Showing posts with label World. Show all posts
Showing posts with label World. Show all posts

Wednesday, 12 December 2018

दवाओं की ऑनलाइन बिक्री : मनसुख मंडाविया रसायन एव उर्वरक राज्य मंत्री

दवाओं की ऑनलाइन बिक्री : मनसुख मंडाविया रसायन एव उर्वरक राज्य मंत्री

NEW DELHI  ( 13 दिसम्बर ) केन्द्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग, नौवहन तथा रसायन एव उर्वरक राज्य मंत्री श्री मनसुख एल.मंडाविया ने आज लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में कहा कि दवाओँ की ऑनलाइन बिक्री के लिए पृथक दिशा-निर्देश के संबंध में कहा कि औषधि और प्रसाधन नियम, 1945 में औषधियों की बिक्री, भंडारण और विपणन के प्रावधान है।

श्री मंडाविया ने कहा कि स्वास्थ्य व परिवार कल्याण मंत्रालय ने ई-फॉरमेसी के माध्यम से दवाओं की बिक्री भंडारण और विपणन के नियमन के लिए औषधि व प्रसाधन नियम में संशोधन के लिए मसौदा प्रकाशित किया है।

मसौदे के अनुसार ई-फॉरमेसी पोर्टल में दवा विक्रेता के नाम, पंजीयन संख्या और फॉरमेसी परिषद से संबंधित विभिन्न ब्यौरे की जानकारी दी जाएगी।

Monday, 10 December 2018

कुबोता और एस्कॉर्ट्स ने विश्व में अग्रणी स्थान हासिल करने के लिए हाथ मिलाया

कुबोता और एस्कॉर्ट्स ने विश्व में अग्रणी स्थान हासिल करने के लिए हाथ मिलाया

फरीदाबाद 11 दिसंबर।  एस्कॉर्ट्स लि. और कुबोता कॉर्पोरेशन का लक्ष्य मज़बूत घरेलू एवं निर्यात बाज़ार में हिस्सेदारी प्राप्त करना है, जिसके लिए दोनों कंपनियां तकनीकी सहयोग और उच्च-क्षमता वाले यूटिलिटी ट्रैक्टर रेंज के लिए वैश्विक संयुक्त उपक्रम बनाएंगे

दोनों कंपनियां साथ मिलकर भारत और अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार के लिए नए उत्पाद विकसित करेंगी
नई साझा निर्माण व्यवस्था के लिए संयुक्त उपक्रम बनाया जाएगा, जिसकी शुरुआती क्षमता 50 हज़ार ट्रैक्टरों की होगी। यह ट्रैक्टर दोनों कंपनियों द्वारा घरेलू बाज़ार में अपने निजी चैनल नेटवर्क के माध्यम से बेचे जाएंगे
इस भागीदारी के तहत, चुनिंदा बाज़ारों में आपसी सहमति के अनुसार कुबोता अपने ग्लोबल डिस्ट्रिब्यूशन नेटवर्क के जरिये एस्कॉर्ट्स के ट्रैक्टर्स एक्सपोर्ट करेगी
एस्कॉर्ट्स और केबीटी भारत में स्वतंत्र रूप से अपने डिस्ट्रिब्यूशन चैनल को विकसित करना जारी रखेंगे, साथ ही दोनों कंपनियां साझा विकास और भविष्य में कुछ ग्रीनफील्ड अवसरों के लिए अपने तकनीकी प्लेटफॉर्म्स एक दूसरे को इस्तेमाल के लिए उपलब्ध कराएंगी

नई दिल्ली, 10 दिसंबर, 2018: भारत के अग्रणी इंजीनियरिंग समूह एस्कॉर्ट्स लि और जापान की सबसे बड़ी एवं विश्व की अग्रणी ट्रैक्टर निर्माता कंपनी कुबोता कॉर्पोरेशन ने अपने वैश्विक संयुक्त उपक्रम की घोषणा की है। यह ज्वाइंट वेंचर घरेलू एवं निर्यात बाज़ारों के लिए उच्च क्षमता तकनीक वाले ट्रैक्टरों का निर्माण करेगा। इस भागीदारी के तहत कुबोता की अग्रणी जापानी तकनीक और एस्कॉर्ट्स की उत्कृष्ट इंजीनियरिंग क्षमताओं को उपयोग करते हुए एक बढ़ते बाज़ार पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा। दोनों कंपनियां मिलकर पूरे विश्व में अग्रणी स्थान हासिल करने के लिए उच्च क्षमता वाले गुणवत्तापूर्ण यूटिलिटी ट्रैक्टर बनाएंगी। 

कुबोता और एस्कॉर्ट्स के बीच हुए क्रमशः 60:40 निर्माण संयुक्त उपक्रम में रु. 300 करोड़ का शुरुआती निवेश किया जाएगा। इससे दोनों भागीदारों को विश्वभर में अपनी मौजूदा एवं भविष्य की क्षमताओं को इस सेग्मेंट में बेहतर बनाने हेतु सहायता मिलेगी। इस संयुक्त उपक्रम का उद्देश्य घरेलू एवं निर्यात बाज़ारों में, मध्यम से लंबी अवधि के दौरान अग्रणी स्थान हासिल करना है। 

इस अवसर पर बोलते हुए निखिल नंदा, चेयरमैन एवं मैनेजिंग डायरेक्टर, एस्कॉर्ट्स लि. ने कहा, “एस्कॉर्ट्स योजनाबद्ध तरीके से तकनीकी एवं निर्माण साझेदारियों के जरिये एक वैश्विक संगठन के रूप में विकसित हो रहा है। कुबोता के साथ हमारे वैश्विक संयुक्त उपक्रम का लक्ष्य घरेलू एवं निर्यात बाज़ारों में तकनीक आधारित साझा विकास हासिल करना है। हमारी मौजूदा शक्तियों, डिस्ट्रिब्यूशन और इंजीनियरिंग मानकों के साथ हम कारोबारी अवसरों वाले अंतर्राष्ट्रीय बाज़ारों में जाएंगे और विश्व में अग्रणी स्थान हासिल करने की दिशा में आगे बढ़ेंगे।”

मासातोशी किमाता, प्रेसिडेंट एवं रिप्रेजेंटेटिव डायरेक्टर, कुबोता कॉर्पोरेशन, जापान ने कहा, “एस्कॉर्ट्स ग्रुप के साथ भागीदारी की घोषणा करते हुए हम उत्साहित हैं। एस्कॉर्ट्स के पास एक मज़बूत तकनीकी विरासत और कृषि उपकरण समाधानों का एक विविध उत्पाद पोर्टफोलियो है। वहीं कुबोता के पास एक प्रमाणित वैश्विक तकनीक है और हम साथ मिलकर भारत सहित अन्य विकासशील अर्थव्यवस्थाओं पर ध्यान देंगे, जिन्हें अत्यधिक मशीनीकृत कृषि कार्यों की बढ़ती मांग के लिए उच्च क्षमता वाले आधुनिक ट्रैक्टरों की ज़रूरत है। अपने देशों में अग्रणी स्थिति रखने वाले कुबोता और एस्कॉर्ट्स साथ मिलकर अपनी-अपनी शक्तियों, तकनीक एवं निर्माण उत्कृष्टता को संगठित करते हुए एक ग्लोबल लीडर बनने की दिशा में कदम बढ़ाएंगे।” 

इस संयुक्त उपक्रम के लिए समझौता-पत्र पर एस्कॉर्ट्स लिमिटेड के चेयरमैन एवं मैनेजिंग डायरेक्टर निखिल नंदा और कुबोता कॉर्पोरेशन, जापान के प्रेसिडेंट एवं रिप्रेजेंटेटिव डायरेक्टर मासातोशी किमाता ने हस्ताक्षर किये। 

एस्कॉर्ट्स लिमिटेड के बारे में संपादक के लिए नोट
एस्कॉर्ट्स समूह देश के अग्रणी इंजीनियरिंग समूहों में से एक है जो कि कृषि मशीनों, मैटेरियल हैंडलिंग, निर्माण उपकरणों, रेलवे उपकरण जैसे उच्च विकास क्षेत्रों में गतिविधियां संचालित करता है। समूह ने अपने उत्पादों और प्रक्रिया नवीनीकरण के द्वारा अपने संचालन के पिछले सात दशकों में 50 लाख ग्राहकों से भी अधिक का विश्वास जीता है। एस्कॉर्ट्स कृषि मशीनीकरण, रेलवे तकनीक के आधुनिकिकरण में क्रांति की अगुवाई करते हुए और भारतीय निर्माण क्षेत्र के स्वरूप के बदलाव में शामिल होकर ग्रामीण और शहरी भारत में रहने वाले लोगों के जीवन में परिवर्तन लाने के लिए प्रयत्नशील है।

कुबोता कॉर्पोरेशन के बारे में संपादक को नोट
कुबोता ग्रुप एक ग्लोबल मेन्युफैक्चरिंग कंपनी है, जो कृषि, जल और रहिवासी पर्यावरण उत्पादों में विशेषज्ञता रखती है। इस ग्रुप का नेटवर्क विश्वभर के 100 देशों में मौजूद है। कुबोता के रिसर्च एवं डेवलपमेंट में वास्तविक प्रक्रियाओं को महत्व दिया जाता है। एक कृषि एवं जल विशेषज्ञ के रूप में हम भोजन, पानी और पर्यावरण के भविष्य को चुनौती देते हुए उसे हासिल करते हैं और अपने ग्राहकों की ज़रूरत पूरी करते हैं। सक्रिय प्रबंधन, सुविधाजनक उत्पादों और निरंतर सहायता के साथ कुबोता ग्रुप वैश्विक कृषि एवं जल संबंधी उद्योगों में पूरे विश्व में अग्रणी है। 

Sunday, 25 November 2018

रमणीक प्रभाकर को इन्डो नैपाल एकता अवार्ड 2018 से सम्मानित किया

रमणीक प्रभाकर को इन्डो नैपाल एकता अवार्ड 2018 से सम्मानित किया

फरीदाबाद 25 नवंबर ।  इंडो नैपाल समरसता मंच द्वारा रमणीक प्रभाकर को इन्डो नैपाल एकता(2018) अवार्ड, सोने का तगमा,शॉल व पग़ड़ी बाँध कर  से सम्मानित किया गया कार्यक्रम का आयोजन  ISIL ऑडिटोरियम, भगवान दास रोड़, नई दिल्ली में किया गया । 

इस कार्यक्रम में लगभग 500 लोगो ने हिस्सा लिया जिसमे 50 प्रतिभागियों को इन्डो नैपाल एकता अवार्ड 2018 से सम्मानित किया गया जो भारत के अलग अलग राज्यो से आए थे । इसमे अलग अलग देशो नेपाल, भूटान, श्रीलंका, व इत्यादि  से भी लोग आए हुए थे । 

