Showing posts with label India News. Show all posts
Showing posts with label India News. Show all posts

Wednesday, 12 December 2018

क्षेत्रीय जनता को सुव्यवस्थित, सुरक्षित व स्वच्छ वातावरण उपलब्ध कराना मेरा कर्तव्य - महेश गिरी

क्षेत्रीय जनता को सुव्यवस्थित, सुरक्षित व स्वच्छ वातावरण उपलब्ध कराना मेरा कर्तव्य - महेश गिरी

नई दिल्ली 13 दिसम्बर । पूर्वी दिल्ली सांसद एवं राष्ट्रीय मंत्री भाजपा महेश गिरी द्वारा आज से कृष्णा नगर विधानसभा से गिरी चैपाल का आयोजन प्रारंभ कर दिया गया। चैपाल में क्षेत्र के सेकड़ो की संख्या में स्थानीय नागरिक, आर.डब्लू.ए. पदाधिकारी तथा अन्य संस्थाओं के प्रतिनिधियों ने अपनी तथा क्षेत्र की समस्याओं से सांसद को अवगत कराया।

’गिरी चैपाल’ में मुख्य रूप से सभी महत्त्वपूर्ण विभाग जैसे पी.डब्लू.डी., बी.एस.ई.एस., नगर निगम, डी.डी.ए., यातायात पुलिस, दिल्ली पुलिस, डी.यू.एस.आई.बी., दिल्ली जल बोर्ड, दिल्ली परिवहन निगम, एवं दिल्ली सिचांई एवं बाढ़ नियंत्रण विभाग आदि संबंधित अघिकारी मौजूद थे। 

गिरी चौपाल में सांसद महेश गिरी ने जानकारी देते हुए बताया कि इससे पूर्व क्षेत्र में अब तक 45 गिरी चौपाल का आयोजन किया जा चुका है। जनता की मांग पर आज से पुनः क्षेत्रीय जनता को सुव्यवस्थित, सुरक्षित व स्वच्छ वातावरण उपलब्ध कराने हेतु पुनः 'गिरी चौपाल’ का आयोजन प्रत्येक विधानसभा में क्रमानुसार प्रारम्भ कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि 14 दिसंबर को कोंडली विधानसभा मे गिरी चौपल का आयोजन होगा। सांसद ने कहा कि ‘गिरी चौपाल’ का लक्ष्य  है जनता के बीच जाकर उनकी समस्याओं का प्रत्यक्ष निराकरण। 

चैपाल में आये सभी लोगो ने अपनी अपनी समस्याओं की सांसद के सम्मुख रखा। सांसद गिरी ने तत्काल की चौपाल में उपस्थित अधिकारियों को कार्यवाही के निर्देश दिये।  

गिरी चैपाल में सर्वश्री रामकिशोर शर्मा भाजपा शाहदरा जिला अध्यक्ष, निगम पार्षद दीपक मल्होत्रा, संदीप कपूर, नीमा भगत तथा अन्य पदाधिकारी  जय गोपाल वर्मा, हरविंदर सिंह, कमल बुद्धिराजा, रणवीर कुमार (हैप्पी), राम जेटली, पवन कुंद्रा, अमित शर्मा, इंदरमल गुप्ता, विनय गुप्ता, महेन्द्र भटेजा,सुशील श्रीवास्तव, विनोद कुमार, वीरेंद्र अग्रवाल, राजेश साहनी, सौम्या गुप्ता, तथा अन्य भाजपा कार्यकर्ता तथा स्थानीय आर.डब्लू.ए. के पदाधिकारी उपस्थित रहे।
स्कूली पाठ्यक्रम घटाकर आधा करने का प्रस्तावः प्रकाश जावड़ेकर

स्कूली पाठ्यक्रम घटाकर आधा करने का प्रस्तावः प्रकाश जावड़ेकर

NEW DELHI  ( 13 दिसम्बर ) केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री श्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा है कि विद्यार्थियों की प्रतिभा पहचाने और प्रतिभा पोषण तथा प्रोत्साहन देने की जिम्मेदारी शिक्षकों की है। श्री जावड़ेकर आज नई दिल्ली में राष्ट्रीय बाल भवन में एक रंगारंग कार्यक्रम में ‘कला उत्सव’ का उद्घाटन कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि आज के विद्यार्थी 8वीं कक्षा से आगे पढ़ाई की बोझ से इतना दबे हुए है कि उन्हें अपनी प्रतिभा को दिखाने का समय नहीं है। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों को प्रतिभा विकास करने के लिए पर्याप्त समय देने के उद्देश्य से स्कूली पाठ्यक्रम को घटाकर आधा करने का प्रस्ताव है।

श्री जावड़ेकर ने कहा कि हमारे स्कूलों के 26 करोड़ तथा कॉलेजों के 4 करोड़ विद्यार्थी हमारी संपत्ति और भविष्य हैं। उन्होंने कार्यक्रम में देश की अनेकता में एकता दिखाते हुए प्रस्तुत नृत्य और गायन कार्यक्रम की सराहना की।

इस अवसर पर राष्ट्रीय शिक्षा अनुसंधान तथा प्रशिक्षण परिषद के निदेशक प्रो. ऋषिकेश सेनापति ने कहा कि यह कला उत्सव का चौथा संस्करण है। यह राष्ट्रीय स्तर पर स्कूली बच्चों की कला प्रतिभा दिखाने की अनूठी राष्ट्रीय प्रतियोगिता है।

गायन, वाद्य संगीत, नृत्य तथा पेंटिंग में राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिताओं में कर्नाटक को छोड़कर सभी राज्यों तथा केन्द्र शासित प्रदेशों के 370 से अधिक बच्चे भाग ले रहे हैं। इसमें केन्द्रीय विद्यालय संगठन तथा नवोदय विद्यालय समिति की टीमें भी भाग ले रही हैं।

कला उत्सव राष्ट्रीय प्रतियोगिता 2015 में स्कूली बच्चों की कला प्रतिभा के प्रोत्साहन के उद्देश्य से प्रारंभ की गई थी।

Monday, 10 December 2018

कुबोता और एस्कॉर्ट्स ने विश्व में अग्रणी स्थान हासिल करने के लिए हाथ मिलाया

कुबोता और एस्कॉर्ट्स ने विश्व में अग्रणी स्थान हासिल करने के लिए हाथ मिलाया

फरीदाबाद 11 दिसंबर।  एस्कॉर्ट्स लि. और कुबोता कॉर्पोरेशन का लक्ष्य मज़बूत घरेलू एवं निर्यात बाज़ार में हिस्सेदारी प्राप्त करना है, जिसके लिए दोनों कंपनियां तकनीकी सहयोग और उच्च-क्षमता वाले यूटिलिटी ट्रैक्टर रेंज के लिए वैश्विक संयुक्त उपक्रम बनाएंगे

दोनों कंपनियां साथ मिलकर भारत और अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार के लिए नए उत्पाद विकसित करेंगी
नई साझा निर्माण व्यवस्था के लिए संयुक्त उपक्रम बनाया जाएगा, जिसकी शुरुआती क्षमता 50 हज़ार ट्रैक्टरों की होगी। यह ट्रैक्टर दोनों कंपनियों द्वारा घरेलू बाज़ार में अपने निजी चैनल नेटवर्क के माध्यम से बेचे जाएंगे
इस भागीदारी के तहत, चुनिंदा बाज़ारों में आपसी सहमति के अनुसार कुबोता अपने ग्लोबल डिस्ट्रिब्यूशन नेटवर्क के जरिये एस्कॉर्ट्स के ट्रैक्टर्स एक्सपोर्ट करेगी
एस्कॉर्ट्स और केबीटी भारत में स्वतंत्र रूप से अपने डिस्ट्रिब्यूशन चैनल को विकसित करना जारी रखेंगे, साथ ही दोनों कंपनियां साझा विकास और भविष्य में कुछ ग्रीनफील्ड अवसरों के लिए अपने तकनीकी प्लेटफॉर्म्स एक दूसरे को इस्तेमाल के लिए उपलब्ध कराएंगी

नई दिल्ली, 10 दिसंबर, 2018: भारत के अग्रणी इंजीनियरिंग समूह एस्कॉर्ट्स लि और जापान की सबसे बड़ी एवं विश्व की अग्रणी ट्रैक्टर निर्माता कंपनी कुबोता कॉर्पोरेशन ने अपने वैश्विक संयुक्त उपक्रम की घोषणा की है। यह ज्वाइंट वेंचर घरेलू एवं निर्यात बाज़ारों के लिए उच्च क्षमता तकनीक वाले ट्रैक्टरों का निर्माण करेगा। इस भागीदारी के तहत कुबोता की अग्रणी जापानी तकनीक और एस्कॉर्ट्स की उत्कृष्ट इंजीनियरिंग क्षमताओं को उपयोग करते हुए एक बढ़ते बाज़ार पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा। दोनों कंपनियां मिलकर पूरे विश्व में अग्रणी स्थान हासिल करने के लिए उच्च क्षमता वाले गुणवत्तापूर्ण यूटिलिटी ट्रैक्टर बनाएंगी। 

कुबोता और एस्कॉर्ट्स के बीच हुए क्रमशः 60:40 निर्माण संयुक्त उपक्रम में रु. 300 करोड़ का शुरुआती निवेश किया जाएगा। इससे दोनों भागीदारों को विश्वभर में अपनी मौजूदा एवं भविष्य की क्षमताओं को इस सेग्मेंट में बेहतर बनाने हेतु सहायता मिलेगी। इस संयुक्त उपक्रम का उद्देश्य घरेलू एवं निर्यात बाज़ारों में, मध्यम से लंबी अवधि के दौरान अग्रणी स्थान हासिल करना है। 

इस अवसर पर बोलते हुए निखिल नंदा, चेयरमैन एवं मैनेजिंग डायरेक्टर, एस्कॉर्ट्स लि. ने कहा, “एस्कॉर्ट्स योजनाबद्ध तरीके से तकनीकी एवं निर्माण साझेदारियों के जरिये एक वैश्विक संगठन के रूप में विकसित हो रहा है। कुबोता के साथ हमारे वैश्विक संयुक्त उपक्रम का लक्ष्य घरेलू एवं निर्यात बाज़ारों में तकनीक आधारित साझा विकास हासिल करना है। हमारी मौजूदा शक्तियों, डिस्ट्रिब्यूशन और इंजीनियरिंग मानकों के साथ हम कारोबारी अवसरों वाले अंतर्राष्ट्रीय बाज़ारों में जाएंगे और विश्व में अग्रणी स्थान हासिल करने की दिशा में आगे बढ़ेंगे।”

मासातोशी किमाता, प्रेसिडेंट एवं रिप्रेजेंटेटिव डायरेक्टर, कुबोता कॉर्पोरेशन, जापान ने कहा, “एस्कॉर्ट्स ग्रुप के साथ भागीदारी की घोषणा करते हुए हम उत्साहित हैं। एस्कॉर्ट्स के पास एक मज़बूत तकनीकी विरासत और कृषि उपकरण समाधानों का एक विविध उत्पाद पोर्टफोलियो है। वहीं कुबोता के पास एक प्रमाणित वैश्विक तकनीक है और हम साथ मिलकर भारत सहित अन्य विकासशील अर्थव्यवस्थाओं पर ध्यान देंगे, जिन्हें अत्यधिक मशीनीकृत कृषि कार्यों की बढ़ती मांग के लिए उच्च क्षमता वाले आधुनिक ट्रैक्टरों की ज़रूरत है। अपने देशों में अग्रणी स्थिति रखने वाले कुबोता और एस्कॉर्ट्स साथ मिलकर अपनी-अपनी शक्तियों, तकनीक एवं निर्माण उत्कृष्टता को संगठित करते हुए एक ग्लोबल लीडर बनने की दिशा में कदम बढ़ाएंगे।” 

