Showing posts with label World. Show all posts
Showing posts with label World. Show all posts

Saturday 15 June 2024

 मानव रचना यूनिवर्सिटी- एनएआरएल, इसरो के सहयोग से जीएनएसएस रिसीवर स्थापित करने वाली देश की पहली प्राइवेट यूनिवर्सिटी बनी

मानव रचना यूनिवर्सिटी- एनएआरएल, इसरो के सहयोग से जीएनएसएस रिसीवर स्थापित करने वाली देश की पहली प्राइवेट यूनिवर्सिटी बनी

      यूनिवर्सिटी में ग्लोबल नेविगेशन सैटेलाइट सिस्टम (GNSS) रिसीवर और अंतरिक्ष अनुसंधान प्रयोगशाला की स्थापना की गई

      इसरो लैब के सहयोग से राष्ट्रीय वायुमंडलीय अनुसंधान प्रयोगशाला (एनएआरएल) के रिसीवरों की उत्तर-दक्षिण श्रृंखला का हिस्सा है ये पहल

      अतिथि व्याख्यान में इसरो साइंटिस्ट डॉ. निर्विकार दशोरा और श्री हिमांशु एस सेठी ने रखे विचार

फरीदाबाद, 15 जून 2024: मानव रचना यूनिवर्सिटी (एमआरयू) में स्कूल ऑफ साइंसेज के विज्ञान विभाग की ओर से शुक्रवार को “ग्लोबल नेविगेशन सैटेलाइट सिस्टम (GNSS) रिसीवर” की स्थापना की गई। ये प्रयोगशाला राष्ट्रीय वायुमंडलीय अनुसंधान प्रयोगशाला (एनएआरएल)-भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के सहयोग से स्थापित की गई है। इस दौरान एक गेस्ट लेक्चर का आयोजन भी हुआ, जिसका उद्देश्य वायुमंडलीय और अंतरिक्ष अनुसंधान के क्षेत्र में अनुसंधान करने के लिए संकाय को प्रोत्साहित करना है।

एमआरयू जीएनएसएस रिसीवर की स्थापना करने वाला देश का पहला निजी शिक्षण संस्थान है, ऐसे में ये पहल अंतरिक्ष अनुसंधान के क्षेत्र में एमआरयू की अनुसंधान क्षमताओं में बेहतरी को दर्शाती है। गेस्ट लेक्चर में में वैज्ञानिकों की एक प्रतिष्ठित टीम शामिल हुई, जिनमें डॉ. निर्विकार दशोरा (साइंटिस्ट/इंजीनियर-एसएफ, विभागाध्यक्ष आयनोस्फेयर एंड स्पेस फिजिक्स ग्रुप, एनएआरएल, गडांकी, एपी, अंतरिक्ष विभाग, भारत सरकार) और श्री हिमांशु एस सेठी (साइंटिस्ट/इंजीनियर-एसई, एनएआरएल-इसरो) शामिल रहे।

एमआरयू में जीएनएसएस रिसीवर की स्थापना इसरो के सहयोग से एनएआरएल के रिसीवरों की उत्तर-दक्षिण श्रृंखला का हिस्सा है। यह रणनीतिक साझेदारी वायुमंडलीय और आयनमंडलीय अनुसंधान को आगे बढ़ाने के लिए एमआरयू की प्रतिबद्धता को स्पष्ट करती है, जिसमें जीएनएसएस रिसीवर नेटवर्क के माध्यम से मौसम, जलवायु, अंतरिक्ष मौसम और ग्रहों के आयनमंडल पर महत्वपूर्ण अध्ययन शामिल हैं। यह सहयोगात्मक प्रयास न केवल मानव रचना के अनुसंधान बुनियादी ढांचे को मजबूत करता है, बल्कि इसे वायुमंडलीय और अंतरिक्ष अनुसंधान में अग्रणी बनाने में सहायक होगा ।

कार्यक्रम के दौरान, डॉ. निर्विकार दशोरा ने वास्तविक जीवन के क्षेत्रों में जीएनएसएस के विभिन्न अनुप्रयोगों के बारे में जानकारी दी। उन्होंने आयनमंडल के मूल सिद्धांतों और विभिन्न वायुमंडलीय घटनाओं में इसकी भूमिका के बारे में विस्तार से बताया। प्रेजेंटेशन के ज़रिए उन्होंने अपने शोध के महत्व, उपयोग की जाने वाली पद्धतियों, अनुप्रयोगों और मुख्य विशेषताओं को भी प्रदर्शित किया। साथ ही उन्होंने जीपीएस सिस्टम से संबंधित चुनौतियों के बारे में भी जानकारी दी। इसके बाद प्रश्नोत्तर  सत्र में उन्होंने सभी सवालों के जवाब भी दिए।