 अंतराष्ट्रीय समरसता मंच एक गैर राजनेतिक, साहित्यिक, सांस्कृतिक व सामाजिक संस्था है जो सर्व धर्म समभाव की विचारधारा के अनुसार विश्व बंधुत्व की भावना से मानव सेवा हितार्थ सांस्कृतिक समन्वय एवं शोध कार्यो द्वारा मानवीय एकता व समरसता के लिए विभिन्न क्षेत्रो में कार्यरत व्यक्तियो का एक ऐसा समूह है जो स्व प्रेरणा एवं स्वम अनुशासन के माध्यम से जनहित के कार्यो के लिए सदस्य के रूप में कार्य करते है । मंच का कार्य अंतराष्ट्रीय स्तर पर भारतीय सामाजिक व्यवस्था के अनुसार भारत नैपाल की वैदिक कालीन सांस्कृतिक का पूर्ण उत्थान हो, भारत पुनः वैदिक कालीन जगत गुरु के आसन पर पदस्थापित हो एवं संयुक्त राष्ट्र संघ की सुरक्षा परिषद में वीटो पावर के साथ स्थाई सदस्यता दिलाने के उद्देश्य से राष्ट्र सदस्यो का मित्रवत सहयोग की आशा से चलाया जा रहा प्रेरित अभियान है । 

 मंच पर मुख्य रूप से उपस्थित प्रधान महावीर टोरडी, सांसद अमर सिंह, एडवोकेट ए. पी. सिंह, श्री लोकेन्द्र बहादुर चन्द, पूर्व प्रधानमंत्री नेपाल, मुख्य अतिथि टोप बहादुर रायमाझी, पूर्व उप प्रधानमंत्री नेपाल, सचिव कुलदीप शर्मा, एडवोकेट सर्वोच्य न्यायालय नेपाल द्वारा रमणीक प्रभाकर को इन्डो नैपाल एकता अवार्ड(2018) से सम्मानित किया गया ।

इसके अलावा कई राज्यो के गणमान्य लोगों ने कार्यक्रम में हिस्सा लिया और कार्यक्रम को सफल बनाया ।

Monday, 29 October 2018

प्रधानमंत्री नरेंदर मोदी ने मैं नहीं हम एप जारी करने और सेल्‍फ 4 सोसायटी पर आई.टी. पेशेवरों के साथ संवाद का मूल पाठ

प्रधानमंत्री नरेंदर मोदी ने मैं नहीं हम एप जारी करने और सेल्‍फ 4 सोसायटी पर आई.टी. पेशेवरों के साथ संवाद का मूल पाठ

NEW DELHI , 29 अक्टूबर। मंत्री परिषद के मेरे सभी साथी, भारत के औद्योगिक जीवन को गति देने वाले, आईटी प्रोफेशन को बल देने वाले सभी अनुभवी महानुभाव, और आईटी के क्षेत्र से जुड़ी हुई हमारी युवा पीढ़ी, गांव में CSC के सेंटर में बैठे हुए बहुत आशाओं के साथ सपनों संजो करके जी रहे हमारे स्कूल, कॉलेज के students, आईआईटी समेत अनेक institutions के विद्यार्थी, मेरे लिए प्रसन्नता का विषय है कि जो मुझे सबसे प्रिय काम है ऐसे अवसर पर आज आपके बीच आने का मौका मिला है।

हमारे मंत्री श्री रविशंकर जी, सरकार के काम का ब्योरा दे रहे थे, लेकिन मैं इस काम के लिए आपके बीच नहीं आया हूं। कोई भी इंसान अपने करियर में कितना भी आगे चला जाए, वैभव कितना ही प्राप्त कर ले, पद-प्रतिष्ठा कितनी ही प्राप्त कर लें। एक प्रकार से जीवन में जो सपने देखें हो वो सारे सपनें अपनी आंखों के सामने उसे अपने स्व-प्रयत्न से साकार की, उसके बावजूद भी उसके मन में संतोष के लिए तड़प, भीतर संतोष कैसे मिले? और हमने अनुभव किया है कि सब प्राप्ति के बाद व किसी और के लिए कुछ करता है, कुछ जीने का प्रयास करता है, उस समय उसका satisfaction level बहुत बढ़ जाता है।

मैं अभी प्रारंभ की फिल्म में श्रीमान अज़ीम प्रेम जी को सुन रहा था। 2003-04 में जब मैं गुजरात का मुख्य मंत्री था और वो कार्यकाल में मुझसे मिलने आते थे तो अपने business के संबंध में, सरकार के साथ किसी काम के संबंध में वो बात करते थे। लेकिन उसके बाद मैंने देखा पिछले 10-15 साल से जब भी मिलना हुआ है एक बार भी वे अपना, कंपनी का, अपने corporate work का उसके काम की कभी चर्चा नहीं करते। चर्चा करते हैं तो जिस मिशन को लेकर इन दिनों काम कर रहे हैं वो education का, उसी की चर्चा करते हैं और इतना involve हो करके करते हैं जितना कि वो अपनी कंपनी के लिए नहीं करते। तो मैं अनुभव करता हूं कि उस उम्र में, उम्र के इस पढ़ाव पर जीवन में इतनी बड़ी कंपनी बनाई, इतनी बड़ी सफलता की, यात्रा की, लेकिन संतोष मिल रहा है, 

अभी जो काम कर रहे हैं उससे। इसका मतलब यह हुआ कि व्यक्ति के जीवन में, ऐसा नहीं है कि हम जिस प्रोफेशन में है, अगर मान लीजिए की डॉक्टर है तो किसी की सेवा नहीं करता है... करता है, एक scientist है लेबोरेटरी के अंदर अपनी जिंदगी खपा देता है और कोई ऐसी चीज खोज करके लाता है जो पीढ़ी दर पीढ़ी लोगों की जिंदगी को बदलने वाली है। इसका मतलब नहीं यह नहीं की है वो समाज के लिए काम नहीं करता है। इसका मतलब यह नहीं है कि वह खुद के लिए जीता था या खुद के नाम के लिए कर रहा था, जी नहीं। वो कर रहा था लोगों के लिए, लेकिन अपने हाथों से अपने आंखों के सामने, अपनी मौजूदगी में जो करता है, उसका संतोष अलग होता है। और आज वो संतोष आखिरकार की जो मूल प्रेरणा होती है हर इंसान, कुछ आप भी अपने आप देख लीजिए, अपने खुद के जीवन से देख लीजिए, स्वांत: सुखाय, कुछ  लोग यह करते है कि मुझे संतोष मिलता है, मुझे भीतर से आनंद मिलता है, मुझे ऊर्जा मिलती है।

हम रामायण में सुन रहे हैं कि गिलहरी भी रामसेतु के निर्माण में राम के साथ जुड़ गई थी। लेकिन एक गिलहरी ने तो प्रेरणा पा करके उस पवित्र कार्य में जुड़ना अच्छा माना, लेकिन दूसरा भी एक दृष्टिकोण हो सकता है कि राम जी को अगर सफल होना है, ईश्वर भले ही हो उसको भी गिलहरी की जरूरत पड़ती है, जब गिलहरी जुड़ जाती है तो सफलता प्राप्त होती है। सरकार कितने ही initiative लेती हो, सरकार कितना ही बजट खर्च करती हो लेकिन जब तक जन-जन का उसमें हिस्सा नहीं हो, भागीदारी नहीं होगी तो हम जो परिणाम चाहते हैं, इंतजार नहीं कर सकता हिन्दुस्तान। दुनिया भी हिन्दुस्तान को अब इंतजार करते हुए देखना नहीं चाहती है। दुनिया भी हिन्दुस्तान को, हिन्दुस्तान लीड करे इस अपेक्षा से देख रही है। 

अगर यह दुनिया की अपेक्षा है तो हमें भी हमारे देश को उसी रूप से करना होगा। अगर वो करना है तो हिन्दुस्तान के सामान्य मानव की जिंदगी में बदलाव कैसे आये। मेरे पास जो कौशल है, सामर्थ्य है, जो शक्ति हो, जो अनुभव है उसका कुछ उपयोग मैं किसी के लिए कर सकता हूं क्या ? एक बात निश्चित है कि किसी ऐसे स्थान है, जहां पर कोई भी गरीब आए, कोई भूखा आए, तो खाना मिल जाता है। वहां जो देने वाले लोग हैं वे भी बड़े समर्पित भाव से देते हैं। खाने वाला जो जाता है वहां, एक स्थिति ऐसी आ जाती है, एक institutional arrangement है, व्यवस्था है, मैं जाऊंगा, मुझे मिल जाएगा। जाने वाले को भी उसके प्रति विशेष attention नहीं होता है कि देने वाले कौन है। देने वाले के मन में भी कुछ conscious नहीं होता है कि आया कौन था। क्यों? क्योंकि उसकी एक आदत बन जाती है, कोई आता है 

वो खाना खिलाता है, वो चल देता है। लेकिन एक गरीब किसी गरीब परिवार के दरवाजे पर खड़ा है, भूखा है, और एक गरीब अपनी आधी रोटी बांट करके दे देता है। दोनों को जीवन भर याद रहता है। उसमें संतोष मिलता है। व्यवस्था के तहत होने वाली चीजों की बजाय स्व प्रेरणा से होने वाली चीजें कितना बड़ा परिवर्तन करती है यह हम सबने देखा है। हम कभी हवाई जहाज से जा रहे हैं बगल में कोई बुजुर्ग बैठे हैं, पानी पीना है, बोटल है लेकिन खुल नहीं रही है, हमारा ध्यान जाता है, हम तुरंत उसको खोल देते हैं, हमें संतोष मिलता है। यानि किसी के लिए जीने का आनंद कुछ और होता है।

मैंने एक परंपरा विकसित करने का प्रयास किया है कि प्रधानमंत्री बनने के बाद, जब मैं मुख्यमंत्री था तब भी किया करता था, किसी university के convocation में जाता हूं, तो मुझे बुलाने वालों से मैं आग्रह करता हूं कि आप उस university के नजदीक में कहीं सरकारी स्कूल हो, झुग्गी-झोपड़ी के गरीब बच्चे पढ़ते हो, आठवीं, नौंवी, दसवीं के, तो वो मेरे 50 special guest होंगे और उस convocation में उनको जगह दीजिए, उनको बैठाइये, उनको निमंत्रित कीजिए और वो आते है