इस संयुक्त उपक्रम के लिए समझौता-पत्र पर एस्कॉर्ट्स लिमिटेड के चेयरमैन एवं मैनेजिंग डायरेक्टर निखिल नंदा और कुबोता कॉर्पोरेशन, जापान के प्रेसिडेंट एवं रिप्रेजेंटेटिव डायरेक्टर मासातोशी किमाता ने हस्ताक्षर किये। 

एस्कॉर्ट्स लिमिटेड के बारे में संपादक के लिए नोट
एस्कॉर्ट्स समूह देश के अग्रणी इंजीनियरिंग समूहों में से एक है जो कि कृषि मशीनों, मैटेरियल हैंडलिंग, निर्माण उपकरणों, रेलवे उपकरण जैसे उच्च विकास क्षेत्रों में गतिविधियां संचालित करता है। समूह ने अपने उत्पादों और प्रक्रिया नवीनीकरण के द्वारा अपने संचालन के पिछले सात दशकों में 50 लाख ग्राहकों से भी अधिक का विश्वास जीता है। एस्कॉर्ट्स कृषि मशीनीकरण, रेलवे तकनीक के आधुनिकिकरण में क्रांति की अगुवाई करते हुए और भारतीय निर्माण क्षेत्र के स्वरूप के बदलाव में शामिल होकर ग्रामीण और शहरी भारत में रहने वाले लोगों के जीवन में परिवर्तन लाने के लिए प्रयत्नशील है।

कुबोता कॉर्पोरेशन के बारे में संपादक को नोट
कुबोता ग्रुप एक ग्लोबल मेन्युफैक्चरिंग कंपनी है, जो कृषि, जल और रहिवासी पर्यावरण उत्पादों में विशेषज्ञता रखती है। इस ग्रुप का नेटवर्क विश्वभर के 100 देशों में मौजूद है। कुबोता के रिसर्च एवं डेवलपमेंट में वास्तविक प्रक्रियाओं को महत्व दिया जाता है। एक कृषि एवं जल विशेषज्ञ के रूप में हम भोजन, पानी और पर्यावरण के भविष्य को चुनौती देते हुए उसे हासिल करते हैं और अपने ग्राहकों की ज़रूरत पूरी करते हैं। सक्रिय प्रबंधन, सुविधाजनक उत्पादों और निरंतर सहायता के साथ कुबोता ग्रुप वैश्विक कृषि एवं जल संबंधी उद्योगों में पूरे विश्व में अग्रणी है। 

राजस्थान मैं कांग्रेस की सबसे बड़ी बढत

राजस्थान मैं कांग्रेस की सबसे बड़ी बढत

राजस्थान 11 दिसंबर।  राजस्थान विधानसभा चुनाव के परिमाण के रुझान सभी 199 सीटो पर आ गए है जिसमें कांग्रेस सरकार बनती नजर आ रही है प्रदेश मैं 200 विधानसभा सीटो मैं 199 सीटो पर वोटिंग हुई है और 2274 उम्मेदवार चुनावी मैदान मैं है 

 राजस्थान विधानसभा चुनाव के रुझानों में कांग्रेस ने बहुमत का आंकड़ा छू लिया है और कांग्रेस की सरकार बनती नजर आ रही है रुझानों में सुराख शुरुआत से आगे चल रही है कांग्रे सभी 199 सीटों में से 114 पर आगे चल रही है जबकि बीजेपी 81 सीट पर आगे चल रही है कांग्रेस के कार्यलय पर ख़ुशी की लहर I 


Sunday, 9 December 2018

किकबॉक्सिंग में फरीदाबाद जिले के खिलाडियों ने राष्टीय प्रतियोगिता में जीते दो स्वर्ण पदक

किकबॉक्सिंग में फरीदाबाद जिले के खिलाडियों ने राष्टीय प्रतियोगिता में जीते दो स्वर्ण पदक

फरीदाबाद  9 दिसंबर ।   'वाको राष्ट्रीय किकबॉक्सिंग महासंघ' की ओर से 02 से 05 दिसम्बर को खुदीराम अनुशीलन केन्द्र इंडोर स्टेडियम, कोलकाता, पश्चिम बंगाल मे चार दिवसीय "सीनियर राष्ट्रीय स्तरीय किकबॉक्सिंग प्रतियोगिता" आयोजित की गई। 

'फरीदाबाद जिला किकबॉक्सिंग संघ' के संस्थापक महासचिव श्री संतोष कुमार अग्रवाल ने बताया की 'फरीदाबाद जिले की ओर से 07 खिलाड़ियों ने भाग लिया और हरियाणा राज्य का प्रतिनिधित्व करते हुए मैडल पर पंच लगाए जिनमे से सुयश पराशर एवं नितेश मुखिया का स्वर्ण पदक, सूरज का रजत, यश नरूला का कास्य पदक, आकाश नागर कास्य पदक, अरुण कास्य पदक, तरुण नागर ने भी कास्य पदक हासिल किया. हुए इन सभी खिलाडियो का शनिवार को फरीदाबाद स्टेशन पहुंचने पर बाबी नरूला एवं समस्त नीमका ग्राम वासियों ने खुशी  जाहिर कि और उनका फरीदाबाद में लोटने पर भव्य स्वागत किया.

किकबॉक्सिंग कोच पुलकित भरद्वाज का कहना हे की खिलाडियो ने अपने गाँव का ही नहीं बल्कि फरीदाबाद जिले और हरियाणा राज्य को भी बड़ी उपलबधी प्राप्त कराइ है। ये सभी खिलाडी सेक्टर-77 नीमका अकादमी फरीदाबाद के प्रशिक्षक पुलकित भरद्वाज की निगरानी में ट्रेनिंग लेते है।

हरियाणा किकबॉक्सिंग संघ के संस्थापक महासचिव श्री संतोष कुमार अग्रवाल ने बताया की हरियाणा प्रदेश की 13 सदस्यीय टीम ने शानदार प्रदर्शन करते हुए चार स्वर्ण पदक, एक रजत पदक एवं पांच कांस्य पदक जीतकर फरीदाबाद के साथ साथ पुरे हरियाणा को गौरवान्वित किया है. 

1. साहिल भरद्वाज - स्वर्ण पदक - रोहतक 
2. कुसुम - स्वर्ण पदक - झज्झर  
3. सुयश पराशर - स्वर्ण पदक - फरीदाबाद 
4. नितेश मुखिया - स्वर्ण पदक - फरीदाबाद 
5. सूरज कुमार - रजत - फरीदाबाद 
6. यश नरूला - कास्य पदक - फरीदाबाद 
7. आकाश नागर - कास्य पदक - फरीदाबाद 
8. अरुण कुमार - कास्य पदक - फरीदाबाद 
9. तरुण नागर - कांस्य पदक - फरीदाबाद 
10. अजय कुमार - कांस्य पदक - झज्झर 
11. जसवंत सिंह - रेफ़री
12. कुलदीप कुमार - रेफ़री 
13. पुलकित भारद्वाज - कोच 

खिलाडियों की इस जीत पर हरियाणा किकबॉक्सिंग संघ की प्रदेश अध्यक्ष श्री आनंद मोहन शरण आई. ऐ. एस., संरक्षक श्री सतीश पराशर, फरीदाबाद जिला किकबॉक्सिंग संघ के अध्यक्ष श्री राज कुमार अग्रवाल संयुक्त सचिव श्री अनिल गुप्ता एवं श्री पवन कुमार नागपाल, सदस्यों में श्री अशोक चौधरी, श्रीपाल शर्मा, श्री नरेश चावला, श्री वीरभान शर्मा, श्री तरुण गुप्ता, श्री आनंद मेहता, श्री विकास अग्रवाल, श्री अजय अदलखा, श्री राजेश गोस्वामी, श्री अरुण बजाज ने बधाई दी है. 
केरल में नैशनल शूटिंग चैम्पियनशिप में पुष्पांजलि राणा, शौर्य सरीन और अर्पित गोयल समेत दिल्ली के निशानेबाज़ों का जलवा

केरल में नैशनल शूटिंग चैम्पियनशिप में पुष्पांजलि राणा, शौर्य सरीन और अर्पित गोयल समेत दिल्ली के निशानेबाज़ों का जलवा

केरल 9 दिसंबर । केरल की राजधानी त्रिवेंद्रम में चल रही नैशनल शूटिंग चैंपियनशिप में सीआरपीएफ की पुष्पांजलि राणा ने सिल्वर मेडल जीता है। दिल्ली की पुष्पांजलि ने सीआरपीएफ की टीम का प्रतिनिधित्व करते हुए 25 मीटर पिस्टल ईवेंट में 577 स्कोर किया और फाइनल में जगह बनाई। 15 नवम्बर को शुरू हुई राष्ट्रीय निशानेबाज़ी प्रतियोगिता का 7 दिसम्बर को समापन हुआ। जिसमें देशभर से छह हजार से ज़्यादा निशानेबाज़ों ने हिस्सा लिया। 

25 मीटर पिस्टल के फाइनल मुकाबले में आठ शीर्ष निशानेबाज़ होते हैं। जिनमें एशियन गेम्स पदक विजेता राही सरनोबत, कॉमनवेल्थ पदक विजेता मनु भाकर, हिना सिद्धू भी शामिल थीं। फाइनल में कड़ा मुकाबला हुआ और महाराष्ट्र की राही सरनोबत ने 36 हिट्स मारकर गोल्ड मेडल जीता, पुष्पांजलि को 30 हिट्स मिले और मध्यप्रदेश की चिंकी यादव 20 हिट्स के साथ तीसरे स्थान पर रही। पुष्पांजलि अब अंतरराष्ट्रीय सेलेक्शन ट्रायल्स में हिस्सा लेंगी और नैशनल गेम्स के लिए भी उन्होंने जगह बना ली है। 

25 मीटर पिस्टल वुमन इवेंट के जूनियर मुकाबला हरियाणा की मनु भाकर के नाम रहा। मशहूर निशानेबाज़ जसपाल राणा की बेटी देवांशी राणा ने ओएनजीसी का प्रतिनिधित्व करते हुए रजत पदक जीता और उत्तराखंड की नेहा ने कांस्य पदक जीता। 

दिल्ली के जूनियर निशानेबाज़ों का भी खूब जलवा दिखा। शौर्य सरीन ने 50 मीटर फ्री पिस्टल इवेंट के जूनियर और सीनियर मुकाबलों में भाग लेते हुए 544 स्कोर किया, एक गोल्ड मेडल, तीन सिल्वर और एक ब्रॉन्ज़ मेडल जीता। 
फरीद अली, शौर्य सरीन एयर अर्पित गोयल की टीम ने 50 मीटर पिस्टल का सिल्वर मेडल जीता। जबकि शौर्य सरीन, अनमोल अरोड़ा और हर्ष गुप्ता की टीम सिविलियन मुकाबले में दूसरे और ओपन मुकाबले में तीसरे स्थान पर रही। 

