिकल फाउंडेशन ऑरा। सर्वाधिकार सुरक्षित।

ई-मेल: aurahomoeopathy@gmail.com

एलोपेशिया आरैटा सलाह देता है: -एएस डॉ। अभिषेक के अनुसार, होम्योपैथिक उपचार के लिए सख्त व्यक्तिगतकरण की आवश्यकता होती है। अपने होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह के बिना कोई दवा न लें।

Sunday, 12 May 2019

धन तेजस चन्द्रागुप्त मौर्या में राजा पोरस के बेटे राजकुमार मालायेकतु  के किरदार में

धन तेजस चन्द्रागुप्त मौर्या में राजा पोरस के बेटे राजकुमार मालायेकतु के किरदार में

फरीदाबाद : 12 मई I फरीदाबाद का 6 साल का धन तेजस नाम कर रहा है रोशन . नज़र आ रहा है सोनी टी वी के धार्वाहिक  चन्द्रागुप्त मौर्या में राजा पोरस के बेटे राजकुमार मालायेकतु  के किर्दार में . धन तेजस ने अपने टालेंन्ट के दम पर बोहुत से awards जीते हैं . उनकी मा का कहना हैं की 2.5 साल की ऊमर से ही तेजस ने मारशिएल आरटस सिखना शुरू किया ओर कम समय में  ही   बोहुत से गोलड मेडल जीत लिए| उसके बाद उसने बोहुत से fashion shows जीते  | 

Mr. Kid Glimmer and Gloss 2018 बना , ओर फिर  बोहुत सी मुविएस मै काम किया | ज़िन्दगी ज़िरो कीलोमीटर , shakalaka boom boom, gunehgaar, Rangberang आदी फिलमो मै काम कीया . डांस, मुयूसिक , खेलो मे रूची है| कई परोडक्टस की मोडलिग  कि है छोटे  से घनतेजस ने| 10  मेय से दिखाई देरहा है सोनी पर सबसे बडे शो चन्द्रागुप्त मौर्या मे| india fashion विक, हम है सुपरस्टार आदी बडे पलैटफार्म मै धनतेजस को देखा गयाहै|

Thursday, 9 May 2019

मानव रचना में ओपन शूटिंग चैंपियनशिप-2019 का आयोजन

मानव रचना में ओपन शूटिंग चैंपियनशिप-2019 का आयोजन

फरीदाबाद, 10 मई: मानव रचना में ओपन शूटिंग चैंपियनशिप का आयोजन किया गया। इस दौरान देशभर से 400 से ज्यादा शूटर्स ने हिस्सा लिया, जिनमें मनु भाकर, अनीश भनवाला, शहजार रिज्वी, यशवर्धन और दिव्यांश सिंह परमार भी शामिल थे। इस मौके पर मानव रचना शूटिंग अकादमी में पिस्टल शूटिंग के लिए रौनक पंडित शूटिंग अकादमी के एक्सीलेंस सेंटर की भी घोषणा की गई। अब यहां आने वाले खिलाड़ी रौनक पंडित और हिना सिद्धू से शूटिंग के गुर सीख पाएंगे। रौनक ने 2006 कॉमनवेल्थ गेम्स में गोल्ड मेडल हासिल किया था और हिना आईएसएसएफ वर्ल्ड कप में मेडल ला चुकी हैं।  

मानव रचना ओपन शूटिंह चैंपियनशिप-2019 का खिताब 10 मीटर एयर पिस्टल के खिलाड़ी 14 साल के सम्राट राणा और 10 मीटर एयर राइफल की खिलाड़ी 21 की आशी रस्तोगी के नाम रहा। इस दौरान भारतीय शूटर हिना सिद्धू, रौनक पंडित, रौंजन सोढी और मानव रचना उपाध्यक्ष डॉ. अमित भल्ला ने क्विड कार की चाबी देकर सम्मानित किया।

कार्यक्रम के दौरान मानव रचना शैक्षणिक संस्थान के उपाध्यक्ष डॉ. अमित भल्ला ने कहा, उन्हें पूरा भरोसा है कि आने वाले दिनों में ओलंपिक मेडल लाने में मानव रचना का बड़ा योगदान होगा।

Monday, 6 May 2019

अंडर-23 इंडिया कैंप के लिए हरियाणा रणजी कोच विजय यादव का चयन

अंडर-23 इंडिया कैंप के लिए हरियाणा रणजी कोच विजय यादव का चयन

फरीदाबाद : 6 मई । हरियाणा रणजी कोच विजय यादव का चयन अंडर-23 इंडिया कैंप के लिए किया गया  है। वह 7 मई से  6 जून  तक इस कैंप में इंडिया अंडर-23 आयुवर्ग के क्रिकेटरों को प्रशिक्षित करेंगे।  खिलाडियों को फील्डिंग की बारीकियां सिखाएंगे गौरतलब है कि पूर्व भारतीय क्रिकेटर विजय यादव पहले ऐसे कोच हैं। और पिछले साल भी इंडिया अंडर 23 के फील्डिंग कोच थे ,  लेकिन विजय यादव को भारतीय टीम में जगह बनाने के लिए तैयार उभरते हुए क्रिकेटरों को संवारने की जिम्मेदारी सौंपी गई। इसके तहत ही पहले इंडिया ए टीम के विदेशी दौरे पर उनको विकेटकीपिंग-फिल्डिंग कोच के रूप में जा चुके है । 

उनके साथ बेटिंग कोच भास्कर पिल्ले , स्पिनर कोच कँवल जीत सिंह , तेज गेंदबाज कोच सनथ कुमार भी इस कैंप की जिम्मेदारी निभाएंगे। यह कैंप बैंगलूरू स्थित एनसीए (नेशनल क्रिकेट अकादमी) में आयोजित किया जा रहा है। जिला क्रिकेट  एसोसिएशन के एक्जुक्यूटिव प्रेजीडेंट रजत भाटिया ने उनकी इस नई जिम्मेदारी पर बधाई दी है।  

इस मोके पर जिला क्रिकेट  एसोसिएशन के महासचिव  राजीव यादव , के पी तेवतिया , रविंदर मक्कड़ , प्रदीप मोहंती , गोविन्द गुप्ता , परवीन थापर , नवीन कौशिक , बी सी सी आई लेवल ए कोच अनिकेत , कोच सुनील चौधरी , राय साहब भी उपस्थित थे 