Sunday, 28 October 2018

इधर लोगों की प्रदूषण से सांस फूली, उधर बोर्ड बोला मशीन है खराब

इधर लोगों की प्रदूषण से सांस फूली, उधर बोर्ड बोला मशीन है खराब

फरीदाबाद, 29 अक्टूबर I शहर में प्रदूषण की मात्रा अधिक हुई तो प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने मशीन में गड़बड़ी बता दी। बोर्ड का कहना है कि मशीन में गड़बड़ी होने के कारण पीएम 2.5 का स्तर काफी अधिक दिखा रहा था। लेकिन अब मशीन को सही कर लिया गया है। अधिकारियों का कहना है कि मशीन में कुछ दिक्कतें होने से पीएम 2.5 का स्तर बढ़ा हुआ बताया जा रहा था। मशीन की कमियों को दूर करा दिया गया है, जिससे उ मीद है कि आने वाले दिनों में जिले में प्रदूषण का सही स्तर पता चल सकेगा।

प्रदूषण के मामले में फरीदाबाद देशभर के टॉप 10 सबसे प्रदूषित शहरों में शामिल है। शुक्रवार को पीएम 2.5 का स्तर 381 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर तक पहुंच गया था। फरीदाबाद में सेक्टर 16 ए स्थित प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड कार्यालय के ऊपर एक मशीन लगी हुई है, जिससे प्रदूषण के स्तर का पता चलता है। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के रीजनल ऑफिसर विजय चौधरी ने बताया कि केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारी दो दिन पहले फरीदाबाद आए थे। 

उन्होंने कहा कि मशीन पीएम 2.5 का स्तर 300 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर से अधिक बता रही है, जबकि इतना अधिक प्रदूषण विजुअल नहीं हो रहा है। इसलिए उन्होंने मशीन को चैक कराने के आदेश दिए। क्योंकि मशीन का संचालन प्राइवेट कंपनी करती है, इसलिए हमने कंपनी के अधिकारियों को बुलाया। उन्होंने मशीन को अपडेट किया है। उ मीद है कि अब प्रदूषण का स्तर कम होगा और पीएम 2.5 का सही स्तर हमें पता चल पाएगा। विजय चौधरी ने बताया कि शनिवार रात से रविवार दोपहर तक मशीन बंद रही थी। रविवार को दोपहर लगभग 12 बजे से शाम 4 बजे तक पीएम 2.5 का औसत स्तर 93 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर दर्ज किया गया है।

Wednesday, 24 October 2018

RJ Studio presents yet another Grand Dandiya Gig in North Delhi, Diwali Aagman: Dandiya Raas

RJ Studio presents yet another Grand Dandiya Gig in North Delhi, Diwali Aagman: Dandiya Raas

New Delhi 24 October, 2018, :  The residents of Model town spent their Sunday swaying with Dandiya to the beats of the much popular "In my feelings" by Drake fused with traditional garba background score. They were offered a wide array of traditional garba music with a hint of western hits mingled together, bringing in a footfall  of people from all age groups: from toddlers accompanying their moms to young adults. The locally popular RJ studio hosted the much celebrated evening for the joyous audience. 

Being the trendsetter RJ studio has always been, the team decided to not leave garba behind to navratri, they continued their Garba fever for Diwali. Not only did they whirl to Garba, but they also shopped at many stalls exhibiting items like Stationary and gifts for kids, innovative houseware, Women's ethnic attire and jewellery, Rajasthani Bangles and earrings, Cosmetics and beauty products.  " We took care of all our varied audiences, We have tattoo painting for kids, rangoli workshop for teens , makeup and hair for our young girls and tarot reading for all the ladies. We took care of everyone's entertainment", said Rishab Jain, the owner of RJ Studio. Rishab popular as RJ, a fitness trainer and zumba expert by profession has been taking zumba lessons at his studio since 10 years. He is also taking yoga, gymnastics, hula hoops and choreography on daily basis for the local residents. He is highly recommended in the society as a choreographer and an excellent fitness trainer. 

This event, Dandiya Raas brought together the entire town together as they celebrated and swayed to Dandiya beats. There was a surprise performance on the trending hit " chogada thara, from Love Yatri" by RJ's students. It looked like a flash mob, was a treat to everyones eyes. 

"We had such a great time here, it was one of the best garba events of the season.", said Geeta, a local participant.  

Tuesday, 23 October 2018

प्रधानमंत्री कल ‘मैं नहीं हम’ पोर्टल और एप जारी करेंगे

प्रधानमंत्री कल ‘मैं नहीं हम’ पोर्टल और एप जारी करेंगे

NEW DELHI , 23 अक्टूबर।  प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी कल 24 अक्‍टूबर, 2018 को ‘मैं नहीं हम’ पोर्टल जारी करने के अवसर पर आईटी और इलेक्‍ट्रॉनिक विनिर्माण क्षेत्र के उद्यमियों से संवाद करेंगे।

‘सेल्‍फ फॉर सोसायटी’ की थीम पर काम करने वाला यह पोर्टल आईटी क्षेत्र से जुड़े कारोबारियों और संगठनों को सामाजिक सरोकारों और समाज सेवा से जुड़े उनके प्रयासों को एक साथ लाने का मंच प्रदान करेगा। इसके माध्‍यम से प्रौद्योगिकी का लाभ समाज के कमजोर तबके तक पहुंचाने के लिए परस्‍पर सहयोग के प्रयासों में तेजी लाई जा सकेगी। पोर्टल के जरिए समाज की बेहतरी के लिए काम करने के इच्‍छुक लोगों की व्‍यापक सहभागिता को भी बढ़ावा दिया जा सकेगा।

प्रधानमंत्री इस अवसर पर कई उद्योगपतियों से मिलेंगे और आईटी पेशेवरों तथा आईटी और इलेक्‍ट्रॉनिक उपकरण बनाने वाली कंपनियों के कर्मचारियों को संबोधित करेंगे। इस अवसर पर देश भर के 100 से ज्‍यादा स्‍थानों से आईटी और इलेक्‍ट्रॉनिक विनिर्माता वीडियो कांफ्रेंस के जरिए आयोजन से जुड़ेंगे।   


Thursday, 11 October 2018

Best Homeopathic medicine for Uric acid -Gout

Best Homeopathic medicine for Uric acid -Gout

फरीदाबाद 12 अक्टूबर ।  शास्त्रीय होम्योपैथिक क्लिनिक में, किसी भी बीमारी के लिए हमारा दृष्टिकोण व्यक्ति को पूरी तरह से इलाज करना है। इस प्रकार, रोगी के संविधान को कम करने से हमेशा शास्त्रीय होम्योपैथिक डॉक्टर को सबसे उपयुक्त उपाय चुनने में मदद मिलती है। सही होम्योपैथिक दवा के साथ डॉ। अभिषेक के अनुसार, एक आहार लेना बहुत महत्वपूर्ण है जो purines में कम है।

उच्च यूरिक एसिड के लिए सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथी चिकित्सा
आउरा होम्योपैथी में, डॉक्टरों की हमारी खुराक रोगी की कुल तस्वीर के आधार पर होम्योपैथिक दवा निर्धारित करती है जिसमें उसकी जीवनशैली, मानसिक तनाव, उसके तनाव स्तर और भावनात्मक स्थिति, उनके चरित्र, आहार, यूरिक एसिड का पारिवारिक इतिहास और अन्य कारक शामिल हैं। गौट-एरिक एसिड के लिए सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथिक दवा खोजने के लिए - दर्दनाक जोड़। ऑरा होम्योपैथी क्लिनिक में, हमारे उपचार को वैयक्तिकृत किया जाता है, यानी गठिया या उच्च यूरिक एसिड स्तर वाले 2 रोगियों को अलग-अलग व्यक्तियों के रूप में माना जाता है, और प्रत्येक रोगी को होम्योपैथिक दवा निर्धारित की जाएगी जो उनके लक्षण के साथ सबसे अच्छी तरह से मेल खाती है।

उच्च यूरिक एसिड होने के जोखिम के बारे में और जानने के लिए हमें देखें
गठिया के इलाज के लिए नीचे 10 सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथी दवाएं हैं- उच्च यूरिक एसिड।

कोल्चिकम: महान पैर की उंगलियों के दर्द और सूजन, एड़ी में दर्द की मरीज की शिकायत, वह भी छूने के लिए सहन नहीं कर सकता है। निचले हिस्सों की सूजन और ठंडाता। दर्द और बुखार के साथ जोड़ों की कठोरता। कभी-कभी दर्द को बदलने के रोगी की शिकायतों। रात और शाम को गर्म मौसम से दर्द बढ़ जाता है। अधिक जानकारी हमें देखें: दिल्ली में सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथी डॉक्टर

यूर्टिका यूरेन: यह होम्योपैथिक दवा उच्च यूरिक एसिड के स्तर के इलाज के लिए सर्वश्रेष्ठ है क्योंकि यह हमारे शरीर से यूरिक एसिड को खत्म करने में वृद्धि करती है। डायथेसिस: गठिया और यूरिक एसिड। संयुक्त दर्द त्वचा के विस्फोट जैसे आर्टिकरिया से जुड़ा हुआ है। Deltoid, कलाई और एड़ियों में सूजन और दर्द की रोगी शिकायत।

बेंजोइक एसिड: आक्रामक और उच्च रंगीन मूत्र के साथ-साथ क्रैकिंग ध्वनियों के साथ दर्द और पेट की सूजन और अन्य जोड़ों की सूजन की शिकायतें। दर्दनाक गठिया नोड्स। उजागर और खुली हवा में संयुक्त दर्द बढ़ता है।

लेडम पाल: आरोही संधिशोथ के लिए सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथिक दवा, विशेष रूप से छोटे जोड़ों के दर्द को अलग करना। ग्रेट पैर की अंगुली दर्दनाक, सूजन और स्पर्श करने के लिए गर्म। सामान्य रूप से शीत अनुप्रयोग के साथ दर्द ठीक हो जाता है।

एंटीमोनियम क्रूड: गैस्ट्रिक शिकायतों के साथ विशेष रूप से ऊँची एड़ी और उंगलियों में गठिया दर्द। जीभ मोटी सफेद लेपित है। गर्मी और ठंडे स्नान के साथ लक्षण बढ़े। 

सबिना: यह गर्भाशय बीमारियों के साथ महिला रोगी के लिए सबसे अच्छा है। गर्म कमरे में संयुक्त दर्द खराब हो जाता है। लाल चमकदार सूजन और गौटी नोडोसिटी की रोगी शिकायतें। Esp। गर्भाशय की परेशानी के साथ महिलाओं में।

अर्नीका: सूजन और दर्द से पीड़ित भावनाओं के साथ जोड़ों में दर्द, दर्द चलने के साथ बढ़ता है। अलग संयुक्त दर्द के कारण, रोगी को उसके निकट छुआ या संपर्क करने से डर लगता है।