25 मीटर स्टैंडर्ड पिस्टल इवेंट में फरीद अली, अर्पित गोयल और प्रशांत लकड़ा की टीम ने सिल्वर मेडल जीतकर दिल्ली का नाम रोशन किया। 
50 मीटर फ्री राइफल प्रोन वेटरन इवेंट में दिल्ली के डॉ मनजीत सिंह कंवर ने गोल्ड मेडल जीता। जबकि 10 मीटर पिस्टल वेटरन इवेंट में दिल्ली की निर्मल यादव ने स्वर्ण पदक जीता। 

पचास मीटर राइफल प्रोन इवेंट में दिल्ली के तरुण यादव ने अलग अलग कैटगरी में एक गोल्ड और एक सिल्वर मेडल जीता। नरेश कुमार शर्मा ने 50 मीटर राइफल पैरा इवेंट में गढ़ जीता। तो 10 मीटर पिस्टल पैरा इवेंट में पूजा अग्रवाल ने कांस्य पदक अपने नाम किया। 
दिल्ली के कई निशानेबाज़ अंतरराष्ट्रीय सेलेक्शन ट्रायल्स के लिये भी क़वालीफाई कर चुके हैं। जो 20 दिसम्बर से दिल्ली की डॉ कर्णी सिंह शूटिंग रेंज में होंगे।

Friday, 30 November 2018

लखन सिंगला को मिली राहुल गांधी के स्वागत की जिम्मेदारी

लखन सिंगला को मिली राहुल गांधी के स्वागत की जिम्मेदारी

फरीदाबाद, 30 नवंबर: सूरतगढ़ विधानसभा क्षेत्र में लोगों से कांग्रेस प्रत्याशी हनुमान मील के पक्ष में मतदान करने और राहुल गांधी की हनुमानगढ़ रैली में शामिल होने की करी अपील
 हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सदस्य एवं राजस्थान चुनाव में गंगानगर जिले की सूरतगढ़ विधानसभा क्षेत्र के प्रभारी लखन कुमार सिंगला को आलाकमान से तोहफा मिला है। सिंगला को एक दिसंबर को सूरतगढ़ पधार रहे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का स्वागत की जिम्मेदारी मिली है। इसी दिन राहुल गांधी हनुमानगढ़ में बड़ी चुनावी रैली को संबोधित करेंगे। सिंगला को यह जिम्मेदारी पंजाब सरकार में मंत्री एवं गंगानगर जिले के चुनाव पर्यवेक्षक बिजेंद्र सिंगला ने दी है। सिंगला ने सूरतगढ़ उम्मीदवार एवं राहुल गांधी की रैली के पक्ष में अधिक से अधिक लोगों का मन बनाने के लिए दिन रात एक कर रखा है।

लखन कुमार सिंगला कई दिन से राजस्थान के गंगानगर जिले के सूरतगढ़ विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेसी उम्मीदवार हनुमान मील के चुनाव प्रभारी के रूप में कार्यरत हैं। जहां उन्होंने प्रचार को एक नई धार दी है। आज भी उन्होंने उम्मीदवार हनुमान मील के साथ कई इलाकों में सघन चुनाव प्रचार करने के साथ साथ लोगों को एक दिसंबर को हनुमान गढ़ में होने वाली कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की रैली में आने का निमंत्रण दिया। रैली से पहले राहुल गांधी सूरतगढ़ पधारेंगे जहां सिंगला को उनके स्वागत की जिम्मेदारी मिली है।

सिंगला ने सूरतगढ़ विधानसभा क्षेत्र के कई इलाकों में चुनाव प्रचार के दौरान लोगों से कहा कि देश में झूठ का माहौल फैलाया गया था, जो अब छंट गया है। लोग राहुल गांधी की ओर आशा से देख रहे हैं। लोगों को समझ आ गया है कि देश के कमेरे, युवा, किसान का भविष्य राहुल गांधी और कांग्रेस के हाथों में ही सुरक्षित है।

इस दौरान उनके साथ पंजाब की कांग्रेस सरकार में मंत्री एवं गंगानगर जिले के चुनाव पर्यवेक्षक बिजेंद्र सिंगला, गंगानगर से पूर्व कांग्रेसी सांसद शंकर लाल पन्नू, पंजाब से कांग्रेस विधायक देवेंद्र सिंह, बिल्लू गोयल सहित राजस्थान जाट महासभा के अध्यक्ष राजाराम मील, ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष परसराम भाटिया, पूर्व ब्लॉक अध्यक्ष इकबाल मोहम्मद कुरैशी, ग्रीवेंस कमेटी के पूर्व सदस्य संदीप वर्मा, व्यापार मंडल के पूर्व अध्यक्ष दीपक भाटिया, राजपूत समाज के अध्यक्ष राजेश भाटी, व्यापार मंडल के अध्यक्ष ललित सिडाना, प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सदस्य परमजीत सिंह रंधावा, लालचंद भाम्भू, व्यापार मंडल के जाइंट सेके्रटरी आकाश बंसल, सूरतगढ़ से पार्षद सुशील धानुका आदि प्रमुख व्यक्ति भी शामिल रहे।

Sunday, 25 November 2018

रमणीक प्रभाकर को इन्डो नैपाल एकता अवार्ड 2018 से सम्मानित किया

रमणीक प्रभाकर को इन्डो नैपाल एकता अवार्ड 2018 से सम्मानित किया

फरीदाबाद 25 नवंबर ।  इंडो नैपाल समरसता मंच द्वारा रमणीक प्रभाकर को इन्डो नैपाल एकता(2018) अवार्ड, सोने का तगमा,शॉल व पग़ड़ी बाँध कर  से सम्मानित किया गया कार्यक्रम का आयोजन  ISIL ऑडिटोरियम, भगवान दास रोड़, नई दिल्ली में किया गया । 

इस कार्यक्रम में लगभग 500 लोगो ने हिस्सा लिया जिसमे 50 प्रतिभागियों को इन्डो नैपाल एकता अवार्ड 2018 से सम्मानित किया गया जो भारत के अलग अलग राज्यो से आए थे । इसमे अलग अलग देशो नेपाल, भूटान, श्रीलंका, व इत्यादि  से भी लोग आए हुए थे । 

 अंतराष्ट्रीय समरसता मंच एक गैर राजनेतिक, साहित्यिक, सांस्कृतिक व सामाजिक संस्था है जो सर्व धर्म समभाव की विचारधारा के अनुसार विश्व बंधुत्व की भावना से मानव सेवा हितार्थ सांस्कृतिक समन्वय एवं शोध कार्यो द्वारा मानवीय एकता व समरसता के लिए विभिन्न क्षेत्रो में कार्यरत व्यक्तियो का एक ऐसा समूह है जो स्व प्रेरणा एवं स्वम अनुशासन के माध्यम से जनहित के कार्यो के लिए सदस्य के रूप में कार्य करते है । मंच का कार्य अंतराष्ट्रीय स्तर पर भारतीय सामाजिक व्यवस्था के अनुसार भारत नैपाल की वैदिक कालीन सांस्कृतिक का पूर्ण उत्थान हो, भारत पुनः वैदिक कालीन जगत गुरु के आसन पर पदस्थापित हो एवं संयुक्त राष्ट्र संघ की सुरक्षा परिषद में वीटो पावर के साथ स्थाई सदस्यता दिलाने के उद्देश्य से राष्ट्र सदस्यो का मित्रवत सहयोग की आशा से चलाया जा रहा प्रेरित अभियान है । 

 मंच पर मुख्य रूप से उपस्थित प्रधान महावीर टोरडी, सांसद अमर सिंह, एडवोकेट ए. पी. सिंह, श्री लोकेन्द्र बहादुर चन्द, पूर्व प्रधानमंत्री नेपाल, मुख्य अतिथि टोप बहादुर रायमाझी, पूर्व उप प्रधानमंत्री नेपाल, सचिव कुलदीप शर्मा, एडवोकेट सर्वोच्य न्यायालय नेपाल द्वारा रमणीक प्रभाकर को इन्डो नैपाल एकता अवार्ड(2018) से सम्मानित किया गया ।

इसके अलावा कई राज्यो के गणमान्य लोगों ने कार्यक्रम में हिस्सा लिया और कार्यक्रम को सफल बनाया ।

Friday, 16 November 2018

देश के 91 प्रमुख जलाशयों का जलस्‍तर तीन प्रतिशत घटा

देश के 91 प्रमुख जलाशयों का जलस्‍तर तीन प्रतिशत घटा

NEW DELHI : 16 नवंबर, 2018 को समाप्त सप्ताह के दौरान देश के 91 प्रमुख जलाशयों में 103.735  बीसीएम (अरब घन मीटर) जल संग्रह हुआ। यह इन जलाशयों की कुल संग्रहण क्षमता का 64  प्रतिशत है। 08  नवंबर, 2018 को समाप्‍त सप्ताह में जल संग्रहण 67 प्रतिशत था। 15 नवंबर को समाप्‍त सप्‍ताह में यह संग्रहण पिछले वर्ष की इसी अवधि के कुल संग्रहण का 99 प्रतिशत तथा पिछले दस वर्षों के औसत जल संग्रहण का 97  प्रतिशत था।

इन 91 जलाशयों की कुल संग्रहण क्षमता 161.993 बीसीएम है, जो समग्र रूप से देश की अनुमानित कुल जल संग्रहण क्षमता 257.812 बीसीएम का लगभग 63 प्रतिशत है। इन 91 जलाशयों में से 37जलाशय ऐसे हैं जो 60 मेगावाट से अधिक की स्थापित क्षमता के साथ पनबिजली लाभ देते हैं।

क्षेत्रवार संग्रहण स्थिति : -

उत्तरी क्षेत्र

उत्तरी क्षेत्र में हिमाचल प्रदेश, पंजाब तथा राजस्थान आते हैं। इस क्षेत्र में 18.01 बीसीएम की कुल संग्रहण क्षमता वाले छह जलाशय हैं, जो केन्द्रीय जल आयोग (सीडब्यूसी) की निगरानी में हैं। इन जलाशयों में कुल उपलब्ध संग्रहण 14.99 बीसीएम है, जो इन जलाशयों की कुल संग्रहण क्षमता का 83 प्रतिशत है। पिछले वर्ष की इसी अवधि में इन जलाशयों की संग्रहण स्थिति 70  प्रतिशत थी। पिछले दस वर्षों का औसत संग्रहण इसी अवधि में इन जलाशयों की कुल संग्रहण क्षमता का 72 प्रतिशत था। इस तरह पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में चालू वर्ष में संग्रहण बेहतर है और यह पिछले दस वर्षों की इसी अवधि के दौरान रहे औसत संग्रहण से भी बेहतर है।

पूर्वी क्षेत्र

पूर्वी क्षेत्र में झारखंड, ओडिशा, पश्चिम बंगाल एवं त्रिपुरा आते हैं। इस क्षेत्र में 18.83 बीसीएम की कुल संग्रहण क्षमता वाले 15 जलाशय हैं, जो सीडब्ल्यूसी की निगरानी में हैं। इन जलाशयों में कुल उपलब्ध संग्रहण 12.97  बीसीएम है, जो इन जलाशयों की कुल संग्रहण क्षमता का 69 प्रतिशत है। पिछले वर्ष की इसी अवधि में इन जलाशयों की संग्रहण स्थिति 77 प्रतिशत थी। पिछले दस वर्षों का औसत संग्रहण इसी अवधि में इन जलाशयों की कुल संग्रहण क्षमता का 73 प्रतिशत था। इस तरह पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में चालू वर्ष में संग्रहण कम है और यह पिछले दस वर्षों की इसी अवधि के दौरान रहे औसत संग्रहण से भी कम है।