विजय यादव के पास भारतीय टीम में जगह बनाने के लिए तैयार उभरते हुए क्रिकेटरों को संवारने की जिम्मेदारी इस कैंप में रहेगी। विजय यादव का कहना है कि वह इस कैंप में विकेटकीपिंग व क्षेत्ररक्षण की जिम्मेदारी संभालेंगे। इसके अलावा उनके साथ के बाकी काेचों का भी अहम रोल इसमें रहेगा। बता दें कि  49 वर्ष के विजय यादव लेवल-3 के कोच है। उन्होने 1992-93 में साउथ अफ्रीका के खिलाफ पहला वनडे और जिम्बाबे के खिलाफ एक मात्र टेस्ट खेला। यादव ने 19 वनडे में नाबाद 34 रन सर्वाधिक रकोर के साथ 118 रन बनाए और 12 कैच व 7 स्टंप अपने नाम किए। जबकि एकमात्र टेस्ट में 30 रन उनका सर्वाधिक रहा।

फर्स्ट क्लास क्रिकेट में यादव ने 89 मैच में 201 सर्वाधिक स्कोर के साथ 3988 रन बनाए है। 237 कैच व 46  स्टंप इसमें शामिल हैं। लिस्ट ए में 67 मैच 85 हाई स्कोर के साथ  748 रन, 92 कैच व 33 स्टंप का उनका रिकार्ड है।

 उनके इंटरनेशनल करियर और लंबे कोचिंग अनुभव को देख कर ही उन्हें बीते वर्ष हरियाणा रणजी टीम को संवारने की जिम्मेदारी हरियाणा क्रिकेट एसोसिएशन ने सौंपी थीं। इंटरनेशनल क्रिकेटर मोहित शर्मा और आईपीएल क्रिकेटर राहुल तेवतिया भी उनके ही शिष्य हैं। हरियाणा टीम के बेहतर प्रदर्शन को देखते हुए ही उन्हें अब अंडर-23 इंडिया कैंप के लिए चयनित किया गया है।

Monday, 29 April 2019

Escorts to create new standards in Customer Service

Escorts to create new standards in Customer Service

Faridabad, 30 April, 2019: Escorts Limited, a leading tractor company in India, announced launch of a new innovative and disruptive feature called ‘24X7 Care Button’ on its entire range of Powertrac and Farmtrac tractors. Now all Escorts customers can just press a special button on their tractor any time of the day for any technical or other help, and receive a call back from a trained Company Engineer within 2 minutes. The Company claims that this way they can always remain in direct touch with their customers and provide immediate assistance if and when the need arises. 



Speaking on the launch, CEO of Escorts Agri Machinery, Mr. Shenu Agarwal, said, “Escorts intends to create new benchmarks in Customer Service with launch of the 24X7 Care Button. Our tractors operate in far flung areas of this vast country. The livelihood of our customers depends on their tractors. In peak season, they cannot afford to lose even a single day of tractor’s work. If anything goes wrong, it is our duty to provide immediate assistance. We are investing in a large fleet of Mobile Service Vans and Bikes at our dealerships so quick doorstep service is provided to the customer in case of any need.”   



The Care 24X7 device is also a technological marvel. Factory-fitted now on all Powertrac and Farmtrac tractors, the device contains a speaker phone, a microphone and a specially designed SIM card, which helps Escorts maintain a direct, two-way contact with the tractor and the customer. This feature is supported in the back-end by a multi-lingual, round-the-clock Call Centre.  Once a button is pressed, the customer receives a call back in a matter of a few seconds, and Company’s trained engineers provide online assistance. If for some reason the customer is not contactable on his mobile phone, a call can be made directly to the tractor through device’s own SIM, speaker and microphone. If needed, the Company’s engineer can dispatch trained staff from a nearby Escorts dealership to customer doorstep at the appointed time. The loop is closed once customers confirm that their problem is resolved to their complete satisfaction. 


Further speaking on this matter, Mr. Agarwal said, “Escorts is yet not the #1 tractor company in India. It is necessary that we continue to innovate and do different things. Customer service standards in the Indian tractor industry are nowhere close to that seen in the car or bike industry. We thought this was a great opportunity to bring some disruption and therefore came up with this idea. We are very happy to launch the 24X7 Care Button feature in all our tractors now. With this, we do hope that we will change the way customer service is delivered in rural India, especially to the tractor owners.” 


Note for the Editor


The Escorts Group is among India's leading engineering conglomerates, operating in the high-growth sectors of Agri Machinery, Material Handling, Construction Equipment and Railway Equipment. The Group has earned the trust of over 5 million customers by way of product and process innovations over seven decades of its existence. Escorts endeavours to transform lives in rural and urban India by leading the revolution in agricultural mechanization, modernization of railway technology and transformation of Indian construction.                                            

Sunday, 14 April 2019

दा क्रिकेट गुरुकुल ने जो रुट क्रिकेट अकादमी ( इंग्लैंड )को 186 रन से हराया

दा क्रिकेट गुरुकुल ने जो रुट क्रिकेट अकादमी ( इंग्लैंड )को 186 रन से हराया

फरीदाबाद 14 अप्रैल : भूपानी स्थित रावल क्रिकेट मैदान पर आयोजित फ्रेंडली मैच का  आयोजन किया गया यह मैच इंग्लैंड के कप्तान जो रुट क्रिकेट अकादमी इंटरनेशनल टीम और दा क्रिकेट गुरुकुल के बीच खेल गाया । इस  उपस्तिथ जिला क्रिकेट एसोसिएशन एक्जुक्यूटिव प्रेजीडेंट रजत भाटिया , इंडिया ए टीम के फील्डिंग कोच विजय यादव ,जो रुट क्रिकेट अकादमी इंटरनेशनल टीम के हेड कोच शॉन सीगर्ट ,कोच जोए गैटिंग भी उपस्तिथ थे  

दा क्रिकेट गुरुकुल के हेड कोच अनिकेत ने बताया कि यह मैच 40-40 ओवर का था इस मैच में  जो रुट क्रिकेट अकादमी ने टीम पहले टॉस जीत कर गेंदबाजी करने का निर्णय लिया । दा क्रिकेट गुरुकुल ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 40 ओवर में 4 विकेट पर 269 रन बनाए । टीम की और से बल्लेबाजी करते हुए अन्नम तक्षित राव ने 46 रन , मुदस्सर अली ने नाबाद 85 रन और मोहित मालिक ने नाबाद 60 रन , कप्तान सचिन चौधरी ने 30 रन बनाए मृणांक सिंह ने 23 रन बनाए और जो रुट क्रिकेट अकादमी की और से गेंदबाजी करते हुए झोनाथर चालर्स ने 1 विकेट ली , डान सुननिअल और शशांक विनोद ने 1-1 विकेट ली । 

जो रुट क्रिकेट अकादमी ने बल्लेबाजी करते हुए  25.4 ओवर में 10 विकेट पर 83 रन बनाकर हार का सामना करना पड़ा । टीम की ओर से बल्लेबाजी करते हुए केन्नी सुराना ने 11 रन , शशांक विनोद ने 10 रन ,टॉबी ने 15 रन , डान ने 10 रन बनाए और  दा क्रिकेट गुरुकुल की और से गेंदबाजी करते हुए आकाशदीप बहकर और सांबार्थ सूद ने 3 -3 विकेट ली और सलमान अली और हर्षवर्धन सिंह ने 2 -2 विकेट ली ।