बर्बेरिस वल्गारिस: क्रोनिक गठ संविधान। दर्द की अचानक शुरुआत। जोड़ों में अचानक सिलाई दर्द की रोगी शिकायतें। दर्द गति के साथ बढ़ता है। मेटाटारल हड्डियों के बीच दर्द को सिलाई करना जैसे नाखून छेड़छाड़ कर रहा है, खड़े होने पर दर्द बढ़ता है।

लाइकोपोडियम: एक कंकड़ पत्थर से दर्द को ठीक करें। पैर की उंगलियों और उंगलियों में दर्द के साथ तलवों पर कॉलोसिटी। दाहिने पैर गर्म और बाएं पैर ठंडा। पेशाब के दौरान रोगी रोना, पेशाब में लाल तलछट। पेशाब गुजरने के बाद बैकैश में सुधार हुआ। संयुक्त दर्द और अन्य शिकायतें 4 बजे से शाम 8 बजे के बीच बढ़ीं।


Rhododendron: जोड़ों के दर्द और सूजन विशेष रूप से महान पैर की अंगुली संयुक्त, दर्दनाक स्थिति तूफान से पहले बढ़ जाती है। सही पक्षपातपूर्ण स्नेह। सुबह में सुबह, तूफान से पहले और लंबे समय तक रहने के बाद संयुक्त दर्द बढ़ गया। सामान्य रूप से गर्मी और खाने में गर्मी के साथ।
Homeopathy for Cold cough Flu

Homeopathy for Cold cough Flu

FARIDABAD : 12 October  I  भरी हुई नाक तब होती है जब नाक और आसन्न ऊतकों और रक्त वाहिकाओं को अधिक तरल पदार्थ के साथ सूज हो जाता है, जिससे "घृणित" लग रहा हो। नाक की भीड़ या अनुनासिक निर्वहन या "बहुरंगी नाक" के साथ नहीं हो सकती है।


आमतौर पर नाक की भीड़ पुराने बच्चों और वयस्कों के लिए एक झुंझलाहट है। लेकिन नाक की भीड़ उन बच्चों के लिए गंभीर हो सकती है जिनकी नींद उनकी नाक की भीड़ या शिशुओं से परेशान होती है, जिनके परिणामस्वरूप एक कठिन समय पर भोजन हो सकता है।


कारण - नाक की भीड़ किसी भी चीज के कारण हो सकती है जो अनुनासिक ऊतकों को उत्तेजित या उत्तेजित करती है। संक्रमण - जैसे सर्दी, फ्लू या साइनसाइटिस - एलर्जी और विभिन्न परेशानी, जैसे कि तम्बाकू धूम्रपान, सब कुछ नाक का कारण हो सकता है कुछ लोगों को बिना किसी स्पष्ट कारण के लिए लंबे समय से चलने वाले नाक हैं - एक शर्त जिसे नॉनलार्लिक राइनाइटिस या वासोमोटर रिनिटिस (वीएमआर) कहा जाता है।

कम सामान्यतः, नाक की भीड़ कणिकाओं या एक ट्यूमर के कारण हो सकती है।


नाक की भीड़ के संभावित कारणों में शामिल हैं: तीव्र साइनसाइटिस, एलर्जी, क्रोनिक साइनसिस, सामान्य सर्दी, डिकॉग्स्टेस्टेंट नाक स्प्रे अति प्रयोग, विच्छेदन सेप्टम, मादक पदार्थों की लत, सूखी हवा, बढ़े हुए एनोनेओड्स, नाक में विदेशी शरीर, हार्मोनल परिवर्तन, फ्लू, दवाएं, जैसे कि उच्च रक्तचाप की दवाएं, नाक जंतु, गैर एलर्जी रैनिटिस, व्यवसायिक अस्थमा, गर्भावस्था, श्वसन संक्रमण संबंधी वायरस, तनाव, थायराइड विकार, तंबाकू का धुआं, बहुभुज के साथ ग्रैनुलोमेटोसिस





NUX VOMICA 30-Nux Vomica नाक बाधा रात के समय में अपने चरम पर है जब राहत प्रदान करने में महान मदद के प्रभावी होम्योपैथिक उपाय नक्स वोमिका रात के घंटों में बेहद भरे हुए नाक वाले रोगियों को आराम प्रदान करने में बहुत फायदेमंद है। रोगियों को इस होम्योपैथिक उपाय की आवश्यकता होती है, रात के समय तीव्र नाक भराई होती है। व्यक्ति यह भी वर्णन कर सकता है कि दिन के दौरान, रात में नाक निर्वहन होता है, इसे अवरुद्ध कर दिया जाता है। इसके अलावा मरीज़ एक तरफ नाक की बाधा और अन्य पर मुक्ति के मुक्त महसूस कर सकते हैं। खुली हवा में जाकर नाक अवरोध को भी बिगड़ता है।

सैम्बुक्स एनआईजी 30-सॅंबुबुस नाक रुकावट के लिए एक और शीर्ष होम्योपैथिक दवा है जो अत्यंत नाक नाक छिद्रों के साथ है। रुकावट के कारण सांस लेने में बहुत मुश्किल है और यह व्यक्ति को बैठने के लिए मजबूर करता है। अधिकतर रात में, घुटन और साँस लेने में कठिनाई के कारण व्यक्ति को नींद से बैठना पड़ता है। नाक अवरोध के लिए शिशुओं को दिया जाने पर सैंबुबुस भी बहुत प्रभावशाली होता है। रुकावट घुटन और मुँह में सांस लेने की ओर जाता है और शिशु को मां की फूड लेने के दौरान बुरी स्थिति का सामना करना पड़ता है

आर्सेनिक्स एल्बम 30-आर्सेनिकम एल्बम का निर्धारण तब किया जाता है जब नाक के अवरोध नाक एलर्जी के कारण होते हैं। यह मुख्य रूप से निर्धारित होता है जब नाक अवरोध के साथ जल नाक निर्वहन जल रहा है। वहाँ नाक से प्रचुर मात्रा में पानी और उत्तेजक निर्वहन है। तीव्र प्यास है और मरीज को खुली हवा में भी बुरा लगता है।

ग्लेज़ैमियम 30-गिल्सिमियम निर्धारित किया जाता है जब नाक रुकावट में बंद महसूस होने के साथ सुस्त सिरदर्द होता है, और एक धाराप्रवाह नाक निर्वहन होता है।

सिनापिस एनआईजीआरए 30 - सिनापीस नीग्रै एलर्जी के कारण नाक की भीड़ के लिए एक और उपाय है। यह तब निर्धारित होता है जब वैकल्पिक नहर एलर्जी की प्रतिक्रिया के कारण अवरुद्ध होते हैं। नाक और आंखों से भी मुक्ति होती है।

कैलकिया कार्ब 30- नाक पॉलीप के कारण कैल्केरा कार्ब नाक रुकावट के लिए बहुत प्रभावी है कार्ब नाक कणों के लिए एक और उत्कृष्ट होम्योपैथिक दवा है। यह ज्यादातर बाएं पक्षीय नाक कणों के लिए संकेत दिया जाता है। बाएं तरफ नलिका अवरुद्ध लगता है नाक से भ्रूण पीला डिस्पैच के साथ इसमें शामिल किया जा सकता है नाक में दुख और विकृत सनसनी भी महसूस होती है। नाक में आक्रामक गंध भी चिह्नित है नाक की जड़ में बहुत अधिक सूजन होती है। क्लेक्वेरा कार्ब का निर्धारण तब किया जाता है जब लोग आसानी से ले जाते हैं। मौसम में बदलाव नाक की शिकायतों से जुड़ा होता है। कैल्केरा कार्ब वसा, पिलपिला व्यक्तियों के लिए अधिक उपयुक्त है, जिनके अंडे की लालसा है।

लैम्ना लघु 30 - पॉलिप्स के कारण नाक अवरोध को हटाने के लिए लेम्ना माइनर शीर्ष होम्योपैथिक उपाय है। इसका उपयोग करने वाले लक्षण श्वास लेने में कठिनाई के साथ नाक कब्ज और गंध की हानि होते हैं। पोस्टेरियर टपकता भी नाक रुकावट के साथ आते हैं। कुछ व्यक्ति नाक डिस्चार्ज का अनुभव करते हैं, जबकि अन्य में, नाक गुहा शुष्क रहता है। अवरुद्ध नाक में आक्रामक गंध है लेम्ना माइनर पॉलीप के लिए सबसे प्रभावी होम्योपैथिक उपाय है जो गीली मौसम में बिगड़ता है। पॉलीप के मामलों में, लेम्ना माइनर नाक अवरोध को कम कर देता है, श्वसन की समस्या से राहत देता है, और गंध की शक्ति फिर से आती है।

संगीन्रिया नाइट्रिकम 3 एक्स - सोंगुनेरिया नाइट्रिकम, पॉलीप के कारण नाक की भीड़ के लिए भी प्रभावी है और यह नाक को नाक के नाक के साथ अवरुद्ध होने पर भी एक प्रभावी होम्योपैथिक दवा है। डिस्चार्ज प्रकृति में बहुत जलते हैं और व्यक्ति को छींकने का भी अनुभव होता है।

काली बीआईटीमाइकियम 30-काली बिच्रिमिक्यू सिनाइसिस के कारण नाक की भीड़ के लिए एक उत्कृष्ट उपाय है, जहां डिस्चार्ज गले में वापस चला जाता है।

Wednesday, 10 October 2018

 युवाओं और बच्चों में तेजी से बढं रहा है मोटापा: डाॅ. पंकज हंस

युवाओं और बच्चों में तेजी से बढं रहा है मोटापा: डाॅ. पंकज हंस

फरीदाबाद 10 अक्तूबर 2018 :  आज की अनियमित जीवनशैली, अनियंत्रित खानपान और शारीरिक श्रम कम होने के कारण मोटापा निरंतर बढ़ता जा रहा है। मोटापा अनेक गंभीर बीमारियों का जन्म देता है। इसके कारण डायबिटीज़, किड़नी रोग, उच्च रक्तचाप व अन्य बीमारियां हो सकती हैं। इसके अलावा मोटापा इंसान को निष्क्रिय बना देता है। पहले उम्रदराज लोग इसके शिकार होते थे, लेकिन अब युवावर्ग व बच्चे भी इसकी चपेट में आ रहे हैं।