ये होगा लाभ

एमआरयू में जीएनएसएस रिसीवर की स्थापना ने राष्ट्रीय और वैश्विक शैक्षणिक समुदायों में विश्वविद्यालय की स्थिति मजबूत की है। इससे विभिन्न वायुमंडलीय और अंतरिक्ष मापदंडों में बहु-पैरामीट्रिक डेटा संग्रह से वायुमंडलीय विज्ञान और संबंधित क्षेत्रों में अनुसंधान की क्षमताएं बढ़ेंगी| साथ ही रिसीवरों की एनएआरएल उत्तर-दक्षिण श्रृंखला का हिस्सा होने के नाते, एमआरयू अनुसंधान संस्थानों के व्यापक नेटवर्क से जुड़ेगा और राष्ट्रीय व वैश्विक स्तर पर सहयोग के अवसर बढ़ेंगे। विज्ञान, इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्यूनिकेशन इंजीनियरिंग (ईसीई) और कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग (सीएसई) विभागों में छात्रों के विभिन्न परियोजनाओं में सीखने के अवसर बढ़ेंगे। साथ ही छात्रों को अत्याधुनिक तकनीक और वास्तविक समय के डेटा विश्लेषण के साथ व्यावहारिक अनुभव प्राप्त होगा। 

प्रो. (डॉ.) दीपेंद्र कुमार झा, कुलपति, एमआरयू ने कहा कि "एनएआरएल और इसरो के सहयोग से जीएनएसएस रिसीवर की स्थापना हमारी एक ऐतिहासिक उपलब्धि है। परिसर में स्थापित अंतरिक्ष अनुसंधान प्रयोगशाला संस्थान की, वायुमंडलीय और अंतरिक्ष अनुसंधान प्रगति में अग्रणी होने के प्रति प्रतिबद्धता को स्पष्ट करती है।"

डॉ. मीना कपाही, डीन, स्कूल ऑफ साइंसेज, एमआरयू ने कहा, "यह मानव रचना यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ साइंसेज के लिए बड़ी उपलब्धि है। यह अत्याधुनिक पहल वायुमंडलीय और अंतरिक्ष विज्ञान में हमारी शोध क्षमताओं को बढ़ाती है और हमारे छात्रों को अत्याधुनिक तकनीक से जुड़ने के बेहतर अवसर प्रदान करती है।"

इस दौरान प्रो. (डॉ.) मीना कपाही, डीन स्कूल ऑफ साइंसेज; प्रो. डॉ. डी. के. शर्मा, डीन एग्जामिनेशन; डॉ. संदीप कुमार, हैड, स्कूल ऑफ साइंसेज; डॉ. अर्पित संड, प्रोग्राम हेड केमिस्ट्री; डॉ. अपर्णा व्यास, प्रोग्राम हेड मैथमेटिक्स सहित और साइंस एंड इंजीनियरिंग सहित विभिन्न विषयों के संकाय सदस्य मौजूद रहे।

एनएआरएल और इसरो के साथ इस स्थापना  समस्त कार्यक्रम को प्रोफ डॉ डी के शर्मा के समन्वय में डॉ अनन्ना बर्धनडॉ अंशुमान सहाय और दीप्ति मैखुरी के सहयोग से संपन्न हुआ |  

 Trident Stallions march ahead with win

Trident Stallions march ahead with win

Mohali.Showing off their mettle, Trident Stallions recorded a fine 42-run win over Intersoft Titans in a one-sided match played on Saturday. Batting first, Stallions posted 154/6 in 20 overs with Salil Arora scoring an unbeaten 40-ball 60 runs to take his team past the 150-run mark. Earlier, one down batter Abhay Chaudhary scored 22-ball 23 to prop his team. For Titans, Tejpreet Singh scalped two dismissals.