Thursday, 21 March 2019

Finding Best Homeopathic Doctor In Faridabad For Migraine Headache( मिग्रेन-सिरदर्द के लिए बेस्ट होम्योपैथिक दवा )

Finding Best Homeopathic Doctor In Faridabad For Migraine Headache( मिग्रेन-सिरदर्द के लिए बेस्ट होम्योपैथिक दवा )

फरीदाबाद : 22 मार्च I आप के पास फरीदाबाद में सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथिक चिकित्सक इस लेख में मैं शास्त्रीय होम्योपैथी दृष्टिकोण के साथ माइग्रेन-सिरदर्द के इलाज के लिए Aura होम्योपैथी में अपने नैदानिक अनुभव को साझा करना चाहूंगा। यद्यपि कई स्रोत रिपोर्ट करते हैं कि माइग्रेन ठीक नहीं किया जा सकता है और हम केवल उनके लक्षणों को कम कर सकते हैं, मैं अपने स्वयं के अनुभव से कह सकता हूं कि माइग्रेन का सिरदर्द ठीक है और माइग्रेन प्रतिक्रिया होम्योपैथिक उपचार के लिए सर्वश्रेष्ठ है।

होम्योपैथी सबसे आम "गैर-माइग्रेन" सिरदर्द को भी ठीक कर सकती है यदि वे प्राथमिक हैं, किसी अन्य गंभीर विकृति का परिणाम नहीं है।

माइग्रेन एक विशेष सिरदर्द है जो ज्यादातर एक तरफा होता है और इसमें विभिन्न अतिरिक्त लक्षण होते हैं जैसे कि उल्टी, मतली, दृश्य गड़बड़ी, शरीर के विभिन्न हिस्सों में झुनझुनी या सुन्नता। पुरुषों की तुलना में महिलाओं में माइग्रेन की घटना अधिक आम है और यह ज्यादातर युवावस्था में दिखाई देती है। Aura होम्योपैथी के सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथिक डॉक्टर की हमारी टीम ने आनुवंशिक गड़बड़ी की सूचना दी है। दर्द धीरे-धीरे शुरू होता है, हालांकि, धीरे-धीरे दर्द की तीव्रता और आवृत्ति इस हद तक बढ़ जाती है कि यह सामान्य रूप से महीने में 2-4 बार, या अधिक बार होता है, और 1-3 दिनों तक रहता है। सिरदर्द इतना गंभीर है कि रोगी पूरी तरह से कार्रवाई से बाहर हैं। जिन लोगों ने माइग्रेन का अनुभव नहीं किया है, वे शायद ही सोच सकते हैं कि यह स्थिति कितनी विनाशकारी और तड़प रही है। "सामान्य जीवन" पर लौटने में कुछ दिन लगते हैं। अब आप सोच सकते हैं कि इस तरह की समस्या का इलाज जीवन की गुणवत्ता को बदल सकता है।

माइग्रेन-सिरदर्द का ऑरा होम्योपैथिक उपचार पारंपरिक उपचार से कुछ अलग है। मेरे पहले के लेखों से, आप यह पता लगा सकते हैं कि होम्योपैथी एक व्यक्ति का इलाज करता है, एक पूरे जीव के रूप में, और एक बीमारी नहीं है। माइग्रेन सिरदर्द की चिकित्सा शरीर को संपूर्ण रूप से मजबूत करके होम्योपैथी में प्राप्त की जाती है। एक बार सही होम्योपैथिक उपाय चुनने के बाद, माइग्रेन का सिरदर्द गायब हो जाता है। (माइग्रेन सिरदर्द के लिए सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथिक दवा देखें)

माइग्रेन के उपचार में होम्योपैथी के परिणाम मैं अपने एक मरीज के उपचार के बयान को प्रस्तुत करना चाहता हूं:

"मैंने अपने सिरदर्द के लिए ऑरा  होम्योपैथी उपचार शुरू किया था क्योंकि मैंने बीस से अधिक वर्षों से पीड़ित माइग्रेन को खराब कर दिया था। मैंने सीखा कि मेरे माइग्रेन कैसे ट्रिगर होते हैं और मैंने उनसे बचने की कोशिश की, लेकिन कभी-कभी ऐसा हुआ कि सभी प्रकार के प्रभाव मेरे खिलाफ हो गए और तब मेरे सिर में असहनीय संवेदनाएं थीं, मैंने उल्टी की, कुछ भी नहीं खा सका। जब मुझे माइग्रेन का दर्द हो रहा था, तो मैं कुछ नहीं कर सकता था। मैं माइग्रेन से बचने के लिए कहीं भी यात्रा करने से बहुत डरता था। 

अपने सामान्य चिकित्सक से मिलने के बाद, मुझे प्राप्त हुआ। दर्द को मारने वाले वही थे जिन्होंने मुझ पर कब्जा कर लिया था, और विश्वविद्यालय से स्नातक होने के बाद, जो शायद सबसे तनावपूर्ण क्षण था, समस्याएं धीरे-धीरे समाप्त हो गईं और हर 2-3 महीने में एक बार केवल जब्ती आई। सालों बाद जब मैं गया तो सब कुछ बदल गया। अध्ययन करने के लिए, मुकाबलों और ट्रिगर्स की तीव्रता में बदलाव आया और बेहतर नहीं होने के कारण, मेरे पास कई दिन के मुकाबलों थे जो सप्ताह में दो बार दोहराए जाते थे।

फिर अकस्मात मैं होमियोपैथी में आ गया। Aura होम्योपैथी में मेरे इलाज की शुरुआत के दौरान मुझे संदेह हुआ, और मैंने मेरे लिए एक उचित सीमा के लिए उपचार में विश्वास बनाने की कोशिश की। मैं किसी चमत्कार में विश्वास नहीं करता, लेकिन मेरा मानना है कि शरीर खुद की मदद कर सकता है।

मैं एक वर्ष से अधिक समय से उपचार में हूं और न केवल मेरे पास माइग्रेन (केवल कभी-कभी न्यूनतम "सामान्य" सिरदर्द) नहीं है, बल्कि मैंने विभिन्न वायरस के प्रति अपनी प्रतिरक्षा में सुधार किया है और आंतरिक रूप से मजबूत महसूस कर रहा हूं।

 उसी समय रासायनिक चिकित्सा के लिए मेरा रिश्ता बदल गया, मैं इस बारे में अधिक ध्यान देने लगा कि मैं रसायन विज्ञान की जगह क्या ले सकता हूं। इसके अतिरिक्त, क्योंकि मुझे अपने उपचार के साथ होने वाले परिवर्तनों का पालन करना है, मैंने अपने शरीर को बेहतर ढंग से सुनना और देखना सीखा है। "