पश्चिमी क्षेत्र

पश्चिमी क्षेत्र में गुजरात तथा महाराष्ट्र आते हैं। इस क्षेत्र में 31.26 बीसीएम की कुल संग्रहण क्षमता वाले 27 जलाशय हैं, जो सीडब्ल्यूसी की निगरानी में हैं। इन जलाशयों में कुल उपलब्ध संग्रहण 15.92बीसीएम है, जो इन जलाशयों की कुल संग्रहण क्षमता का 51 प्रतिशत है। पिछले वर्ष की इसी अवधि में इन जलाशयों की संग्रहण स्थिति 67 प्रतिशत थी। पिछले दस वर्षों का औसत संग्रहण इसी अवधि में इन जलाशयों की कुल संग्रहण क्षमता का 64 प्रतिशत था। इस तरह पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में चालू वर्ष में संग्रहण कम है और यह पिछले दस वर्षों की इसी अवधि के दौरान रहे औसत संग्रहण से भी कम है।

मध्य क्षेत्र

मध्य क्षेत्र में उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, मध्य प्रदेश तथा छत्तीसगढ़ आते हैं। इस क्षेत्र में 42.30 बीसीएम की कुल संग्रहण क्षमता वाले 12 जलाशय हैं, जो सीडब्ल्यूसी की निगरानी में हैं। इन जलाशयों में कुल उपलब्ध संग्रहण 29.82 बीसीएम है, जो इन जलाशयों की कुल संग्रहण क्षमता का 70 प्रतिशत है। पिछले वर्ष की इसी अवधि में इन जलाशयों की संग्रहण स्थिति 59 प्रतिशत थी। पिछले दस वर्षों का औसत संग्रहण इसी अवधि में इन जलाशयों की कुल संग्रहण क्षमता का 67 प्रतिशत था। इस तरह पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में चालू वर्ष में संग्रहण बेहतर है और यह पिछले दस वर्षों की इसी अवधि के दौरान रहे औसत संग्रहण से भी बेहतर है।

दक्षिणी क्षेत्र

दक्षिणी क्षेत्र में आंध्र प्रदेश, तेलंगाना एपी एवं टीजी (दोनों राज्यों में दो संयुक्त परियोजनाएं), कर्नाटक, केरल एवं तमिलनाडु आते हैं। इस क्षेत्र में 51.59 बीसीएम की कुल संग्रहण क्षमता वाले 31 जलाशय हैं, जो सीडब्ल्यूसी की निगरानी में हैं। इन जलाशयों में कुल उपलब्ध संग्रहण 30.03 बीसीएम है, जो इन जलाशयों की कुल संग्रहण क्षमता का 58 प्रतिशत है। पिछले वर्ष की इसी अवधि में इन जलाशयों की संग्रहण स्थिति 62 प्रतिशत थी। पिछले दस वर्षों का औसत संग्रहण इसी अवधि में इन जलाशयों की कुल संग्रहण क्षमता का 63 प्रतिशत था। इस तरह चालू वर्ष में संग्रहण पिछले वर्ष की इसी अवधि में हुए संग्रहण से कम है और यह पिछले दस वर्षों की इसी अवधि के दौरान रहे औसत संग्रहण से भी कम है।

पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में जिन राज्यों में जल संग्रहण बेहतर है उनमें हिमाचल प्रदेश, पंजाब, राजस्‍थान, उत्तर प्रदेश, उत्‍तराखंड, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, कर्नाटक,केरल और तमिलनाडु शामिल हैं। पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में जिन राज्यों में जल संग्रहण कम है उनमें झारखंड, ओडिशा पश्चिम बंगाल, त्रिपुरा, गुजरात और महाराष्‍ट्र,एपी एवं टीजी (दोनों राज्यों में दो संयुक्त परियोजनाएं), आंध्र प्रदेश और तेलंगाना शामिल हैं।

Monday, 29 October 2018

प्रधानमंत्री नरेंदर मोदी ने मैं नहीं हम एप जारी करने और सेल्‍फ 4 सोसायटी पर आई.टी. पेशेवरों के साथ संवाद का मूल पाठ

प्रधानमंत्री नरेंदर मोदी ने मैं नहीं हम एप जारी करने और सेल्‍फ 4 सोसायटी पर आई.टी. पेशेवरों के साथ संवाद का मूल पाठ

NEW DELHI , 29 अक्टूबर। मंत्री परिषद के मेरे सभी साथी, भारत के औद्योगिक जीवन को गति देने वाले, आईटी प्रोफेशन को बल देने वाले सभी अनुभवी महानुभाव, और आईटी के क्षेत्र से जुड़ी हुई हमारी युवा पीढ़ी, गांव में CSC के सेंटर में बैठे हुए बहुत आशाओं के साथ सपनों संजो करके जी रहे हमारे स्कूल, कॉलेज के students, आईआईटी समेत अनेक institutions के विद्यार्थी, मेरे लिए प्रसन्नता का विषय है कि जो मुझे सबसे प्रिय काम है ऐसे अवसर पर आज आपके बीच आने का मौका मिला है।

हमारे मंत्री श्री रविशंकर जी, सरकार के काम का ब्योरा दे रहे थे, लेकिन मैं इस काम के लिए आपके बीच नहीं आया हूं। कोई भी इंसान अपने करियर में कितना भी आगे चला जाए, वैभव कितना ही प्राप्त कर ले, पद-प्रतिष्ठा कितनी ही प्राप्त कर लें। एक प्रकार से जीवन में जो सपने देखें हो वो सारे सपनें अपनी आंखों के सामने उसे अपने स्व-प्रयत्न से साकार की, उसके बावजूद भी उसके मन में संतोष के लिए तड़प, भीतर संतोष कैसे मिले? और हमने अनुभव किया है कि सब प्राप्ति के बाद व किसी और के लिए कुछ करता है, कुछ जीने का प्रयास करता है, उस समय उसका satisfaction level बहुत बढ़ जाता है।

मैं अभी प्रारंभ की फिल्म में श्रीमान अज़ीम प्रेम जी को सुन रहा था। 2003-04 में जब मैं गुजरात का मुख्य मंत्री था और वो कार्यकाल में मुझसे मिलने आते थे तो अपने business के संबंध में, सरकार के साथ किसी काम के संबंध में वो बात करते थे। लेकिन उसके बाद मैंने देखा पिछले 10-15 साल से जब भी मिलना हुआ है एक बार भी वे अपना, कंपनी का, अपने corporate work का उसके काम की कभी चर्चा नहीं करते। चर्चा करते हैं तो जिस मिशन को लेकर इन दिनों काम कर रहे हैं वो education का, उसी की चर्चा करते हैं और इतना involve हो करके करते हैं जितना कि वो अपनी कंपनी के लिए नहीं करते। तो मैं अनुभव करता हूं कि उस उम्र में, उम्र के इस पढ़ाव पर जीवन में इतनी बड़ी कंपनी बनाई, इतनी बड़ी सफलता की, यात्रा की, लेकिन संतोष मिल रहा है, 

अभी जो काम कर रहे हैं उससे। इसका मतलब यह हुआ कि व्यक्ति के जीवन में, ऐसा नहीं है कि हम जिस प्रोफेशन में है, अगर मान लीजिए की डॉक्टर है तो किसी की सेवा नहीं करता है... करता है, एक scientist है लेबोरेटरी के अंदर अपनी जिंदगी खपा देता है और कोई ऐसी चीज खोज करके लाता है जो पीढ़ी दर पीढ़ी लोगों की जिंदगी को बदलने वाली है। इसका मतलब नहीं यह नहीं की है वो समाज के लिए काम नहीं करता है। इसका मतलब यह नहीं है कि वह खुद के लिए जीता था या खुद के नाम के लिए कर रहा था, जी नहीं। वो कर रहा था लोगों के लिए, लेकिन अपने हाथों से अपने आंखों के सामने, अपनी मौजूदगी में जो करता है, उसका संतोष अलग होता है। और आज वो संतोष आखिरकार की जो मूल प्रेरणा होती है हर इंसान, कुछ आप भी अपने आप देख लीजिए, अपने खुद के जीवन से देख लीजिए, स्वांत: सुखाय, कुछ  लोग यह करते है कि मुझे संतोष मिलता है, मुझे भीतर से आनंद मिलता है, मुझे ऊर्जा मिलती है।

हम रामायण में सुन रहे हैं कि गिलहरी भी रामसेतु के निर्माण में राम के साथ जुड़ गई थी। लेकिन एक गिलहरी ने तो प्रेरणा पा करके उस पवित्र कार्य में जुड़ना अच्छा माना, लेकिन दूसरा भी एक दृष्टिकोण हो सकता है कि राम जी को अगर सफल होना है, ईश्वर भले ही हो उसको भी गिलहरी की जरूरत पड़ती है, जब गिलहरी जुड़ जाती है तो सफलता प्राप्त होती है। सरकार कितने ही initiative लेती हो, सरकार कितना ही बजट खर्च करती हो लेकिन जब तक जन-जन का उसमें हिस्सा नहीं हो, भागीदारी नहीं होगी तो हम जो परिणाम चाहते हैं, इंतजार नहीं कर सकता हिन्दुस्तान। दुनिया भी हिन्दुस्तान को अब इंतजार करते हुए देखना नहीं चाहती है। दुनिया भी हिन्दुस्तान को, हिन्दुस्तान लीड करे इस अपेक्षा से देख रही है। 

अगर यह दुनिया की अपेक्षा है तो हमें भी हमारे देश को उसी रूप से करना होगा। अगर वो करना है तो हिन्दुस्तान के सामान्य मानव की जिंदगी में बदलाव कैसे आये। मेरे पास जो कौशल है, सामर्थ्य है, जो शक्ति हो, जो अनुभव है उसका कुछ उपयोग मैं किसी के लिए कर सकता हूं क्या ? एक बात निश्चित है कि किसी ऐसे स्थान है, जहां पर कोई भी गरीब आए, कोई भूखा आए, तो खाना मिल जाता है। वहां जो देने वाले लोग हैं वे भी बड़े समर्पित भाव से देते हैं। खाने वाला जो जाता है वहां, एक स्थिति ऐसी आ जाती है, एक institutional arrangement है, व्यवस्था है, मैं जाऊंगा, मुझे मिल जाएगा। जाने वाले को भी उसके प्रति विशेष attention नहीं होता है कि देने वाले कौन है। देने वाले के मन में भी कुछ conscious नहीं होता है कि आया कौन था। क्यों? क्योंकि उसकी एक आदत बन जाती है, कोई आता है 

वो खाना खिलाता है, वो चल देता है। लेकिन एक गरीब किसी गरीब परिवार के दरवाजे पर खड़ा है, भूखा है, और एक गरीब अपनी आधी रोटी बांट करके दे देता है। दोनों को जीवन भर याद रहता है। उसमें संतोष मिलता है। व्यवस्था के तहत होने वाली चीजों की बजाय स्व प्रेरणा से होने वाली चीजें कितना बड़ा परिवर्तन करती है यह हम सबने देखा है। हम कभी हवाई जहाज से जा रहे हैं बगल में कोई बुजुर्ग बैठे हैं, पानी पीना है, बोटल है लेकिन खुल नहीं रही है, हमारा ध्यान जाता है, हम तुरंत उसको खोल देते हैं, हमें संतोष मिलता है। यानि किसी के लिए जीने का आनंद कुछ और होता है।