In reply, Titans failed to match up with the Stallions in batting and made 112/8 in 20 overs. For the winning team, Baltej Dhanda, Aryaman Singh and Ravinder Brar grabbed two wickets each.
Medium pacer Gurnoor Brar went wicketless on Saturday but holds the Green Cap with nine wickets.
 मैन्युफैक्चरर्स  एसोसिएशन फरीदाबाद  के प्रतिनिधिमण्डल  ने केंद्रीय राज्यमंत्री को बधाई दी : रमणीक प्रभाकर

मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन फरीदाबाद के प्रतिनिधिमण्डल ने केंद्रीय राज्यमंत्री को बधाई दी : रमणीक प्रभाकर

फरीदाबाद l  लगातार तीसरी बार जीत और केंद्र में मंत्री बनाये जाने पर फरीदाबाद से सांसद कृष्णपाल गुर्जर को केंद्रीय सहकारिता राज्यमंत्री बनाया गया है। मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन फरीदाबाद के उद्यमियों का  प्रतिनिधिमण्डल  केंद्रीय राज्यमंत्री श्री कृष्णपाल गुर्जर से मिलने सेक्टर 28 स्थित उनके कार्यालय पहुंचा और उन्हें सफलता की बधाई दी.


 श्री सुखदेव सिंह, प्रधान , MAF,  श्री रमणीक प्रभाकर , महासचिव, MAF व MAF के प्रतिनिमंडल श्री जगदीश शर्मा, श्री पुष्पिंदर सिंह , श्री प्रवीण गुप्ता व सुनील सचदेवा सभी ने कृष्णपाल गुर्जर जी को बुके देकर  जीत की और मंत्री बनने पर बधाई दी।

इस मौके पर कृष्णपाल गुर्जर जी ने सभी का तहे दिल से धन्यवाद करते हुए कहा की जनता का वह शुक्रगुज़ार है जिनके बदौलत उन्हें एक बार फिर फरीदाबाद की सेवा करने का मौका मिला है जिसे बखूबी निभाएंगे 

श्री सुखदेव सिंह जी  ने कहा कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से भाजपा सांसद कृष्णपाल गुर्जर जी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केंद्रीय सहकारिता राज्य मंत्री के पद से नवाजा है। यह हम सब के लिए गर्व की बात है। 
 श्री रमनीक प्रभाकर ने  कहा कि  लगातार तीसरा मौका है जब कृष्ण पाल गुर्जर मंत्री बने। यह फरीदाबाद के लिए गर्व की बात है। 
आपने कहा जैसे आपने अभी तक हमें सुना और समझा है आगे भी आपके इस सहयोग की कामना करते है ।

Tuesday 11 June 2024

 मनोहर लाल ने आवासन और शहरी कार्य मंत्रालय के मंत्री के रूप में कार्यभार संभाला

मनोहर लाल ने आवासन और शहरी कार्य मंत्रालय के मंत्री के रूप में कार्यभार संभाला

नई दिल्ली : आवासन एवं शहरी कार्य मंत्रालय (एमओएचवाईए) में आज नए कैबिनेट मंत्री श्री मनोहर लाल और राज्य मंत्री श्री तोखन साहू ने पदभार ग्रहण किया। उन्होंने मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ एक संयुक्त समीक्षा बैठक की, जिसमें मंत्रालय के प्रमुख मिशनों पर प्रस्तुतियाँ दी गईं। इस अवसर पर पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री श्री हरदीप सिंह पुरी भी उपस्थित थे, जो अब तक पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस तथा एमओएचवाईए मंत्री का कार्यभार संभाल रहे थे।

श्री मनोहर लाल ने स्वच्छ और हरित शहरों को सुनिश्चित करने के लिए महत्वपूर्ण कार्य को आगे बढ़ाने की आवश्यकता पर बल दिया तथा सभी शहरों को 'कचरा मुक्त' बनाने के लिए मिशन के तहत अपशिष्ट को धन में परिवर्तित करने के स्वच्छ भारत मिशन के तहत किए जा रहे प्रयासों की सराहना की।

शहरों को जल सुरक्षित बनाने तथा 4,900 शहरी स्थानीय निकायों में जलापूर्ति की सर्वव्यापक कवरेज सुनिश्चित करने और 500 अमृत शहरों में सीवरेज एवं सेप्टेज प्रबंधन सुनिश्चित करने के लिए अमृत मिशन के उद्देश्यों की सराहना करते हुए उन्होंने अमृत परियोजनाओं में जन भागीदारी सुनिश्चित करने पर नए सिरे से ध्यान केंद्रित करने का आह्वान किया।

शहरों में यात्रा को सुविधाजनक बनाने में मेट्रो रेल के महत्व पर प्रकाश डालते हुए मंत्री ने कहा कि सभी मेट्रो परियोजनाओं को समय पर पूरा करने के लिए मंत्रालय के प्रयास दोगुने किए जाएंगे, क्योंकि मेट्रो परिवहन का पसंदीदा साधन बन गया है, जो समाज के सभी वर्गों के लिए सुविधाजनक और सुरक्षित है।