29 वर्षीय यह महिला 9 साल तक माइग्रेन से पीड़ित रही। जैसा कि वह कहती हैं कि पिछले कुछ वर्षों में उनके पास लगातार 2-3 दिनों के दौरे पड़ते हैं। दर्द बेहद गुणकारी था। इस रोगी में, दर्द की तीव्रता इतनी अधिक थी कि कई बार वह सतर्कता से निराशा से बाहर निकलता था या अपने घर पर नहीं पहुंच पाता था।

मेरे परामर्श के दौरान, महिला ने मेरे संपूर्ण चिकित्सा इतिहास, सभी वर्तमान स्वास्थ्य समस्याओं और माइग्रेन के हमलों का वर्णन किया। सभी जानकारी से मैंने इस मामले में सबसे अधिक प्रासंगिक लक्षणों का मूल्यांकन किया है:

वेदनाएँ स्पंदित, स्पंदनशील, अत्यंत तीव्र थीं, जो प्रायः दाहिनी आँख से शुरू होती हैं और दाहिनी नासिका में वापस फैल जाती हैं, उत्तेजित होती हैं और धूप सेंकने और शराब के सेवन से बिगड़ जाती हैं। दर्द भी धनुष द्वारा काफी बढ़ गया था, और रोगी को ठंड के तनाव से राहत मिली और मौन और अंधेरे में पड़ा रहा। दौरे लगभग नियमित रूप से मतली और उल्टी के साथ थे, और अक्सर दृश्य हानि के साथ भी। रोगी ने यह भी शिकायत की कि सूरज पिछले कुछ दिनों में समग्र रूप से खराब हो गया है, अक्सर गर्मी से पीड़ित होता है और थोड़ी प्यास होती है। मसौदे में रहने के बाद, उसके ललाट गुहा दर्दनाक थे।

इस मरीज के लिए मैंने जो होम्योपैथिक उपाय चुना, उसे बेलाडोना कहा जाता है। इसके अलावा, दाईं ओर अत्यधिक सिरदर्द, जो दाहिनी आंख से शुरू होते हैं और नप (या इसके विपरीत) तक फैल जाते हैं, तेज या काफी उत्तेजित हो जाते हैं, जो धूप, शराब या आमतौर पर किसी उत्तेजना संचार प्रणाली द्वारा रहकर होते हैं। इस दवा के लिए विशिष्ट ठंड में सुधार और सामने के दर्द को बिगड़ना भी है। होम्योपैथिक साहित्य में, यह भी पाया जा सकता है कि सिरदर्द अक्सर उल्टी, दृष्टि हानि के साथ होता है और शांति और मौन में अंधेरे कमरे में लेटकर उन्हें सुधारा जाता है।

अन्य लक्षण जो दवा की पुष्टि करते हैं वे लगातार जलन, कम प्यास और गुहाओं में दर्द होते हैं। स्पष्टता के लिए, मैं होम्योपैथिक साहित्य में बेलाडोना के सिरदर्द की विशेषताओं का वर्णन करता हूं।)

एकल खुराक के बाद से, माइग्रेन की तीव्रता काफी कम हो गई थी। पहले 2 महीनों के दौरान, रोगी को 3 गुना कम माइग्रेन था। दवा लेने के 7 दिन बाद पहला "जब्ती" हुआ, लेकिन यह एक वास्तविक माइग्रेन के बजाय एक माइग्रेन की स्थिति जैसा था। मूल माइग्रेन की तुलना में दर्द काफी कमजोर था, और रोगी ने कहा कि उसे एक जब्ती विकसित करने की सामान्य भावना थी, लेकिन अंततः ऐसा नहीं हुआ। शेष दो बरामदगी के लिए, दर्द मूल माइग्रेन की तुलना में लगभग 60-70% कम था और केवल कुछ घंटों (बिना किसी दर्द निवारक के उपयोग) के रहा। तब से, कोई माइग्रेन नहीं हुआ है।

मामला व्यवहार में समानता के नियम को दर्शाता है। होम्योपैथी का काम एक ऐसी दवा खोजना है, जो स्वस्थ व्यक्तियों में और नैदानिक अवलोकन के दौरान परीक्षण करने पर रोगी की बीमारियों के जितना करीब हो सके दिखाया गया है।

मुझे यह इंगित करना चाहिए कि यह अनुचित है, इस लेख को पढ़ने के बाद, कि प्रत्येक प्रवासी होम्योपैथिक बेलाडोना खरीदने के लिए चला गया है। इस बात की संभावना कि वह अपने मामले में कार्य करेगा, बहुत कम है। सिरदर्द को ठीक करने वाली दवाएं सैकड़ों हैं और हर विवरण इस तथ्य में भूमिका निभा सकता है कि एक ही निदान वाले रोगी को दूसरी दवा की आवश्यकता होगी। होम्योपैथी के दृष्टिकोण से, माइग्रेन (किसी भी अन्य बीमारी की तरह) दो लोगों में पूरी तरह से समान नहीं है। कई मामलों में, यहां तक कि सिरदर्द भी दूसरे क्रम का है, और दवा का चयन मानसिक और भावनात्मक लक्षणों या अन्य विशिष्ट और अद्वितीय शारीरिक अभिव्यक्तियों के आधार पर किया जाता है। इसलिए, माइग्रेन के बीस रोगियों को बीस अलग-अलग दवाओं की आवश्यकता हो सकती है, और सही दवा चुनना एक प्रशिक्षित होम्योपैथ का काम है।

बेलाडोना न केवल सिरदर्द को ठीक करता है, बल्कि विभिन्न प्रकार की परेशानियों (साथ ही अन्य होम्योपैथिक दवाओं) को भी कवर करता है। यह सूजन, फोड़े, तीव्र बुखार की बीमारियों, उच्च रक्तचाप, मिर्गी या कोरिया जैसे थायरॉयड विकारों, थायरॉयड विकारों के साथ-साथ उन्मत्त दौरे, मानसिक स्थितियों और कई अन्य समस्याओं के लिए भी सफलतापूर्वक उपयोग किया जाता है।

उपरोक्त मामला उन "आदर्श" में से है जब उपचार का तीव्र प्रभाव होता है। माइग्रेन के सभी मामलों में दौरे इतनी जल्दी दूर नहीं होते हैं, लेकिन आमतौर पर रोग का निदान बहुत अच्छा है। कुछ रोगियों में, उपचार कई महीनों या वर्षों तक रहता है इससे पहले कि बरामदगी पूरी तरह से समाप्त हो जाए, हालांकि, ध्यान देने योग्य दर्द से राहत और बरामदगी की कम आवृत्ति आमतौर पर सही दवा प्राप्त करने के कुछ हफ्तों के भीतर होती है। युवा रोगियों में माइग्रेन के लंबे समय तक इलाज या यहां तक कि बचपन के सिरदर्द के कारण होता है क्योंकि इस तरह के दर्द आनुवांशिक गड़बड़ी द्वारा दृढ़ता से वातानुकूलित होते हैं। सीधे शब्दों में कहें, तो आप लंबे समय तक माइग्रेन से पीड़ित रहते हैं, उपचार धीमा हो जाएगा।