एशियन इंस्टीटयूट आॅफ मेडिकल साइंसेज अस्पताल के एचओडी एवं सीनियर कंसलटेंट मिनिमल इंवेसिव मेटाबोलिक एंड बैरिएट्रिक सर्जरी विभाग के डाॅ. पंकज कुमार हंस का कहना है कि मोटापे से न केवल शरीर भद्दा और बेडौल नज़र आने लगता है बल्कि मौटापे के कारण कई तरह की बीमारियां जैसे कि डायब्टिीज, ब्लड प्रैशर, ह्रदय संबधी भी होने लगती हैं। आज के दौर में हर व्यक्ति आकर्षक दिखना चाहता है, लेकिन घंटों कम्प्यूटर पर बैठकर काम करने और अनियंत्रित खानपान के कारण वज़न बढ़ने लगता है।

बच्चे भी खेलकूद करने की बजाए घर में ही बैठकर वीडियोगैम खेलते है, कम्पयूटर व टीवी पर घंटों कार्टून देखते है बिना किसी शारीरिक एक्टीविटी के कारण उनका बढ़ने लगता है।

आमतौर पर लोग मोटापा कम करने के लिए सबसे पहले खाना खाना छोड़ देते हैं। मोटापा कम करने का उन्हें यह सबसे सरल तरीका नज़र आता है जबकि खाना छोड़ना उनकी सेहत के लिए हानिकारक साबित हो सकता है। लोगों को मोटापा कम करने के लिए सबसे पहले मीठे व अत्याधिक कार्बोहाइड्रेट के सेवन से परहेज करना चाहिए।

लोग मोटापे से बचने या कम करने के लिए कभी सुबह का नाश्ता, कभी दोपहर का भोजन तो कभी रात का खाना खाना छोड़ देते हैं और जब वे खाना खाना छोड़ देते हैं तो भूख लगने पर वे भूख मिटाने के लिए ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन करते हैं, जिनमें कार्बोहाइड्रेट या लिपिड कंटेंट ज्यादा होता है।

अधिकतर लोग भूख को कम करने के लिए चाय पीने लगते हैं। अन्य स्वीट्स जैसे बिस्कुट, कुकीज आदि का सेवन करने लगते हैं, या फिर तली हुई चीजें जैसे समोसे, बे्रड पकौडे़, पेटीज़ आदि चीजें खाने लगते हैं। इन चीजों में कैलोरी अधिक होने के कारण व्यक्ति का वज़न कम होने की बजाय बढ़ने लगता है और वह मोटापे का शिकार हो जाता है। आज के समय में बच्चें भी इन्ही सब चीजों को खाना ज्यादा पसंद करते है यही कारण है कि मौटापे का शिकार हो रहे हैं ।

डाॅ. पंकज का कहना है कि शुगर का किसी भी रूप में शरीर में जाना सेहत के लिए हानिकारक होता है इसलिए प्रत्येक व्यक्ति को अत्याधिक शुगर के इस्तेमाल से बचना चाहिए। उनका कहना है कि स्वास्थ्य की दृष्टि से शुगर जंकफूड से जयादा खतरनाक है। जिस प्रकार हम अपने खानपान में नमक का एक निश्चित मात्रा में सेवन करते हैं उसी प्रकार हमें अपने मीठे का सेवन भी निश्चित मात्रा में करना चाहिए, ताकि हम मोटापे या अन्य बीमारियों की चपेट में न आ सकें।



 मोटापे से कैसे बचें: तले हुए खाद्य पदार्थों के सेवन से बचना चाहिए।

 खानपान में शुगर कार्बोहाइड्रेट युक्त भेजन जैसे रोटी, चावल, आलू का इस्तेमाल कम करना चाहिए।

तनाव से बचें।

नियमित रूप से जांच कराएं।

संतुलित खानापान लें।

पर्याप्त नींद लें।

शारीरिक श्रम व नियमित व्यायाम करें।

Tuesday, 9 October 2018

 AWSME PRODUCTIONS IN THE FORM OF FASHION SHOW

AWSME PRODUCTIONS IN THE FORM OF FASHION SHOW

FARIDABAD 10 October ; On 2nd of October, 2018 a fashion show, Mr Miss and Mrs Awsme 2k18, was organized by Awsme Productions. Mr. NITIZ JOSHI, director of the company said, main cause of the event was to promote the Gender EQUALITY. The whole event was hosted by the Anchor PULKIT BAGGA. The event started with lamp lighting by the Chief Guest, Nagendra Bhadana (Vidhaayak - Vidhaan Sabha) followed by Ganesh Vandana and few other performances like Udratri band, Shriya (the trio music performance), Sapna Chakraborty (singer). JD institute of Hauz Khaas also walked the ramp. It was their guest appearance performance. Their performance was based on the the theme of the event, Gender Equality. After the performances the main event started with the ramp walk by the Showstopper, Sharry Nanda (model) followed by all the 16 contestants of Mr Miss and Mrs Awsme 2k18, which also included the introduction round, Question and answer round and talent round of the contestants.






JURY
Daizy Rajat (Director of Saavdhan India and Crime Patrol), Chiranjeevi Bajpai (writer of India's first Web film U ME Aur GHAR and has also worked with TVF as a writer) and Shubhi Aggarwal (Model) were in the Jury panel.

GUEST OF HONOUR
There were also few guest of honours which included PUNYATA JAIN (Tarrot Card reader and Numerologist), Sachin Dekwal (boxer), Sagar Narwat (Boxer), Manju Bali (Model) and Komal Tevtiya (Mrs India Globe runner-up model).

CELEBRITY GUEST
Vaani Bhel (winner of Colors of Youth) was also the part of the event.

GUEST APPEARANCE PERFORMANCE
JD institute of Fashion Technology Hauz Khaas, walked the ramp. It was their guest appearance performance. Their performance was based on the theme of the event, Gender Equality.

WINNERS
Rahul became Mr Awsme 2k18
Ritu became Mrs Awsme 2k18
Swati became Miss Awsme 2k18
Meenakshi Malhotra Mrs Awsme IQ 2k18

Awesme productions is a production house which is a part of the major company, Mistletoe Entertainments. The company was established in 2016 by Mr.Nitiz Joshi (Director of the company) with few projects in hand aspire to become one of the famous media company in the field of entertainment and events . We started with portfolio and wedding shoots followed by making youtube videos. We also do film reviews of the new releases to give a better gist of the films. Our mind is creative and expect people to work with us who can think creatively beyond everyone's imagination. Our belief is to look out the world in the creative way rather than being practical because practical is too boring and one needs something entertaining to refresh their mind that is why we are here for you, the most creative entertainment company. We deals with bountiful branches of mass communication ie- AD & Film Production,Wedding, Music video, Portfolios photography, Graphics and Web designing , events and parties followed by film reviews. Awsme productions also includes following things:-

It has a wide background in short films / festival films / photoshoots and post Production works.  

It has a team of professionals who have worked for Savdhaan India / crime patrol as Crew . 

Writers who have worked for short films / festival films . 

We are professionals from the field of Mass communication and Films . 

Have done projects for fashion shoots / film shoots / event shoots.


 Our company is well acquainted with the art of delineating diverse and intense emotions in an effective way. We work as per your expectations. And can create anything according to your expectations. Our work is to create the new ideas and not adopt the existing one's. Give us a chance to execute your dreams, because client satisfaction is indispensable to us.
Article written by: Jasmine Setia

Saturday, 6 October 2018

एम्.ए.ऍफ़. का 34 उधोग प्रबंधको का प्रतिनिधिमंडल कंटोन व्यापार मेला (चीन) के लिए रवाना

एम्.ए.ऍफ़. का 34 उधोग प्रबंधको का प्रतिनिधिमंडल कंटोन व्यापार मेला (चीन) के लिए रवाना

फरीदाबाद 7 अक्टूबर । मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन फरीदाबाद द्वारा एक बार फिर 34 उद्दोगपतियों का प्रतिनिधिमंडल महासचिव रमणीक प्रभाकर के नेतृत्व में कंटोन व्यापार मेला (चीन) जाने के लिए तैयार है | दिनांक 13 से 20 अक्टूबर 2018 तक यह व्यापार मेला चलेगा  | इससे पहले यूरोप और चीन दो बार पहले भी एसोसिएशन के मेम्बर्स विदेश यात्रा का लाभ उठा चुके है | यह तीसरी बार है जो इतना बड़ा प्रतिनिधिमंडल विदेश यात्रा का लाभ उठा पाएगा | इसमें हमारे 6 सदस्य तो ऐसे है जिनका पासपोर्ट भी अभी बना है व् 14 प्रबंधक ऐसे है जो पहली बार विदेशी यात्रा पर जा रहे है |



उल्लेखनीय है कि कंटोन व्यापार मेला विश्व का सबसे बड़ा औधोगिक मेला कहा जाता है सन 1957 से इस व्यापार मेले की शुरुआत हुई | यह साल में 2 बार लगता है,  जिसमे 110 देश भाग लेते है | इस मेले में लगभग 50 हजार स्टाल होते है और 2 लाख 50 हजार के लगभग उधोग जगत से सम्बंधित लोग इसे देखने के लिए आते है | मेले में इंजीनियरिंग, आटोमोटिव, मेटल, कास्टिंग, इलेक्ट्रिक साइकल, इलेक्ट्रिक स्कूटी एवं मैन्युफैक्चरिंग से संबंधित अति आधुनिक तकनीक एवं मशीने प्रदर्शित की जाती है |   



महासचिव रमणीक प्रभाकर ने कहा फरीदाबाद के उधोग प्रबंधको को इस मेले में प्रदर्शित तकनीक व् मशीनों से ककाफी लाभ हुआ है | कई उधोग प्रबंधको ने मशीने खरीदी है जबकि कई नई तकनीक को अपना कर अपने उधोग को आगे बढ़ाने में कामयाब रहे है |

मुख्य अतिथि श्री प्रशांत भल्ला जी, कुलाधिपति मानव रचना इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी ने सभी उधोग प्रबंधको को यात्रा पर जाने की हार्दिक शुभकामनाए देते हुए कहा की यह एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जहा से मनुष्य अपना भविष्य निर्भर करता है, आप नई तकनीक देखते है, नए उत्पाद देखते है फिर उसी को अपने उधोग में इस्तेमाल करते है | जिससे हमारे उधोग में नरंतर विकास होता है और हम नई उपलब्धियां हासिल कर लेते है |



सम्मानीय अतिथि श्री प्रदीप मोहन्ती जी MD M/s. SledgeHammer Oil Tools Pvt. Ltd. ने बताया आज मेने जो भी उधोग उत्पाद में उप्लभ्धिया हासिल की है वह इन्ही नई तकनीकों को देखकर समझकर व अपना कर की है और हम व्यापार मेले में जाकर ही कुछ सीख सकते है | उन्होंने सभी मेम्बर्स को जाने के लिए बधाई दी |