मैंने एक परंपरा विकसित करने का प्रयास किया है कि प्रधानमंत्री बनने के बाद, जब मैं मुख्यमंत्री था तब भी किया करता था, किसी university के convocation में जाता हूं, तो मुझे बुलाने वालों से मैं आग्रह करता हूं कि आप उस university के नजदीक में कहीं सरकारी स्कूल हो, झुग्गी-झोपड़ी के गरीब बच्चे पढ़ते हो, आठवीं, नौंवी, दसवीं के, तो वो मेरे 50 special guest होंगे और उस convocation में उनको जगह दीजिए, उनको बैठाइये, उनको निमंत्रित कीजिए और वो आते है

Sunday, 28 October 2018

इधर लोगों की प्रदूषण से सांस फूली, उधर बोर्ड बोला मशीन है खराब

इधर लोगों की प्रदूषण से सांस फूली, उधर बोर्ड बोला मशीन है खराब

फरीदाबाद, 29 अक्टूबर I शहर में प्रदूषण की मात्रा अधिक हुई तो प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने मशीन में गड़बड़ी बता दी। बोर्ड का कहना है कि मशीन में गड़बड़ी होने के कारण पीएम 2.5 का स्तर काफी अधिक दिखा रहा था। लेकिन अब मशीन को सही कर लिया गया है। अधिकारियों का कहना है कि मशीन में कुछ दिक्कतें होने से पीएम 2.5 का स्तर बढ़ा हुआ बताया जा रहा था। मशीन की कमियों को दूर करा दिया गया है, जिससे उ मीद है कि आने वाले दिनों में जिले में प्रदूषण का सही स्तर पता चल सकेगा।

प्रदूषण के मामले में फरीदाबाद देशभर के टॉप 10 सबसे प्रदूषित शहरों में शामिल है। शुक्रवार को पीएम 2.5 का स्तर 381 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर तक पहुंच गया था। फरीदाबाद में सेक्टर 16 ए स्थित प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड कार्यालय के ऊपर एक मशीन लगी हुई है, जिससे प्रदूषण के स्तर का पता चलता है। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के रीजनल ऑफिसर विजय चौधरी ने बताया कि केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारी दो दिन पहले फरीदाबाद आए थे। 

उन्होंने कहा कि मशीन पीएम 2.5 का स्तर 300 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर से अधिक बता रही है, जबकि इतना अधिक प्रदूषण विजुअल नहीं हो रहा है। इसलिए उन्होंने मशीन को चैक कराने के आदेश दिए। क्योंकि मशीन का संचालन प्राइवेट कंपनी करती है, इसलिए हमने कंपनी के अधिकारियों को बुलाया। उन्होंने मशीन को अपडेट किया है। उ मीद है कि अब प्रदूषण का स्तर कम होगा और पीएम 2.5 का सही स्तर हमें पता चल पाएगा। विजय चौधरी ने बताया कि शनिवार रात से रविवार दोपहर तक मशीन बंद रही थी। रविवार को दोपहर लगभग 12 बजे से शाम 4 बजे तक पीएम 2.5 का औसत स्तर 93 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर दर्ज किया गया है।

Tuesday, 23 October 2018

प्रधानमंत्री कल ‘मैं नहीं हम’ पोर्टल और एप जारी करेंगे

प्रधानमंत्री कल ‘मैं नहीं हम’ पोर्टल और एप जारी करेंगे

NEW DELHI , 23 अक्टूबर।  प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी कल 24 अक्‍टूबर, 2018 को ‘मैं नहीं हम’ पोर्टल जारी करने के अवसर पर आईटी और इलेक्‍ट्रॉनिक विनिर्माण क्षेत्र के उद्यमियों से संवाद करेंगे।

‘सेल्‍फ फॉर सोसायटी’ की थीम पर काम करने वाला यह पोर्टल आईटी क्षेत्र से जुड़े कारोबारियों और संगठनों को सामाजिक सरोकारों और समाज सेवा से जुड़े उनके प्रयासों को एक साथ लाने का मंच प्रदान करेगा। इसके माध्‍यम से प्रौद्योगिकी का लाभ समाज के कमजोर तबके तक पहुंचाने के लिए परस्‍पर सहयोग के प्रयासों में तेजी लाई जा सकेगी। पोर्टल के जरिए समाज की बेहतरी के लिए काम करने के इच्‍छुक लोगों की व्‍यापक सहभागिता को भी बढ़ावा दिया जा सकेगा।

प्रधानमंत्री इस अवसर पर कई उद्योगपतियों से मिलेंगे और आईटी पेशेवरों तथा आईटी और इलेक्‍ट्रॉनिक उपकरण बनाने वाली कंपनियों के कर्मचारियों को संबोधित करेंगे। इस अवसर पर देश भर के 100 से ज्‍यादा स्‍थानों से आईटी और इलेक्‍ट्रॉनिक विनिर्माता वीडियो कांफ्रेंस के जरिए आयोजन से जुड़ेंगे।   


Sunday, 21 October 2018

कटोरा आन्दोलन होगा खट्टर सरकार के खिलाफ : नवीन जयहिंद

कटोरा आन्दोलन होगा खट्टर सरकार के खिलाफ : नवीन जयहिंद

फरीदाबाद 21 अक्टूबर  I फरीदाबाद में आम आदमी पार्टी  प्रदेशाध्यक्ष नवीन जयहिंद व दिल्ली विधायक सहीराम पहलवान की अध्यक्षता में फरीदाबाद में कार्यकर्ता सम्मेलन हुआ | इस सम्मेलन में हजारों कार्यकर्ताओं ने हिस्सा लिया और कार्यकर्ता सम्मेलन रैली में तब्दील हो गया |

प्रदेशाध्यक्ष नवीन जयहिंद ने दिल्ली में आम आदमी ने ही 67 सीट दिलवाई  थी |और आम आदमी पार्टी ने आम आदमी के लिय काम किया है फ्री पानी, सस्ती बिजली, अच्छी शिक्षा व फ्री इलाज, दवाई , सारे टेस्ट फ्री  की सुविधाए दे रही है और एक आम आदमी को यही चाहिए | केजरीवाल सरकार ने जो कहा था वो किया है | जब दिल्ली में आम आदमी पार्टी कर सकती है तो हरियाणा में खट्टर सरकार क्यों नही कर सकती |

जयहिंद ने मंच से हरियाणा रोडवेज कर्मचारियों के समर्थन में कहा सरकार के पास हरियाणा रोडवेज की बस खरीदने के लिए पैसे नही है | चार साल में सिर्फ 62 बस ही खट्टर सरकार खरीद पाई है | हरियाणा की जनता को गीता व गाय के नाम ठगा गया है जब  जनता के लिए सुविधाओं की बात आती है तो सरकार का पैसा खत्म हो जाता है |

नवीन जयहिंद  सम्मेलन में कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि खट्टर  सरकार में अगर कोई पाने हक के लिए धरना करता है, प्रदशर्न करता  है तो उसे जेल में भेज दिया जाता है |

नवीन जहिंद ने मंच पर हाथ में कटोरा ले जनता से चंदा देने की अपील की और कहा कि ये पैसा मुख्यमंत्री के पास भेंजेगे ताकि वो रोडवेज कर्मचारियों के लिए बसें खरीद सके , सरकारी स्कूल अच्छे कर सके |

जयहिंद ने कहा कि अरविन्द केजरीवाल के प्रदेश के सरकारी स्कूलों के निरक्षणसे  खट्टर सरकार की बौखला गई है | कही इनकी पोल न खुल जाये इस लिए स्कूलों में लीपापोती काम शुरू कर दिया है |अगर अरविन्द केजरीवाल के डर  सरकारी स्कूलों  के हालत सुधरते है तो केजरीवाल प्रदेश के हर स्कूल का निरक्षण करने को तैयार है | अगर खट्टर सरकार को स्कूल व अस्पताल चलाने नही आते है तो हम से ट्रेनिग लेले |

जयहिंद ने कहा कि हरियाणा में सत्ता का बदलाव फरीदाबाद से होगा। भीड़ गवाह है इस बात कि फरीदाबाद की जनता सीबीआई( कांग्रेस , इनेलो , भाजपा) से तंग आ चुकी है अब उसे बदलाव चाहिए | आम आदमी इनका खुट्टा पाड़ के ही दम लेगा |

दिल्ली विधायक सहीराम ने भी कार्यकताओं की होंसला आफजाही करते हुए कहा कि हरियाणा में भी उसी तरह काम करेंगे जिस तरह दिल्ली की जनता के लिए काम कर रहे है | फरीदाबाद की जनता अब आम आदमी की राजनीति चाहती है मुद्दों की राजनीती चाहती है |

इस मौके पर सैकड़ों युवाओं ने टोपी पहन प्रदेशाध्यक्ष नवीन जयहिंद की मौजदगी में  विधिवत तरीके से आम आदमी पार्टी की सदस्यता ग्रहण की |

इस मौके पर लोकसभा सन्गठन मंत्री गिर्राज शर्मा , फरीदाबाद जिला अध्यक्ष हरेंदर भाटी, , रणबीर चंदीला, गुरुग्राम लोकसभा संगठन मंत्री सचिन गौड़, कवि शाहनवाज हिन्दुस्तानी, गुरुग्राम जिला अध्यक्ष महेश यादव आदि पदाधिकारी मौजूद रहे |


खट्टर सरकार के खिलाफ होगा कटोरा आन्दोलन, सरकार के पास नही है पैसा, जनता से चंदा इक्कट्ठा कर देंगे मुख्यमंत्री को : जयहिंद

प्रदेशाध्यक्ष नवीन जयहिंद ने कहा कि सरकार के पास किसानों को मुआवजा देने के लिए , रोडवेज के कर्मचारिओं के लिए बस खरीदने के लिये, बेरोजगारों को भत्ता देने लिए , सस्ती बिजली के लिए , सरकारों स्कूलों के लिए , हस्पतालों के लिए दवाइयों के लिए , सडको पर घूम रही गायों के लिए नही है इसलिए खट्टर सरकार के खिलाफ  कटोरा आन्दोलन किया और जनता से चंदा इकट्टा कर ये पैसा मुख्यमंत्री खट्टर के पास भेंजेंगे ताकि जनता को सुविधाए मिल सके |

Saturday, 20 October 2018

भाजपा सरकार ने स्मार्ट सिटी के नाम पर एक ईंट नही लगाई : करण दलाल

भाजपा सरकार ने स्मार्ट सिटी के नाम पर एक ईंट नही लगाई : करण दलाल

फरीदाबाद 21 अक्टूबर । पलवल से कांग्रेस के विधायक करण दलाल ने अपने पोल खोल अभियान के तहत आज फरीदाबाद जिले में सेक्टर सोलह स्थित सर्किट  हाऊस में पत्रकार वार्ता का आयोजन किया। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि विधानसभा से चुने हुए नुमाइंदे को गरीबों की आवाज उठाने के बदले   भाजपा ने एक साल के लिए निष्कासित किया गया। उन्होंने कहा कि  सबसे ज्यादा राशन कार्ड फरीदाबाद और पलवल के नाम काटे गए है।   अनिल जैन, मंत्री और चैयरमेन बनवाने में लगे हैं,