Saturday, 9 March 2019

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने नागपुर मेट्रो का शुभारम्‍भ किया

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने नागपुर मेट्रो का शुभारम्‍भ किया

नई दिल्ली 10 मार्च : प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने आज नई दिल्ली से वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए नागपुर मेट्रो का शुभारम्‍भ किया। डिजिटल तरीके से पट्टिका का अनावरण कर नागपुर मेट्रो के 13.5 किलोमीटर लंबे खपरी- सीताबुलडी सेक्‍शन का उद्घाटन किया गया।

वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से सभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने महाराष्ट्र में दूसरी मेट्रो सेवा के लिए नागपुर के लोगों को बधाई दी। प्रधानमंत्री ने कहा कि उनके लिए यह विशेष क्षण है, क्योंकि 2014 में उन्होंने ही नागपुर मेट्रो की आधारशिला रखी थी। उन्‍होंने कहा कि मेट्रो से नागपुर के लोगों के लिए बेहतर, किफायती और पर्यावरण अनुकूल परिवहन सुविधा उपलब्‍ध होगी।

प्रधानमंत्री ने कहा कि केंद्र और राज्य सरकार नागपुर की आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए लगातार विकास कार्य कर रही हैं। उन्होंने कहा कि नागपुर मेट्रो से युवाओं के लिए रोजगार के अवसर उपलब्‍ध होंगे और यह शहर के विकास में भी सहायक होगी।

पूरे देश में आधुनिक परिवहन प्रणाली निर्मित करने के लिए केंद्र सरकार की पहलों के बारे में बताते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछले साढ़े चार वर्ष में मेट्रो का 400 किलोमीटर परिचालन नेटवर्क का निर्माण किया गया है। उन्होंने कहा कि पूरे देश में 800 किलोमीटर मेट्रो नेटवर्क का कार्य प्रगति पर है।

प्रधानमंत्री ने हाल ही में शुरू किए गए कॉमन मोबिलिटी कार्ड, वन नेशन-वन कार्ड के लाभों के बारे में भी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि स्वदेश में बनाया गया यह कार्ड, डेबिट कार्ड को मोबिलिटी कार्ड के साथ मिला देता है। स्‍वदेश में इस प्रकार के कार्ड बनने से ऐसे कार्ड तैयार करने के लिए अन्य देशों पर निर्भरता समाप्‍त हो गई है। प्रधानमंत्री ने कहा कि विश्‍व में कुछ देशों के पास ही परिवहन के लिए इस प्रकार के सामान्य मोबिलिटी कार्ड हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार समाधान निकालने के लिए एकीकृत दृष्टिकोण अपनाती है। उन्होंने फिर कहा कि सरकार देश के सभी नागरिकों के जीवन में सुगमता सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है।

Sunday, 3 February 2019

 इटली मैं विश्व किकबॉक्सिंग महासंघ' संतोष कुमार अग्रवाल ने भाग लिया

इटली मैं विश्व किकबॉक्सिंग महासंघ' संतोष कुमार अग्रवाल ने भाग लिया

फरीदाबाद 3 फरवरी : इटली के मिलान शहर के कांफ्रेंस हॉल, शेराटन होटल में सम्पन्न 'विश्व किकबॉक्सिंग महासंघ' की "विशेष आम सभा" में फरीदाबाद के संतोष कुमार अग्रवाल ने भाग लिया।

वाको इंडिया किकबॉक्सिंग महासंघ के महासचिव तारकेश मिश्रा ने बताया की कल दिनांक 2 फरवरी को इटली के मिलान शहर में "वर्ल्ड एसोसिएशन ऑफ किकबॉक्सिंग आर्गेनाईजेशन" की "विशेष आम सभा" बुलाई गई थी, जिसमें भाग लेने के लिए भारत देश से 'वाको इंडिया किकबॉक्सिंग महासंघ' के राष्ट्रीय अध्यक्ष  संतोष कुमार अग्रवाल को आमंत्रित किया गया था। इस बैठक में भारत से एकमात्र प्रतिनिधि के तौर पर श्री संतोष कुमार अग्रवाल ने भारत देश का प्रतिनिधित्व किया। 

राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री संतोष कुमार अग्रवाल ने बताया की इस आम सभा में मुख्य रूप से वर्ल्ड प्रेजिडेंट का चुनाव होना था, इस आम सभा में मुख्य रूप से विभन्न देशों के 51 प्रतिनिधि / अध्यक्ष ने हिस्सा लिया।इस आम सभा में 'यूरोपियन किकबॉक्सिंग महासंघ' के अध्यक्ष श्री रॉय बेकर (आयरलैंड)  को अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष चुना गया है. श्री अग्रवाल ने श्री रॉय बेकर के अध्यक्ष बनने पर उन्हें पूरे वाको इंडिया किकबॉक्सिंग परिवार की तरफ से बधाई दी है एवं आशा व्यक्त की है की उनके कुशल मार्गदर्शन में पूरे विश्व में किकबॉक्सिंग खेल का और अधिक समुचित विकास होगा।

श्री अग्रवाल ने यह भी बताया की इस दौरान भारत में किकबॉक्सिंग खेल के और अधिक विकास एवं प्रचारित, प्रसारित एवं तकनिकी दृष्टिकोण से और अधिक सशक्त बनाने के लिए उनकी विशेष बैठक वहां आये हुए विभिन्न देशों के प्रतिनिधियों के साथ हुई जिनमें प्रमुख हैं: रूस, मौरीसस, कज़ाख़स्तान, इस्टोनिया, जॉर्डन, तुर्की, उक्रैन एवं सर्बिआ आदि हैं. उन्होंने कई देशों के मुख्य प्रशिक्षकों को भी भारत आने का न्योता दिया.      