 इस मौके पर आये सम्मानीय अतिथि डॉ. कृष्ण कुमार जी ने सभी सदस्यों को कंटोन व्यापार मेले में जाने के लिए बधाई दी व् हेल्थ टिप्स दिए कि हमें स्वस्थ रहने के लिए हमेशा टाइम टेबल बनाना चाहिए | नियमित व्यायाम करना, सैर करना, फास्ट फ़ूड का प्रयोग न करना, टाइम से सोना, टाइम पर उठना व् आप बाहर जा रहे है तो चेहरे पर मास्क का प्रयोग करना  आदि |  

प्रधान श्री अजय जुनेजा जी व् कोषाध्यक्ष श्री ऋषि त्यागी जी ने कंटोन व्यापार में जा रहे सदस्य अनिल सचदेवा, विनोद गर्ग, नीरज जैन, रवि दत्त केंद्रीय, मनिक सचदेवा, नवनीश शर्मा प्रदीप कुमार, मनोज कुमार चाहर, प्रणव जैन, सुनीता कश्यप, जगदीश शर्मा, राज कुमार शर्मा, राजीव कुमार भट्ट, अनिल दुआ, मोहिंदर पाल, अनिल वोहरा, मनोज शर्मा, जीतेन्द्र पाल शाह, तेजीश प्रभाकर, मोहन मुकट शर्मा, प्रकाश चंद्र गुप्ता, राजपाल यादव, प्रदीप सेठी, तुला राम शास्त्री, राजू मिश्रा, विश्वज्ञ धीमान, हुकम सिंह, दीपक टांटिया, रविन्द्र गर्ग, यमन मलिक व् संजीव मालिक को हार्दिक शुभकामनाए दी |

Sunday, 30 September 2018

सोनल गोयल को मिला आउटस्टैंडिंग वुमन एडमिनिस्ट्रेटर अवार्ड

सोनल गोयल को मिला आउटस्टैंडिंग वुमन एडमिनिस्ट्रेटर अवार्ड

 झज्जर, 1 अक्टूबर। हरियाणा के झज्जर जिला की उपायुक्त सोनल गोयल को रविवार को नई दिल्ली में एफएमआरटी अस्मिता- वुमन लीडरशिप कॉन्क्लेव में आउटस्टैंडिंग वुमन एडमिनिस्ट्रेटर अवार्ड से नवाजा गया। कॉनक्लेव की मुख्यातिथि पद्म भूषण सम्मान प्राप्त एवं प्रख्यात अभिनेत्री शबाना आजमी द्वारा सम्मान समारोह में अकेली महिला प्रशासनिक अधिकारी सोनल गोयल को एडमिनिस्ट्रेटर अवार्ड प्रदान करते हुए उनकी कार्यशैली की सराहना की और उन्हें महिलाओं के लिए एक आदर्श बताया। सम्मान समारोह में पद्म श्री शोवना नारायण बतौर विशिष्ट अतिथि मौजूद रही जबकि कार्यक्रम की अध्यक्षता  एफएमआरटी की फाउंडर व चेयरपर्सन डॉ ज्योति राणा ने की। गौरतलब है कि एफएमआरटी अस्मिता- वुमन लीडरशिप कॉन्क्लेव में विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय कार्य करने वाली महिलाओं को  नई दिल्ली स्थित नेहरू मेमोरियल म्यूजियम एंड लाइब्रेरी सभागार में सम्मानित किया गया। 

वुमन लीडरशिप कॉन्क्लेव में मुख्यातिथि शबाना आजमी ने झज्जर उपायुक्त सोनल गोयल को सम्मान देते हुए कहा कि उन्हें बताया गया कि झज्जर जिले में श्रीमती गोयल द्वारा सामाजिक बदलाव में उठाये जा रहे कदम महिला सशक्तिकरण की दिशा में अहम हैं। उन्होंने कहा कि एक प्रशासनिक अधिकारी के तौर पर जिस प्रकार सोनल गोयल अपनी जिम्मेवारी निभा रही हैं वहीं उनके जनहित में सामाजिक संदेश के साथ किये जा रहे कार्य न केवल महिलाओं बल्कि पूरे समाज के लिए प्रेरणास्रोत हैं। आउटस्टैंडिंग वुमन एडमिनिस्ट्रेटर अवार्ड लेने उपरांत मंच से उपायुक्त सोनल गोयल ने अपने अनुभव भी सांझे किये। उन्होंने कहा कि देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी व हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल एक सकारात्मक सोच के साथ सामाजिक बदलाव की दृष्टि से काम कर रहे हैं। 

एक सफल नेतृत्व को मार्गदर्शक मानते हुए वे भी प्रयास करती हैं कि केंद्र व प्रदेश सरकार की जनकल्याणकारी नीतियों का लाभ समाज के अंतिम व्यक्ति तक पहुंचे। ऐसे में आधारभूत ढांचागत विकास कराने के साथ ही झज्जर जिले में सोच-पे-दस्तक मुहिम के तहत पुरुषों व महिलाओं की मानसकिता को बदलने की कोशिश झज्जर प्रशासन की ओर से की जा रही है। युवा शक्ति को भी इस मुहिम से जोड़ते हुए संस्कारवान बनाया जा रहा है ताकि महिलाओं के प्रति आपराधिक मामलों पर अंकुश लग सके। उन्होंने अपने विचार रखते हुए कहा कि महिला होना ही आपके जीवन की सबसे बड़ी उपलब्धि है, न कि आपका सबसे बड़ा डर। इस नारीत्व को अपने आत्मविश्वास के रूप में अपनाकर अपने डर और दबाव को दूर किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि बेटी की शिक्षा पूरे परिवार को शिक्षित करती है, ऐसे में बेटियों को स्वावलंबी बनाना बेहद जरूरी है। यहां आपको बता दें कि अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर 8 मार्च को उपायुक्त सोनल गोयल ने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत हरियाणा की टीम का नेतृत्व किया था। राष्ट्रपति श्री राम नाथ कोविंद ने झज्जर जिले में चलाए जा रहे पुनीत अभियान के लिए उपायुक्त सोनल को प्रोत्साहित भी किया। 

कॉन्क्लेव के दौरान उपायुक्त सोनल गोयल सहित आईआईएम कोजिखोड़े के निदेशक डॉ  देबाशीष चटर्जी, प्रो.निहारिका वोहरा, शुक्ला बोस, छांव फाउंडेशन की डायरेक्टर लक्ष्मी अग्रवाल, काल्कि सुब्रमण्यम, पूर्व मिस इंडिया शिवानी वजीर, डॉ कृति पारेख, डॉ कविता ए शर्मा, लेखिका प्रीति सिंह, तन्नू वेड्स मनु फेम अभिनेत्री दीप्ती मिश्रा ने विचार सांझे किए।

Thursday, 20 September 2018

फरीदाबाद के दविन्द्र सिंह ने केबीसी मेें जीते 6 लाख 40 हजार

फरीदाबाद के दविन्द्र सिंह ने केबीसी मेें जीते 6 लाख 40 हजार

फरीदाबाद 20 सितम्बर ।  अगर इंसान के इरादे बुलंद हो तो सपने साकार किए जा सकते है, ऐसा ही कुछ कर दिखाया है फरीदाबाद के सेक्टर-28 में रहने वाले इंजीनियर सरदार दविन्द्र सिंह ने। उन्होंने बहुचर्चित कौन बनेगा करोड़पति शो में महानायक अभिताभ बच्चन के सामने हॉट सीट पर बैठकर 6 लाख 40 हजार रुपए की रकम जीत ली। हालांकि बुधवार को शो के दौरान वह दो हजार रुपए ही जीत पाए थे और गुरुवार रात्रि उनके इस शो का प्रसारण किया जाएगा। पत्रकारों से बातचीत करते हुए दविन्द्र सिंह ने गुरुवार को बताया कि 12 लाख 50 हजार के प्रश्र पर आकर वह अटक गए और उन्होंने रिस्क न देते हुए खेल को क्विट कर दिया। यह रकम उनके लिए कुछ मायने नहीं है, लेकिन सदी के महानायक अमिताभ बच्चन के साथ गुजारा गया समय वह ताउम्र याद रखेंगे। उन्होंने बताया कि वह पिछले 18 वर्षाे से केबीसी में भाग लेने का प्रयास कर रहे थे

 आखिरकार 2018 में उनकी मेहनत रंग लाई। अमिताभ बच्चन के सामने हॉट सीट पर बैठते हुए दविन्द्र सिंह ने उन्हें बताया कि बचपन से ही उन्हेें एक्टिंग का शौक रहा है और उनकी कला के दीवाने है उन्होंने अमिताभ बच्चन से उनकी फिल्म ‘दीवार’ का एक डायलॉग ‘ आज खुश तो बहुत होंगे तुम, जो आज तक तुम्हारे मंदिर की सीढिय़ां नहीं चढ़ा, जिसने आज तक तुम्हारे आगे हाथ नहीं जोड़े, वो आज तुम्हारे सामने हाथ फैलाकर खड़ा है’ बोलने की गुजारिश की। हालांकि पहले अमिताभ बच्चन ने मना कर दिया परंतु उनके द्वारा बार-बार गुजारिश करने पर उन्होंने यह डॉयलाग सुनाया, जिस पर वहां मौजूद लोगों ने जमकर तालियां बजाई। 

अमिताभ बच्चन ने दविन्द्र सिंह द्वारा हर सप्ताह ‘आपकी रसाई’ के माध्यम से 5 रुपए में गरीबों को भर पेट खाना खिलाने की मुहिम की जमकर प्रशंसा की और उनसे पूछा कि वह जीती हुई रकम का क्या करेंगे तो दविन्द्र सिंह ने कहा कि वह इस रकम को भी आपकी रसोई में खर्च करके लोगों को और बेहतर खाना खिलाएंगे। गौरतलब है कि सेक्टर-28 निवासी कंप्यूटर इंजीनियर और आइएमटी गाजियाबाद से एमबीए दविन्द्र ङ्क्षसह पेशे से गुडग़ांव की टेली शॉपिंग कंपनी में बतौर सीनियर मैनेजर जॉब करते है। इस शो में उनके बड़े भाई व माता जी भी गए थे, वह भी अमिताभ बच्चन से मिलकर बेहद उत्साहित नजर आए।

Wednesday, 12 September 2018

रावल डिस्ट्रिक्ट क्रिकेट एसोसिएशन  ( डीसीए )  का ग्राउंड बनकर हुआ तैयार : रजत भाटिया

रावल डिस्ट्रिक्ट क्रिकेट एसोसिएशन ( डीसीए ) का ग्राउंड बनकर हुआ तैयार : रजत भाटिया