जमीन का सौदा करवाकर धंधा चला रहे हैं, इनकी जांच करें सरकार।   बल्लभगढ़ में कल एक व्यक्ति द्वारा सुसाइड मामले में बीजेपी हरियाणा प्रभारी अनिल जैन का नाम आया पुलिस ने एफआईआर में भी लिखा है जिसका उनहोंने सबूत भी दिया।  अनिल जैन के ईशारे पर यमुना रेती का अवैध खनन का काम जोरों पर। खनन विभाग की गैरकानूनी पर्ची छपवाकर बीजेपी नेता करवा रहे हैं खनन। उन्हेाने दावा किया है कि सरकार में हिम्मत हो तो मेरे आरोप को गलत करार देकर दिखाए। बीजेपी नेताओं की ईमानदारी रेती के बड़े बड़े ट्रैक्टर के रूप में दिखती है। उन्होंने आरोप लगाए है कि पुलिस भी बिकी हुई है। 

उन्होंने सवाल उठाया कि जो पुलिस कमिश्रर ईमानदारी का ढीढोरा पीटेत है वह पुलिस कमिश्नर क्या अनिल जैन के खिलाफ मामला दर्ज कर पाएंगे । स्मार्ट सिटी को भी तमाशा बनाया हुआ है, आज तक डवलपमेंट प्लान नही बना पाए है। जितने भी विकास कार्य हुए है सभी काम कांग्रेस के वक्त के काम है। स्मार्ट सिटी के नाम पर एक ईंट नही लगी, उसका पैसा कहां गया।  मुफ्त बिजली तो तभी मिलेगी जब गरीबों का नाम होगा, सभी नाम राशन कार्डो से  काट दिए गए है।   बलात्कार हो रहे हैं, बहन बेटी अपमानित हो रही हैं  बुजुर्गों की पेंशन के कानून पेचीदा बना दिया। बुजुर्ग पेंशन से कर्ज के पैसे काटे जा रहे है  मुख्यमंत्री की खिडक़ी को धंधा बना दिया गया है। किसी भी शिकायत का निपटारा नही हो रहा। ऑनलाइन के नाम पर बीजेपी नेताओं ने धंधा बनाया हुआ है।  उन्होनें  अभय चौटाला अपने आपको बचाने के लिए बीजेपी से साठगांठ की बात भी कही है। 


Friday, 19 October 2018

फरीदाबाद ब्रेकिंग : केंद्रीय मंत्री कृष्णपाल गुज्जर व उद्योग मंत्री विपुल गोयल मंच पर आपस मे भिड़े। दशहरा पर्व के दौरान।

फरीदाबाद ब्रेकिंग : केंद्रीय मंत्री कृष्णपाल गुज्जर व उद्योग मंत्री विपुल गोयल मंच पर आपस मे भिड़े। दशहरा पर्व के दौरान।

https://www.youtube.com/watch?v=ezYKTZ7PApU&feature=youtu.be
फरीदाबाद ब्रेकिंग : केंद्रीय मंत्री कृष्णपाल गुज्जर व उद्योग मंत्री विपुल गोयल मंच पर आपस मे भिड़े। दशहरा पर्व के दौरान।

Monday, 15 October 2018

 मोदी-मनोहर के नेतृत्व में हो रहा है एनआईटी का अभूतपूर्व विकास : यशवीर डागर

मोदी-मनोहर के नेतृत्व में हो रहा है एनआईटी का अभूतपूर्व विकास : यशवीर डागर

फरीदाबाद 15 अक्टूबर । एनआईटी विधानसभा क्षेत्र के पूर्व प्रत्याशी एवं भाजयुमो के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष यशवीर डागर ने कहा है कि मोदी-मनोहर की विकासात्मक सोच का लाभ एनआईटी क्षेत्र को मिल रहा है, जो क्षेत्र पूर्व की सरकारों की दृष्टि से पिछड़ा क्षेत्र कहलाता था वहीं एनआईटी आज गुडग़ांव व नोएडा की तर्ज पर विकास की नई गाथा लिख रहा है। क्षेत्र में हो रहे सभी विकास कार्याे का श्रेय मुख्यमंत्री मनोहर लाल को जाता है। यही कारण है कि एनआईटी विधानसभा क्षेत्र में उनके द्वारा निकाली जा रही सेवा संकल्प पदयात्रा में क्षेत्र के हजारों लोगों का हजूम उमड़ रहा है, जिसने विपक्षियों की नींद हराम कर दी है। 

 डागर भाजपा सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं को जन-जन तक पहुंचाने के उद्देश्य से भाजपा हाईकमान के निर्देश पर निकाली जा रही सेवा संकल्प पदयात्रा के तृतीय चरण के शुभारंभ अवसर पर उपस्थित अपार जनसमूह को संबोधित कर रहे थे। ‘भारत माता की जय’ ‘वंदे मातरम’, मोदी-मनोहर जिंदाबाद’ के  नारों की गूंज के साथ यह यात्रा सारन चौक से शुरु होकर शू मार्किट, डिस्पोजल होते हुए लगभग 8 किलोमीटर की परिक्रमा करते हुए 45 फुट रोड जवाहर कालोनी में सम्पन्न हुई। यात्रा को लेकर लोगों में भारी जोश था तथा जगह-जगह जहां दुकानदारों फूल मालाओं से यशवीर डागर का स्वागत किया वहीं कालोनियों व गलियों में भी माताओं व बुजुर्गाे ने उन्हें अपना आर्शीवाद दिया। यात्रा में क्षेत्र के लोगों की भारी हाजिरी के चलते आज एनआईटी के उन क्षेत्र में जाम की सी स्थिति रही, जहां-जहां से यह यात्रा गुजरी।  

लोगों को संबोधित करते हुए यशवीर डागर ने कहा कि सबका साथ सबका विकास की नीति को लेकर मुख्यमंत्री मनोहरलाल ने प्रदेश में एक विकास पुरुष की छवि को लोगों के समक्ष पेश किया है। भले ही किसी क्षेत्र में बीजेपी का विधायक न रहा हो, उस क्षेत्र को भी विकास की अनेकों देते हुए विकास की मुख्यधारा से जोड़ा गया है और एनआईटी विधानसभा क्षेत्र इस बात का उदाहरण है, जहां पिछले चार सालों में सैकड़ों करोड़ की परियोजनाओं को मंजूरी प्रदान की गई है तथा पूरे एनआईटी क्षेत्र को एक योजनाबद्ध तरीके से विकास के साथ जोड़ा जा रहा है, जहां क्षेत्र में सुंदर सीमेटिंड सडक़ें, गलियों में इंटरलॉकिंग टाइलें, सुंदर पार्क की सौगात दी गई है वहीं सडक़ों का चौड़ीकरण और डबुआ-पाली चौराहों का सौंदर्यीकरण करवाया जा रहा है, जिसकी भव्यता समूचे हरियाणा प्रदेश में एक मिसाल कायम करेगी। 

 उन्होंने लोगों से आह्वान किया कि विकास की इसी रफ्तार को कायम रखने के लिए 2019 को एक मिशन बनाकर देश व प्रदेश में फिर से मोदी-मनोहर की सरकार लाकर विकास में अपनी भागेदारी निभाएं क्योंकि विपक्ष ने सिवाए लोगों को गुमराह कर और भ्रष्टाचार की जड़ों को मजबूत कर भाई भतीजाबाद को बढ़ाने के अलावा और कुछ नहीं दिया है, आज ऐसे लोगों से सावधान रहने की जरुरत है। उन्होंने कहा कि जब-जब भी उन्होंने मुख्यमंत्री के समक्ष एनआईटी क्षेत्र के विकास के लिए ग्रांट मानी है, तब-तब मुख्यमंत्री ने इस क्षेत्र को विकसित करने के लिए दिल खोलकर राशि प्रदान करने का काम किया है।

 इस मौके पर भाजपा पाली मंडल अध्यक्ष राजपाल दहिया, जवाहर कालोनी मंडल अध्यक्ष रमेश बिष्ट, नंगला मंडल अध्यक्ष कविन्द्र चौधरी, वीरेंद्र सरपंच, महामंत्री राजकुमार वोहरा, रोशन रावत, डा. मनोज, अनिल गुप्ता, राजेश लखेरा, बिट्टू बजरंगी, नीरज पांचाल, ओमप्रकाश, जितेंद्र पांचाल, राकेश बजाज, उमेश शर्मा, गोपाल, मुन्ना प्रधान, मेहर चंद हसराना, साबिर सरपंच, अहमद खान, शाकिल खान, शमशेर रावत, सोनू कोहली, प्रवीन शर्मा, तिलक कथूरिया, पवन गुलाटी, मूलचंद डागर, सरदार शेर सिंह भाटिया, राजेंद्र नेगी, बलवीर सिंह, ओपी देशवाल, डब्बू प्रधान, गीता शर्मा सहित अनेकों भाजपा कार्यकर्ता मौजूद थे।


 भाजपाईयों की स्मार्ट सिटी देशभर में नरक सिटी के रुप में हुई विख्यात : ललित नागर

भाजपाईयों की स्मार्ट सिटी देशभर में नरक सिटी के रुप में हुई विख्यात : ललित नागर

फरीदाबाद 15 अक्टूबर । तिगांव विधानसभा क्षेत्र के कांग्रेसी विधायक ललित नागर ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल के चार साल व स्मार्ट सिटी फरीदाबाद को लेकर भाजपा सरकार पर बड़ा तंज कसते हुए कहा कि सरकार चार साल में तिगांव विधानसभा क्षेत्र सहित समूचे फरीदाबाद में कोई भी एक ऐसा विकास कार्य गिनवाए, जिसका इनके द्वारा शिलान्यास करने के बाद उद्घाटन कर उस परियोजना को जनता को समर्पित किया गया हो। भाजपा ने विकास कार्याे के नाम पर फरीदाबाद को फकीराबाद बनाने का काम किया है, जबकि स्मार्ट सिटी के नाम पर फरीदाबाद की पहचान अब समूचे हरियाणा ही नहीं बल्कि देशस्तर पर नरक सिटी के रुप में विख्यात हुई है। उन्होंने कहा कि  भाजपाईयों ने चार साल सत्ता की मलाई की चिकनाहट में केवल लोगों के समक्ष झूठे जुमले फेंक लोगों को गुमराह करने का काम किया है। 

हालात ऐसे बन गए है कि कर्मचारी से लेकर आम वर्ग तक आज अपनी मांगों को लेकर सडक़ों पर है। लोग इस इंतजार में है कि कब चुनाव हो और वह कब इस झूठी जुमलेबाज सरकार को वोट की चोट से जवाब देकर सबक सिखाने का काम करें। विधायक श्री नागर तिगांव विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले अगवानपुर में कालोनीवासियों द्वारा आयोजित सभा को संबोधित कर रहे थे। विधायक श्री नागर को इससे पूर्व युवा बिग्रेड द्वारा सैकड़ों मोटरसाइकिलों के काफिले के साथ खुली जीप में एक जुलूस के साथ सभास्थल तक लाया गया, जहां कालोनीवासियों द्वारा विधायक का फूल मालाओं से भव्य स्वागत किया गया। सभा में आए कालोनीवासियों ने विधायक के समक्ष जनसमस्याओं को लेकर सरकार के प्रति जमकर रोना रोते हुए कहा कि भाजपा राज में कालोनियां अपनी दुर्दशा पर आंसू बहाने पर मजबूर हो गई है। यहां के लोगों के दुख-दर्द को सुनने वाला कोई नहीं है। 