श्री संतोष कुमार अग्रवाल ने बताया की वर्तमान में किकबॉक्सिंग खेल 128 देशों में खेला जाता है और वहां पर इसका राष्ट्रीय संगठन भी है, अभी हाल ही में दिनांक 30 नवंबर 2018 को टोक्यो में आयोजित अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सभी खेलों की शीर्ष संस्था "अंतराष्ट्रीय ओलिंपिक समिति" की 'कार्यकारिणी बैठक' में किकबॉक्सिंग खेल की अंतरराष्ट्रीय संस्था 'वर्ल्ड एसोसिएशन ऑफ किकबॉक्सिंग ऑर्गनिज़ाशन्स' को मान्यता दे दी है, भारत में भी यह खेल काफी लोकप्रिय हो रहा है और लगभग सभी राज्यों में इसकी मान्यता प्राप्त इकाई काम कर रही है।

Sunday, 27 January 2019

भारतीय लड़कियों को इसमें बढ़ाने के लिए सलवार सूट में कर रहीं फाइट….

भारतीय लड़कियों को इसमें बढ़ाने के लिए सलवार सूट में कर रहीं फाइट….

नई दिल्ली : 28 जनवरी I डब्ल्यूडब्ल्यूई के एनएक्सटी प्रोग्राम के तहत सलवार-सूट में फाइट करने वाली पहली भारतीय महिला कविता देवी का इस खेल से जुड़ना एक अचरज ही रहा है। वह इससे पहले साउथ एशियन वेटलिफ्टिंग और वुशु नेशनल चैंपियन थीं। भारत में हुई डब्ल्यूडब्ल्यूई रेसलर्स फाइट को वह देखने पहुंची थीं। वहां पर डब्ल्यूडब्ल्यूई की एक महिला रेसलर के ओपन चैलेंज पर यह सलवार-सूट में ही रिंग में उतर गईं। और उसे सिर से उठाकर रिंग में पटक दिया। उन्हें नहीं मालूम था कि डब्ल्यूडब्ल्यूई अधिकारी ट्राईआउट प्रोग्राम के तहत भारत से नए रेसलर्स की खोज भी कर रहे थे। इसके बाद उन्हें दुबई ट्राईआउट प्रोग्राम में आने का न्यौता दिया गया । और वहां डब्ल्यूडब्ल्यूई की ट्रेनिंग के लिए चुन लिया गया। खली से भी उन्होंने ट्रेनिंग प्राप्त की है। आपको बता दें कि कविता भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के हाथों फर्स्ट लेडी अवॉर्ड से सम्मानित हो चुकी हैं।

दो साल लगेंगे मुख्य रोस्टर में जाने को

कविता ने बताया कि डब्ल्यूडब्ल्यूई के मुख्य रोस्टर में जाने के लिए एनएक्सटी प्रोग्राम में दो साल की कड़ी ट्रेनिंग कराई जाती है। इसके तहत फाइट एवं चैंपियनशिप भी डब्ल्यूडब्ल्यूई की तरह ही आयोजित होती हैं। इस प्रोग्राम में रेसलर को मुख्य रोस्टर में लड़ने के तहत परिपक्व किया जाता है। इसलिए ही अभी वह एनएक्सटी प्रोग्राम का हिस्सा हैं। कविता बताती हैं कि इस ट्रेनिंग में कई बार दो साल से ज्यादा का वक्त भी लग सकता है और कम भी। चयनकर्ता जब पूरी तरह से निश्चित हो जाते हैं कि रेसलर मुख्य रोस्टर में लड़ने लायक है, तभी उसे इस प्रोग्राम से मुख्य रोस्टर में डाला जाता है।

सलवार-सूट को इसलिए बनाया ड्रेस

कविता का कहना है कि भारतीय लड़कियां इस खेल में आगे आएं। वह परंपरा और संस्कृति की वजह से पीछे न रह जाएं। इसके लिए ही उन्होंने सलवार-सूट को अपनी ड्रेस बनाया है। ताकि वह दिखा सकें कि सलवार-सूट में भी फाइट हो सकती है। इस खेल में करियर बनाया जा सकता है। जरूरी नहीं कि इस खेल के लिए छोटे-छोटे कपड़े पहने जाएं। इसके लिए ही एक बार फिर भारत में मुंबई में डब्ल्यूडब्ल्यूई ट्राईआउट कराने जा रहा है। जिसके लिए इस बार ऑनलाइन अप्लाई किया जा सकता है।

कठिन रहा है सफर

जींद माली गांव की रहने वाली कविता ने बताया कि उनका किसान परिवार था। खेल से सब कोसो दूर थे। वह पहली लड़की थीं। जिसने खेल को चुना। शुरू में उन्हें समाज के तानों के साथ परिवार की बेरूखी का भी सामना करना पड़ा। लेकिन उनकी मेहनत की वजह से ही उनको परिवार को धीरे-धीरे सहयोग मिलने लगा। उन्होंने बताया कि उनके परिवार में पांच भाई-बहन हैं। उनके बड़े भाई संजय ने उन्हें सबसे पहले सपोर्ट किया। सबसे पहले वेटलिफ्टिंग की ट्रेनिंग उन्होंने ली। इसके लिए  जिम गईं। 2008 में इस वजह से ही सशस्त्र सीमा बल में कांस्टेबल की नौकरी भी मिली। शादी होने पर पति गौरव तौमर की सलाह पर वुशु की ट्रेनिंग ली। और उसमें भी दो साल सीनियर नेशनल चैंपियन रही। उन्होंने तब मेडल जीते जब वह एक बच्चे की मां भी थीं। पति के सपोर्ट से ही वह विभिन्न प्रतियोगिताओं में गोल्ड मेडल जीत सकीं। वह बताती हैं कि उनको विभाग की तरफ से सपोर्ट नहीं मिलने की वजह से नौकरी छोड़नी पड़ी। लेकिन वह खुश है कि वह डब्ल्यूडब्ल्यूई का हिस्सा हैं। अब उनका लक्ष्य डब्ल्यूडब्ल्यूई के मुख्य रोस्टर में जगह बनाने का है। 

Thursday, 17 January 2019

मानव रचना के छात्र पहुंचे माइक्रोसॉफ्ट इमैजिन कप के सेमी-फाइनल में

मानव रचना के छात्र पहुंचे माइक्रोसॉफ्ट इमैजिन कप के सेमी-फाइनल में

फरीदाबाद 17 जनवरी: मानव रचना के छात्र एक बार फिर विदेश में भारत का झंडा लहराना के लिए तैयार हैं। बी.टेक सीएसई के छात्रों ने माइक्रोसॉफ्ट इमैजिन कप-2019 के सेमी फिनाल राउंड में जगह बनाई है। अब छात्र 12 फरवरी को सिडनी में होने वाले ग्रांड फिनाले में हिस्सा लेंगे। छात्रों की ओर से एक ऐसा  स्मार्ट मास्क बनाया गया है जो प्रदूषण से बचाएगा साथ ही अस्थमा पेशेंट्स के लिए इन्हेलर का भी काम करेगा।  इस मास्क का नाम ‘कायली’ है।