इसके अलावा, मंत्री ने कहा कि स्मार्ट सिटी मिशन के तहत पूरी की गई परियोजनाओं ने देश में शहरी नियोजन और शासन में नए मानक स्थापित किए हैं। इन शहरों में बेहतर शहरी प्रबंधन के लिए प्रौद्योगिकी का उपयोग बढ़ा है और 100 शहरों में से प्रत्येक में अपराध ट्रैकिंग, नागरिकों की सुरक्षा, परिवहन प्रबंधन, ठोस अपशिष्ट प्रबंधन, जल आपूर्ति, आपदा प्रबंधन आदि जैसे शहरी सेवाओं के विविध क्षेत्रों में उल्लेखनीय सुधार हुआ है।

श्री मनोहर लाल ने देश के सभी हिस्सों में शहरी गरीबों तक पीएम स्वनिधि और डीएवाई-एनयूएलएम मिशनों के लाभ की पहुंच को और बढ़ाने की आवश्यकता पर प्रकाश डाला, ताकि शहरी गरीबी के विभिन्न आयामों का समाधान किया जा सके और उनकी आय और आजीविका के स्रोत में सुधार किया जा सके।

सिर पर छत होने के महत्व के बारे में बोलते हुए उन्होंने कहा कि पीएमएवाई लाखों लोगों के जीवनभर के सपने को पूरा करने की दिशा में काम कर रहा है और इसलिए पीएमएवाई (शहरी) के तहत एक करोड़ और घर बनाने की प्रधानमंत्री की घोषणा मंत्रालय की प्रमुख प्राथमिकता होगी। उन्होंने आश्वासन दिया कि सभी आवास परियोजनाओं को समय पर पूरा करने के लिए समय-समय पर प्रभावी राज्य स्तरीय समीक्षा भी की जाएगी।

प्रदर्शन की समीक्षा के बाद, उन्होंने देश में सतत शहरी विकास के लिए रणनीतिक और व्यापक कार्ययोजना पर आशा व्यक्त की और समावेशी एवं विकसित भारत के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए विकास एजेंडे को नई गति के साथ आगे बढ़ाने का संकल्प लिया।

राजनाथ सिंह लगातार दूसरी बार रक्षा मंत्री होंगे

राजनाथ सिंह लगातार दूसरी बार रक्षा मंत्री होंगे

नई दिल्ली : 2019 से 2024 तक के सफल कार्यकाल के बाद, प्रधानमंत्री की सलाह पर राष्ट्रपति द्वारा श्री राजनाथ सिंह को लगातार दूसरी बार रक्षा मंत्रालय का कार्यभार सौंपा गया है। उत्तर प्रदेश के लखनऊ से सांसद श्री राजनाथ सिंह ने 01 जून, 2019 को पहली बार रक्षा मंत्रालय का कार्यभार संभाला था।

श्री राजनाथ सिंह का जन्म 10 जुलाई 1951 को उत्तर प्रदेश के चंदौली जिले में हुआ था। उन्होंने गोरखपुर विश्वविद्यालय से भौतिकी में स्नातकोत्तर किया। वे पेशे से शिक्षक रहे हैं। वे 1977-1980 और 2001-2003 तक उत्तर प्रदेश विधान सभा के सदस्य रहे। वे 1991-1992 में उत्तर प्रदेश सरकार में शिक्षा मंत्री रहे। 1999 से 2000 तक वे केंद्रीय मंत्रिमंडल में भूतल परिवहन मंत्री रहे।

बाद में 2000-2002 तक वे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे। 2003 में, उन्होंने केंद्रीय मंत्रिमंडल में कृषि मंत्री के रूप में अपनी सेवा दी। वे 1994-1999 और 2003-2008 तक दो बार राज्यसभा के लिए चुने गए। 2009 में वे 15वीं लोकसभा के लिए चुने गए। उन्होंने 07 अक्टूबर, 2009 को आचार समिति के सदस्य के रूप में भी कार्य किया। श्री राजनाथ सिंह को 27 मई, 2014 को प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार में गृह मंत्री के रूप में केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल किया गया। उनका विवाह श्रीमती सावित्री सिंह से हुआ है और उनके दो बेटे हैं।

झारखंड के रांची से सांसद श्री संजय सेठ को रक्षा मंत्रालय में राज्य मंत्री का पदभार दिया गया है। श्री संजय सेठ 2019 में पहली बार रांची से सांसद बने और वे सूचना प्रौद्योगिकी संबंधी स्थायी समिति के सदस्य रहे हैं। 2024 में भी वे रांची से ही लोकसभा के लिए चुने गए।