भूपानी में रावल डिस्ट्रिक्ट क्रिकेट एसोसिएशन  ( डीसीए )  का ग्राउंड बनकर हुआ तैयार, ग्राउंड में बनाई गई पांच विकेट 
-ग्राउंड में बनाई गई 80 यार्ड की बाउंड्री : रजत भाटिया 

-तेज गेंदबाजों के लिए बनाई गई ग्रासी विकेट   

7.5 एकड़ मैं बना   रावल डिस्ट्रिक क्रिकेट एसोसिएशन का क्रिकेट मैदान 

फरीदाबाद 12 सितंबर  : तीन माह के भीतर रावल डिस्ट्रिक क्रिकेट एसोसिएशन ने भूपानी गांव में अपना नया ग्राउंड तैयार कर लिया है। 7.5 एकड़ में बनाए गए इस ग्राउंड में पांच विकेट बनाई गई है। इस ग्राउंड में मिनी स्टेडियम का रूप दिया गया है। यह जिले का सबसे बड़ा मैदान होगा । डीसीए प्रेजीडेंट रजत भाटिया ने बताया कि ग्राउंड पर विकेट तैयार होने के बाद सभी ट्रायल और टूर्नामेंट ग्राउंड पर ही करवाए जाएंगे। 

इंडिया ए एवं हरियाणा रणजी के प्रमुख कोच विजय यादव के अनुसार ग्राउंड को नेशनल लेवल के मैचों के अनुसार तैयार किया गया है। और तेज गेंदबाजों के लिए बनाई गई ग्रासी विकेट ताकि खिलाडिय़ों को ऐसी विकेट पर खेलकर नया अनुभव होगा ।  

इंटरनेशनल स्तर का बनाया गया मैदान 

रजत भाटिया ने बताया कि इस मैंदान को इंटरनेशनल स्तर पर बनाया जाएगा ,इस मैंदान मैं 80 यार्ड ( गज ) की बॉण्डरी है और ड्रेसिंग रूम और पवेलियन और आदि की सुविधाए भी रखी और पिच का निर्माण ग्रासी स्तर पर कराया गया ताकि गेंदबाजो और बल्लेबाजो को तेज पिच का अनुभव कराए जा सके । 

3 महीने मैं तैयार हो गया मैदान 

रजत भाटिया ने बताया कि इस पूरे मैंदान को 3 महीने मैं पूरा हो जाएगा तैयार, इस मैंदान पर 5 पिच बनाई गई है और हर प्रकार की पिच पर सिखने का अनुभव क्रिकेटरों को देगी I

महासचिव राजीव यादव ने बताया कि मैदान का निर्माण होने के बाद डिस्ट्रिक लीग मैच और डिस्ट्रिक्ट ट्रॉयल भी अपने मैदान पर ही होंगे । अब डिस्ट्रिक की कोई भी एक्टिविटी अपने मैदान पर ही करेगी । वैसे हमारे क्रिकेटर आगे निकल कर आ रहे हैं। और हरियाणा की ओर से बेहतर प्रदर्शन भी कर रहे हैं।

Thursday, 30 August 2018

बदी से नेकी की ओर ले जाने वाला अनोखा मानवता-ई-ओलम्पियाड

बदी से नेकी की ओर ले जाने वाला अनोखा मानवता-ई-ओलम्पियाड

चंडीगड़ : 31 अगस्त I हे ईश्वर ! हमें बुराई से अच्छाई की ओर ले चलो। हे ईश्वर ! हमें अंधकार से प्रकाश की ओर ले चलो। हे ईश्वर ! हमें मृत्यु से मोक्ष की ओर ले चलो। नि:संदेह वेद-शास्त्र के इस कथन से तो हम सब भली-भांति परिचित ही है, परन्तु इस कथन को चरितार्थ कर, मानव-धर्म से पतित इंसानों को पुन: अच्छाई के मार्ग पर प्रशस्त करने की तरफ कदम बढ़ाया है सतयुग दर्शन ट्रस्ट द्वारा निर्मित मानवता विकास क्लब के निष्काम युवा सदस्यों ने। 

आप सब को यह जानकर हैरानी होगी कि ट्रस्ट द्वारा अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित मानवता-ई-ओलम्पियाड ने आज यहाँ-वहाँ, जहाँ-तहाँ यानि कोचिंग सेन्टरों व स्कूलों में पढ़ रहे छात्र-छात्राओं में, कालेजों में व विभिन्न अन्य शिक्षण संस्थानों में शिक्षा ग्रहण कर रहे युवाओं में, मॉलों में, पार्कों में व बाजारों में सैर-सपाटा कर रहे इंसानों में, ओद्योगिक क्षेत्रों में व पेशेवर व्यवसायों में कार्यरत लोगों में, समाज से कटे हुए लाचार, अंध, अपंग, अनाथ बच्चों में व वृद्धाश्रमों में निवास कर रहे असहाय वृद्धों में, मानवता अपना कर एक अच्छा इंसान बनने की ऐसी उमंग जाग्रत कर दी है कि आज हर कोई, चाहे वह बाल हो या युवा हो, प्रौढ़ हो या वृद्ध हो, नेता हो या मंत्री हो, गायक हो या कलाकार, सब के सब 15 मिनिट की इस परीक्षा द्वारा, अपने वर्तमान नैतिक स्तर का जायज़ा ले, भौतिक पढ़ाई के साथ-साथ आत्मिक ज्ञान प्राप्ति की अनिवार्य आवश्यकता को स्वीकारने के लिए विवश हो गए हैं। 

उनके अनुसार यह परीक्षा कोई साधारण परीक्षा नहीं है अपितु यह परीक्षा तो वह परीक्षा है जो आत्मनिरीक्षण द्वारा, जन्म-जन्मांतरों से मानव मन में गहनता से छाए हुए अज्ञानमय अंधकार को भेद कर, आत्मज्योति के प्रकाश में, ख़ुद का खुद से परिचय कराने वाली है यानि मानव का उसके निज मानव धर्म मानवता से परिचय करा, आत्मसाक्षात्कार के सुनहरी मार्ग पर प्रशस्त करने वाली है। अन्य शब्दों में वर्तमान कलुषित नकारात्मक वातावरण में, सात्विकता से भरपूर सकारात्मक व उच्च विचारों के रूप में प्रवाहित हो रही इस परीक्षा की निर्मल अवधारणा ने, संसार में भटके हुए हर मानव के मन को इस तरह तरंगित कर दिया है कि सहज ही ह्मदय परिर्वतन की अभिलाषा उसके मन में जाग्रत हो गई है और वह बदी का रास्ता छोड़ नेकी की राह पर चलने के लिए तत्पर हो गया है। इस तरह पवित्रता की वाइबरेशनस यानि प्रकम्मपन इस परीक्षा के माध्यम से हर ह्मदय को झंकृत कर रहा है और प्रत्येक के मन में बुराई का रास्ता छोड़ पूर्णत: सदाचारी बनने की उमंग व उत्साह जाग्रत कर रहा है। सबकी जानकारी हेतु अब तक लगभग साढ़े 5 लाख सजन आनलाइन आयोजित इस परीक्षा को दे चुके हैं और अविचारी चलन त्याग कर विचार में आने के लिए तत्पर हो गए हैं। 

निश्चित ही इन अभूतपूर्व प्रयासों एवं प्राप्त हुई आशातीत सफलता को देखकर यह ज्ञात होता है कि परमेश्वर समय रहते ही हम जीवों के अन्दर आत्मिक ज्ञान प्राप्ति की अभिलाषा जाग्रत कर, बुरे से अच्छा इंसान बनने के लिए प्रेरित कर रहे हैं और विचार, सत्-जबान, एक दृष्टि, एकता, एक अवस्था में आकर  सतवस्तु में प्रवेश करने का आवाहन् दे रहे हैं। अत: ईश्वर के हुक्म की मननकारी करते हुए हम सबके लिए बनता है कि हम परमेश्वर द्वारा दर्शाए इस मार्ग का तहे दिल से अनुसरण करें और तद्नुकूल न केवल विचारसंगत जीवने जीने की कला सीखें अपितु उस कला के समुचित वर्त-वर्ताव द्वारा युग परिवर्तन के महत्त्वपूर्ण कार्य में भी निष्कामता से अपना भरपूर सहयोग दें। इस तरह फिर उस परमपिता परमात्मा का संग प्राप्त कर व समभाव नजरों में कर सजन वृत्ति अपनाए और समदर्शिता अनुरूप, परस्पर सजन भाव का व्यवहार करते हुए शांतिपूर्वक पावन जीवन जीते हुए सबके लिए कल्याणकारी साबित हो। 

अंत में सजनों अगर यह समाचार पढ़ने के पश्चात् अगर आप सब के मन में भी ऐसा सदाचारी, धर्मशील इंसान बनने की इच्छा जाग्रत हुई है और आप अपनी इस अभिलाषा को पूरा कर मानव जाति के उत्थान के निमित्त चलाए जा रहे इस प्रयोजन में अपना योगदान देना चाहते हो तो आज ही आनलाइन आयोजित इस परीक्षा को वेबसाइट www.humanityolympiad.org  पर जाकर अंग्रेजी एवं हिंदी किसी भी माध्यम में सम्पन्न करें और परोपकार की भावना से ओत-प्रोत हो सबसे भी कराएं । इस तरह लैपटॉप , स्मार्टफोन, टी.वी., ई-गेजेटस व अन्य आकर्षण इनाम पाने के हकदार बनें। सबकी जानकारी हेतु पुरस्कार वितरण समारोह दिनाँक 7 सितम्बर 2018, विश्व समभाव दिवस के शुभावसर पर फरीदाबाद, गाँव भूपानि स्थित ट्रस्ट के विशाल सभागार में सम्पन्न होगा। समभाव-समदृष्टि तथा मानवता के विषय में उचित मार्गदर्शन प्राप्त करने हेतु सभी से निवेदन है कि वह अवश्य ही घर-परिवार व सगे-सम्बन्धियो सहित इस आयोजन में सम्मिलित हो व अपना स्थान प्रात: साढे नौ बजे तक अवश्य ग्रहण कर लें। 

Thursday, 23 August 2018

यूरिक एसिड के लिए शीर्ष 10 होम्योपैथिक चिकित्सा - गठिया उपचार

यूरिक एसिड के लिए शीर्ष 10 होम्योपैथिक चिकित्सा - गठिया उपचार

फरीदाबाद 24 अगस्त ।  शास्त्रीय होम्योपैथिक क्लिनिक में, किसी भी बीमारी के लिए हमारा दृष्टिकोण व्यक्ति को पूरी तरह से इलाज करना है। इस प्रकार, रोगी के संविधान को कम करने से हमेशा शास्त्रीय होम्योपैथिक डॉक्टर को सबसे उपयुक्त उपाय चुनने में मदद मिलती है। सही होम्योपैथिक दवा के साथ डॉ। अभिषेक के अनुसार, एक आहार लेना बहुत महत्वपूर्ण है जो purines में कम है।