मानव रचना इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ रिसर्च एंड स्टडीज के बी.टेक सीएसई (छठे सेमेस्टर) के छात्रों वासू कौशिक, आकाश भड़ाना और भरत सुंदल ने यह मास्क अपने मेंटर उमेश दत्ता की देखरेख में पूरा किया है।

आपको बता दें, सेमी फाइनल में एशिया के 12 देशों का चयन हुआ है, जिसमें सिर्फ भारत ऐसा देश है जिसके तीन प्रोजेक्ट शामिल हैं और इनमें से एक प्रोजेक्ट मानव रचना के छात्रों का है। माइक्रोसॉफ्ट इमैजिन कप को जीतने वाले को एक लाख यूएस डॉलर का ईनाम दिया जाएगा।

Wednesday, 12 December 2018

दवाओं की ऑनलाइन बिक्री : मनसुख मंडाविया रसायन एव उर्वरक राज्य मंत्री

दवाओं की ऑनलाइन बिक्री : मनसुख मंडाविया रसायन एव उर्वरक राज्य मंत्री

NEW DELHI  ( 13 दिसम्बर ) केन्द्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग, नौवहन तथा रसायन एव उर्वरक राज्य मंत्री श्री मनसुख एल.मंडाविया ने आज लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में कहा कि दवाओँ की ऑनलाइन बिक्री के लिए पृथक दिशा-निर्देश के संबंध में कहा कि औषधि और प्रसाधन नियम, 1945 में औषधियों की बिक्री, भंडारण और विपणन के प्रावधान है।

श्री मंडाविया ने कहा कि स्वास्थ्य व परिवार कल्याण मंत्रालय ने ई-फॉरमेसी के माध्यम से दवाओं की बिक्री भंडारण और विपणन के नियमन के लिए औषधि व प्रसाधन नियम में संशोधन के लिए मसौदा प्रकाशित किया है।

मसौदे के अनुसार ई-फॉरमेसी पोर्टल में दवा विक्रेता के नाम, पंजीयन संख्या और फॉरमेसी परिषद से संबंधित विभिन्न ब्यौरे की जानकारी दी जाएगी।

Monday, 10 December 2018

कुबोता और एस्कॉर्ट्स ने विश्व में अग्रणी स्थान हासिल करने के लिए हाथ मिलाया

कुबोता और एस्कॉर्ट्स ने विश्व में अग्रणी स्थान हासिल करने के लिए हाथ मिलाया

फरीदाबाद 11 दिसंबर।  एस्कॉर्ट्स लि. और कुबोता कॉर्पोरेशन का लक्ष्य मज़बूत घरेलू एवं निर्यात बाज़ार में हिस्सेदारी प्राप्त करना है, जिसके लिए दोनों कंपनियां तकनीकी सहयोग और उच्च-क्षमता वाले यूटिलिटी ट्रैक्टर रेंज के लिए वैश्विक संयुक्त उपक्रम बनाएंगे

दोनों कंपनियां साथ मिलकर भारत और अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार के लिए नए उत्पाद विकसित करेंगी
नई साझा निर्माण व्यवस्था के लिए संयुक्त उपक्रम बनाया जाएगा, जिसकी शुरुआती क्षमता 50 हज़ार ट्रैक्टरों की होगी। यह ट्रैक्टर दोनों कंपनियों द्वारा घरेलू बाज़ार में अपने निजी चैनल नेटवर्क के माध्यम से बेचे जाएंगे
इस भागीदारी के तहत, चुनिंदा बाज़ारों में आपसी सहमति के अनुसार कुबोता अपने ग्लोबल डिस्ट्रिब्यूशन नेटवर्क के जरिये एस्कॉर्ट्स के ट्रैक्टर्स एक्सपोर्ट करेगी
एस्कॉर्ट्स और केबीटी भारत में स्वतंत्र रूप से अपने डिस्ट्रिब्यूशन चैनल को विकसित करना जारी रखेंगे, साथ ही दोनों कंपनियां साझा विकास और भविष्य में कुछ ग्रीनफील्ड अवसरों के लिए अपने तकनीकी प्लेटफॉर्म्स एक दूसरे को इस्तेमाल के लिए उपलब्ध कराएंगी

नई दिल्ली, 10 दिसंबर, 2018: भारत के अग्रणी इंजीनियरिंग समूह एस्कॉर्ट्स लि और जापान की सबसे बड़ी एवं विश्व की अग्रणी ट्रैक्टर निर्माता कंपनी कुबोता कॉर्पोरेशन ने अपने वैश्विक संयुक्त उपक्रम की घोषणा की है। यह ज्वाइंट वेंचर घरेलू एवं निर्यात बाज़ारों के लिए उच्च क्षमता तकनीक वाले ट्रैक्टरों का निर्माण करेगा। इस भागीदारी के तहत कुबोता की अग्रणी जापानी तकनीक और एस्कॉर्ट्स की उत्कृष्ट इंजीनियरिंग क्षमताओं को उपयोग करते हुए एक बढ़ते बाज़ार पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा। दोनों कंपनियां मिलकर पूरे विश्व में अग्रणी स्थान हासिल करने के लिए उच्च क्षमता वाले गुणवत्तापूर्ण यूटिलिटी ट्रैक्टर बनाएंगी। 

कुबोता और एस्कॉर्ट्स के बीच हुए क्रमशः 60:40 निर्माण संयुक्त उपक्रम में रु. 300 करोड़ का शुरुआती निवेश किया जाएगा। इससे दोनों भागीदारों को विश्वभर में अपनी मौजूदा एवं भविष्य की क्षमताओं को इस सेग्मेंट में बेहतर बनाने हेतु सहायता मिलेगी। इस संयुक्त उपक्रम का उद्देश्य घरेलू एवं निर्यात बाज़ारों में, मध्यम से लंबी अवधि के दौरान अग्रणी स्थान हासिल करना है। 

इस अवसर पर बोलते हुए निखिल नंदा, चेयरमैन एवं मैनेजिंग डायरेक्टर, एस्कॉर्ट्स लि. ने कहा, “एस्कॉर्ट्स योजनाबद्ध तरीके से तकनीकी एवं निर्माण साझेदारियों के जरिये एक वैश्विक संगठन के रूप में विकसित हो रहा है। कुबोता के साथ हमारे वैश्विक संयुक्त उपक्रम का लक्ष्य घरेलू एवं निर्यात बाज़ारों में तकनीक आधारित साझा विकास हासिल करना है। हमारी मौजूदा शक्तियों, डिस्ट्रिब्यूशन और इंजीनियरिंग मानकों के साथ हम कारोबारी अवसरों वाले अंतर्राष्ट्रीय बाज़ारों में जाएंगे और विश्व में अग्रणी स्थान हासिल करने की दिशा में आगे बढ़ेंगे।”