सडक़ों, पानी, सीवरेज, बिजली व सफाई आदि सभी मूलभूत सुविधाओं को लेकर यहां के लोगों के साथ सौतेला व्यवहार बरता जा रहा है, जिससे लोग त्राहि-त्राहि करने को मजबूर है, जिस पर विधायक ने उन्हें आश्वस्त किया कि उन्होंने हमेशा क्षेत्र की आवाज को सडक़ से लेकर विधानसभा तक बुलंद करने का काम किया है और अब वह इन कालोनियों में विकास को लेकर बरते जा रहे भेदभाव पर भी सरकार को घेरते हुए निगम मुख्यालय पर हजारों-हजारों की संख्या में क्षेत्रवासियों के साथ जोरदार विरोध प्रदर्शन कर सोई हुई सरकार के प्रतिनिधियों व प्रशासन को जगाने का काम करेंगे 

 फिर भी अगर सत्ता के मद में चूर मंत्री और विधायक नहीं जागे तो कांग्रेस सरकार बनते ही सबसे पहले विकास का पिटारा इन्हीं कालोनियों से खोला जाएगा। विधायक ललित नागर ने अपने संबोधन में केंद्रीय राज्यमंत्री पर निशाना साधते हुए कहा कि बड़े ही दुख का विषय है कि लोकसभा चुनाव में यहां के जिन लोगों ने उन्हें सांसद बनाकर केंद्र में मंत्री बनाया और फिर उन्हीं के बेटे को पार्षद बनाकर नगर निगम में वरिष्ठ उपमहापौर बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, आज वही लोग अपनी उपेक्षा का रोना रो रहे है। उन्होंने कहा कि मंत्री जी आखिरकार इन लोगों का क्या कसूर है, जो ये लोग विकास सहित सभी मूलभूत सुविधाओं से महरुम है। इनके दिन कब अच्छे आएंगे। उन्होंने उपस्थित लोगों का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि आज वह जो कुछ भी है, आप सभी लोगों द्वारा दिए गए आर्शीवाद व समर्थन की बदौलत है और उन्हें विश्वास दिलाते है

आपका यह संघर्ष व्यर्थ नहीं जाएगा और जल्द ही इस तिगांव विधानसभा क्षेत्र में शहरी कालोनियों में देहात गांवों के दिन बदलेंगे और यह क्षेत्र विकास के मामले में हरियाणा में अपनी एक अलग पहचान कायम करेगा।  इस अवसर पर गढ़वाल सभा के पूर्व अध्यक्ष राकेश घडिय़ाल, देवेन्द्र अवाना, अमोद प्रधान, राव नरबीर, दिनेश शर्मा, लवकुश मिश्रा, देवेन्द्र तोंगड़, पुष्पेन्द्र सिंह, प्रोफेसर शैलेन्द्र सिंह, रामप्रकाश चौधरी, प्रवीन नम्बरदार, प्रमोद कर्ण, किशन शर्मा, जगत सिंह रावत, राजकुमार प्रधान, फतेह सिंह डांगी, कंवर सिंह अवाना, आर.बी.माथुर, मामा मकसूद, ताहिर खान, रियाज खान, लालबाबू शर्मा, मुकुटपाल चौधरी, किशन दत शर्मा, मनोज नागर, बाबूलाल रवि, सुन्दर नेताजी, सुनील ठाकुर, पिन्टू पांडे, शोभाराम भाटी , विक्की चोपड़ा, मुकेश कुमार, सुनील भाटी चेयरमैन, गंगाराम नरवत सहित अनेकों कालोनीवासी मौजूद थे।

Thursday, 11 October 2018

Best Homeopathic medicine for Uric acid -Gout

Best Homeopathic medicine for Uric acid -Gout

फरीदाबाद 12 अक्टूबर ।  शास्त्रीय होम्योपैथिक क्लिनिक में, किसी भी बीमारी के लिए हमारा दृष्टिकोण व्यक्ति को पूरी तरह से इलाज करना है। इस प्रकार, रोगी के संविधान को कम करने से हमेशा शास्त्रीय होम्योपैथिक डॉक्टर को सबसे उपयुक्त उपाय चुनने में मदद मिलती है। सही होम्योपैथिक दवा के साथ डॉ। अभिषेक के अनुसार, एक आहार लेना बहुत महत्वपूर्ण है जो purines में कम है।

उच्च यूरिक एसिड के लिए सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथी चिकित्सा
आउरा होम्योपैथी में, डॉक्टरों की हमारी खुराक रोगी की कुल तस्वीर के आधार पर होम्योपैथिक दवा निर्धारित करती है जिसमें उसकी जीवनशैली, मानसिक तनाव, उसके तनाव स्तर और भावनात्मक स्थिति, उनके चरित्र, आहार, यूरिक एसिड का पारिवारिक इतिहास और अन्य कारक शामिल हैं। गौट-एरिक एसिड के लिए सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथिक दवा खोजने के लिए - दर्दनाक जोड़। ऑरा होम्योपैथी क्लिनिक में, हमारे उपचार को वैयक्तिकृत किया जाता है, यानी गठिया या उच्च यूरिक एसिड स्तर वाले 2 रोगियों को अलग-अलग व्यक्तियों के रूप में माना जाता है, और प्रत्येक रोगी को होम्योपैथिक दवा निर्धारित की जाएगी जो उनके लक्षण के साथ सबसे अच्छी तरह से मेल खाती है।

उच्च यूरिक एसिड होने के जोखिम के बारे में और जानने के लिए हमें देखें
गठिया के इलाज के लिए नीचे 10 सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथी दवाएं हैं- उच्च यूरिक एसिड।

कोल्चिकम: महान पैर की उंगलियों के दर्द और सूजन, एड़ी में दर्द की मरीज की शिकायत, वह भी छूने के लिए सहन नहीं कर सकता है। निचले हिस्सों की सूजन और ठंडाता। दर्द और बुखार के साथ जोड़ों की कठोरता। कभी-कभी दर्द को बदलने के रोगी की शिकायतों। रात और शाम को गर्म मौसम से दर्द बढ़ जाता है। अधिक जानकारी हमें देखें: दिल्ली में सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथी डॉक्टर

यूर्टिका यूरेन: यह होम्योपैथिक दवा उच्च यूरिक एसिड के स्तर के इलाज के लिए सर्वश्रेष्ठ है क्योंकि यह हमारे शरीर से यूरिक एसिड को खत्म करने में वृद्धि करती है। डायथेसिस: गठिया और यूरिक एसिड। संयुक्त दर्द त्वचा के विस्फोट जैसे आर्टिकरिया से जुड़ा हुआ है। Deltoid, कलाई और एड़ियों में सूजन और दर्द की रोगी शिकायत।

बेंजोइक एसिड: आक्रामक और उच्च रंगीन मूत्र के साथ-साथ क्रैकिंग ध्वनियों के साथ दर्द और पेट की सूजन और अन्य जोड़ों की सूजन की शिकायतें। दर्दनाक गठिया नोड्स। उजागर और खुली हवा में संयुक्त दर्द बढ़ता है।

लेडम पाल: आरोही संधिशोथ के लिए सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथिक दवा, विशेष रूप से छोटे जोड़ों के दर्द को अलग करना। ग्रेट पैर की अंगुली दर्दनाक, सूजन और स्पर्श करने के लिए गर्म। सामान्य रूप से शीत अनुप्रयोग के साथ दर्द ठीक हो जाता है।

एंटीमोनियम क्रूड: गैस्ट्रिक शिकायतों के साथ विशेष रूप से ऊँची एड़ी और उंगलियों में गठिया दर्द। जीभ मोटी सफेद लेपित है। गर्मी और ठंडे स्नान के साथ लक्षण बढ़े। 

सबिना: यह गर्भाशय बीमारियों के साथ महिला रोगी के लिए सबसे अच्छा है। गर्म कमरे में संयुक्त दर्द खराब हो जाता है। लाल चमकदार सूजन और गौटी नोडोसिटी की रोगी शिकायतें। Esp। गर्भाशय की परेशानी के साथ महिलाओं में।

अर्नीका: सूजन और दर्द से पीड़ित भावनाओं के साथ जोड़ों में दर्द, दर्द चलने के साथ बढ़ता है। अलग संयुक्त दर्द के कारण, रोगी को उसके निकट छुआ या संपर्क करने से डर लगता है।

बर्बेरिस वल्गारिस: क्रोनिक गठ संविधान। दर्द की अचानक शुरुआत। जोड़ों में अचानक सिलाई दर्द की रोगी शिकायतें। दर्द गति के साथ बढ़ता है। मेटाटारल हड्डियों के बीच दर्द को सिलाई करना जैसे नाखून छेड़छाड़ कर रहा है, खड़े होने पर दर्द बढ़ता है।

लाइकोपोडियम: एक कंकड़ पत्थर से दर्द को ठीक करें। पैर की उंगलियों और उंगलियों में दर्द के साथ तलवों पर कॉलोसिटी। दाहिने पैर गर्म और बाएं पैर ठंडा। पेशाब के दौरान रोगी रोना, पेशाब में लाल तलछट। पेशाब गुजरने के बाद बैकैश में सुधार हुआ। संयुक्त दर्द और अन्य शिकायतें 4 बजे से शाम 8 बजे के बीच बढ़ीं।


Rhododendron: जोड़ों के दर्द और सूजन विशेष रूप से महान पैर की अंगुली संयुक्त, दर्दनाक स्थिति तूफान से पहले बढ़ जाती है। सही पक्षपातपूर्ण स्नेह। सुबह में सुबह, तूफान से पहले और लंबे समय तक रहने के बाद संयुक्त दर्द बढ़ गया। सामान्य रूप से गर्मी और खाने में गर्मी के साथ।
Homeopathy for Cold cough Flu

Homeopathy for Cold cough Flu

FARIDABAD : 12 October  I  भरी हुई नाक तब होती है जब नाक और आसन्न ऊतकों और रक्त वाहिकाओं को अधिक तरल पदार्थ के साथ सूज हो जाता है, जिससे "घृणित" लग रहा हो। नाक की भीड़ या अनुनासिक निर्वहन या "बहुरंगी नाक" के साथ नहीं हो सकती है।


आमतौर पर नाक की भीड़ पुराने बच्चों और वयस्कों के लिए एक झुंझलाहट है। लेकिन नाक की भीड़ उन बच्चों के लिए गंभीर हो सकती है जिनकी नींद उनकी नाक की भीड़ या शिशुओं से परेशान होती है, जिनके परिणामस्वरूप एक कठिन समय पर भोजन हो सकता है।


कारण - नाक की भीड़ किसी भी चीज के कारण हो सकती है जो अनुनासिक ऊतकों को उत्तेजित या उत्तेजित करती है। संक्रमण - जैसे सर्दी, फ्लू या साइनसाइटिस - एलर्जी और विभिन्न परेशानी, जैसे कि तम्बाकू धूम्रपान, सब कुछ नाक का कारण हो सकता है कुछ लोगों को बिना किसी स्पष्ट कारण के लिए लंबे समय से चलने वाले नाक हैं - एक शर्त जिसे नॉनलार्लिक राइनाइटिस या वासोमोटर रिनिटिस (वीएमआर) कहा जाता है।