उच्च यूरिक एसिड के लिए सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथी चिकित्सा
आउरा होम्योपैथी में, डॉक्टरों की हमारी खुराक रोगी की कुल तस्वीर के आधार पर होम्योपैथिक दवा निर्धारित करती है जिसमें उसकी जीवनशैली, मानसिक तनाव, उसके तनाव स्तर और भावनात्मक स्थिति, उनके चरित्र, आहार, यूरिक एसिड का पारिवारिक इतिहास और अन्य कारक शामिल हैं। गौट-एरिक एसिड के लिए सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथिक दवा खोजने के लिए - दर्दनाक जोड़। ऑरा होम्योपैथी क्लिनिक में, हमारे उपचार को वैयक्तिकृत किया जाता है, यानी गठिया या उच्च यूरिक एसिड स्तर वाले 2 रोगियों को अलग-अलग व्यक्तियों के रूप में माना जाता है, और प्रत्येक रोगी को होम्योपैथिक दवा निर्धारित की जाएगी जो उनके लक्षण के साथ सबसे अच्छी तरह से मेल खाती है।

उच्च यूरिक एसिड होने के जोखिम के बारे में और जानने के लिए हमें देखें

गठिया के इलाज के लिए नीचे 10 सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथी दवाएं हैं- उच्च यूरिक एसिड।

कोल्चिकम: महान पैर की उंगलियों के दर्द और सूजन, एड़ी में दर्द की मरीज की शिकायत, वह भी छूने के लिए सहन नहीं कर सकता है। निचले हिस्सों की सूजन और ठंडाता। दर्द और बुखार के साथ जोड़ों की कठोरता। कभी-कभी दर्द को बदलने के रोगी की शिकायतों। रात और शाम को गर्म मौसम से दर्द बढ़ जाता है। अधिक जानकारी हमें देखें: दिल्ली में सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथी डॉक्टर

यूर्टिका यूरेन: यह होम्योपैथिक दवा उच्च यूरिक एसिड के स्तर के इलाज के लिए सर्वश्रेष्ठ है क्योंकि यह हमारे शरीर से यूरिक एसिड को खत्म करने में वृद्धि करती है। डायथेसिस: गठिया और यूरिक एसिड। संयुक्त दर्द त्वचा के विस्फोट जैसे आर्टिकरिया से जुड़ा हुआ है। Deltoid, कलाई और एड़ियों में सूजन और दर्द की रोगी शिकायत।

बेंजोइक एसिड: आक्रामक और उच्च रंगीन मूत्र के साथ-साथ क्रैकिंग ध्वनियों के साथ दर्द और पेट की सूजन और अन्य जोड़ों की सूजन की शिकायतें। दर्दनाक गठिया नोड्स। उजागर और खुली हवा में संयुक्त दर्द बढ़ता है।

लेडम पाल: आरोही संधिशोथ के लिए सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथिक दवा, विशेष रूप से छोटे जोड़ों के दर्द को अलग करना। ग्रेट पैर की अंगुली दर्दनाक, सूजन और स्पर्श करने के लिए गर्म। सामान्य रूप से शीत अनुप्रयोग के साथ दर्द ठीक हो जाता है।

एंटीमोनियम क्रूड: गैस्ट्रिक शिकायतों के साथ विशेष रूप से ऊँची एड़ी और उंगलियों में गठिया दर्द। जीभ मोटी सफेद लेपित है। गर्मी और ठंडे स्नान के साथ लक्षण बढ़े। अधिक जानकारी हमें देखें: दिल्ली में सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथी डॉक्टर

सबिना: यह गर्भाशय बीमारियों के साथ महिला रोगी के लिए सबसे अच्छा है। गर्म कमरे में संयुक्त दर्द खराब हो जाता है। लाल चमकदार सूजन और गौटी नोडोसिटी की रोगी शिकायतें। Esp। गर्भाशय की परेशानी के साथ महिलाओं में।

अर्नीका: सूजन और दर्द से पीड़ित भावनाओं के साथ जोड़ों में दर्द, दर्द चलने के साथ बढ़ता है। अलग संयुक्त दर्द के कारण, रोगी को उसके निकट छुआ या संपर्क करने से डर लगता है।

बर्बेरिस वल्गारिस: क्रोनिक गठ संविधान। दर्द की अचानक शुरुआत। जोड़ों में अचानक सिलाई दर्द की रोगी शिकायतें। दर्द गति के साथ बढ़ता है। मेटाटारल हड्डियों के बीच दर्द को सिलाई करना जैसे नाखून छेड़छाड़ कर रहा है, खड़े होने पर दर्द बढ़ता है।

लाइकोपोडियम: एक कंकड़ पत्थर से दर्द को ठीक करें। पैर की उंगलियों और उंगलियों में दर्द के साथ तलवों पर कॉलोसिटी। दाहिने पैर गर्म और बाएं पैर ठंडा। पेशाब के दौरान रोगी रोना, पेशाब में लाल तलछट। पेशाब गुजरने के बाद बैकैश में सुधार हुआ। संयुक्त दर्द और अन्य शिकायतें 4 बजे से शाम 8 बजे के बीच बढ़ीं।

Rhododendron: जोड़ों के दर्द और सूजन विशेष रूप से महान पैर की अंगुली संयुक्त, दर्दनाक स्थिति तूफान से पहले बढ़ जाती है। सही पक्षपातपूर्ण स्नेह। सुबह में सुबह, तूफान से पहले और लंबे समय तक रहने के बाद संयुक्त दर्द बढ़ गया। सामान्य रूप से गर्मी और खाने में गर्मी के साथ।

Tuesday, 21 August 2018

एशियन शूटिंग चैंपियनशिप में फरीदाबाद के लक्ष्य ने सिल्वर मैडल जीता – पीएम मोदी ने टवीट कर दी शुभकामनाये

एशियन शूटिंग चैंपियनशिप में फरीदाबाद के लक्ष्य ने सिल्वर मैडल जीता – पीएम मोदी ने टवीट कर दी शुभकामनाये

फरीदाबाद 21 अगस्त । फरीदाबाद के युवा लक्ष्य की  एशियन शूटिंग चैंपियनशिप में सिल्वर मेडल के जीत की खबर मिलते ही उनकी सोसाइटी में जमकर ढोल बाजे पर नाच गाना और एक दूसरे को मिठाई खिलाने का दौर शुरू हो गया । गौरतलब है की मूल रूप से जींद के रहने वाले लक्ष्य फरीदाबाद में रहकर शूटिंग की तयारी के  साथ -साथ अपनी BA सेकेण्ड  ईयर की पढ़ाई भी कर रहे थे।

 ढोल पर झूमते नाचते गाते और एक दूसरे को मिठाई खिलाते नजर आ रहे लोग फरीदाबाद के लेक व्यू सोसाइटी के रहने वाले हैं ।  दरअसल लक्ष्य इन दिनों  फरीदाबाद के सैक्टर 48 के लेक व्यू सोसाइटी में रहकर अपनी पढ़ाई और शूटिंग की तैयारियों में जुटा था । आज जैसे ही उसकी जीत की खबर सोसायटी के लोगों को पता चली,  सोसाइटी में जश्न  मानना  शुरू हो गया और ढोल बाजे पर सोसाइटी वालों ने और उसके परिवार ने जमकर डांस किया और एक दूसरे को मिठाइयां खिला कर लक्ष्य के जीत की  बधाईयां दी ।हालाँकि  लक्ष्य का पूरा परिवार जींद में रहता है । लक्ष्य की मां की माने तो लक्ष्य  को शूटिंग का शौक सूचना प्रसारण मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठोर को मेडल मिलते देखने के बाद हुआ  और उसके बाद जब उसने शूटिंग शुरू की तो आज तक मैडम मिलने का सिलसिला रुका नही और आज भी बेटे में सिल्वर मैडल जीतकर न केवल मां बाप का बल्कि पुरे जींद जिले सहित हरियाणा प्रदेश  के लोगों और पुरे देश का नाम रोशन कर दिखाया  । लक्ष्य की मां उसकी कामयाबी के लिए उसके कोच और परिवार सहित  लक्ष्य के दादा को क्रेडिट देती है ।

Monday, 20 August 2018

पहलवान बजरंग पूनिया ने गोल्ड मैडल स्वर्गीय श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी को समर्पित किया

पहलवान बजरंग पूनिया ने गोल्ड मैडल स्वर्गीय श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी को समर्पित किया

Sunday, 19 August 2018

सर्वे : भाजपा प्रवक्ता राजीव जेटली जनता की पहली पसंद

सर्वे : भाजपा प्रवक्ता राजीव जेटली जनता की पहली पसंद

फरीदाबाद 19 अगस्त I हरियाणा भाजपा प्रवक्ता राजीव जेटली बने जनता के सबसे पसंदीदा संभावित प्रत्याशी I सोशल मीडिया पर लगभग एक साल से  बड़खल विधानसभा फेसबुक आई डी पर किये जा रहे सर्वे में जिसमे मोजुदा एवं विधायक के साथ साथ बड़े राजनितिक नेताओं के नाम भी डाले गए थे और जनता से अपने पसंद के प्रत्याशी के पक्ष में कमेन्ट के माध्यम से वोट डालने की अपील की थी और लगभग एक साल से जनता अपने पसंदीदा प्रत्याशी को वोट कर रही थी.

अब उसी सोशल मीडिया ने वोट के परिणाम घोषित किये जिसमे राजीव जेटली ने प्रथम स्थान हांसिल किया और सोशल मीडिया पर हरियाणा भाजपा प्रवक्ता राजीव जेटली जनता की पहली पसंद बने जिसमे जनता ने सबसे ज्यादा उनके पक्ष में वोट किया 

इस से एक बात तो प्रतीत होती है की जनता अब नये चेहरे को मौका देना चाहती है क्योंकि पीढियां बदल चुकी हैं और नयी पीढ़ी पुरानी परम्पराओं को छोड़ कर ऐसे युवाओं को आगे लाना चाहती है जिसमे राजनितिक सुझबुझ के साथ दूरदर्शिता भी देखी जा सके शायद यही वजह रही की संभावित प्रत्याशियों में राजनितिक और रासुक्दार परिवार से जुड़े युवा को भी नजरअंदाज कर मध्यम वर्ग से आने वाले युवा भाजपा प्रवक्ता राजीव जेटली को सबसे ज्यादा वोट देकर चुना गया