मासातोशी किमाता, प्रेसिडेंट एवं रिप्रेजेंटेटिव डायरेक्टर, कुबोता कॉर्पोरेशन, जापान ने कहा, “एस्कॉर्ट्स ग्रुप के साथ भागीदारी की घोषणा करते हुए हम उत्साहित हैं। एस्कॉर्ट्स के पास एक मज़बूत तकनीकी विरासत और कृषि उपकरण समाधानों का एक विविध उत्पाद पोर्टफोलियो है। वहीं कुबोता के पास एक प्रमाणित वैश्विक तकनीक है और हम साथ मिलकर भारत सहित अन्य विकासशील अर्थव्यवस्थाओं पर ध्यान देंगे, जिन्हें अत्यधिक मशीनीकृत कृषि कार्यों की बढ़ती मांग के लिए उच्च क्षमता वाले आधुनिक ट्रैक्टरों की ज़रूरत है। अपने देशों में अग्रणी स्थिति रखने वाले कुबोता और एस्कॉर्ट्स साथ मिलकर अपनी-अपनी शक्तियों, तकनीक एवं निर्माण उत्कृष्टता को संगठित करते हुए एक ग्लोबल लीडर बनने की दिशा में कदम बढ़ाएंगे।” 

इस संयुक्त उपक्रम के लिए समझौता-पत्र पर एस्कॉर्ट्स लिमिटेड के चेयरमैन एवं मैनेजिंग डायरेक्टर निखिल नंदा और कुबोता कॉर्पोरेशन, जापान के प्रेसिडेंट एवं रिप्रेजेंटेटिव डायरेक्टर मासातोशी किमाता ने हस्ताक्षर किये। 

एस्कॉर्ट्स लिमिटेड के बारे में संपादक के लिए नोट
एस्कॉर्ट्स समूह देश के अग्रणी इंजीनियरिंग समूहों में से एक है जो कि कृषि मशीनों, मैटेरियल हैंडलिंग, निर्माण उपकरणों, रेलवे उपकरण जैसे उच्च विकास क्षेत्रों में गतिविधियां संचालित करता है। समूह ने अपने उत्पादों और प्रक्रिया नवीनीकरण के द्वारा अपने संचालन के पिछले सात दशकों में 50 लाख ग्राहकों से भी अधिक का विश्वास जीता है। एस्कॉर्ट्स कृषि मशीनीकरण, रेलवे तकनीक के आधुनिकिकरण में क्रांति की अगुवाई करते हुए और भारतीय निर्माण क्षेत्र के स्वरूप के बदलाव में शामिल होकर ग्रामीण और शहरी भारत में रहने वाले लोगों के जीवन में परिवर्तन लाने के लिए प्रयत्नशील है।

कुबोता कॉर्पोरेशन के बारे में संपादक को नोट
कुबोता ग्रुप एक ग्लोबल मेन्युफैक्चरिंग कंपनी है, जो कृषि, जल और रहिवासी पर्यावरण उत्पादों में विशेषज्ञता रखती है। इस ग्रुप का नेटवर्क विश्वभर के 100 देशों में मौजूद है। कुबोता के रिसर्च एवं डेवलपमेंट में वास्तविक प्रक्रियाओं को महत्व दिया जाता है। एक कृषि एवं जल विशेषज्ञ के रूप में हम भोजन, पानी और पर्यावरण के भविष्य को चुनौती देते हुए उसे हासिल करते हैं और अपने ग्राहकों की ज़रूरत पूरी करते हैं। सक्रिय प्रबंधन, सुविधाजनक उत्पादों और निरंतर सहायता के साथ कुबोता ग्रुप वैश्विक कृषि एवं जल संबंधी उद्योगों में पूरे विश्व में अग्रणी है। 

Sunday, 25 November 2018

रमणीक प्रभाकर को इन्डो नैपाल एकता अवार्ड 2018 से सम्मानित किया

रमणीक प्रभाकर को इन्डो नैपाल एकता अवार्ड 2018 से सम्मानित किया

फरीदाबाद 25 नवंबर ।  इंडो नैपाल समरसता मंच द्वारा रमणीक प्रभाकर को इन्डो नैपाल एकता(2018) अवार्ड, सोने का तगमा,शॉल व पग़ड़ी बाँध कर  से सम्मानित किया गया कार्यक्रम का आयोजन  ISIL ऑडिटोरियम, भगवान दास रोड़, नई दिल्ली में किया गया । 

इस कार्यक्रम में लगभग 500 लोगो ने हिस्सा लिया जिसमे 50 प्रतिभागियों को इन्डो नैपाल एकता अवार्ड 2018 से सम्मानित किया गया जो भारत के अलग अलग राज्यो से आए थे । इसमे अलग अलग देशो नेपाल, भूटान, श्रीलंका, व इत्यादि  से भी लोग आए हुए थे । 

 अंतराष्ट्रीय समरसता मंच एक गैर राजनेतिक, साहित्यिक, सांस्कृतिक व सामाजिक संस्था है जो सर्व धर्म समभाव की विचारधारा के अनुसार विश्व बंधुत्व की भावना से मानव सेवा हितार्थ सांस्कृतिक समन्वय एवं शोध कार्यो द्वारा मानवीय एकता व समरसता के लिए विभिन्न क्षेत्रो में कार्यरत व्यक्तियो का एक ऐसा समूह है जो स्व प्रेरणा एवं स्वम अनुशासन के माध्यम से जनहित के कार्यो के लिए सदस्य के रूप में कार्य करते है । मंच का कार्य अंतराष्ट्रीय स्तर पर भारतीय सामाजिक व्यवस्था के अनुसार भारत नैपाल की वैदिक कालीन सांस्कृतिक का पूर्ण उत्थान हो, भारत पुनः वैदिक कालीन जगत गुरु के आसन पर पदस्थापित हो एवं संयुक्त राष्ट्र संघ की सुरक्षा परिषद में वीटो पावर के साथ स्थाई सदस्यता दिलाने के उद्देश्य से राष्ट्र सदस्यो का मित्रवत सहयोग की आशा से चलाया जा रहा प्रेरित अभियान है । 

 मंच पर मुख्य रूप से उपस्थित प्रधान महावीर टोरडी, सांसद अमर सिंह, एडवोकेट ए. पी. सिंह, श्री लोकेन्द्र बहादुर चन्द, पूर्व प्रधानमंत्री नेपाल, मुख्य अतिथि टोप बहादुर रायमाझी, पूर्व उप प्रधानमंत्री नेपाल, सचिव कुलदीप शर्मा, एडवोकेट सर्वोच्य न्यायालय नेपाल द्वारा रमणीक प्रभाकर को इन्डो नैपाल एकता अवार्ड(2018) से सम्मानित किया गया ।

इसके अलावा कई राज्यो के गणमान्य लोगों ने कार्यक्रम में हिस्सा लिया और कार्यक्रम को सफल बनाया ।