कम सामान्यतः, नाक की भीड़ कणिकाओं या एक ट्यूमर के कारण हो सकती है।


नाक की भीड़ के संभावित कारणों में शामिल हैं: तीव्र साइनसाइटिस, एलर्जी, क्रोनिक साइनसिस, सामान्य सर्दी, डिकॉग्स्टेस्टेंट नाक स्प्रे अति प्रयोग, विच्छेदन सेप्टम, मादक पदार्थों की लत, सूखी हवा, बढ़े हुए एनोनेओड्स, नाक में विदेशी शरीर, हार्मोनल परिवर्तन, फ्लू, दवाएं, जैसे कि उच्च रक्तचाप की दवाएं, नाक जंतु, गैर एलर्जी रैनिटिस, व्यवसायिक अस्थमा, गर्भावस्था, श्वसन संक्रमण संबंधी वायरस, तनाव, थायराइड विकार, तंबाकू का धुआं, बहुभुज के साथ ग्रैनुलोमेटोसिस





NUX VOMICA 30-Nux Vomica नाक बाधा रात के समय में अपने चरम पर है जब राहत प्रदान करने में महान मदद के प्रभावी होम्योपैथिक उपाय नक्स वोमिका रात के घंटों में बेहद भरे हुए नाक वाले रोगियों को आराम प्रदान करने में बहुत फायदेमंद है। रोगियों को इस होम्योपैथिक उपाय की आवश्यकता होती है, रात के समय तीव्र नाक भराई होती है। व्यक्ति यह भी वर्णन कर सकता है कि दिन के दौरान, रात में नाक निर्वहन होता है, इसे अवरुद्ध कर दिया जाता है। इसके अलावा मरीज़ एक तरफ नाक की बाधा और अन्य पर मुक्ति के मुक्त महसूस कर सकते हैं। खुली हवा में जाकर नाक अवरोध को भी बिगड़ता है।

सैम्बुक्स एनआईजी 30-सॅंबुबुस नाक रुकावट के लिए एक और शीर्ष होम्योपैथिक दवा है जो अत्यंत नाक नाक छिद्रों के साथ है। रुकावट के कारण सांस लेने में बहुत मुश्किल है और यह व्यक्ति को बैठने के लिए मजबूर करता है। अधिकतर रात में, घुटन और साँस लेने में कठिनाई के कारण व्यक्ति को नींद से बैठना पड़ता है। नाक अवरोध के लिए शिशुओं को दिया जाने पर सैंबुबुस भी बहुत प्रभावशाली होता है। रुकावट घुटन और मुँह में सांस लेने की ओर जाता है और शिशु को मां की फूड लेने के दौरान बुरी स्थिति का सामना करना पड़ता है

आर्सेनिक्स एल्बम 30-आर्सेनिकम एल्बम का निर्धारण तब किया जाता है जब नाक के अवरोध नाक एलर्जी के कारण होते हैं। यह मुख्य रूप से निर्धारित होता है जब नाक अवरोध के साथ जल नाक निर्वहन जल रहा है। वहाँ नाक से प्रचुर मात्रा में पानी और उत्तेजक निर्वहन है। तीव्र प्यास है और मरीज को खुली हवा में भी बुरा लगता है।

ग्लेज़ैमियम 30-गिल्सिमियम निर्धारित किया जाता है जब नाक रुकावट में बंद महसूस होने के साथ सुस्त सिरदर्द होता है, और एक धाराप्रवाह नाक निर्वहन होता है।

सिनापिस एनआईजीआरए 30 - सिनापीस नीग्रै एलर्जी के कारण नाक की भीड़ के लिए एक और उपाय है। यह तब निर्धारित होता है जब वैकल्पिक नहर एलर्जी की प्रतिक्रिया के कारण अवरुद्ध होते हैं। नाक और आंखों से भी मुक्ति होती है।

कैलकिया कार्ब 30- नाक पॉलीप के कारण कैल्केरा कार्ब नाक रुकावट के लिए बहुत प्रभावी है कार्ब नाक कणों के लिए एक और उत्कृष्ट होम्योपैथिक दवा है। यह ज्यादातर बाएं पक्षीय नाक कणों के लिए संकेत दिया जाता है। बाएं तरफ नलिका अवरुद्ध लगता है नाक से भ्रूण पीला डिस्पैच के साथ इसमें शामिल किया जा सकता है नाक में दुख और विकृत सनसनी भी महसूस होती है। नाक में आक्रामक गंध भी चिह्नित है नाक की जड़ में बहुत अधिक सूजन होती है। क्लेक्वेरा कार्ब का निर्धारण तब किया जाता है जब लोग आसानी से ले जाते हैं। मौसम में बदलाव नाक की शिकायतों से जुड़ा होता है। कैल्केरा कार्ब वसा, पिलपिला व्यक्तियों के लिए अधिक उपयुक्त है, जिनके अंडे की लालसा है।

लैम्ना लघु 30 - पॉलिप्स के कारण नाक अवरोध को हटाने के लिए लेम्ना माइनर शीर्ष होम्योपैथिक उपाय है। इसका उपयोग करने वाले लक्षण श्वास लेने में कठिनाई के साथ नाक कब्ज और गंध की हानि होते हैं। पोस्टेरियर टपकता भी नाक रुकावट के साथ आते हैं। कुछ व्यक्ति नाक डिस्चार्ज का अनुभव करते हैं, जबकि अन्य में, नाक गुहा शुष्क रहता है। अवरुद्ध नाक में आक्रामक गंध है लेम्ना माइनर पॉलीप के लिए सबसे प्रभावी होम्योपैथिक उपाय है जो गीली मौसम में बिगड़ता है। पॉलीप के मामलों में, लेम्ना माइनर नाक अवरोध को कम कर देता है, श्वसन की समस्या से राहत देता है, और गंध की शक्ति फिर से आती है।

संगीन्रिया नाइट्रिकम 3 एक्स - सोंगुनेरिया नाइट्रिकम, पॉलीप के कारण नाक की भीड़ के लिए भी प्रभावी है और यह नाक को नाक के नाक के साथ अवरुद्ध होने पर भी एक प्रभावी होम्योपैथिक दवा है। डिस्चार्ज प्रकृति में बहुत जलते हैं और व्यक्ति को छींकने का भी अनुभव होता है।

काली बीआईटीमाइकियम 30-काली बिच्रिमिक्यू सिनाइसिस के कारण नाक की भीड़ के लिए एक उत्कृष्ट उपाय है, जहां डिस्चार्ज गले में वापस चला जाता है।

Wednesday, 10 October 2018

 युवाओं और बच्चों में तेजी से बढं रहा है मोटापा: डाॅ. पंकज हंस

युवाओं और बच्चों में तेजी से बढं रहा है मोटापा: डाॅ. पंकज हंस

फरीदाबाद 10 अक्तूबर 2018 :  आज की अनियमित जीवनशैली, अनियंत्रित खानपान और शारीरिक श्रम कम होने के कारण मोटापा निरंतर बढ़ता जा रहा है। मोटापा अनेक गंभीर बीमारियों का जन्म देता है। इसके कारण डायबिटीज़, किड़नी रोग, उच्च रक्तचाप व अन्य बीमारियां हो सकती हैं। इसके अलावा मोटापा इंसान को निष्क्रिय बना देता है। पहले उम्रदराज लोग इसके शिकार होते थे, लेकिन अब युवावर्ग व बच्चे भी इसकी चपेट में आ रहे हैं।

एशियन इंस्टीटयूट आॅफ मेडिकल साइंसेज अस्पताल के एचओडी एवं सीनियर कंसलटेंट मिनिमल इंवेसिव मेटाबोलिक एंड बैरिएट्रिक सर्जरी विभाग के डाॅ. पंकज कुमार हंस का कहना है कि मोटापे से न केवल शरीर भद्दा और बेडौल नज़र आने लगता है बल्कि मौटापे के कारण कई तरह की बीमारियां जैसे कि डायब्टिीज, ब्लड प्रैशर, ह्रदय संबधी भी होने लगती हैं। आज के दौर में हर व्यक्ति आकर्षक दिखना चाहता है, लेकिन घंटों कम्प्यूटर पर बैठकर काम करने और अनियंत्रित खानपान के कारण वज़न बढ़ने लगता है।

बच्चे भी खेलकूद करने की बजाए घर में ही बैठकर वीडियोगैम खेलते है, कम्पयूटर व टीवी पर घंटों कार्टून देखते है बिना किसी शारीरिक एक्टीविटी के कारण उनका बढ़ने लगता है।

आमतौर पर लोग मोटापा कम करने के लिए सबसे पहले खाना खाना छोड़ देते हैं। मोटापा कम करने का उन्हें यह सबसे सरल तरीका नज़र आता है जबकि खाना छोड़ना उनकी सेहत के लिए हानिकारक साबित हो सकता है। लोगों को मोटापा कम करने के लिए सबसे पहले मीठे व अत्याधिक कार्बोहाइड्रेट के सेवन से परहेज करना चाहिए।

लोग मोटापे से बचने या कम करने के लिए कभी सुबह का नाश्ता, कभी दोपहर का भोजन तो कभी रात का खाना खाना छोड़ देते हैं और जब वे खाना खाना छोड़ देते हैं तो भूख लगने पर वे भूख मिटाने के लिए ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन करते हैं, जिनमें कार्बोहाइड्रेट या लिपिड कंटेंट ज्यादा होता है।

अधिकतर लोग भूख को कम करने के लिए चाय पीने लगते हैं। अन्य स्वीट्स जैसे बिस्कुट, कुकीज आदि का सेवन करने लगते हैं, या फिर तली हुई चीजें जैसे समोसे, बे्रड पकौडे़, पेटीज़ आदि चीजें खाने लगते हैं। इन चीजों में कैलोरी अधिक होने के कारण व्यक्ति का वज़न कम होने की बजाय बढ़ने लगता है और वह मोटापे का शिकार हो जाता है। आज के समय में बच्चें भी इन्ही सब चीजों को खाना ज्यादा पसंद करते है यही कारण है कि मौटापे का शिकार हो रहे हैं ।

डाॅ. पंकज का कहना है कि शुगर का किसी भी रूप में शरीर में जाना सेहत के लिए हानिकारक होता है इसलिए प्रत्येक व्यक्ति को अत्याधिक शुगर के इस्तेमाल से बचना चाहिए। उनका कहना है कि स्वास्थ्य की दृष्टि से शुगर जंकफूड से जयादा खतरनाक है। जिस प्रकार हम अपने खानपान में नमक का एक निश्चित मात्रा में सेवन करते हैं उसी प्रकार हमें अपने मीठे का सेवन भी निश्चित मात्रा में करना चाहिए, ताकि हम मोटापे या अन्य बीमारियों की चपेट में न आ सकें।



 मोटापे से कैसे बचें: तले हुए खाद्य पदार्थों के सेवन से बचना चाहिए।

 खानपान में शुगर कार्बोहाइड्रेट युक्त भेजन जैसे रोटी, चावल, आलू का इस्तेमाल कम करना चाहिए।

तनाव से बचें।

नियमित रूप से जांच कराएं।

संतुलित खानापान लें।

पर्याप्त नींद लें।

शारीरिक श्रम व नियमित व्यायाम करें।